Friday, October 29, 2010

जाने क्यूँ ?


आज मैं बहुत दुःख के साथ बता रही हूँ मेरे बाबा की तबियत बहुत ख़राब हुई यहाँ आकर...कल से हॉस्पिटल के ही चक्कर लगा रही हूँ ..आज पता चला है उन्हें ब्रेन ट्यूमर है..आपलोगों की प्रार्थना की बहुत ही आवश्यकता है मेरे परिवार को..ओट्टावा सिविक हॉस्पिटल में admit हैं वो...सारा दिन वहाँ रह कर अभी लौटी हूँ...सोचा आपलोगों को भी बता दूँ....
कहते हैं दवाओं से ज्यादा असर दुआओं में होता है ..और आप सबकी दुआ का इंतज़ार कर रहे हैं मेरे बाबा....!

कहीं ग़ुरबत का माहौल है, 
कहीं लालच का समां,
बेच कर अपना ज़मीर,
खा रहे हैं
रोटी
बस दो वक्त की...
सलवटों के नीचे
सब एक सा लगता है,
फिर भी
ऊपर कितना फ़र्क है,
जाने क्यूँ ?

27 comments:

  1. ओह ! सूचना अति पीड़ादायी है .......ईश्वर पर भरोसा रखे निश्चिततौर पर अच्छे से अच्छे इलाज़ से सब कुछ ठीक हो जाएगा . आप यह भी तो सोचिये वहाँ राची में ऐसी तबियत में अकेले होते तो कितनी परेशानी होती उन्हें भी और आपको भी. यहाँ अपने बच्चों के पास बहुत अच्छी सेवा होगी और इलाज भी सब कुछ ठीक हो जाएगा .
    ईश्वर से प्रार्थना है इस कठीन रोग पर विजय प्राप्त कर बाबूजी जल्द से जल्द स्वस्थ हो जावे ...हम सबकी दुआएँ और प्रार्थना उनके साथ है .

    ReplyDelete
  2. दीदी,
    ये जान कर मन व्यथित है
    मेरी ईश्वर से कामना है कि हमारे बाबा शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करें

    ReplyDelete
  3. हम सबकी प्रार्थनायें आपके साथ हैं। बाबूजी शीघ्र स्वस्थ हों।

    ReplyDelete
  4. हमारी दुआए सदा ही आपके परिवार के साथ हैं मैडम अदा...
    आपकी ही एक पोस्ट पर देखा आपके बाबा का हंसता हुआ बादामी लाल चेहरा याद आ रहा है...एकदम आपकी ही कापी...हाफ बाजू की शर्त पहने एक खुशनुमा और गंभीर आदमी...
    इश्वेर उन्हें जल्दी ही एकदम स्वस्थ...हंसता खेलता वापस घर भेजे आपके पास...ऐसी प्रार्थना भगवान् जी से हाथ जोड़कर करते हैं...

    हम किसी काबिल नहीं ..पर किसी तरह की कोई दरकार हो तो कहिएगा...

    ReplyDelete
  5. अल्लाह आपके बाबा को जल्द तन्दुरुस्त करे...आमीन...
    आप फ़िक्र न करें...दुआओं में बहुत असर होता है और जिनकी आप जैसी प्यारी बिटिया हो उनके बाबा को तो जल्द ठीक होना ही है...

    ReplyDelete
  6. आशा है सब ठीक हो जाएगा, उपरवाला सब अच्छा ही करता है .... हौसला रखिये ....

    ReplyDelete
  7. हमार दुआएं बाबा के साथ है .. जल्‍द ही सब ठीक हो जाएगा !!

    ReplyDelete
  8. jaane kyun?? lekin fir bhi meri dil se ye aawaj aa rahi hai ki aapke baba jald swasth honge........:)

    bhagwan unhe salamat rakhe!!

    ReplyDelete
  9. बाबा के लिए शुभकामनायें ....प्रार्थना है कि शीघ्र स्वस्थ हों

    ReplyDelete
  10. ishwar se dua hai ki unke saath rahe, apko shakti de , unki taklif ko raahat de

    ReplyDelete
  11. May your father get well soon!!!

