Wednesday, April 14, 2010

कितने तो उन मयखानों में रात गुजारा करते हैं....


पशे चिलमन में वो बैठे हैं हम यहाँ से नज़ारा करते हैं
गुस्ताख हमारी आँखें हैं आँखों से पुकारा करते हैं

कोताही हो तो कैसे हो, इक ठोकर मुश्किल काम नहीं 
मेरी राह के पत्थर तक मेरी ठोकर को पुकारा करते हैं

पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैं
कितने तो उन मयखानों में  रात गुजारा करते हैं

हम खानाबदोशों को भी है किसी सायबाँ की दरकार 
नज़रें बचाए जाने क्यों हमसे वो किनारा करते हैं 


जब डूबते हैं पहलू में 'अदा' गोशा-गोशा गदराता है
हम हुस्न-ए-मुजसिम लगते हैं वो नज़र उतारा करते हैं


36 comments:

  1. गुस्ताख हमारी आँखें हैं आँखों से पुकारा करते हैं

    असर हुआ ये कि
    मुकर के अपने वादे से गुस्ताखियाँ दुबारा करते हैं

    ReplyDelete
  2. जब डूबते हैं पहलू में 'अदा' गोशा-गोशा गदराता है
    हम हुस्न-ए-मुजसिम लगते हैं वो नज़र उतारा करते हैं
    बहुत सुन्दर भाव हैं ! एक खुबसूरत ग़ज़ल के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  3. जब डूबते हैं पहलू में 'अदा' गोशा-गोशा गदराता है
    हम हुस्न-ए-मुजसिम लगते हैं वो नज़र उतारा करते हैं
    बहुत सुन्दर भाव हैं ! एक खुबसूरत ग़ज़ल के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  4. पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते है
    कितने तो उन मयखानों में रात गुजारा करते हैं

    -वाह!! बहुत सुन्दरता से पिरोई है रचना..बहुत खूब!

    ReplyDelete
  5. इक सिर्फ़ हमी मय को आंखों से पिलाते हैं,
    कहने को दुनिया में मयख़ाने हज़ारों हैं,
    इन आंखों की मस्ती के मस्ताने हज़ारों हैं...

    सुबह सुबह और नशा, राम-राम...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  6. har sher achchha laga mujhe to(kya karen sher bache hi kam hain bharat me Di :) )

    ReplyDelete
  7. hnm.....

    padhaa..

    aur ..

    apun ko to chadh gayi...

    ReplyDelete
  8. पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैं
    कितने तो उन मयखानों में रात गुजारा करते हैं..

    क्या बात है ...पीना पिलाना आँखों से ...

    हंगामा है क्यों बरपा थोड़ी सी जो पी ली है....:):)

    खूबसूरत ग़ज़ल ...!!

    ReplyDelete
  9. दी अपुन भी अभिज़ के अभी सुबह सुबह अदा नामक मयखाने में टुन्न हो गए .................. गुस्ताख हमारी आँखें हैं आँखों से पुकारा करते हैं..........वल्लाह ! पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैंकितने तो उन मयखानों में रात गुजारा करते हैं
    दी अभी लड़खड़ा रहा हूँ ...............थोडा वक़्त लगेगा न ................

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर रचना .....हर एक पंक्ति में गज़ब के भाव है .

    ReplyDelete
  11. नशीली अदाएँ ...मयखाना ए जिंदगी की

    ReplyDelete
  12. कई बार कहा उनसे , यूं कत्ल न हमारा किया करो,
    हर बार हम मर जाते हैं,वो यही काम दोबारा करते हैं

    जाने कौन जतन नहीं किए , सजाने को दिखाने को,
    सब फ़ीके, वो बस सब कुछ शब्दों से संवारा करते हैं

    आपकी रवानी में उतर कर डूबने का आनंद ही अलौकिक है जी । सुबह सुबह ही खुमारी सी छा गई है

    ReplyDelete
  13. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  14. पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते है
    कितने तो उन मयखानों में रात गुजारा करते हैं

