Tuesday, April 13, 2010

मैं......दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वती...



मैं !  
अनादि काल से
दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वती
बन कर जन्मती रही हूँ , 
करोड़ों सर
झुकते रहे
मेरे चरणों में,
और दुगुने हाथ
उठते रहे 
मेरी गुहार को,
झोलियाँ भरती रही मैं,
कभी दुर्गा, 
कभी लक्ष्मी,
और कभी सरस्वती बन कर ,
मेरे भक्त, 
कभी साष्टांग तो 
कभी नत मस्तक 
होते रहे 
मेरे सामने 
और मैं भी,
बहुत सुरक्षित रही
तब तक, जब तक
अपने आसन पर
विराजमान रही
लेकिन,
जिस दिन मैंने  
आसन के नीचे 
पाँव धरा  
मैं दुर्गा;
जला दी गई,
मैं लक्ष्मी;
बेच दी गई,
और मैं सरस्वती;
ले जाई गई
किसी तहख़ाने में
जहाँ,
नीचे जाने की सीढ़ियाँ तो बहुत थीं
पर ऊपर आने की एक भी नही...


35 comments:

  1. आसन पर विराजी थी जब लक्ष्मी , सरस्वती थी ...
    लोग सर झुकाते थे ...
    मगर जब आसन से उतरी ....
    देवी श्रद्धा तो उपजाती हैं मगर
    मगर जीवन मानव बनकर ही जीया जाता है ...
    ठोकरे लगे ...लांछन लगे
    गिरते संभलते ...!!

    ReplyDelete
  2. नीचे जाने की सीढ़ियाँ तो बहुत थीं
    पर ऊपर आने की एक भी नही...
    बहुत गहराईयुक्त रचना
    सीढिया थी ही कब!! न नीचे जाने का न ऊपर आने का. बिना सीढियों के ही धकेली गयी -----

    ReplyDelete
  3. हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  4. बहुत ही भावपूर्ण निशब्द कर देने वाली रचना . गहरे भाव.

    ReplyDelete
  5. दैवत्व छोड़ना महंगा पड़ा न?
    इंसान बनना इतना आसान नहीं है।
    आसन पर विराजमान रहने का, वरदान देने का,दूसरों की इच्छा पूरी करने का बस,
    कोई लफ़ड़ा नहीं मांगता इदर।
    नहीं तो यईच होयेगा,
    जलाया जायेगा, बेचा जायेगा या दफ़नाया जायेगा।

    बहुत खूब!

    ReplyDelete
  6. आसन के नीचे पाँव धरा
    मैं दुर्गा;जला दी गई,
    मैं लक्ष्मी;बेच दी गई,
    और मैं सरस्वती;ले जाई गई किसी तहख़ाने में
    जहाँ,नीचे जाने की सीढ़ियाँ तो बहुत थीं
    पर ऊपर आने की एक भी नही...

    क्यों हर चीज इस कदर टूट रही है
    गिर रही है कि
    जुड़ने का, उठने का कोई साधन कोई सीढ़ी
    नजर नहीं आती

    सुंदर रचना

    ReplyDelete
  7. क्या ये राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार, यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी, विरोधी दल की नेता सुषमा स्वराज, विदेश सचिव निरूपमा राव, अमेरिका में भारतीय राजदूत मीरा शंकर, मायावती, ममता बनर्जी, जयललिता, इंद्रा नूई, चंदा कोचर, किरण शाह मजूमदार का ही देश है...

    या इसी देश में कोई दूसरा देश भी है, जहां आज के युग में भी सीताओं को बार-बार अग्नि का इम्तिहान देने की ज़रूरत पड़ती है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचना है ! विडम्बना तो यही है की दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वती सब उसी शक्ति का रूप है जिसे मनुष्य कभी समझ नहीं पाया !

    ReplyDelete
  9. दी i m back हम इन्सान बनकर खुबसूरत ज़ज्बात बेचेंगे ............जीवन इंसानों के दरम्यान बेमियादी व्यापार हैं .............सादर चरण स्पर्श !

    ReplyDelete
  10. बहुत उम्दा रचना...दिल को छू गई..

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्‍छी रचना !!

