Friday, April 12, 2013

एक्सप्रेशन ऑफ़ ट्रूथ एंड सप्रेशन ऑफ़ टीथ. ....(सभी चित्र गूगल से सभार लिए गए हैं )





















































38 comments:

  1. In bad taste -please put a disclaimer !Some photographs could badly disturb the viewers!

    ReplyDelete
    Replies
    1. डॉक्टर साहेब,
      मैं कोई डिस्क्लेमर नहीं लगाने वाली हूँ। कबूतर की तरह आँख बंद करने से बिल्ली नहीं भाग जायेगी।
      यही तो सच्चाई है।

      Delete
  2. कौन जनम का बदला ले रही हो?????

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये हमारे इसी जन्म का पाप है जो अब उफ़न-उफ़न कर सामने आ रहा है, अब भी नहीं सुधरे तो, भगवान् भी नहीं बक्शेंगे।

      Delete
    2. :-(
      पता नहीं !!!!! भगवान हैं कहाँ????

      Delete
  3. Truth is bitter . Sometimes i think seriously , can't anything be done to prevent this ? can we bloggers start some effort to prevent Ganga to be polluted ? Is it possible to ban burning dead bodies by liting fire at the bank of Ganga ?
    Can a governmental order or mandate be launched from Gov ? I came to know that in west countries use electric furnace to dispose dead bodies , also it is used for unclaimed bodies in India too ( if i m correct ) , can't same thing be practiced for all ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. Hi Shweta,
      Welcome to my Blog.
      The word 'impossible' itself spells, 'I'm possible'. Napoleon Bonaparte once remarked, "That the word 'impossible' is found only in the dictionary of fools". In this world, everything is possible on the basis of will power, dogged determination and sacrifice.
      Govt of India will have to take harsh measures to stop this nonsense. They will have to built cremation houses in each and every city. I remember my uncle was electrically cremated in Delhi 10-12 years back. Its not that there are no such facilities, but people must be forces to use them. The rules must be made not to allow cremation at the banks of rivers. Dumping of pooja-paath materials into rivers must be banned immediately. This will reduce the problem immediately to some extent.

      Yes, you are absolutely right, west has already imposed on citizens to opt for cremation, no burial is allowed. Even multi millionaires are being cremated.
      Thanks a lot for sharing your thoughts.

      Delete
    2. In district Chandausi (UP) few years back D.M. of city banned the use of polythene . Later on i have no idea whether this ban was uplifted by subsequent D.M. or not but that time it helped in checking plastic pollution up to much extent . That means lower level of authorities have right to impose such rules at District level . Why cann't this happen in Varanasi or in Delhi ? People should send application signed in mass & send to D.M. But we are lazy and selfish . We find it comfortable to get polythene from shopkeeper instead of carrying cloth bag or paper bag from house. In fact we are a group of double standard people who speak or write thoughts of modernization but donet practice it. Few months back i was discussing about pollution of river with a person ( he was a physics teacher ) and i was shocked to hear his reply >> " गंगा का तो अवतरण ही हुआ है लोगों के पाप धोने के लिए " . I was not expecting such stupid & careless remark from him .

      Delete
  4. Replies
    1. मन को उद्विग्न करने से काम नहीं चलेगा, कुछ करना होगा।

      Delete
  5. देखा है. इनमें से उद्विग्न करने वाले कुछ चित्र किसी चाइनीज ब्लॉग पर पोस्ट हुए थे सबसे पहले.