    ये आँखें भी बहुत कुछ कह जाती हैं।

    आज की शायरी बहुत पसंद आई जी ।
    आनंदमयी।

    ReplyDelete
  15. अदा जी बहुत बढ़िया ग़ज़ल प्रस्तुत की आपने....अच्छी लगी..बधाई

    ReplyDelete
  16. सुन्दर शब्दों का सुन्दर प्रयोग ।

    ReplyDelete
  17. मयखाने में जो मिलती है, उसका असर अल्पकालिक होता है।
    आंखों से जो पी जाती है, उसका असर बहुत गहरा होता है।

    आज तो मधुशाला ही खोल रखी है जी।

    बहुत सुंदर रचना।

    नशा हो रहा है पढ़कर ही।

    ReplyDelete
  18. वाह .. क्‍या बात है !!

    ReplyDelete
  19. कोताही हो तो कैसे हो, इक ठोकर मुश्किल काम नहीं
    मेरी राह के पत्थर तक मेरी ठोकर को पुकारा करते हैं
    ....bahut khoobsurati se manobhawon ko vyakt kiya aapne..
    Bahut shubhkamnayne.

    ReplyDelete
  20. पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैं
    कितने तो उन मयखानों में रात गुजारा करते हैं

    ये कव्वाली तो बहुत बढ़िया रही!

    ReplyDelete
  21. कमाल हो गया ...जिसे पढ़ कर दिल झूम जाए वही खूबसूरती है ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  22. पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैं
    कितने तो उन मयखानों में रात गुजारा करते हैं

    jane hum kaise hai jo wahi kaam dubara karte hai

    Bahut hi khoobsurat

    -Shruti

    ReplyDelete
  23. शब्दों का बेहद, उचित जगह चयन,यह कहना आपके लिए छोटी बात होगी...लेकिन सच्चाई तो कहनी ही होगी ,,बहुत सुन्दर रचना

    विकास पाण्डेय
    www.vicharokadarpan.blogspot.com

    ReplyDelete
  24. बेहद सुंदर रचना. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  25. Hello ji,

    What a marvellous work!!
    "पशे चिलमन में वो बैठे हैं हम यहाँ से नज़ारा करते हैं
    गुस्ताख हमारी आँखें हैं आँखों से पुकारा करते हैं"

    AND

    "हम हुस्न-ए-मुजसिम लगते हैं वो नज़र उतारा करते हैं"

    Waaaaah!! Waahh!! Waaah!!

    Regards,
    Dimple
    http://poemshub.blogspot.com

    ReplyDelete
  26. kamal ho gaya...

    itni gehre ankho k kajal se kaise
    gazal likh leti ho..
    meri kalam ka roya roya bhi
    jhoom uthta hai..
    aur tum katle aam kar jati ho.

    ReplyDelete
  27. वाह! क्षमा कीजिएगा. मैंने आपका ब्लॉग दूसरी ही बार पढ़ा है. मगर, आपके लिखने और सोच का माशाल्लाह! कायल हो गया हूँ.बुरा न मने तो एक बात पूछना चाहूँगा, कहाँ से लती हैं अप ऐसी नायब सोच........?

    ReplyDelete
  28. "पशे चिलमन में वो बैठे हैं हम यहाँ से नज़ारा करते हैं
    गुस्ताख हमारी आँखें हैं आँखों से पुकारा करते हैं"-
    शुरुआत ही क्या धुआँधार कर दी आपने ! गज़ल पर लौटना सुकून भरा है !
    अपनी अनुपस्थिति को कोस रहा हूँ ! उस वक़्त पढ़ना और फिर कहने लायक कहना - यह ज्यादा जरूरी है !

    ReplyDelete
  29. @ पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैं
    कितने तो उन मयखानों में रात गुजारा करते हैं..
    .... एक शेर याद आ रहा है ,
    '' वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होती ,
    हम आह भी भरते हैं तो हो जाते हैं बदनाम | ''
    सुन्दर प्रविष्टि ...... आभार ,,,

    ReplyDelete