Friday, May 14, 2010

समीर जी कहाँ हैं आप .! कुछ कीजिये...!!

जिस तरह की असभ्य भाषा का प्रयोग  किया जा रहा है ..ज्ञानदत्त जी और अनूप शुक्ल जी के लिए...यह बहुत बहुत ग़लत हो रहा है....इसे रोकना होगा समीर जी ....कृपा करके आप कुछ कीजिये....
अपनी असहमति सभ्य भाषा में भी जताई जा सकती है ...ऐसा क्यों नहीं हो रहा है....??

मुझे पता है लोग कहेंगे कि ये हमेशा विवादों में आ जाती है लेकिन....ये सब देखना बहुत मुश्किल हो रहा है...
समीर जी आपसे करवद्ध प्रार्थना है....कृपा करके आप मार्ग दर्शन कीजिये...
विनीत....
'अदा'
ब्लॉग समाचार


.
.
.

40 comments:

  1. आप ठीक कह रही हैं : मुद्दा कुछ भी हो भाषा की मर्यादा कभी नहीं छोड़नी चाहिये. पर यहाँ तो ...

    ReplyDelete
  2. जिस तरह की असभ्य भाषा का प्रयोग किया जा रहा है ..ज्ञानदत्त जी और अनूप शुक्ल जी के लिए...यह बहुत बहुत ग़लत हो रहा है....इसे रोकना होगा समीर जी ....कृपा करके आप कुछ कीजिये....
    अपनी असहमति सभ्य भाषा में भी जताई जा सकती है ...ऐसा क्यों नहीं हो रहा है....??

    आपकी चिंता एकदम जायज़ है और सुझाव भी. आश्चर्य है कि इस भाषा के प्रयोगकर्ता खाते-पीते घरों से हैं और कामधंधों में लगे हुए शिक्षित वयस्क हैं.

    ReplyDelete
  3. मैं आपसे सहमत हूँ / ब्लॉग जगत के लिए ये शर्म की बात है की ,हम देश और समाज को नरक बनाने वालों को निशाना बनाने के वजाय एक दुसरे ब्लोगर को ही निशाना बनाने पे तुले हुए हैं और दुःख तब और ज्यादा होता है जब इस कार्य में कुछ समझदार और गंभीर ब्लोगर भी शामिल हो जाते हैं /

    ReplyDelete
  4. आप की बात से पूरी तरह सहमत हूँ।

    ReplyDelete
  5. "रहिमन मीठे वचन से सुख उपजत चहूँ ओर!"

    ReplyDelete
  6. लगता है ब्लॉग समाचार का लिंक डालना भूल गईं हैं आप...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  7. सही कह रही हैं, मैं स्वयं चिन्तित एवं व्यथित हूँ. करते हैं कुछ.

    ReplyDelete
  8. ....समीर जी की टिप्पणी में दम है !!!

    ReplyDelete
  9. mujhe to pata bhi nhi..ye kya hua,kaise hua...kab hua...jab hua....tab hua...o chhodo....ye na socho...

    ReplyDelete
  10. ब्लॉग जगत के लिए ये शर्म की बात है

    ReplyDelete
  11. kacha ghada kavita ke liye bahut bahut badhai..........

    ReplyDelete
  12. प्रणाम दी ................दरअसल इस मसले पर मैं पूरी तरह नावाकिफ़ हूँ ............पर इस तरह के तथाकथित ब्लोग्धारियों को रचनात्मक तकनीकी से ज़बाब दिया जा सकता हैं .................

