Thursday, April 15, 2010

वो जो दौड़ते से रस्ते हैं, ठहर जायेंगे...


वो जो दौड़ते से रस्ते हैं, ठहर जायेंगे
तब सोचेंगे लोग कि वो किधर जायेंगे

वो शहर बस गया है सहर से पहले
 
ये गाँव ये बस्ती अब उजड़ जायेंगे 

पहुँचे हैं कगार पर, आस है बाकी   
यकीं है ये दिन भी सुधर जायेंगे

शिद्दत-ए-गम से परेशाँ हैं
गेसू मेरे 
ग़र आईना मिल जाए,ये संवर जायेंगे

उम्मीद के हंगामों में शामिल है 'अदा' 
नज़र भर देख लो हम निखर जायेंगे 


46 comments:

  1. शानदार...

    आजकल बहुत शानदार रचनाएँ आ रही हैं आपकी तरफ से.

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया........
    अभी सुबह सुबह आंख खुलते सबसे पहले आपकी ही रचना देख रहा हूँ.....दिल खुश हो गया उम्मीद है दिन भी अच्छा जाएगा.....काफी उम्दा रचना है .... बधाई.

    ReplyDelete
  3. दौड़ते से रस्ते हैं....

    क्या बात है और यहाँ तो गजब ही कर दिये हैं..

    नजर भर देख लो, हम निखर जायेंगे ।

    ReplyDelete
  4. रास्ते दौड़ रहे हैं! वाह!

    ReplyDelete
  5. वाह ! सुन्दर ग़ज़ल है ! मुझे यह शेर वाकई बहुत अच्छा लगा ....
    पहुँचे हैं कगार पर,पर आस है बाकी
    यकीं है ये दिन भी सुधर जायेंगे

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब लिखा है जी,

    बरबस ही जगजीत सिंह की गाई गज़ल याद आ गई,
    "आपको देखकर देखता रह गया--
    ऐसे बिछड़े सभी रात के मोड़ पर,
    आखिरी हमसफ़र रास्ता रह गया"
    मंजिल की तलाश में रास्ता बहुधा उपेक्षित रह जाता है।

    पढ़कर बहुत अच्छा लगा,
    आपकी आवाज में कभी इन्हें सुनना तो बहुत ही अच्छा लगेगा। (सुझाव भी है और फ़रमाईश भी)

    आभार।

    ReplyDelete
  7. दी की कल्पना नू मैं भी पहुंचू ........गर ऐसा दीदी सिखला दे तो ..................
    वो शहर बस गया है सहर से पहले ये गाँव ये बस्ती अब उजड़ जायेंगे .............दी बस ऐसे ही आपका रास्ता कभी को नहीं सकता.........

    ReplyDelete
  8. बहुत खामोश रहे तेरी गली, बस देखते रहे
    कभी जाना नहीं कि यूँ भी कुछ कह पाएँगे।

    ReplyDelete
  9. नजर भर देख लो ...
    हम निखर जायेंगे ...
    क्या बात है ...
    पहुंचे हैं कगार पर
    आस बाकी है ..
    आस है तो सांस है ...
    अच्छी ग़ज़ल ...!!

    ReplyDelete
  10. वो जो दौड़ते से रस्ते हैं, ठहर जायेंगे
    तब सोचेंगे लोग कि वो किधर जायेंगे
    बहुत ख़ूबसूरत बंदिश है ! ठहरे हुए रास्तों से हमेशा ठहरने की ही अपेक्षा सबको क्यों होती है ! हमारे आवेगों और संवेगों के साथ ये सदैव दौड़ते से क्यों लगते हैं ! इन सवालों के जवाबों की मुझे भी तलाश है ! ख़ूबसूरत भावपूर्ण रचना के लिये बधाई एवं आभार !

    ReplyDelete
  11. शिद्दते-गम से परेशान हैं गेसू मेरे..


    कर लें...

    शिद्दत-ए-ग़म से परेशाँ हैं मेरी ज़ुल्फ़
    ग़र आईना मिल जाए,ये संवर जायेंगे


    पहली लाइन में जुल्फ--स्त्रीलिंग है...और दूसरी में ( संवर जायेंगे )
    अलग सा लग रहा है...है ना....??

    अब अगर हम जुल्फों को गेसू कहें...तो दूसरी लाइन जिसमें ( संवर जायेंगे ).. यानी पुल्लिंग आया हुआ है...
    तो जुल्फें संवर जायेंगे के बजाय गेसू संवर जायेंगे हो जाएगा...जो कि ज्यादा सही है....

    ReplyDelete
  12. @मनु जी,
    बहुत शुक्रिया आपका..
    सुधारने के लिए..

    ReplyDelete
  13. @ जुल्फ
    मैंने देखा था लेकिन 'कटुक बचन जब सीता बोला...' सोच कर चुप रहा।
    :)

    ReplyDelete
  14. वो जो दौड़ते से रस्ते हैं, ठहर जायेंगे
    तब सोचेंगे लोग कि वो किधर जायेंगे

    आपने तो बहुत ही सहजता से जीवन का फलसफा बयान कर दिया!

    ReplyDelete
  15. हमेशा की तरह उम्दा रचना..बधाई.

    ReplyDelete
  16. ख़ूबसूरत भावपूर्ण रचना के लिये बधाई एवं आभार !

