Tuesday, October 12, 2010

आप सभी को 'हैप्पी थैंक्स गिविंग्स डे '....


थैंक्स गिविंग उत्तरी अमेरिका का एक पारंपरिक त्यौहार है ...आप इसकी तुलना बैसाखी या ओणम से कर सकते हैं...नई फसल के कटने के बाद यह त्यौहार ईश्वर को धन्यवाद देते हुए अपने प्रिय जनों के साथ मनाया जाता है...कनाडा में यह त्यौहार अक्टूबर महीने के दूसरे सोमवार को मनाया जाता है...

ऐसा नहीं है की शुरू से ही थैक्स गिविंग्स त्यौहार इसी दिन मनाया जाता था...और न ही इसे नई फसल के आने की ख़ुशी के लिए मनाया जाता था...सबसे पहले इसे मनाया गया था एक्स्प्लोरर मार्टिन फ्रोबिशर के घर लौट आने की ख़ुशी में...मार्टिन उन दिनों उत्तरी मार्ग की खोज कर रहे थे, जिसके द्वारा प्रशांत महासागर तक पहुँचा जा सकता था...वो इस खोज में सफल होकर घर लौट आए थे और उनकी इस सफलता के लिए 'Newfoundland ' में १५७८ को एक औपचारिक समारोह का आयोजन किया गया और उनके सुरक्षित घर वापस लौट आने के लिए, ईश्वर को धन्यवाद देते हुए थैंक्स गिविंग का त्यौहार मनाया गया था...यह पहला थैंक्स गिविंग त्यौहार था....

लेकिन जनवरी ३१, १९५७ को कनाडियन पार्लिअमेंट ने इसे एक नया ही प्रारूप दे दिया, अब यह त्यौहार नई फसल के स्वागत के लिए स्थापित किया गया, अक्टूबर के महीने तक फसलें कट कर घर में आ जाती हैं...और नए अनाज का प्रयोग शुरू हो जाता है...कनाडियन पार्लिअमेंट में निम्नलिखित घोषणा की गई :
On January 31, 1957, the Canadian Parliament proclaimed:
A Day of General Thanksgiving to Almighty God for the bountiful harvest with which Canada has been blessed … to be observed on the 2nd Monday in October.


और तब से थैंक्स गिविंग्स डे अक्टूबर महीने का दूसरे सोमवार को मनाया जाने लगा...
इस दिन विशेष रूप से टर्की नमाक पक्षी पकाया जाता है...सारे स्टोर्स में टर्की की लूट मची रहती है....मुझे तो बहुत अफ़सोस होता है इस मनमोहक चिड़िया का इस तरह खातमा होना , लेकिन इस दिन मुख्य भोजन यही होता है....




आम तौर पर टर्की को भरवाँ बनाया जाता है ...इसके अन्दर मसालेदार आलू और ब्रेड भरा जाता है, फिर इस मैरिनेट करके बेक किया जाता है....साथ में ..पम्पकिन (सीताफल) पाइ, ब्रेड, मैश किये हुए आलू, ग्रेवी और अन्य मीट के ना ना प्रकार के व्यंजन, रेड वाईन और वाईट वाईन होता है...
आपको बता दूँ कनाडा दुनिया के प्रमुख कृषि प्रधान देशों में से एक है...यहाँ से मुख्यतः गेहूं, मकई, आलू, सूर्यमुखी फूल के बीज, सरसों, दालें, बीन्स इत्यादि दुनिया भर में निर्यात किये जाते हैं...
सब्जियों का निर्यात ज्यादातर प्रोसेस्ड फ़ूड के तौर पर किया जाता है...







कनाडा से उच्च कोटि के रेड वाइन और वाईट वाइन भी निर्यात किये जाते हैं...यहाँ अंगूर की फसल बहुतायत में मिलती है....कई इलाकों में अंगूर के बाग़ मीलों तक फैले हुए नज़र आते हैं...
कनाडा मछली और अण्डों का भी निर्यात करता है...मेपल सिरप कनाडा की अपनी पहचान है...शहद के निर्यात में भी कनाडा अग्रणी है...
जब इतने सारे अच्छे कारण हों तो क्यों नहीं त्यौहार मनाया जाए.. थैंक्स गिविंग्स डे यहाँ की बैसाखी है... जो नई फसल के स्वागत और ईश्वर के धन्यवाद के लिए मनाया जाता है...

आप सभी को मेरी और मेरे परिवार की ओर से 'हैप्पी थैंक्स गिविंग्स डे '....


21 comments:

  1. नई जानकारी व सुंदर चित्रों के लिए आपका आभार.

