Tuesday, April 20, 2010

कच्चा घड़ा मेरे दम का, तूफ़ान में टूटा न था.....


था वो मंजर कुछ गुलाबी, रंग भी छूटा न था
दिल में इक तस्वीर थी और आईना टूटा न था

हादसे होते रहे कई बार मेरे दिल के साथ
आज से पहले किसी ने यूँ शहर लूटा न था

चुभ गए संगीन से वो तेरे अल्फ़ाज़ों के शर 
सब्र का प्याला मगर ऐसे कभी फूटा न था

रौनकें पुरनूर थीं और गमकता था आसमाँ
झाँक कर देखा जो दिल में एक गुल-बूटा न था

मंजिलें दरिया बनीं और रास्ते डूबे 'अदा'
मेरे दम का कच्चा घड़ा, तूफ़ान में टूटा न था

इस शेर ने मुझे कल से परेशान किया हुआ था .....शायद अब ये ठीक हो ..
'दम' की जगह 'साँस' भी हो सकता था ...लेकिन दम मुझे ज्यादा पसंद आया..


44 comments:

  1. khoobsurat gazal ke sath lagaya gya Soni-Mahiwal ka yah khoobsoorat chitra khoob fub raha hai di..

    ReplyDelete
  2. हादसे होते रहे कई बार मेरे दिल के साथ
    आज से पहले किसी ने यूँ शहर लूटा न था
    वाह अन्दाज़े बयाँ क्या कहने
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर ग़ज़ल है ... हरेक शेर बेहतरीन है !

    ReplyDelete
  4. waah...
    WAAH.........

    WAAAH..........

    WAAAAAH..................


    kyaa likhaa hai....!!

    kamaal.............!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!


    aapne likhaa hai..?

    ReplyDelete
  5. अद्भुत।
    कच्चा घड़ा सुनते ही इक सोहनी याद आती है।

    ReplyDelete
  6. गज़ल मिली थी मुझसे,
    उसका एक वादा था,
    रोज़ रोज़ नहीं पढ़ोगे मुझे,
    मुझे भी आराम चाहिए,
    तन्हा कुछ लम्हों की दरकार है...

    अदा जी, आपसे अब एक लंबी पोस्ट की गुहार है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  7. बहुत सेंटी होकर लिखी गई गजल है । अपने अंदाज़ में टीपने के लिए दोबारा आएंगे । अभी इतना बताने आए थे कि पढ लिए , कमाल है ।

    ReplyDelete
  8. दी आपणे जो खबसूरत तस्वीड लगाई हैं ,वा ने देखी णे म्हारी प्रेमिका कच्चे घडें के तलाश में बाज़ार घुमीरी ................और साथ में आपकी ग़ज़ल गुण गुनाते हुए ................

    ReplyDelete
  9. चुभ गए संगीन से वो तेरे अल्फ़ाज़ों के शर
    सब्र का प्याला मगर ऐसे कभी फूटा न था


    वाह वाह! क्या कहने..हर शेर पूरा है..आनन्द आ गया!

    ReplyDelete
  10. बहुत ही बेहतरीन और उम्दा ग़ज़ल

    ReplyDelete
  11. @दिल में एक तस्वीर थी आईना टूटा ना था ...
    फिर तो तस्वीर साफ़ ही दिखती होगी ...
    @ हादसे होते रहे दिल के साथ ...किसी ने पहले शहर यूँ लूटा ना था ...
    बहुत बढ़िया
    @ चुभ जाते तेरे अल्फाजों के शर ...
    चुभने दीजिये ...गहरी पीड़ा ही तो इतनी अच्छी ग़ज़ल लिखवाती है
    @ कच्चा घड़ा मेरे दम का, तूफ़ान में टूटा न था
    कच्चा नहीं था तभी तो टूटा नहीं ....
    आज की ग़ज़ल बहुत ही खूबसूरत है ...इतनी ज्यादा समझ तो नहीं मुझे मगर क्लासिक शायद इसे ही कहते होंगे ...बहुत बढ़िया
    पीड़ा में डूबे स्वर ही ऐसे ग़ज़ल बनाते हैं ...कभी ख़ुशी में कुछ लिख दिया कर ....

    ReplyDelete
  12. शेर तो सारे ही लाजवाब है,लेकिन आखिरी शेर ने तो कमाल ही कर दिया।

    बहुत खूबसूरत जज़्बात पेश किये हैं आपने।

    आभार।

    ReplyDelete
  13. "कच्चा घड़ा मेरे दम का, तूफ़ान में टूटा न था"

    हमको मिटा सके ये ज़माने में दम नहीं
    हमसे ज़माना ख़ुद है ज़माने से हम नहीं

    ReplyDelete
  14. कच्‍चा घड़ा मेरे दम का, तूफान में टूटा न था। बहुत अच्‍छी बात कह दी। अरे हमें तो आपके दम पर ही दम हैं। फुनवा नहीं आया।

    ReplyDelete
  15. चुभ गए संगीन से वो तेरे अल्फ़ाज़ों के शर
    सब्र का प्याला मगर ऐसे कभी फूटा न था

    अदा जी!
    किस-किस अशआर की तारीफ करूँ!
    यह तो पूरी ही गजल शानदार है!
    बहुत-बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  16. "कच्चा घड़ा मेरे दम का, तूफ़ान में टूटा न था....."

    bahut bahut sunder

    -Shruti

    ReplyDelete
  17. चुभ गए संगीन से वो तेरे अल्फ़ाज़ों के शर
    सब्र का प्याला मगर ऐसे कभी फूटा न था

    Waah! kya kahun bas dil se nikali baat aur dil me utar gai ...behad dilkash gazal....Aabhaar!