    ReplyDelete
  17. चर्चा में शामिल करने के लिए शुक्रिया ! आप सब उत्साह देते रहे तो में भी कमर बाँध के लगा रहूँगा !
    आपके इस रचना पर मेरी राय मैं पहले ही दे चूका हूँ !

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर रचना, लाजवाब.

    रामराम.

    ReplyDelete
  19. देख लिया जी

    ReplyDelete
  20. उम्मीद के हंगामें बेहतरीन प्रयोग है ।

    ReplyDelete
  21. ये पोस्ट पढ़कर राज़ फिल्म का ये गाना ज़ेहन में गूंजने लगा...

    आप के, प्यार में, हम संवरने लगे,
    देख के, आप को, हम निखरने लगे,
    इस कदर आप से हम को, मुहब्बत हुई,
    टूट के बाज़ुओं में बिखरने लगे,
    आप के प्यार में हम संवरने लगे...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  22. शिद्दते-गम से परेशान हैं मेरे गेसू
    ग़र आईना मिल जाए,ये संवर जायेंगे

    एक उम्दा ग़ज़ल.

    ReplyDelete
  23. शिद्दते-गम से परेशान हैं मेरे गेसू
    ग़र आईना मिल जाए,ये संवर जायेंगे
    Bahut khoob !

    ReplyDelete
  24. नज़र भर देख लो हम निखर जायेंगे ....

    Beautiful expression of love !

    ReplyDelete
  25. badi zabardast gazal likhi hai ada ji...........bahut khoob.

    ReplyDelete
  26. बहुत ही सुन्दर रचना । यही माहौल बनाये रखिये ।

    ReplyDelete
  27. bahut sundar rachna

    shekhar kumawat

    http://kavyawani.blogspot.com/

    ReplyDelete
  28. वो जो दौड़ते से रस्ते हैं, ठहर जायेंगे
    तब सोचेंगे लोग कि वो किधर जायेंगे

    वो शहर बस गया है सहर से पहले
    ये गाँव ये बस्ती अब उजड़ जायेंगे

    पहुँचे हैं कगार पर,पर आस है बाकी
    यकीं है ये दिन भी सुधर जायेंगे

    शिद्दत-ए-गम से परेशाँ हैं मेरे गेसू
    ग़र आईना मिल जाए,ये संवर जायेंगे

    उम्मीद के हंगामों में शामिल है 'अदा'
    नज़र भर देख लो हम निखर जायेंगे

    BAHUT SUNDAR RACHNA


    SHEKHAR KUMAWAT

    http://kavyawani.blogspot.com/

    ReplyDelete
  29. बहुत बढ़िया ग़ज़ल लिखी है । एकदम परफेक्ट।

    ReplyDelete
  30. bahut hi shandar likha...
    http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

    ReplyDelete
  31. वाकई ये है अदा जी का कलाम।

    ReplyDelete
  32. शिद्दत-ए-गम से परेशाँ हैं मेरे गेसू
    ग़र आईना मिल जाए,ये संवर जायेंगे

    वाह! अदा जी,
    कमाल का कलाम,

    इस रचना को मेरा भी सलाम:

    "माना तुम्हें मिल जायेगी मन्ज़िल,जो मिला हमकदम,
    जो पहुंच के मन्ज़िल पे भी भटके है,वो किधर जायेंगे."

    ReplyDelete
  33. kamaal ka likha hai Adaa Ji

    -Shruti

    ReplyDelete
  34. उम्मीद के हंगामों में शामिल है 'अदा'
    नज़र भर देख लो हम निखर जायेंगे

    yar aur kitta nikhrogi??????
    itna hi bahut hai.

    bahut acchhi gazel...

    badhayi.

    ReplyDelete
  35. aaj kal aapki qalam to Carl Lewis ki tarah sarpat bhag rahi hai di... bahut hi behatreen pradarshan.. :)

    ReplyDelete
  36. itane dino ke baad aaj aapko pada aur maza aagaya ek din fursat se pichali posts bhi padungi.....bahut hi umda gazal!!

    ReplyDelete
  37. बहुत खूब लिखा है जी

    ReplyDelete
  38. शिद्दत-ए-गम से परेशाँ हैं मेरे गेसू
    ग़र आईना मिल जाए,ये संवर जायेंगे

    is sher me kuch gender ki problem hai ..dekhiyega ....ghazal achhi hai ....

    ReplyDelete
  39. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    इसे 17.04.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह 06 बजे) में शामिल किया गया है।
    http://chitthacharcha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  40. खूबसूरत गज़ल है !
    आप हैं कि लिखे जा रही हैं, हमारी बदकिस्मती देखिए कि पढ़ने का वक्त भी नहीं निकाल पा रहे !

    श्रीकृष्ण तिवारी मँजे हुए गीतकार हैं, बनारस के !
    उनकी गज़ल में एक शेर है यह भी -
    "सामने बैठिए आईने की तरह,
    देखकर आपको हम सँवर जाँयेगे !

    कोशिश सफल हुई तो पूरी गज़ल का काव्यपाठ पॉडकास्ट करता हूँ !

    ReplyDelete
  41. @ शिद्दत-ए-गम से परेशाँ हैं गेसू मेरे
    ग़र आईना मिल जाए,ये संवर जायेंगे ..
    --------- हासिले-गजल सा लग रहा है यह शेर !
    पढता आ रहा हूँ तो अब लग रहा है कि आपकी गजलें
    स्वयं ही अपना रास्ता ढूंढ रही हैं .. यही सही भी है ..
    आभार !

    ReplyDelete