Thursday, May 6, 2010

शहर की हवाएँ बदलने लगी हैं ....


ज़िन्दगी की तह अब उतरने लगी है
अश्कों की तासीर बदलने लगी है

वो जो हरारत सी हमको हुई थी 
उन्हें देख तबियत सम्हलने लगी है 

ना झाँका करो झरोखे से बाहर
शहर की हवा अब बदलने लगी है

नज़र में तुम्हारी हया की बाती
लबों की छुअन से मचलने लगी है

अदा से देखो 'अदा' बन गए हम
अदाएं 'अदा' की अब चलने लगी है

31 comments:

  1. ना झाँका करो झरोखे से बाहर
    शहर की हवाएँ बदलने लगी हैं
    ====
    आजकल मेरे आंगन में सूरज उतरता है
    इन बदली हुई हवाओ से कौन डरता है

    ReplyDelete
  2. थोड़ी सी हमको हरारत हुई थी
    उन्हें देख तबियत सम्हलने लगी है.
    ऐसा नहीं कर सकते क्या दी? अच्छी बनी ग़ज़ल सारी.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  4. अदा जी,
    बहुत खूबसूरत जज़्बात हैं इस रचना के।

    'change in flavour' is a permanent component of your blog, and it should never change, it is a request.

    पसंद का पहला चटका आज मेरी तरफ़ से।

    बहुत बहुत आभार।

    ReplyDelete
  5. Dipak,
    timhaare hisaab se badal diye hain bas zara sa apna rehne diye hain...
    accha hua jo tum bata diye hamko..'hai' aur 'hain' waali baat koshish to kiye hain ..dekh kar batana ab theek hai ya nahi..
    ..didi

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर रचना है ... हर पंक्ति में भावनाएं भर दिए हैं आप ...
    नज़र में तुम्हारी हया की बाती
    लबों की छुअन से मचलने लगी है

    गजब की नजाकत है इन पंक्तियों में ...

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत जज़्बात ............

    ReplyDelete
  8. वाह! आनन्द आया रचना पढकर!

    ReplyDelete
  9. वो जो हरारत सी हमको हुई थी
    उन्हें देख तबियत सम्हलने लगी है ...

    मौसम का मिजाज़ बदलने लगा है ...

    ना झाँका करो झरोखे से बाहर
    शहर की हवा अब बदलने लगी है..

    हमारा शहर झरोखों से झाँकने वालों के लिए मशहूर /बदनाम है

    अदा से देखो 'अदा' बन गए हम
    अदाएं 'अदा' की अब चलने लगी है...
    ह्म्म्म...चल नहीं दौड़ रही है ...:):)

    ReplyDelete
  10. ज़िन्दगी की तह अब उतरने लगी है,
    अश्कों की तासीर बदलने लगी है

    बढ़िया ग़ज़ल...बधाई

    ReplyDelete
  11. उनके आने से चेहरे पर आ जाती है रौनक,
    वो समझते हैं बीमार का हाल अच्छा है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  13. सुंदर शब्‍दों में सुंदर अभि‍व्‍यक्‍ति‍।

    ReplyDelete
  14. अदा से देखो 'अदा' बन गए हम अदाएं 'अदा' की अब चलने लगी है

    निःसन्देह ।

    ReplyDelete
  15. परिवर्तन संसार का नियम है!
    बहुत सुन्दर रचना है!

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  17. @अदा से देखो 'अदा' बन गए हम
    अदाएं 'अदा' की अब चलने लगी है !
    ---------- अछ्छा लगा ! यमक अलंकार का भी दर्शन कभी कभी हो जाता है !

    ReplyDelete
  18. ना झाँका करो झरोखे से बाहर
    शहर की हवा अब बदलने लगी है


    behtareen sher..

    aur maqta bhi khub kaha hai aapne..

    laali mere laal ki . jitt dekhun tit laal
    laali dekhan main gayi , main bhi ho gayi laal

    ReplyDelete
  19. ना झाँका करो झरोखे से बाहर
    शहर की हवा अब बदलने लगी है

    गज़ल बहुत बढ़िया बन पड़ी हैं
    जरा इसे अपने स्वर और संगीत में पिरो दीजिये

    ReplyDelete
  20. "अदाएं 'अदा' की अब चलने लगी है"

    यह अदाएं युही चलती रहे यही दुआ है !!
    शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  21. वाकई बहुत सुन्दर अदा है!

    ReplyDelete
  22. ना झाँका करो झरोखे से बाहर
    शहर की हवा अब बदलने लगी है
    kamaal kaha hai Ada ji

    ReplyDelete
  23. ना झाँका करो झरोखे से बाहर
    शहर की हवा अब बदलने लगी है
    kamaal kaha hai Ada ji

    ReplyDelete
  24. ना झाँका करो झरोखे से बाहर शहर की हवा अब बदलने लगी है

    शानदार ग़ज़ल बन पड़ी है .....लाजवाब ..बस ..पढ़ते ही निकला ..वाह ...!

    ReplyDelete
  25. अदा से देखो 'अदा' बन गए हम अदाएं 'अदा' की अब चलने लगी है
    वाह । बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  26. वो जो हरारत सी हमको हुई थी
    उन्हें देख तबियत सम्हलने लगी है

    waah....ye behut achcha laga.

    ReplyDelete
  27. khoobsurat gazel...aaj kal kya ho gaya hai kisi galib se mil baithi ho kya? gazel pe gazel likhi ja rahi hai...kamal pe dhamal?????mazra kya hai????milo to puchhuu.....

    ReplyDelete
  28. बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ....मीठे अहसास से लबरेज़

    ReplyDelete
  29. gazab .kya likhti hain aap ada ji
    adaye ab ada ki chalne lagi hain ..................
    isse pata chalta hain aapke atmvisbas ka
    kabhi hamare blog pe aake hume bhi bataye ke kahan par sudhar ki gunzaiesh hain

    ReplyDelete
  30. वो जो हरारत सी हमको हुई थी
    उन्हें देख तबियत सम्हलने लगी है

    इस पर कुछ याद आया....

    उनको देख कर आ जाती है चेहरे पर रौनक
    वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है ..

    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल कही है....बहुत खूब

    ReplyDelete