Wednesday, April 24, 2013

तुमको मालूम हो, ये दिल कभी बेचारा न था ...

जब तुम न थे मेरे, मेरा कोई सहाऱा न था
पूरी दुनिया तो थी संग में, मगर कोई हमारा न था

अब भी रात बाक़ी है, मगर घूँघट उठाऊँ कैसे
हुस्न के ऐतमाद को, इश्क़ का भी इशारा न था

घोल के रंग-ओ-रोगन फिर, बियाबाँ रंगीं किये मैंने
इससे बेहतर मेरे लिए, कोई नज़ारा न था

दिल के हर गोशे में, एक आतिश सी सुलगती है
गुनगुनाते हैं अकेले में, किसी को भी पुकारा न था

लुत्फ़ की बात हो या फिर, क़हर की रात हो 'अदा '
तुम्हें मालूम हो इतना, कभी ये दिल बेचारा न था

और एक गीत....गाना इसे तीन लोगों को चाहिए था...लेकिन अपुन तो एकला चलो रे हैं ना !

16 comments:

  1. कविता के साथ गाना, दो भिन्न भाव जगा जाता है यह मेल..गियर बदलने में दिक्कत होती है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्या प्रवीण जी, आप भी न !
      ई मल्टीटास्किंग का ज़माना है :)

      Delete
  2. लुत्फ़ की बात हो, या क़हर की रात 'अदा '
    तुमको मालूम हो, ये दिल कभी बेचारा न था......बढ़िया।

    ReplyDelete
  3. बिलकुल....हर दिल जो प्यार करगा वो गाना गायेगा...
    भले ही बेसुरा गाये..(सबकी अदा आपसी कहाँ :-)
    loved it!!!

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. इन लाजवाब लाईनों पर कुछ ये याद आया -
      इस बेकसिये हिज्र में मज्बूरिये नुक्स
      हम उन्हें पुकारें तो पुकारे न बने

      Delete
  4. आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत शुक्रिया !

      Delete
  5. अच्छा लिखा है, पर हमें गाना बेहतर लगा ...
    जारी रखिये ...

    ReplyDelete
  6. घोल के रंग-ओ-रोगन, मैंने बियाबाँ रंगीन किये
    इससे बेहतर मेरे लिए, कोई नज़ारा न था------

    वाह बहुत गजब की अनुभूति
    सुंदर अहसास

    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों

    ReplyDelete
  7. आज की ब्लॉग बुलेटिन गुरु और चेला.. ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत शुक्रिया !

      Delete
  8. सैकड़ों में पहचाना जाने वाला दिल, बेचारा कैसे हो सकता है :)
    गीत और ग़ज़ल दोनों बेहतरीन

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब प्रस्तुति |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  10. ग़ज़ल तो अच्छा है परन्तु गाना ज्यादा अच्छा लगा

    latest post बे-शरम दरिंदें !
    latest post सजा कैसा हो ?

    ReplyDelete
  11. पहचान लिया। कोई बेचारा-वेचारा नहीं है। जबर है!

    ReplyDelete
  12. दिल के गोशे में एक आतिश, सी सुलगती है
    गुनगुनाते हैं हम, और हमने पुकारा न था

    ...बहुत खूब! बेहतरीन प्रस्तुति...

    ReplyDelete