Wednesday, April 3, 2013

तेरे लिए रिदा हूँ मैं, और तेरी ही 'अदा' हूँ....

ए रश्मि थैंक्स :)


मेजबाँ हूँ मैं कभी, और कभी मेहमाँ हूँ 
क़ैद हूँ इस जिस्म में, मगर तेरी जाँ हूँ

वफायें मेरी उम्र भर, न छोड़ेंगी पीछा तेरा 
ज़ुबाँगर हूँ मैं कभी, और कभी बे-ज़ुबाँ हूँ

ख़बर तुझे नहीं मेरी, हस्ती की कोई  
आग सी तपिश लिए, तेरे लिए धुवाँ हूँ 

ढूँढते हो बस मुझे, तुम दिल के आस-पास 
तुम्हें अभी खबर कहाँ, मैं कहाँ-कहाँ हूँ 

लिपट तेरे पहलू से, अब सोना चाहती हूँ  
तुझे लापता करे जो, मैं ही वो तूफाँ हूँ 

तेरी-मेरी ज़िन्दगी, हो गई अब मुकम्मल   
तेरे लिए रिदा हूँ मैं, और तेरी ही 'अदा' हूँ

फारसी में :

रिदा= खुशी
(ये कविता मेरे 'उनके' लिए है। दूर बैठे-बैठे बहुते सठियाने लगे हैं, ऊ पढेंगे तो दिमाग ठिकाने पर रहेगा ...हाँ नहीं तो ! :)) 

31 comments:

  1. ढूँढते हो बस मुझे, तुम दिल के आस-पास
    तुम्हें अभी खबर कहाँ, मैं कहाँ-कहाँ हूँ
    वाह... लाजवाब...आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. संध्या जी,
      शुक्रिया, करम, मेहेरबानी :)

      Delete
  2. लाजवाब अदा
    सुनती हूँ सदा
    हो गई फिदा
    जो देखी रिदा

    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. तू सुनती है सदा
      मैं भी हुई फ़िदा
      मिली आज रिदा
      लाज़वाब हुई 'अदा'
      :)

      Delete
  3. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 06/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बोले तो ..थैंक्यू है जी थैंक्यू !
      :)

      Delete
  4. सुन्दर प्रेमाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब का कहें दी, कभी-कभी ये काम भी करना ही पड़ता है :)

      Delete

  5. रचना में जीवन कीं सुंदर सार्थक अनुभूति प्रस्तुति की है---अद्भुत
    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  6. आये-हाय मजा आ गया ... बहुत लाजवाब

    आज का ब्लॉग पढ़ना सार्थक हो गया

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह !
      ये तो बड़ी अच्छी बात है !

      Delete
  7. आज की ब्लॉग बुलेटिन इंडिया बनाम भारत.. ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  8. क़ैद हूँ इस जिस्म में, मगर तेरी जाँ हूँ...लाज़वाब गजल

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको पसंद आया , शुक्रिया !

      Delete
  9. ढूंड रही हो तिस्नगी, आवारा अब्रो-आब में..,
    तुम मेरी मंजिल नहीं हो मैं एक गर्दे-कारवां हूँ.....

    गर्द=भटकता हुवा

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह !
      क्या बात है ..माशाल्लाह !

      Delete
  10. ओहो !! इतनी सुन्दर सी ग़ज़ल पढने में इतनी देर कर दी...:(

    बिलकुल दिल के ज़ज्बात ने होठों पर आ कर ग़ज़ल की शक्ल अख्तियार कर ली है....सुभानल्लाह !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ हाँ काहे नहीं, चढ़ा लो हमको धनिया के पेड़ पर ..:):)
      हाँ नहीं तो !

      Delete
  11. बस एक रिंद की कमी रह गयी वह मैं पूरी किये देता हूँ :-)
    बेहतरीन!

    ReplyDelete
  12. रिदा नाम सुना था, आज आपकी रचना से अर्थ जाना।

    ReplyDelete