    ReplyDelete
  13. अपनत्व जी की एक कविता याद आ गई
    जब वातावरण मे
    बे बुनियाद
    दोषारोपण का
    खेल शुरू हो जाता है ।
    तब विवेक
    सच मानिये
    सारे घोड़े बेच कर
    सुख की नींद
    चैन से सो जाता है
    आप से सहमत हूं~।

    ReplyDelete
  14. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  15. अदा जी, आप सही कह रही हैं, असभ्य भाषा का प्रयोग ना ही किया जाये तो अच्छा है, वैसे मैं इस जगत का बहुत नया वाशिंदा हूँ, इसलिए किसीके बारे में कोई टिप्पणी नहीं कर रहा हूँ, बस यही चाहता हूँ की शान्ति बनी रहे, आपसी सद्भाव बना रहे ! और गाली देना ही है तो सामाजिक कुरीतियों को दें .... आपका ब्लॉग समाचार लिंक नहीं खुल रहा है ...

    ReplyDelete
  16. मेरे विचार से ब्लॉग पर व्यक्तिगत लेख लिखना , जिसमे एक व्यक्ति विशेष पर छीटा कसी की गई हो , उचित नहीं लगता ।
    आप मुद्दों पर बात कीजिये , कवितायेँ लिखिए , हास्य -मनोरंजन सामग्री लाइए , जानकारी दीजिये , ज्ञान बाँटिये । किसी के बारे अनुचित लिखकर आप क्या साबित करना चाहते हैं ?
    जाने क्यों हर थोड़े दिनों बाद एक विवाद उठकर सारा माहौल ख़राब कर देता है।
    जिसको जो अच्छा लगे वो लिखे । जिसे पढना हो पढ़े , वर्ना पढने के लिए ब्लोग्स तो बहुत से हैं । फिर काहे का विवाद।
    ऐसे में शांति बनाये रखना ज़रूरी है । जल्दी ही लोग भूल जायेंगे ।
    आगे बढ़ना भी ज़रूरी है।

    ReplyDelete
  17. 'अदा' जी जैसे विचार रखने वालों नए/ पुराने ब्लॉगरों के लिए:

    > क्या 'किसी' ने यह सोचने की जहमत उठाई है कि मिथिलेश जैसा युवक ऐसी भाषा का प्रयोग क्यों कर रहा?
    > क्या 'किसी' ने यह सोचने की जहमत उठाई है कि आशीष खंडेलवाल जैसे लोकप्रिय ब्लॉगर ने अपने ब्लॉग पर ट्रिक्स-टिप्स लिखना क्यों छोड़ दिया?
    > क्या 'किसी' ने यह सोचने की जहमत उठाई है कि मुझ जैसे स्वभाव वाले की जबान पर कड़वाहट क्यों आ जाती है?
    > क्या 'किसी' ने यह सोचने की जहमत उठाई है कि पिछले दिनों से समीर लाल की 'हिन्दी सेवा' पर कटाक्ष, लगातार क्यों तीव्र होते जा रहे हैं?
    > क्या 'किसी' ने यह सोचने की जहमत उठाई है कि विवाद की शुरूआत कौन करता है?
    > क्या 'किसी' ने यह सोचने की जहमत उठाई है कि किसी भी विवाद को खड़ा करने वाला ब्लॉगरी में कितना समय बिता चुका?
    > क्या 'किसी' ने यह सोचने की जहमत उठाई है कि परिणामों के बारे में सोचना भी चाहिए
    > क्या 'किसी' ने यह सोचने की जहमत उठाई है कि क्यों कुछ करने का ठेका वही ले जिसे निशाना बनाया गया
    > क्या 'किसी' ने यह सोचने की जहमत उठाई है कि ...

    ReplyDelete
  18. वैसे मैंने पूरा मसला नहीं पढ़ा है कि क्या हुआ था ? लेकिन भाषा अगर असभ्य इस्तेमाल हुई है तो ये बहुत शर्मनाक है. वो साहित्यकार ही क्या जो अपनी भाषा को असभ्य कर डे. वो इंसान ही क्या जो शब्दों से अपनी पकड़ खो दे. आदर पाने के लिए आदर करना पड़ता है.छोटी सी बात है मगर पता नहीं क्यूँ लोगों को समझ में नहीं आती. अच्छा लिखें , अच्छा पढ़ें और अच्छा सुनें,
    इश्क इबादत है खुदा की बस इश्क ही इश्क कीजै
    "नाशाद" ता उम्र बस इश्क ही लीजै इश्क ही दीजै