    ReplyDelete
  6. ऐसी कडवी हकीकत कि चित्रों की तरफ देखना मुश्किल,
    जल्दी जल्दी स्क्रौल कर नीचे पहुँच गए...इन सबके लिए जिम्मेदार तो हम ही हैं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिलकुल हम सभी जिम्मेदार हैं। अपनी गलतियों को सुधारने का मौका भी हमें ही ढूंढना है, और वो मौका अभी है, इसी वक्त।

      Delete
  7. अधिकांश अधजले शव लावारिस हैं, जिन्‍हें पोस्‍टमार्टम के बाद ढंग से अग्नि में नहीं जलाया गया। प्रदेशों के स्‍थानीय पुलिस थानों के केस हैं, इसलिए उनकी लापरवाही कह सकते हैं। वैसे समाज में जब अपनों की ही अनदेखी हो रही है तो लावारिस शवों को कौन पूछता है।
    आपने बेचैनी बड़ा दी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जिम्मेदारी पुलिस की हो शासन की हो या नागरिकों की हो, नुक्सान हम सबका है। साँप काटे से अगर मृत्यु होती है तो उस शव को भी नहीं जलाया जाता है।
      मैंने सिर्फ तस्वीर दिखाई है, लोग इन शवों और गंदगियों के साथ जी रहे हैं।

      Delete
  8. क्या कहा जाये यदि यह सब किसी पावन नदी या गंगा तट का है तो समाज के ठीकेदारों और नेताओं की ऐसी की तैसी जिन्हें ये सब नहीं दिखता और करोड़ों रूपया स्वच्छता पर यूँ ही डकार जाते हैं

    ReplyDelete
  9. क्या कहा जाये यदि यह सब किसी पावन नदी या गंगा तट का है तो समाज के ठीकेदारों और नेताओं की ऐसी की तैसी जिन्हें ये सब नहीं दिखता और करोड़ों रूपया स्वच्छता पर यूँ ही डकार जाते हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. 900 करोड़ रुपैये खर्च हो चुके हैं गंगा की सफाई में और साफ़ करने वाले खुद ही कहते हैं, 'उन्हें नहीं लगता गंगा रंच मात्र भी साफ़ हुई है।' गंगा साफ़ हुई या नहीं हुई, 900 करोड़ रुपैये ज़रूर साफ़ हो गए।

      Delete
  10. kya khoobi se tasveeron se sab keh diya...

    ReplyDelete
  11. ye benaras ke ghat hain...ye sab aankhon se aksar dekha hai maine

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रत्यक्षम किम प्रमाणं !

      Delete
  12. हे भगवान्!!!! इसे कहते हैं घोर कलयुग....मैंने तो सिर्फ २ तस्वीर ही देखीं ऐसी पोस्ट कृपया न किया करें | समाज का ऐसा कुरूप चेहरा भी हो सकता है मैं कभी सोच भी नहीं सकता था | मेरे से ये सब नहीं देखा जाता | कृपया कोई तो उन लोगों को मुक्ति दिलाये |

    ReplyDelete
    Replies
    1. तुषार जी मुखौटों की आदत ठीक नहीं, यही समाज और हमारी प्राकृतिक सम्पदाओं की हालत है। नहीं देखेंगे तो जानेंगे कैसे , और अगर जानेंगे नहीं तो खुद को और अपने आस-पास को बदलेंगे कैसे ? आशा है अपने छोटे से तरीके से ही सही, आप भी इसके सुधार में योगदान देंगे।

      Delete
    2. माफ़ कीजिये पर मैं नहीं देख सकता ये सब |

      Delete
    3. कोई बात नहीं तुषार जी,
      लेकिन सच्चाई इससे भी ज्यादा वीभत्स है, ये तो सिर्फ टिप ऑफ़ दी आईसबर्ग है। मैं इस भयानक सच्चाई से मुंह नहीं मोड़ सकती।

      Delete
  13. अदा जी, क्षमा चाहता हूँ अत्यधिक व्यस्तता और टूर की वजह से ब्लॉग जगत पर अधिक समय दे पाने में असमर्थ हूँ। आपने जो चित्र यहाँ दिखाए, निश्चित तौर पर वे विचलित करने वाले है, और कुछ लोग अवश्य ही यह भी कहेंगे कि माय गॉड , एक महिला होते हुए भला आप ऐसे चित्रों को देख भी कैसे लेते हो? खैर , और उन्हें मेरा जबाब यही होगा कि अगर आपको कोयले की खदान देखनी है तो उसके अन्दर तो घुसना ही पडेगा, हाथ पाँव काले करने ही पड़ेंगे , अक्सर सच्चाई कडवी ही होती है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. और आपके ब्लॉग के माध्यम से देशवासियों से मेरा एक अनुरोध यह भी कि पहले लोग पुराने खयालात के थे,अब आप और हम तो शिक्षित हैं, चित्र देखकर इस दिशा में भी सुधार के कुछ प्रयास करों न।

