Sunday, May 16, 2010

ज़रा रहने दो मुझमें भी अभी इतनी सी ग़ैरत तो....




हमारी जिंदगी में भी  कई बे-नाम रिश्ते हैं
उन्हें हम इतनी शिद्दत से न जाने क्यूँ निभाते हैं 

तुम्हारी हर दगाबाज़ी हमें जी भर  रुलाती है
सबेरा  जब भी होता है तो हम सब भूल जाते हैं 

यहाँ  ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
अगर  पत्थर वो  झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं ? 


ज़रा रहने दो मुझमें भी अभी इतनी सी ग़ैरत तो
कि अंगडाई जब भी लेते हैं नज़रें चुराते हैं

अभी उतना ही गिरने दो हमें ख़ुद की निगाहों में 
कभी झुक करके सोचें, आओ अब ख़ुद को उठाते हैं

ये माना हम कभी कुछ भी कहाँ तुम्हें दे ही पाए हैं 
मगर हम रूह की हद से तुम्हें मेरी जाँ बुलाते हैं

ये दिल इस  दर्द के जज़्बात से जब भी लरजता  है
पकड़ कर डाल हम ख़ामोशियों के झूल जाते हैं

बड़ा है कौन यां ग़र तुम, कभी इस बात को सोचो
हरिजन के छुए पर ये बिरहमन क्यूँ नहाते हैं..?

कभी सोचा  'अदा' तुमने, गरीबों की ही बीवी को  
सभी देवर से क्यूँ बनकर के भाभी जाँ बुलाते हैं ?


और अब गीत......
तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रक्खा क्या है
फिल्म : चिराग
संगीतकार : मदन मोहन
गीतकार : मजरूह सुल्तानपुरी
आवाज़ : लता
आवाज़ इस पोस्ट पर....स्वप्न मंजूषा शैल 'अदा' 

तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रक्खा क्या है
ये उठें सुबह चले, ये झुकें शाम ढले
मेरा जीना मेरा मरना इन्हीं पलकों के तले
तेरी आँखों के सिवा ...

ये हों कहीं इनका साया मेरे दिल से जाता नहीं
इनके सिवा अब तो कुछ भी नज़र मुझको आता नहीं
ये उठें सुबह चले ...

ठोकर जहाँ मैने खाई इन्होंने पुकारा मुझे
ये हमसफ़र हैं तो काफ़ी है इनका सहारा मुझे
ये उठें सुबह चले ...

32 comments:

  1. बड़ा है कौन यां ग़र तुम, कभी इस बात को सोचो
    हरिजन के छुए पर ये बिरहमन क्यूँ नहाते हैं

    बहुत बेहतरीन

    ReplyDelete
  2. @ हरिजन के छुए पर ये बिरहमन क्यूँ नहाते हैं..

    मुझे नहीं लगता की आजके इस भारतीय समाज में इस तरह कि कोई व्यवस्था है ...अब सब बराबर हैं ...और होने ही चाहिए ...

    सौहार्द्र की उम्मीद और अपील समाज के हर अंग से की जानी चाहिए ...

    कविता पहले पढ़ी हुई है और कमेन्ट भी किया है इसलिए अब ज्यादा कुछ नहीं ...!!

    ReplyDelete
  3. यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
    अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं ?

    रोचक उम्दा प्रस्तुति...आभार

    ReplyDelete
  4. हरिजन के छुए पर ये बिरहमन क्यूँ नहाते हैं..?
    सवाल जायज है
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  5. "अभी उतना ही गिरने दो, हमें ख़ुद की निगाहों में कभी झुक करके सोचें,आओ अब ख़ुद को उठाते हैं"
    बहुत खूबसूरत जज़बात।


    और गाना तो बस्स पूछो ही मत।

    कल वाली पोस्ट कहां गई?

    ReplyDelete
  6. तुम्हारी हर दगाबाज़ी हमें जी भर रुलाती है
    सबेरा जब भी होता है तो हम सब भूल जाते हैं
    यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
    अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं ? ..
    बहुत सुंदर,यथार्थ परक,धन्यवाद.