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्‍छी बात कह दी।

    ReplyDelete
  19. चुभ गए संगीन से वो तेरे अल्फ़ाज़ों के शर
    सब्र का प्याला मगर ऐसे कभी फूटा न था

    बहुते लाजवाब, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  20. हमेशा की तरह बेहतरीन

    ReplyDelete
  21. achi rachana he


    bahut khub


    shekhar kumawat

    http://kavyawani.blogspot.com/

    ReplyDelete
  22. काफी खुबसूरत.......
    एक एक शब्द दिल से जुड़ते चले गए......
    बधाई.....

    ReplyDelete
  23. चुभ गए संगीन से वो तेरे अल्फ़ाज़ों के शर
    सब्र का प्याला मगर ऐसे कभी फूटा न था


    मंजिलें दरिया बनीं और रास्ते डूबे 'अदा'
    कच्चा घड़ा मेरे दम का, तूफ़ान में टूटा न था


    आज की गज़ल माशाल्लाह बहुत खूबसूरत है....ऐसा लग रहा है जैसे दिल निकाल कर रख दिया है....कच्चे घड़े का दम ...बिलकुल नया प्रयोग लगा..और बहुत सटीक भी....सब्र के प्याले को थाम कर रखना...

    ReplyDelete
  24. Bahut sunder prastuti hai. Bhav ke saath pesh karne ke liye chuni gayee prishthbhumi bhi sundr hai.

    ReplyDelete
  25. आप तो लिख गये ख्यालात अपनी रंगत में,
    कैसे कहें दिल उन जज़बात से अछूता न था

    ReplyDelete
  26. चुभ गए संगीन से वो तेरे अल्फ़ाज़ों के शर
    सब्र का प्याला मगर ऐसे कभी फूटा न था
    क्या बात है अदा जी. बहुत खूब.

    ReplyDelete
  27. हर शेर अच्छा है .......बहुत खूब !!

    ReplyDelete
  28. क़लम चूम लेने का मन है . लाज़बाब ।

    ReplyDelete
  29. @ अरुणेश जी,
    आशीर्वाद बनाये रखिये...
    आगे भी लिखने की कोशिश करूंगी..

    ReplyDelete
  30. @ मनु जी,
    कोई शक..??

    ReplyDelete
  31. आया देखने आपके ब्लॉग को जो इधर नहीं देख पा रहा था ..
    इस कविता ने तो मन मोह लिया ..
    सबसे अच्छा लगा कि आप के यहाँ अब लय-साधते हुए दिख रही है ;
    यहाँ की रवानी काबिले तारीफ है ---
    '' हादसे होते रहे कई बार मेरे दिल के साथ
    आज से पहले किसी ने यूँ शहर लूटा न था ''
    --- जैसे अनुभूति लपक कर लफ्ज का पैराहन पहन ले रही है .. आभार !

    ReplyDelete
  32. साधते को 'सधते' पढ़ा जाय ..
    नहीं तो गिरिजेश भैया अभी मीठी झप्पी दे देंगे :)

    ReplyDelete
  33. गजल का एक एक शेर ढाई-ढाई कीलो का है अदा जी , बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  34. मंजिलें दरिया बनीं और रास्ते डूबे 'अदा' मेरे दम का कच्चा घड़ा, तूफ़ान में टूटा न था
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  35. arey arey ye tasveer to mere living room ki diwar par lagi hui hai....aur jo ki maine hi banayi hai...aap ne kab kab me chura li.....?????
    (mujhe ye chitrkari bahut acchhi lagti he..aur sach me maine banayi thi yahi painting.)

    ab aate he aapki gazel par..

    kyu aaina tutne ki baat karta hai..
    kyu shehar lut jane ki baat karta hai.
    chal kahin aur chal...kyu dam ko kacche ghade me pakane ki baat karta hai..!

    bahut acchhi gazel di..
    aur last ka sher..to wah
    ki dam ka kacchha ghada he fir bhi tufano se lad raha hai...yessss this is the spirit. KEEP IT UP.

    ReplyDelete
  36. हादसे होते रहे कई बार मेरे दिल के साथ
    आज से पहले किसी ने यूँ शहर लूटा न था ..सोहनी के दिल का दर्द ..आपकी कलम से फूट निकला..वाह बहुत खूब..!!

    ReplyDelete
  37. Main kya bolu... Main itni zor-2 se padi yeh kavita aur ma ko sunaayi... Dil ko chooh gayi :) Unko bhi khoob achhi lagi...

    Adaa ji aap ka talent goonjta hai inn shabdo ke maadhyam se!!

    Regards,
    Dimple

    ReplyDelete
  38. हादसे होते रहे कई बार मेरे दिल के साथ
    आज से पहले किसी ने यूँ शहर लूटा न था
    bahut aacha Ada Ji...
    aur merai beje hue songs ka kya hua..?

    ReplyDelete
  39. चुभ गए संगीन से वो तेरे अल्फ़ाज़ों के शर
    सब्र का प्याला मगर ऐसे कभी फूटा न था
    bahut sundar ashrar..........har sher lajawaab.

    ReplyDelete
  40. बहुत सुंदर ग़ज़ल. बहुत अच्छी लगी.
    मुझे अंतिम शेर में 'मेरी सांस' ज्यादा अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  41. गज़ल खूब सधती है आपकी कलम से !
    बेहतरीन गज़लों में से एक ! मुझे तो इस शेर ने खूब लुभाया -
    "रौनकें पुरनूर थीं और गमकता था आसमाँ
    झाँक कर देखा जो दिल में एक गुल-बूटा न था "

    आभार ।

    ReplyDelete