    ReplyDelete
  19. विज्ञापन देखा है? "नेताजी के लिए पार्टी हिला देंगे"


    बस वही हो रहा है. :) हम सच्चे अर्थों में भारतीय हैं :)

    ReplyDelete
  20. lagata hai bahut hi gambhir mudda hai magar main poori tarah wakif nahi hun aur yahan blogs par to roj kisi na kisi ke sath ye hota rahta hai shayad isliye dhyan na gaya ho..........magar phir bhi yahi kahungi ki jo bhi insaan is tarah ki harkat kar raha hai ye ashobhniya hai aur uske khilaf sabko aawaz uthani chahiye.

    ReplyDelete
  21. सुनिए, समीर लाल, द साउंड ऑफ साइलेंस...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  22. एक कहावत नया-नया ड्राईवर ज्यादा भौंपू बजाता है।
    किसी को भी कुछ भी कह रहे हैं।
    लगता है कि झगडने के लिये ही आते हैं और टिप्पणी करते हैं।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  23. पाबला जी से सहमत हूँ !!
    साथ साथ यह भी कहना चाहूँगा ......... जब समीर भाई एक 'विनती' करते है सब से तब भी तो यही कहा जाता है कि वह ही पूरे ब्लॉग जगत पर राज करना चाहते है और फिर समीर भाई ही क्यों ........... बाकीयो की कोई ज़िम्मेदारी नहीं है क्या ??
    एक साहब है जो अपने ब्लॉग पर पोस्ट लिखते है दुसरे ब्लॉगर के ऊपर और दुनिया भर की गंद फैलाते है जब मेरे, पाबला जी और अजय कुमार झा जैसे ब्लॉगर उनको उनके ही ब्लॉग पर सुना के आते है तो जनाब पोस्ट ही मिटा देते है .........सब से मज़े की बात यह कि जनाब खुद दूसरो को ज्ञान देते है अच्छा लिखने का, अब आप ही बताएं यह कहाँ का तरीका है ब्लॉगिंग का कि अगर आपकी पोस्ट पर मन माफिक टिपण्णी नहीं आई तो पोस्ट ही हटा दो ! हम सब यही चाहते है कि ब्लॉग जगत में शांति बनी रहे पर इसका यह मतलब तो नहीं कि बिना वजह किसी पर भी कुछ भी आरोप लगा दिए जाए !!
    माफ़ कीजियेगा अगर आपको कोई बात बुरी लगी हो तो पर सत्य यही है !!

    ReplyDelete
  24. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  25. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  26. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  27. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  28. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  29. बेहद प्रासंगिक पोस्ट...
    यह मामला क्या है...? हम नहीं जानते...
    क्योंकि अब ब्लॉगवाणी पर आना कम हो गया है, न के बराबर...
    जब हमने ब्लोगिंग शुरू की थी, उस वक़्त माहौल बहुत अच्छा था...
    लेकिन, अफ़सोस है कि 'कुछ लोगों' ने ब्लॉग जगत रूपी पावन गंगा में 'गंदगी' घोल दी है...और यह दिनोदिन बढ़ रही है...
    लोग ज़बरदस्ती अपने 'मज़हब' को दूसरों पर थोप देना चाहते हैं...
    गाली-गलौच करते हैं... असभ्य और अश्लील भाषा का इस्तेमाल करते हैं...
    किसी विशेष ब्लोगर कि निशाना बनाकर पोस्टें लिखी जाती हैं...
    फ़र्ज़ी कमेंट्स किए जाते हैं...
    दरअसल, 'इन लोगों' का लेखन से दूर-दूर तक का कोई रिश्ता नहीं है... जब ब्लॉग लेखन का पता चला तो सीख लिया और फिर उतर आए अपनी 'नीचता' पर... और करने लगे व्यक्तिगत 'छींटाकशी'...
    'इन लोगों' की तरह हम 'असभ्य' लेखन नहीं कर सकते... क्योंकि यह हमारी फ़ितरत में शामिल नहीं है और हमारे संस्कार भी इसकी इजाज़त नहीं देते... एक बार समीर लाल जी ने कहा था... अगर सड़क पर गंदगी पड़ी हो तो उससे बचकर निकलना ही बेहतर होता है...

