Saturday, May 15, 2010

अमर बेल टहनी हूँ, तुम देवत्व के हस्ताक्षर और मैं जीवन से भरी हूँ ....


तुम !
शोक हर अशोक विटप हो
मरू में जीवन घट हो
तेज़ धूप में छत हो
पूजा में अक्षत हो
सरोवर नील कमल हो
भरी जेठ, बादल हो

मैं !
ढलती शाम एकाकी
बैरंग आई इक पाती
आह छोड़ती छाती
गुमी हुई कोई थाती
देह तेरे उकरी हूँ
अमर बेल टहनी हूँ,
तुम देवत्व के हस्ताक्षर 
पर मैं जीवन से भरी हूँ  ....

गीत दिल लगा लिए तुमसे प्यार करके .....आवाज़ 'अदा'

37 comments:

  1. तुम देवत्व के हस्ताक्षर
    और मैं जीवन से भरी हूँ ....
    उम्दा रचना
    देवत्व में भी जीवन भरना होगा
    गीत मधुर

    ReplyDelete

  2. ढलती शाम एकाकी
    बैरंग आई इक पाती
    ................
    ................
    और मैं जीवन से भरी हूँ
    क्या यह चुभता सा एक विरोधाभास नहीं ?


    देख लीजियेगा, या शायद मैं ही गलती पर हूँ ।

    ReplyDelete
  3. डाक्टर साहेब,
    आपकी बात सोलह आने सच....ये विरोधाभास तो है ज़रूर ..चुभ भी रहा है...
    इसलिए ज़रा सा बदल दिया है...सारी कमियाँ हैं मुझमें, फिर भी.... मैं जीवन से भरी हूँ......
    क्या करूँ...!!
    आपका बहुत बहुत आभार...

    ReplyDelete
  4. समझ नहीं आरहा दी कहाँ से इतनी सुन्दर नयी उपमाएं खोज लाती हैं.. आशु कवि/शायर भी हो गयीं हैं आप, हर दिन एक ताज़ातरीन रचना वाह.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचना !

    तुम देवत्व के हस्ताक्षर
    और मैं जीवन से भरी हूँ....

    हर शब्द अनुपम और अर्थपूर्ण ! बहुत खूब !

    ReplyDelete
  6. सुन्दर रचना,,,


    तुम देवत्व के हस्ताक्षर
    पर मैं जीवन से भरी हूँ .

    बहुत खूब!!


    गायन तो मेरा पसंदीदा गीत लेंगी तो अच्छा लगना ही है, :)

    ReplyDelete
  7. क्या कहूं , बस लाजवाब ।

    ReplyDelete
  8. तुम देवत्व के हस्ताक्षर ...मैं जीवन से भरी ...

    बहुत जबरदस्त... चुन -चुन कर शब्दों का प्रयोग किया है आपने .....

    ढलती शाम , बेरंग पाती फिर भी जीवन से भरी...
    जहाँ तक मैं समझ रही हूँ ...यह विरोधाभास नहीं, दिया तले अँधेरा जैसा ही है ...हम खुद अंधेरों में दुबे हूँ मगर दूसरों के लिए रौशनी बनकर उन्हें राह दीखते हों ...अपनी तकलीफ भुलाकर दूसरों को खुश रखने की चाह .... यह सच्ची मानवता है ...इंसानियत है ...देव और दानव दोनों ही प्रवृतियों से जुदा ...

    आपकी उत्कृष्ट कविताओं में से एक लगी है मुझे ....

    ReplyDelete
  9. मन को छू लेने वाली कविता /

    ReplyDelete
  10. aapki rachnaayen parhta rahta hun. bahut pasand aatee hain.

    ReplyDelete
  11. wah Ada ji lajawaab...kya upmaayein chun kar laayi hai....awaaz ka to aapki jawaab nahi...atyant madhur geet

    ReplyDelete
  12. कविता पढ़ने में बहुत अच्छी लगी, पर अमरबेल तो जिससे जीवनरस प्राप्त करती है, उसी को सुखा देती है, इसलिये हमारी असहमति(of course, पसंद के साथ) दर्ज की जाये।

    चित्र भी खूबसूरत है और आपकी आवाज में गाना सुनना एक आलौकिक आनंद देता है।

    सदैव आभारी।

    ReplyDelete
  13. saari kamiyaan mujh mein hain...


    fir bhi main jeewan se bhari hoon....



    kyaa karoon...?



    bahut umdaa khayaal....

    ReplyDelete
  14. वाह बहुत खूब , क्या आवाज , क्या अंदाज़ , सुंदर अति सुंदर ।

    अब तो बात एन डी टी वी तक पहुंच गई है देखें कब हिंदुस्तान में परचम फ़हराता है ? नहीं समझीं क्या , ? समझ गईं न ..छो नाईछ औफ़ यू ...।

    ReplyDelete
  15. जवाब नहीं ....इस रचना का .