    ReplyDelete
  7. वाह! अच्छी गज़ल.
    इस शेर में ..
    तुम्हारी हर दगाबाज़ी हमें जी भर रुलाती है
    सबेरा जब भी होता है तो हम सब भूल जाते हैं
    ..मुझे 'जी भर' को 'शब भर' पढ़ने का मन हो रहा है.

    ReplyDelete
  8. वाह! अच्छी गज़ल.
    इस शेर में ..
    तुम्हारी हर दगाबाज़ी हमें जी भर रुलाती है
    सबेरा जब भी होता है तो हम सब भूल जाते हैं
    ..मुझे 'जी भर' को 'शब भर' पढ़ने का मन हो रहा है.

    ReplyDelete
  9. उम्दा सोच और प्रस्तुती /

    ReplyDelete
  10. Great expression of some heart touching thoughts!Nice!

    ReplyDelete
  11. हमारी जिंदगी में भी कई बे-नाम रिश्ते हैं
    उन्हें हम इतनी शिद्दत से न जाने क्यूँ निभाते हैं

    तुम्हारी हर दगाबाज़ी हमें जी भर रुलाती है
    सबेरा जब भी होता है तो हम सब भूल जाते हैं

    bahut khoob kaha ....

    aur geet ke baare me kya kahun ,... jitna sundar geet untni sundar aawaaj ...

    ReplyDelete
  12. तुम्हारी हर दगाबाज़ी हमें जी भर रुलाती है
    सबेरा जब भी होता है तो हम सब भूल जाते हैं

    बहुत ही लाजवाब पंक्तियाँ ......अति उत्तम रचना .

    ReplyDelete
  13. यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
    अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं ?

    ये झूठे पत्थर भी चोट सच्ची लगाते हैं ।

    बढ़िया रचना , अदा जी । और गीत भी अपनी पसंद का । आभार ।

    ReplyDelete
  14. हमेशा की तरह बढिया।

    ReplyDelete
  15. बड़ा है कौन यां ग़र तुम, कभी इस बात को सोचो
    हरिजन के छुए पर ये बिरहमन क्यूँ नहाते हैं..?
    कभी सोचा 'अदा' तुमने, गरीबों की ही बीवी को सभी देवर से क्यूँ बनकर के भाभी जाँ बुलाते हैं ?
    ....Gahri baat kahi hai aapni... ek aisa sawal jo man ko kachotta hai... Samajik bidambana ka bhavpurn prastutikaran ke liye aabhar..

    ReplyDelete
  16. बड़ा है कौन यां ग़र तुम, कभी इस बात को सोचो
    हरिजन के छुए पर ये बिरहमन क्यूँ नहाते हैं..?
    कभी सोचा 'अदा' तुमने, गरीबों की ही बीवी को सभी देवर से क्यूँ बनकर के भाभी जाँ बुलाते हैं ?
    ....Gahri baat kahi hai aapni... ek aisa sawal jo man ko kachotta hai... Samajik bidambana ka bhavpurn prastutikaran ke liye aabhar..

    ReplyDelete
  17. waah Ada ji bahut khoobsoorat ghazal...kuch apni tasveer dikhati...geet bhi bahut madhur har baar ki tarah...

    ReplyDelete
  18. ये माना हम कभी कुछ भी कहाँ तुम्हें दे ही पाए हैं
    मगर हम रूह की हद से तुम्हें मेरी जाँ बुलाते हैं
    sacche pyar ka aayina he ye sher.

    ये दिल इस दर्द के जज़्बात से जब भी लरजता है
    पकड़ कर डाल हम ख़ामोशियों के झूल जाते हैं

    sach khamoshiya hi sath deti hai chaahe dil ke bheeter shor ho.

    बड़ा है कौन यां ग़र तुम, कभी इस बात को सोचो
    हरिजन के छुए पर ये बिरहमन क्यूँ नहाते हैं..?