      Delete
    2. गोदियाल साहेब,
      कोई बात नहीं, काम पहले आता है, फिर ब्लॉग्गिंग। आपने समय निकाला हृदय से आभारी हूँ।

      गोदियाल जी, मैं ज़मीनी इंसान हूँ, एक स्त्री ज़रूर हूँ लेकिन मोम की गुडिया नहीं हूँ। आप तस्वीरों की बात कह रहे हैं, मैंने तो साक्षात् देखा है, और मुझे बहुत फ़िक्र है। लोग मुझे जो समझना चाहते हो समझ सकते हैं, लेकिन भारत की बेटी होने के नाते ये मेरा फ़र्ज़ बनता है कि मैं सच्चाई सामने लाऊं। सबसे आग्रह करूँ कि अपनी धरोहर को बचाने में जो भी वो कर सकते हैं अवश्य करें, वर्ना भविष्य बहुत अंधकारमय है।

      Delete
  14. A Chinese blogger posted such crap earlier -I don't like this uglier phase of humanity however truth it may be... ! I like the truth which is not uglier but beautiful -satyam shivam sundram!

    ReplyDelete
  15. I unfortunately have witnessed such uncomfortable post earlier -please see this discussion and the link on facebook !
    Conversation started March 4


    Vivek Chouksey

    Hi sir, I came across this post by a chinese tourist. He states

    "The tour guide said that this kind of fish in the Ganges is called “Gulang” fish, a very nice sounding name…and it is said the flavor is very good, but upon thinking of the corpses soaking in the water, the soap from the bathing, the garbage by the river…I don’t have the courage to try it, not sure if this kind of fish will have a human flesh flavor…"

    Being a Fisheries scientist, are these fish carnivore? Do they nibble floating corpses of ganga --even by chance--?

    http://www.chinasmack.com/2010/pictures/filthy-india-photos-chinese-netizen-reactions.html
    March 5
    12:33pm
    DrArvind Mishra

    Dear Vivek,
    There are of course some fish species like Silond,Bagarius and Wallago which being highly carnivorous nibble on corpses.But these are usually not sold as they are not preferred by consumers. Morever their number in Ganges have drastically decreased.The fellow wanted to malign India's image with his peculiar satarical writing!
    12:34pm
    DrArvind Mishra

    Dear Vivek,
    There are of course some fish species like Silond,Bagarius and Wallago which being highly carnivorous nibble on corpses.But these are usually not sold as they are not preferred by consumers. Morever their number in Ganges have drastically decreased.The fellow wanted to malign India's image with his peculiar satarical writing!
    12:36pm
    DrArvind Mishra

    Dear Vivek,
    There are of course some fish species like Silond,Bagarius and Wallago which being highly carnivorous nibble on corpses.But these are usually not sold as they are not preferred by consumers. Morever their number in Ganges have drastically decreased.The fellow wanted to malign India's image with his peculiar satarical writing!
    12:36pm
    DrArvind Mishra

    Dear Vivek,
    There are of course some fish species like Silond,Bagarius and Wallago which being highly carnivorous nibble on corpses.But these are usually not sold as they are not preferred by consumers. Morever their number in Ganges have drastically decreased.The fellow wanted to malign India's image with his peculiar satarical writing!
    12:38pm
    DrArvind Mishra

    Also there is no fish named Gulung even in vernacular language!
    1:32pm
    Vivek Chouksey

    thanks!