    ReplyDelete
  16. तुम देवत्व के हस्ताक्षर
    और मैं जीवन से भरी हूँ ....

    Sundar bhavpurn prastuti
    Bahut shubhkamnayen

    ReplyDelete
  17. रचना बहुत सुन्दर है ... शब्दों से चित्रांकन बहुत सुन्दर किया गया है ...
    रचना और कविता से हटकर एक बात कहता हूँ ...
    वैसे तो अमरबेल को बहुत अच्छी नज़रों से नहीं देखी जाती है क्यूंकि ये अक्सर दुसरे पौधों पर पनपती है और उस पौधे को सुखा देती है ... पर आजकल नया वैज्ञानिक शोध से पता चला है कि अमरबेल कर्कट रोग जैसे भयानक बीमारी के इलाज में उपयोगी सिद्ध हो सकती है ...

    ReplyDelete
  18. ताजातरीन शोध से ये भी पता चला है कि अमरबेल भले ही उस पौधे के लिए क्षतिकारक हो जिसपर वो पनप रही है, पर जैव विविधता के लिए लाभदायक है ... वैसे कर्कट रोग वाली बात अभी तक सिद्ध नहीं हुई है ।

    ReplyDelete
  19. बहुत बढ़िया अदा जी
    आपका जवाब नही

    ReplyDelete
  20. ऐसे ही हमेशा लिखती रहे

    ReplyDelete
  21. मैं !
    ढलती शाम एकाकी
    बैरंग आई इक पाती
    आह छोड़ती छाती
    गुमी हुई कोई थाती
    देह तेरे उकरी हूँ
    अमर बेल टहनी हूँ,
    तुम देवत्व के हस्ताक्षर
    पर मैं जीवन से भरी हूँ ....

    बेहतरीन भावो का समन्वय अदा जी !

    ReplyDelete
  22. तुम देवत्व के हस्ताक्षर
    पर मैं जीवन से भरी हूँ ....

    संजो कर रखने वाली पंक्तियाँ ।

    ReplyDelete
  23. अच्छी प्रस्तुति। बधाई।

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर रचना !

    मेरे जन्मदिन पर अपनी शुभकामनाएं देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  25. आपकी इस रचना का जवाब नहीं ..और ये हम शीर्षक पढ़कर ही अंदाजा लगा चुके थे ...और अब रहा सवाल आपकी आवाज का उसके तो हम कायल है ही ...और आज गाना सुना तो लगा हम सही ही है ....बस एक विनती है ..कभी समय मिले तो लता जी का गाये किसी पुरानी फिल्म के क्लासिकल सोंग पर आपकी आवाज का जादू बिखरे तो ....हमें मज़ा ही आ जाए ...बाकी जो अब है वो भी लाजवाब ही है .....एक बात और आपका हर नया प्रयोग काबिले तारीफ़ ही होता है ... इसे जारी रखे

    ReplyDelete
  26. गिरिजेश जी ने कहा है...

    सुना है अमरबेल जिस पौधे पर पसरती है उसके जीवन रस को चूस लेती है। बेचारा देवता !
    .. कविता वर्षा के बाद की समीर सी लगी। शीतल , नई बयार।

    ReplyDelete
  27. अमर बेल की बात कई पाठकों ने कही है....मुझे इसका थोड़ा सा ही भान था...इसलिए 'देवत्व' का प्रयोग किया....
    क्या अमर बेल देवताओं के भी जीवन रस छीन लेने में समर्थ होगी...?
    खैर यह एक प्रयोग था मेरा..आपलोगों ने सराहा...आभारी हूँ...
    धन्यवाद..

    ReplyDelete
  28. 'तुम देवत्व के हस्ताक्षर
    पर मैं जीवन से भरी हूँ ....'

    -सुन्दर

    ReplyDelete
  29. वाह! कमाल की पंक्तियाँ और भाव है!

    ReplyDelete
  30. @ क्या अमर बेल देवताओं के भी जीवन रस छीन लेने में समर्थ होगी...?

    'अमर'बेल है, साधारण बेल नहीं।
    देवताओं को 'अमर' भी कहा जाता है।

    ReplyDelete
  31. मरू में जीवन घट हो
    तेज़ धूप में छत हो

    lagata hai pahla vote ab aap ko hi dena padega...

    ReplyDelete
  32. सुंदर, पढ़कर दिल खुश हो गया

    ReplyDelete
  33. रचना आनन्द प्रदायक ।

    ReplyDelete
  34. nice................................

    ReplyDelete
  35. सुन्दर................

    अमर बेल जीवन से भरी थी तभी न दिल लगा लिया...

    अनु

    ReplyDelete