    ReplyDelete
  2. इस पर्व के बारे में सबसे पहले आपसे ही सुना था ...
    मगर सुबह सुबह क्या ये मांस मछली ...उ भी नवरात्र में ...:):)
    एक थैंक्स हमारी ओर से ...पोस्ट के लिए नहीं ..
    ब्लॉग की आभासी दुनिया में कुछ कदम साथ चलने के लिए ...थैंक्स

    ReplyDelete
  3. हैप्पी थैक्स गीविंग...लज़ीज टर्की लग र्हा है...सच में भी तो खिलवाईये...फोटू से नहीं चलेगा बस!

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी जानकारी मिली, कनाडा की संस्कृति, त्यौहार, अर्थव्यवस्था के बारे में बहुत रोचक तरीके से आपने बताया।
    @ टर्की:
    एक हार्डकोर वैजीटेरियन होने के बावजूद अब अफ़सोस नहीं होता ये सब देखकर, जानकर। सिर्फ़ अपने स्वाद के लिये किसी दूसरे प्राणी की जान नहीं ले सकते बस। औरों को मजबूर भी नहीं कर सकते।
    धीरे धीरे समझ आ रही है, इस दुनिया में इंसान का स्वाद,आनंद ही सबसे बड़ी चीज है। वो प्राप्त होना चाहिये बस, फ़िर क्या तो टर्की और क्या दूसरे जानवर। कुछ प्रजातियाँ तो हैं ही इसलिये कि इंसान की जिहवा को आनंद दे सकें। आप भी अफ़सोस न किया करें ये सब देखकर। ख्वाम्ख्वाह, सेहत बिगड़ेगी, फ़िर हमें ऐसी बढ़िया बढ़िया पोस्ट देर से पढ़ने को मिलेंगी। हैं न हम भी स्वार्थी, अपने आनंद की परवाह है सिर्फ़। हां नहीं तो...!!

    ReplyDelete
  5. आपकी पोस्ट से आज यह भी पता चला कि थैंक्स गिविंग डे भी होता है ...चलिए , हमारी भी शुभकामनाएं इस दिन पर ...

    कनाडा की संस्कृति के विषय में अच्छी जानकारी मिली ...आभार

    ReplyDelete
  6. नई-नवेली जानकारियां और संस्कृतियों का संगम...आभार.

    ReplyDelete

  7. ज़रूरी है, काहे से कि बकिया दिन एक दूसरे की इतनी धोये जो रहते हैं !
    ईश्वर और फसल से जोड़ दिया तो क्या... .. ..

    ReplyDelete
  8. सुंदर चित्र। जहां लोगों के पर्व और त्योहार नहीं है वहां कुछ पर्व बना लिए जाते है जैसे थैंक्स गिविंग, मदर्स डे, फ़ादर्स डे आदि। भारत में तो इतने सारे पर्व हैं कि सभी पर सरकारी छुट्टी होने लगे तो सारे कार्यालयों को वर्ष भर ताला लगाना पडे :) थैंक्स फ़ार दिस ओकेशन॥

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत फोटोज देखकर आनंद आ गया ।
    कनाडा में नेचुरल ब्यूटी बहुत है ।

    लेकिन इतने खूबसूरत प्राणी को मार कर खा जाना , अच्छा नहीं लगता हमें तो ।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर प्रस्तुति. अंगूर अछे है. मैं प्योर veg हूँ.
    हा हा हा हा हा हा हा कनाडा के बारे बहुत कुछ जाना. थैंक्स

    ReplyDelete
  11. सुन्दर पोस्ट...एक नयी जानकारी देने के लिए धन्यवाद...

    ReplyDelete
  12. 5/10

    सुन्दर जानकारी

    ReplyDelete
  13. शायद ही कोई अंग्रेजी नॉवेल हो जिसमे इस 'थैंक्स गिविंग डे' और 'टर्की' का उल्लेख ना हो...

    चलो आज इस पोस्ट ने एक थैंक्स कहने का मौका भी दे दिया...तुम्हे और तुम्हारे परिवार को एक बिग थैंक्यू तुम्हे ,इतनी सुन्दर पोस्ट्स लिखने के लिए ( और एक बढ़िया दोस्ती के लिए भी ) और तुम्हारे परिवार को अपने समय में कटौती कर तुम्हे ब्लॉग्गिंग के लिए समय देने के लिए :) :)

    ReplyDelete
  14. हमारी तरफ़ से भी बधाई ले लिजिये.........

    खाने को कुछ दिया नही बस दिखा दिया...ये गलत है
    ===========

    "हमारा हिन्दुस्तान"

    "इस्लाम और कुरआन"

    Simply Codes

    Attitude | A Way To Success

    ReplyDelete
  15. ज्ञानवर्द्धन हुआ .. आपको भी 'हैप्पी थैंक्स गिविंग्स डे '!!

    ReplyDelete
  16. बाकी सब तो ठीक है....
    पर नॉन-वेज!
    टर्की मत खाइए.... थैंक्स कहेगी!
    आशीष
    --
    प्रायश्चित

    ReplyDelete
  17. हमारी ओर से आपको भी !

    ReplyDelete