    ReplyDelete
    Replies
    1. Arvind ji,

      Unfortunately I am not part of Face book, so I wouldn't know.
      You want to see Satyam Shivam Sundaram ? Then find one and we will be with you. If this is a crap, then thin our crap.
      I have no idea, which Chinese blog you are talking about.

      If we want to see beautiful then we must make one This is what we have created, then why to shy away from our own creation ? You live in Banaras, can you deny, this is what is not happening there ? Most of the time truth is ugly. Let's face it and try to do some thing good, in our own small way.

      Delete
  16. अदाजी
    ज्वलंत समस्या उठाई है आपने । चित्र विचलित जरुर करते है लेकिन ये भी सच है की इनसे मुहं नहीं मोड़ सकते |
    मध्य प्रदेश में महेश्वर ,(अहिल्या बाई की नगरी )मंडलेश्वर नों तहसील है और वहां नर्मदा नदी है या यु कहे की नर्मदा नदी के किनारे दोनों छोटे से नगर है और नहुत सुन्दर घाट भी बने है ,पर्यटक भी बहुत आते है और वहां नर्मदा नदी में फूल इत्यादि का विसर्जन करना सख्त मना है और इसके लिए वहां बड़े बड़े सीमेंट के कुंड बना दिए गये है जिसमे दर्शनार्थी ,और स्थानीय लोग भी विसर्जन सामग्री डाल देते है जिसे वहां की नगर पालिका कर्मचारी ले जाते है ।नदि किनारा और नदी का पानी एकदम साफ सुथरा किनारे पर बैठकर मछलिय के साथ दोस्ती कर सकते है | आप चाहे तो पूरा विवरण यहाँ देख सकती है चित्र सहित
    http://shobhanaonline.blogspot.in/2010/12/blog-post_24.html

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह! शोभना दी,
      मन प्रसन्न हो गया, सच में !

      Delete
    2. जानकारी का आभार शोभा जी। इस प्रकार की व्यवस्था सभी नदियों/घाटों पर आसानी से की जा सकती है। न केवल प्रदूषण कम होगा बल्कि हर साल मूर्ति विसर्जन मे डूबने से होने वाली अकाल मृत्यु से बचा जा सकता है। यदि अन्य नगरपालिकाओं को जानकारी नहीं है तो वे महेश्वर के निगम/संस्थाओं से सबक ले सकते हैं, खासकर दुनिया भर के पर्यटकों/दानदाताओं से भारी काशी नागरी की संस्थाएं। लेकिन बात वही है कि जिन पर व्यवस्था की ज़िम्मेदारी हो वे भ्रष्ट भी हों और निकम्मे भी तो क्या हो। नदियां ही नहीं, भारत की अधिकांश समस्याओं की जड़ में अधिकारियों/नेताओं/सत्ताधीशों अव्यवस्था और भ्रष्टाचार ही है। आम आदमी पर कैलसनैस के आरोप लगते हैं, जो काफी हद तक सही भी हैं लेकिन अधिकांश लोगों के पास न तो स्थिति बदलने की क्षमता और समय है और न ही इतना ज्ञान कि परिवर्तन ला सकें।

      Delete
    3. आपका आभार अनुराग जी,
      गंगा को साफ़ करने में 900 करोड़ का खर्चा हो चूका है, क्या इस तरह की सुविधाओं का इंतज़ाम नहीं किया जा सकता, इतना ही नहीं इनका पालन हो इस पर कड़ी निगरानी नहीं रखी जा सकती ?शोभना जी ने एक बहुत ही सुन्दर उदाहरण दिया है, ऐसे ही संरक्षण के उपाय को हर नदी के तीर पर लगाया जाना चाहिए। हर नागरिक अपनी तरफ से नदियों के संरक्षण की जिम्मेदारी ले, उन्हें दूषित करने का कोई काम न करे यही होगा पहला कदम हर घर से इसकी शुरुआत।

      Delete
  17. लोग हैं कि सुधारते नहीं.... अब भी समय है.

    ReplyDelete