Wednesday, May 19, 2010

मैं बंद गली का हूँ वो आखिरी मकाँ ....



मेरे दिल में अब कोई हाजत नहीं रही
तुम्हें बाँधने की अब आदत नहीं रही

जिस्म तो खड़ा हुआ है बस यहीं कहीं
रूह से मगर कोई निस्बत नहीं रही

मैं बंद गली का हूँ वो आखिरी मकाँ 
रास्तों को जिसकी जरूरत नहीं रही


निस्बत=रिश्ता

गीत तो आप सुन चुके हैं लेकिन फिर सुन लीजिये...
चंदा ओ चंदा....
आवाज़ 'अदा'

32 comments:

  1. बेहतरीन, कमाल,सुन्दर,गज़ब सच कहूं तो’गज़न्टाप’(हमारे लखनऊ में that is the most superlative expression equal to 'BESTEST')

    ReplyDelete
  2. गली के मोड़ पे सूना सा एक दरवाज़ा,
    तरसती आंखों से रस्ता किसी का देखेगा,
    निगाह दूर तलक तक जा के लौट आएगी,
    करोगे याद तो याद बहुत आएगी,
    गुज़रते वक्त की हर मौज ठहर जाएगी,
    करोगे याद तो...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  3. वाह वाह!! और शेर जोड़े..

    बढ़िया है.

    ReplyDelete
  4. तुम्हें बाँधने की अब आदत नहीं रही
    किसी को कितना बांधयेगा.
    लजबाब.

    ReplyDelete
  5. खुशदीप के कमेन्ट के लिये और तुम्हारी इस अदा के लिये भी वाह वाह । आज कल इतनी अच्छी पोस्ट पढने के लिये भी समय नही निकाल पा रही। आशा है नाराज़ नही होगी। शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. OOOOOOOOFFFFFFFFFFFFFFFFF...........!!!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  7. तहरीर न मिट जाये कहीं देख कर चलिए
    हर मौज ने साहिल पे कोई गीत लिखा है...

    ReplyDelete
  8. मैं बंद गली का हूँ वो आखिरी मकाँ रास्तों को जिसकी जरूरत नहीं रही
    वाह अदा जी वाह

    ReplyDelete
  9. मकां चाहे आखरी हो

    पर मुकां कभी आखरी नहीं होना चाहिए
    और ऐसा मकां नहीं मिला हमें

    जिसमें दरवाजा बना न हो

    भीतर क्‍या छत से घुसेंगे

    हां नहीं तो

    ReplyDelete
  10. वाह वाह!! और शेर जोड़े..
    वाह वाह!! और शेर जोड़े..

    ReplyDelete
  11. जवाब नहीं आपके इस रचना का ........बेहतरीन

    ReplyDelete
  12. बात कहने को यूँ तो एक शैर ही बहुत होता है। मगर इन तीन शैरों ने मिल कर जो बात कही है उस का वजन कुछ और ही है।

    ReplyDelete
  13. @ तुम्हे बाँधने की अब कोई आदत ना रही ...

    अपनी कविता की पंक्ति लिख दू ...
    प्रेम आखिर कहाँ पलता है
    स्वतंत्र तो कर दिया है तुम्हे
    मगर
    लौट ही आओगे
    यह यकीन रखने में ....
    इसलिए बाँधने की जरुरत नहीं होनी चाहिए ...बंधन स्थाई वही होते हैं जो बिन बंधे बांध जाते हैं ....

    ग़ज़ल/कविता में और गुन्जायिश थी पंक्तियाँ बढाने की ...
    और जो आपको6०% समझ नहीं आया था...देवनागरी में लिख दिया है ....

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन। लाजवाब।

    ReplyDelete
  15. raaston ki jisko zarurat nahi rahi...waah Ada ji...chand sher...par babbar sher se bhi khatarnaak..

    ReplyDelete
  16. "जिस्म तो खड़ा हुआ है बस यहीं कहीं,
    रूह से मगर कोई निस्बत नहीं रही"

    निशब्द कर दिया है इन पंक्तियों ने।

    गीत तो हम सुन ही चुके हैं, फ़िर सुन लेते हैं और सुनते रहेंगे, लेकिन आप हमारी सब की फ़रमाईश कब पूरी करेंगी - आपकी गज़ल आपकी ही आवाज में।

    ReplyDelete
  17. सुंदर शेर...बढ़िया रचना..बधाई

    ReplyDelete
  18. मैं बंद गली का हूँ वो आखिरी मकाँ
    रास्तों को जिसकी जरूरत नहीं रही

    मकाँ से आगे ना जाता हो रास्ता कोई
    पर ये गली पहुंचती है उस मकाँ तक....


    बहुत अच्छी प्रस्तुति....दो शेर और जोड़ें तो अच्छी ग़ज़ल बन जायेगी

    ReplyDelete
  19. Adaa ji...
    Aapne itna achha likha hai!
    Kaise laate ho itne achhe thoughts :)
    It is really innovative, every composition of urs is wonderful...
    And I mean it from the bottom of my heart that you are a good writer with fantastic thought process :)

    Regards,
    Dimple

    ReplyDelete
  20. बेहतरीन रचना
    आभार

    ReplyDelete
  21. स्थिति विशेष की विलक्षण रचना ।

    ReplyDelete
  22. बहुत ही शानदार-जानदार शेर है!

    चन्दा वाला गीत भी बहुत बढ़िया रहा!
    सुनकर मन मुदित हो गया!

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर गीत और शेर।

    ReplyDelete
  24. समीर भाई से सहमत कुछ और शेर जरूर जोड़े |
    बाकी बेहद उम्दा शेर है !!

    ReplyDelete
  25. आप बहुत अच्छी कविता लिखते हैं दिल को छने वाली
    हम आपसे दोवारा निवेदन कर रहे हैं कि आप ज्याद देशभक्ति पर लिखें तो देश का बहुत फायदा होगा

    ReplyDelete
  26. @ तुम्हे बाँधने की अब कोई आदत ना रही ...

    Bonds in any relationship strengthens with freedom only. People realize it after a certain age and experience.

    Happens !

    ReplyDelete
  27. बेहतरीन शेर ।
    गीत तो पहले सुना है , फिर सुनकर फिर उतना ही आनंद आया।
    आभार।

    ReplyDelete
  28. अतिसुन्दर...आपकी इस तरह की कविता से हमें बहुत प्रेरणा मिलती है....लाजवाब

    विकास पाण्डेय
    www.vicharokadarpan.blogspot.com

    ReplyDelete
  29. मैं बंद गली का हूँ वो आखिरी मकाँ
    रास्तों को जिसकी जरूरत नहीं रही ..

    बहुत खूबसूरत ... लाजवाब शेर ...

    ReplyDelete
  30. मैं बंद गली का हूँ वो आखिरी मकाँ रास्तों को जिसकी जरूरत नहीं रही
    .......बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  31. sundar lekh ke saath sundar awaaj bhi

    ReplyDelete