Wednesday, March 24, 2010

'नीम हकीम ख़तरा-ए-जान' .....

 
एक  कहावत पढ़ी थी...
'नीम हक़ीम ख़तरा-ए-जान' बचपन से इसका मतलब यही जाना कि जिसे आधा ज्ञान हो उससे खतरा होता है, अंतरजाल खंगाल डाला  तो कहीं मिला:
नीम हक़ीम ख़तरा जान (A little knowledge is a dangerous thing.)
कहीं मिला :

Neem Hakeem = Means = A physician lacking in full knowledge of his profession OR A half baked physician . Khatra - e - Jaan = Means = Danger ...

लेकिन हर बार मुझे लगा कहीं कुछ ठीक नहीं है, कहीं हम उस बेचारे हक़ीम के साथ तो ज्यादती नहीं कर रहे, काफी जद्दो-ज़हद के बाद मुझे इसका असली मतलब समझ में आया है,

खैर, तो मैंने जो 'नीम हक़ीम ख़तरा-ऐ-जान' का सही अर्थ समझा है, सोचा आपलोगों को भी बता ही दूँ, क्योंकि आइन्दा आप भी तो यही इस्तेमाल करेंगे....और मेरे हिसाब से यही इसका असली अर्थ भी है,
वो है:

वो हक़ीम जो नीम के पेड़ के नीचे सो रहा है, उसकी जान को ख़तरा है.......

अब आप सब बताइए यही सही अर्थ है या नहीं ??????

मयंक की चित्रकारी :

और अब एक गीत...'अदा' की आवाज़ में..
गला थोड़ा खराब है...बुरा न मानियेगा...

37 comments:

  1. मैं तो समझता था कि इस मुहावरे का यह अर्थ होगा कि नीम के पेड़ को सचेत किया जा रहा है कि हे नीम, हकीम आ रहा है, इसलिए तुझे ख़तरा है ! ( पत्ते-टःनिया तोड़ कर ले जाएगा क्या पता पेड़ ही काट ले जाए ) :)

    इस ज्ञान वर्धन के लिए शुक्रिया अदा जी !

    ReplyDelete
  2. bahut sahi :)
    Mayank babu ko dher sari shubhkaamnaae unki kala nae aayam ghade....gana bahut pasand aaya di mujhe bahut pasand hai yah gana !

    ReplyDelete
  3. बिल्कुल बराबर है जी। वैसे एक संभावना और भी है, कथन पुराना है तो पुराने समय में हकीमों के कहां पांच सितारा दवाखाना होते थे? वे अपनी अपनी दवा वाली पेटी लेकर अलग अलग ठियों पर बैठते होंगे और ठिये से ही उनकी पहचान होती होगी। इस कथन का ये भी मतलब हो सकता है कि नीम वाले हकीम से इलाज करवाने पर जान का खतरा है, रैप्यूटेशन बड़ी चीज है जी।
    मयंक के बारे में कोई कमेंट नहीं। उसे अपने साये से बाहर निकालकर अपना खुद का नया ब्लाग बनाने के लिये कहिये, हां नही तो(अभी पेटेंट तो नहीं करवाया न आपने ये hnt)...

    ReplyDelete
  4. इस ज्ञान वर्धन के लिए शुक्रिया अदा जी !

    ReplyDelete
  5. bahut acche se samja aur samjha bhi diya........aur gayan ke bare mei kya kahen.....masallah....subhanallah.......

    ReplyDelete
  6. मयंक JI की चित्रकारी BAHUT HI SUNDER HAI

    ReplyDelete
  7. अब नीम को खतरा है या हकीम को ये हम नहीं जानते। हमें तो बस इतना पता है अधकचरी जानकारी वाला इंसान खतरनाक होता है। अच्छा पोस्ट है पढ़कर मजा आया।

    ReplyDelete
  8. नीम उर्दू शब्द है जिसका अर्थ होता है आधा। अर्धविक्षिप्त को उर्दू में "नीम पागल" कहा जाता है। इसी प्रकार से हकीमी अर्थात् चिकित्सा के आधे ज्ञान वाले व्यक्ति को "नीम हकीम" कहा जाता है। "नीम हकीम खतरा-ए-जान" का अर्थ होता है अधूरे ज्ञान रखने वाले हकीम से इलाज करवाने में जान का खतरा होता है।

    ReplyDelete
  9. मेरे हिसाब से तो...... ( नीम ,हकीम , खतरा और जान )......को यानी सभी चारों को ऐसे लोगों से ज्यादा खतरा होता है, जो फालतू बकबास करते हैं.....यानि खतरे को भी खतरा..?..