    आज ब्लॉग जगत में जो हो रहा है, हमने सिर्फ़ वही कहा है...

    ReplyDelete
  30. आपसे पूरी तरह से सहमत हू जी

    ReplyDelete
  31. ढपोरशंख जी आपकी बात मैंने बहुत गौर से पढ़ी है....और सारी बातें समझ में भी आ गयी हैं....
    सच पूछिए तो ये बातें बहुत बार बताई जा चुकी हैं... आपने भी बताई....आपकी टिपण्णी प्रकाशित भी करना चाहती हूँ ..लेकिन फिर वही बात आ जाती है भाषा की...और इस समय माहौल को शांत करने की आवश्यकता है न कि भड़काने की ...इसलिए आपकी टिप्पणी डिलीट कर रही हूँ...
    दूसरी बात आपके नाम में ही समस्या है 'ढपोरशंख' नाम पढ़ते ही आपकी बातों की अहमियत आधी हो जाती है....क्योंकि बचपन से यही सुनते आये हैं ....ढपोरशंख विश्वास करने योग्य नहीं होते.....हो सके तो अपना नाम बदलिए....

    ReplyDelete
  32. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  33. आपसे अक्षरश" सहमत, हरेक से सहमति रखना आवश्यक नहीं है लेकिन विरोध की या असहमति की भी मर्यादा रहनी चाहिये।

    देखिये, आपकी ब्लॉग समाचार वाली पोस्ट भी इस विवाद के चलते दब गई है। आपसे निवेदन है कि उसे रीपोस्ट करिये ताकि अच्छी चीजें हाईलाईट हो सकें।

    आभार।

    ReplyDelete
  34. Mera maana hain ki Asobhniya bhasa ka prayog uski mansikta ki parichayak hai..... kintu jab budhijiviyon dwara es tarah kee harkat ki jaati hai to uska pratikaar sabko karne hi chahiye.....
    Saarthak prasuti ke liye dhayavaad...

    ReplyDelete
  35. @ कूप कृष्ण जी आपने भी टिप्पणी में भी भाषा का ख्याल रखा होता ...
    तो मैं बहुत कृतज्ञं होती...
    मैं क्षमा याचना सहित आपकी टिप्पणी हटा रही हूँ...

    ReplyDelete
  36. हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा

    "अनूप जी और ज्ञानदत्त जी दबे हुए संस्कार ऐसे ही बाहर निकल आते हैं" वाली पोस्ट के बाद ब्लॉगवाणी तिलमिलाई!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    जिसने धर्म के नाम पर आने वाली संवेदनशील ब्लोगों को नहीं निकाला उसने इस अनोखे ब्लोग को घबड़ाकर ब्लोगवाणि से निकाल दिया!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    आज की पोस्ट देखनी है तो आगे पढ़ें

    ReplyDelete
  37. जनाब समीर साहब ने तो अपील कर ही दी है अब आप लोग अपना काम करिए और पगलट की बातों को दिल पर मत लगाइए। मेरे ख्याल से किसी को पागल कहना असंसदीय नहीं है।

    ReplyDelete
  38. दरअसल हम हिन्दुस्तानियों में ये एक बहुत बडी जन्मजात कमी है कि हम लोगों में जीवन में आगे बडने की कोई इच्छाशक्ति ही नहीं है...हमेशा पीछे चलकर सिर्फ "जिन्दाबाद-जिन्दाबाद" कहने में ही फख्र महसूस करते हैं...यहाँ भी वही सब कुछ देखने को मिल रहा है....कोरी अन्धभक्ति!

    ReplyDelete