Thursday, May 20, 2010

वाह !! मर्दानगी...जिंदाबाद....


जानते हो !!
वह घोषित चरित्रहीन है,
क्योंकि : 
वो किसी को अपने पास फटकने नहीं देती,
ईट का जवाब पत्थर से देती,
तुम्हें आईना दिखा देती है,
हर बार तुम हार जाते हो,
अपनी ही नज़र में गिर जाते हो,
फिर ऊपर उठने की जुगत लगाते हो,
उसके नाम पर चढ़कर तुम;
ऊपर पहुँच जाते हो,
भूल जाते हो कि
वो उंचाई जो तुमने पाई है
उसका ही काँधा काम आया था,
एक बार फिर, उसे तुम नीचे पाते हो;
और ढिंढोरा पीट,  उसे गिरी हुई बताते हो,
वाह !! 
मर्दानगी...जिंदाबाद....!!

31 comments:

  1. क्यों शर्मिंदा कर रहे हो जी....

    एक बेबाकी से आईना दिखाती रचना.....


    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  2. samaaj ka kachcha chittha hai aapki kavita...bahut khoob...

    ReplyDelete
  3. उम्दा विचारणीय प्रस्तुती / आज इसी तरह की झूठी मर्दानगी को ही मर्दानगी कहा जाता है ,सत्य और न्याय के एक शब्द बोलने वक्त पूरा का पूरा मोहल्ला डर से मुर्दा हो जाता है / हम तो रोज ऐसे घटनाओं से रूबरू होते हैं / अदा जी आज हमें आपसे सहयोग की अपेक्षा है और हम चाहते हैं की इंसानियत की मुहीम में आप भी अपना योगदान दें / पढ़ें इस पोस्ट को और हर संभव अपनी तरफ से प्रयास करें ------ http://honestyprojectrealdemocracy.blogspot.com/2010/05/blog-post_20.html

    ReplyDelete
  4. .... जोर का झटका, धीरे से लगे ...!!!

    ReplyDelete
  5. तुम्हें आईना दिखा देती है,
    हर बार तुम हार जाते हो

    -सच! सच!!

    ReplyDelete
  6. Adaa ji...

    What a masterpiece!
    Bahut hi badiya likha hai aapne...
    Sachh likha hai!!

    Mujhe bahut achha lagaa...

    Regards,
    Dimple

    ReplyDelete
  7. कौन दी????? कविता सुन्दर है... :)

    ReplyDelete
  8. और ढिंढोरा पीट, उसे गिरी हुई बताते हो,
    वाह !!
    मर्दानगी...जिंदाबाद....!!


    इतनी सच्ची रचना , अपने आप में पूर्ण है

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया विवेचना!
    अच्छा चित्र खींचा है!

    ReplyDelete
  10. अब क्या कहूं?
    बस इतना ही पर्याप्त है;बेहतरीन !
    बधाई हो!

    ReplyDelete
  11. वाह अदाजी! बहुत सुन्दर और जोशीला कविता है ... अक्सर इंसान को बस स्वार्थ ही याद रहता है ... भूल जाता है कि कभी वो भी वहाँ था, जिस जगह को वो आज हेय दृष्टि से देखता है ...

    ReplyDelete
  12. GR8....Superb....
    adbhut ....
    bemisaal ....
    shabd kam ho gaye hain ...!!

    ReplyDelete
  13. ji ada ji,


    aise mardon se aaye din samnaa hotaa hai idhar....




    saale gadhe ke bachche...!!!

    sorry....

    aur zyadaa sahi shabd istemaal nahin kar paa rahe hain abhi ham...

    ReplyDelete
  14. और ढिंढोरा पीट, उसे गिरी हुई बताते हो,
    वाह !!
    मर्दानगी...जिंदाबाद....!!


    इतनी सच्ची रचना , अपने आप में पूर्ण है

    ReplyDelete
  15. शीर्षक से ही भावनाओं की गहराई का एह्सास होता है।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर रचना! मर्दों के मुह पर तमाचा!

    ReplyDelete
  17. बस ये कहूँगी............ वाह रे लेखनी वाह

    ReplyDelete
  18. बेहद उम्दा और सटीक रचना !!

    ReplyDelete
  19. और ढिंढोरा पीट, उसे गिरी हुई बताते हो,
    वाह !!
    मर्दानगी...जिंदाबाद....!!
    sach ekdam sach

    ReplyDelete
  20. कौन कहता है मर्द को दर्द नहीं होता...आज बड़ा हो रहा है जी...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  21. कटु सच्चाई को रौशन करती सार्थक रचना

    ReplyDelete
  22. आशा है इस पोस्ट पर आपका प्यार मिलेगा, 'ब्लोगवाणी' से गलती से ये गायब हो गई..
    http://swarnimpal.blogspot.com/2010/05/blog-post_20.html

    ReplyDelete
  23. उम्दा विचारणीय प्रस्तुती... आज इसी तरह की झूठी मर्दानगी को ही मर्दानगी कहा जाता है ,सत्य और न्याय के एक शब्द बोलने वक्त पूरा का पूरा मोहल्ला डर से मुर्दा हो जाता है...

    agree with honesty project democracy

    ReplyDelete
  24. क्या अदा जी, एकदम डायरेक्ट अटैक । पर है एक दम सटीक ।

    ReplyDelete
  25. एक दम सटीक
    अदा जी आभार वैचारिक क्रांति के सूत्र के लिये

    ReplyDelete
  26. हम तो जी फ़िल्मों से ही प्रेरणा पाते रहे हैं, ’रोटी’ का गाना याद आ गया, "जिसने पाप न किया हो, जो पापी न हो।"
    और फ़िर हम किसी को जज करने वाले कहां से हो गये? क्या हम अपने आप में आल परफ़ेक्ट हैं?
    आभार।

    ReplyDelete
  27. विचारणीय प्रस्तुती

    ReplyDelete
  28. वाह! और शब्द नहीं !

    ReplyDelete