    कभी सोचा 'अदा' तुमने, गरीबों की ही बीवी को
    सभी देवर से क्यूँ बनकर के भाभी जाँ बुलाते हैं ?
    ab ye baat samajh me nahi aayi ek nizi jazbaat likhte likhte samajik dard pe kaise ja pahuche??????

    ReplyDelete
  19. nice

    http://madhavrai.blogspot.com/

    http://qsba.blogspot.com/

    ReplyDelete
  20. वाह अदा जी, क्या ख़ूब कहा-
    बड़ा है कौन यां ग़र तुम, कभी इस बात को सोचो
    हरिजन के छुए पर ये बिरहमन क्यूँ नहाते हैं..?

    हमारी जानिब से यह शेर अर्ज़ है जी :-
    कभी सच्चे बिरहमन से, भी पूछो एक दफ़ा खुलकर
    सबब इसका वो कैसे क्या औ’कां कां तक बताते हैं ?
    आप सबको अक्षय तृतीया महापर्व की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  21. सुन्दर रचना ...
    यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
    अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं

    बहुत खूबसूरत और सच्ची पंक्तियाँ हैं ...

    ReplyDelete
  22. अदा जी आपकी रचना तो सुन्दर है ही!
    इसके साथ मेरा पसन्दीदा नगमा
    सुनवाने के लिए भी आभार!

    ReplyDelete
  23. आपकी रचना पर टिपण्णी करना ..किसी कविता के लिखने से कम नहीं और ये मैं ही जानता हूँ ......समझ लो की आपकी ही ग़ज़ल को कॉपी कर टिपण्णी में डाल दिया ..//.aur अब बात आती है आपके गायन की ,,,,,,,, एक तो गीतों का चयन लाजवाब और उस पर आपकी मखमली आवाज ....दोनों मिलकर हम पर बड़ा जुल्म ढाती है ...संगीत के रोगी तो हम बचपन से ही है ,,,आपका गाया ये गाना हमने अपने संग्रहालय के बोरे में रख दिया ,,,मतलब रिकॉर्ड कर लिया ./...अब कल के गाने का इन्तजार है ,,,,पर एक बात कहे आप अपना ही नुकसान कर रही है ,,,अब कविता पर ध्यान कम और गाने पर ज्यादा जा रहा है ,,,,,दुविधा में फंस गए ...{ अगर आप अनुमति दे तो मैं अपनी पसंद का गीत गाने की फरमाइश करूं ...नहीं तो लता जी का कोई क्लास्सिकल सोंग ही चुन लीजिये }

    ReplyDelete
  24. बहुत ही खूबसूरत जज़बातओ से लबालब आप की यह कविता. धन्यवाद

    ReplyDelete
  25. khubsurat jajbaat, sanvedansheel rachna Ada ji

    ReplyDelete
  26. इक तो महफ़िल हसीं कम न थी आपकी,
    ऊपर से आपका नज़रें गिरा कर उठाना गजब ढा गया...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  27. कई सारी बुराइयों की तरफ इशारा किया है आपने दी.. ऐसी ही गज़लें सार्थक और सुन्दर कहलाती हैं..
    गीत का क्या कहें!!!! बस सुने जा रहा हूँ...

    ReplyDelete
  28. बहुत बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  29. Itna badiya likha hai aapne!!
    Fantastic...

    "यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
    अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं?"

    Mujhe bahut hi achha lagaa... maine baar baar paddi aur harr baar itna enjoy kia inn words ko... beautiful!

    Regards,
    Dimple

    ReplyDelete
  30. वाह! अच्छी गज़ल.

    http://madhavrai.blogspot.com/

    http://qsba.blogspot.com/

    ReplyDelete
  31. Waah-Waah! Kya baat hai! Bahut achche! :-))

    Aapki adaaon se paripoorna yeh blog waakai kaafi pasand aaya, Manjusha! Aise hi likhti rahein aur sunaati rahein. Shubhkaamnaayen! :-)

    ReplyDelete