    ReplyDelete
  12. आपके बाबा के लिए मई दिल से दुआ करती हूँ
    वो जल्दी अच्छे हो जाये ...

    ReplyDelete
  13. ishwar aapki madat karen...humari duwaye pure dil se aapke sath hai.

    ReplyDelete
  14. आपके बाबा शीघ्र ही स्वस्थ हो ...दुआ करता हूँ

    3/10

    कविता में जिस फर्क की बात कही है, वो फर्क ही दुनिया को चला रहा है. बड़े-बड़े दो ठो चित्र देकर क्या कहना चाहती हैं ? ये ख़ुशी से नाचने-गाने वाले ग़ुरबत के माहौल में आ जाएँ ?

    ReplyDelete
  15. Anginat duayen aapke baba ke liye!

    ReplyDelete
  16. बाबा जल्द ही स्वस्थ हो जायेंगें।
    हार्दिक शुभकामनायें

    प्रणाम

    ReplyDelete
  17. सब ठीक होगा, निश्चिंत रहिये, हिम्मत रखिये। इतने लोगों की दुआयें आपके साथ है, कुछ दिन में ही फ़िर से सब इकट्ठे होंगे, मां, बाबा और कनाडा का आपका परिवार।
    हम सब ईश्वर से सकुशलता और शीघ्र स्वास्थ्यलाभ की कामना कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  18. Ap k Father ki beemari ka parh ker bahut afsos huwa, duwa hai k Khuda un ko jald se jald sehat de .........

    ReplyDelete
  19. Aap ki yeh Nazam/Kaweeta bahut shandar hai main ise urdu alphabets main apne Blog per Share kiya hai ........
    http://abuwarda786.blogspot.com/2010/10/hypocrisy.html

    ReplyDelete
  20. दुख हुआ जानकर। बाबूजी शीघ्र स्वस्थ हों। ईश्वर से यही प्रार्थना है।

    ReplyDelete
  21. आपके बाबा के लिये अनन्त अशेष शुभकामनायें / दुआएं !
    वे शीघ्र ही स्वस्थ हों और घर लौटें !

    ReplyDelete
  22. @ उस्ताद जी:
    हमारा विरोध दर्ज करें। आपकी बात ठीक है भी तो ऐसा कौन सा कानून है जिसके अनुसार कविता में सिर्फ़ उसी फ़र्क की बातें कही जायें जो दुनिया को नहीं चला रहीं?
    बड़े बड़े दो ठो चित्रों के साथ एगो छोटा चित्र और भी है, जिसपर आपका ध्यान नहीं गया। खुशी से नाचने वाले गुरबत में न आयें, लेकिन गरीब गुरबों को खुशी के माहौल में लाने की सोच बुरी है क्या?
    एक अदना से पाठक होते हुये हम यह अंदाजा लगा रहे थे कि कुछ न कुछ बात है कि इस ब्लॉग पर नई रचनायें पहले की तरह नहीं आ रहीं, और आप उस्ताद्जी होकर भी आज जब इन्होंने अपनी तकलीफ़ थोड़ी सी जाहिर की तो सख्ती बरत रहे हैं? शायद इसीलिये आप उस्ताद्जी हैं।

    ReplyDelete
  23. ईश्वर करे कि वे जल्दी ठीक हों।

    ReplyDelete
  24. ईश्वर आपके पिता जी को लम्बी उम्र दें और वे शीथ्र अस्पताल से स्वस्थ होकर लौट आएं।

    ReplyDelete
  25. babaji ke jald swasth hone ki dua karti hun.

    ReplyDelete
  26. aapke baba jaroor se bahut jaldee theek honge. dukh kee is ghadee ko sewa ka ek awsar maankar jee laga kar sewa kare.

    ReplyDelete
  27. जमील साहेब,
    बहुत शुक्रिया आपका..आपने इस क़ाबिल समझा..
    सविनय...
    'अदा'

    ReplyDelete