    ReplyDelete
  12. बहुत ही नायाब रचना. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. नारी तो कहीं भी पैर रखे, अपना वजूद बना ही लेती हैं। हाँ जब व्‍यावसायिक दुनिया में कदम रखती है तब उसे भी संघर्षों का सामना तो करना ही पडेगा। लेकिन वहाँ भी नारी ने स्‍वयं को सिद्ध कर दिया है, जैसा की खुशदीप जी ने बताया है। मैं तो मानती हूँ कि नारी कल भी दुर्गा, लक्ष्‍मी, सरस्‍वती थी और आज भी है।

    ReplyDelete
  14. "बहुत ही भावपूर्ण निशब्द कर देने वाली रचना . गहरे भाव."

    KUNWAR JI,

    ReplyDelete
  15. नारी के स्वरूप में शक्तिस्वरूपा दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वती को नमन करता हूँ!
    बढ़िया पोस्ट!

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्‍छी रचना !

    ReplyDelete
  17. दोहरे मापदंड के शिकार हैं हम सब। जिस दुर्गा, लक्ष्मी , सरस्वती की पूजा करते हैं , हकीकत में उनको ही मलिन करते हैं। अपनी सुविधानुसार रंग और चोला बदल लेते है हम ।
    इसीलिए कहता हूँ --अगर इंसान बन कर दिखलाओ तो जाने ।
    बहुत अच्छी रचना पेश की है आपने । बधाई।

    ReplyDelete
  18. आदरणीया
    स्त्री शक्ति को आपकी कविता के माध्यम से प्रणाम......! सुन्दर रचना के लिए बधाई....!

    ReplyDelete
  19. बहुत अच्छी रचना।

    ReplyDelete
  20. मैं दुर्गा;
    जला दी गई,
    मैं लक्ष्मी;
    बेच दी गई,
    और मैं सरस्वती;
    ले जाई गई
    किसी तहख़ाने में
    जहाँ,
    नीचे जाने की सीढ़ियाँ तो बहुत थीं
    पर ऊपर आने की एक भी नही...

    Bahut khoob, ati sundar !!

    ReplyDelete
  21. @आदित्य
    बहुत दिनों बाद तुम आये हो...चिंता में डाल कर चले जाते हो..
    बताया तो करो कहाँ हो !!
    बहुत ख़ुशी हुई तुम्हें देख कर....

    ReplyDelete
  22. PADH KAR STABDH HAIN....


    AADITYAA AAFTAAB ISHQ KO KAAFI SAMAY BAAD DEKHNAA ACHCHHAA LAGAA...

    ReplyDelete
  23. jab tak mandir mein rahi pooji jaati rahi.. jab dhara par paav rakha bech di gayi

    Ada is vishay ko jis khoobsurti ke sath likha hai uski tareef mein kuch bhi kahu to kam hai

    -Shruti

    ReplyDelete
  24. वाह के अलावा और क्या!

    ReplyDelete
  25. Hello ji :)

    "नीचे जाने की सीढ़ियाँ तो बहुत थीं
    पर ऊपर आने की एक भी नही..."

    Brilliant!!
    Bahut hi badiyaaa!!

    Regards,
    Dimple
    http://poemshub.blogspot.com

    ReplyDelete
  26. Aapki qalam hamesha khamosh kar deti hai...

    ReplyDelete
  27. rachna k bhaav man ko chhuu gaye.
    bahut saargarbhit.

    pichhli post bhi bahut badhiya thi.

    ReplyDelete
  28. आपकी हिन्दी की कविताएं बहुत ही सटीक होती हैं और सीधे आत्मा तक जाती हैं ...
    चिंतन को मजबूर कर देती हैं
    विदेश में रह कर भी अपनी मिट्टी से जुड़ाव और हिन्दी के लिए आपका योगदान प्रसंशनीय भी है और अनुकरणीय भी ...

    ReplyDelete
  29. आसन के नीचे पाँव धरा मैं दुर्गा;जला दी गई,मैं लक्ष्मी;बेच दी गई,और मैं सरस्वती;ले जाई गई किसी तहख़ाने मेंजहाँ,
    नीचे जाने की सीढ़ियाँ तो बहुत थीं पर ऊपर आने की एक भी नही...


    एक कठोर सच और सच की सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  30. यही है पुरुष का मापदन्ड एक ओर स्त्री को देवी कहना और दूसरी ओर उसे प्रताड़ित करना ।

    ReplyDelete
  31. जहाँ,
    नीचे जाने की सीढ़ियाँ तो बहुत थीं
    पर ऊपर आने की एक भी नही...
    sachmuch...

    ReplyDelete
  32. सही कहा ..
    स्त्री ही नहीं स्त्री-मिथकों / प्रतीकों को लेकर भी स्थिति
    वही दिखती है , पक्षपाती !
    सुन्दर भाव .. सुन्दर अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete