Friday, October 1, 2010

आँखों में गज़ब सुरूर था....





आँखों में गज़ब सुरूर था,
लगता वो नशे में चूर था,
तश्नगी मोहब्बत की
और आलम अजब सा,
वफ़ा में अपनी
वो बड़ा मगरूर था,
चाहत ने उसकी,
मुझे चाँद बना डाला
इस बात का मुझे भी,
थोड़ा गुरुर था ....

17 comments:

  1. लफ्ज़-लफ्ज़ जो भी पढ़ा
    इक जज़्बे से भरपूर था
    जाते जाते फिर चले आये
    कुछ कहना भी ज़रूर था..

    बहुत अच्छी और रोचक रचना !

    ReplyDelete
  2. aise kadraan jo jindgee me aae
    to fir gurur peeche kyo rah jae .

    ReplyDelete
  3. दीदी,

    अभी मैं इस रचना को गहनता से समझ रहा हूँ ..... :)
    इस में ये "तश्नगी" क्या होता है? और ये चित्र क्या है ?[पेंटिंग करता ब्रश है क्या ]

    ReplyDelete
  4. आँखों में गज़ब सुरूर था,
    लगता वो नशे में चूर था,

    ye nashe me nahi wo pyar me madhhosh tha

    ReplyDelete
  5. चाहत ने उसकी / मुझे चांद बना डाला "
    बेद खूबसूरत पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  6. गौरव..
    तश्नगी=प्यास
    और हाँ ये पेंटिंग करता हुआ ब्रुश ही है...

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब । हुस्न पे इतना न गरूर करो ----

    ReplyDelete
  8. दीदी ,
    वाह वाह
    हैं चंद लाइने पर हैं बड़ी असरदार :)
    फोटो मस्त है :)
    अब जा के गहराई में डूब पाया , एक शब्द भी मुझे तो उलझा देता है :), और ये उर्दू शब्द होते भी बड़े जानदार हैं वाकई

    ReplyDelete
  9. वफ़ा के कारण उपजी मगरूरी अच्छी ही है और ऐसी मगरूर चाहत मिले तो पाने वाले का गुरूर भी स्वाभाविक है।
    ’गागर में सागर’ भर दिया है आपने, सच में।

    ReplyDelete
  10. ये जो हल्का हल्का सुरूर था !
    वो तेरी नज़र का कुसूर था !!

    पता नहीं ये लाइनें कहां पढ़ी थी और क्यों याद आ गईं ! बहरहाल हमेशा की तरह बेहतर पेशकश !

    ReplyDelete
  11. वाह 'चाँद' क्या बात है फिर तो सुरूर होना वाजिब है भाई.

    ReplyDelete
  12. चाहत ने उसकी,
    मुझे चाँद बना डाला
    इस बात का मुझे भी,
    थोड़ा गुरुर था ....

    बहुत रोचक रचना

    ReplyDelete
  13. kadrdaan ka D mis ho gaya thaa..... :-)

    ReplyDelete
  14. bahut sundar likha hai ki kuch is baat kaa bhi garoor hai.. chaaht ne unki chaand bana diya.

    ReplyDelete