    ReplyDelete
  10. नीम हकीम में नीम शब्द अपूर्णता की स्थिति के लिए प्रयुक्त हुआ है जैसे - नीम उजाला में ।
    वैसे 'हर्रे बहर्रे औंरा के बीया' की तर्ज पर इसे यूँ भी माना जा सकता है कि ऐसा हकीम जो हर मर्ज का एक ही इलाज नीम बताता हो उससे जान को खतरा होता है।
    शेफाली जी मास्टरनी हैं लेकिन हिन्दी की नहीं। इसलिए आप अपनी 'स्वयं प्रश्न स्वयं उत्तर पुस्तिका' की जाँच किसी हिन्दी वाले जैसे हिमांशु जी या आचार्य जी से करवाइए।
    ऐसा गूढ़ और अति रहस्यपूर्ण विमर्श आप ही कर सकती हैं। ऐसी नवीन उद्भावनाओं से हिन्दी समृद्ध होती है। आप की लगन और निष्ठा अतुलनीय है।
    इस परम गोपनीय देव दुर्लभ ज्ञान को साझा करने के लिए धन्यवाद और आभार।
    अर्जुन भी कृष्ण से ज्ञान प्राप्त कर उतना उपकृत नहीं हुआ होगा जितना मैं महसूस कर रहा हूँ।
    पुन: आभार।

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ......मयंक की कलाकारी तो लाजवाब ....और गीत भी बहुत अच्छा

    ReplyDelete
  12. Neem ,hakeem ka hamen nahi pata..hame to bas aapka geet sunna hai.or mayank ki chitrkari badhiya hamesha ki tarah.

    ReplyDelete
  13. गीत सुंदर-मयंक की कलाकृति सुंदर, लेकिन नीम हकीम वाली परिभाषा.....? लगता है यह नया ज्ञान मिला,धन्यवाद.

    ReplyDelete
  14. वो हक़ीम जो नीम के पेड़ के नीचे सो रहा है, उसकी जान को ख़तरा है.......

    बिलकुल सही बात जी।
    क्योंकि यदि हकीम साहब रात में नीम के नीचे सोये तो कार्बनडाईओक्साइड उनको मार डालेगी। :)

    ReplyDelete
  15. चलिये पता लग गया कि नीम के पेड के निचे हकीम साहब सो रहे हैं. तो हम नीम के पेड के पास ही नही जायेंगे.:)

    सुंदर चित्रकारी और मधुर गीत. रामनवमी की घणी रामराम.

    रामराम.

    ReplyDelete
  16. ओह ! ऐसा क्या !
    मैं तो आज तक यही सोचता रहा कि नीम के पेड़ के नीचे अगर ऐसा हक़ीम सो भी जाए, तो भी पेड़ की जान को ख़तरा पैदा हो जाता है...ख़ैर मैंने अब सही मतलब नोट कर लिया है :)

    चित्रकारी की तो बात ही निराली है.

    ReplyDelete
  17. हकीम चंद जॊ नीम के नीचे सो रहा है, उसे खतरा है, क्योकि बिजली चमक रही है, ओर नीम का पेड पुरी तरह से भीग चुका है यानि अगर बिजली उस नीम के पेड पर गिरी तो उस हकीम चंद को कोन बचायेगा जो शारब पी कर बेसूद पडा है....आप के अर्थ मै दम है जी, लेकिन पहले हकीम चंद को बचाओ

    ReplyDelete
  18. बढ़िया है
    लेकिन पता नहीं पी.सी.गोदियाल साहब सही हैं या आप ?
    बहरहाल
    परसों मैंने भी एक श्लोक का अर्थ एक विद्वान से जाना था
    "तमसो मा ज्योतिर्गमय"
    अर्थ : तुम सो जाओ मां मै ज्योति के साथ जा रहा हूँ

    ReplyDelete
  19. bas muskura bhar deta hoon aur Mayank ke liye khush ho leta hoon.. geet sun khilkhila leta hoon.. :) :D

    ReplyDelete
  20. रामनवमी की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  21. कमाल का अर्थ निकाला है आपने तो!! मज़ा आ गया.....मैं तो " नीम" यानि "आधा" (उर्दू में) जानती थी!!! अब पूरा अर्थ जान गई. हाहाहा..

    ReplyDelete
  22. रामनवमी की शुभकामनायें!

    navraatri ke samaapan ki bhi.

    ReplyDelete
  23. Ha,ha..
    Adaji aapko Ramnavmiki anek shubhkamnayen!

    ReplyDelete
  24. वादियां मेरा दामन मेरा पसंदीदा गीत है, और आपने इसे बडी नज़ाकत और सुगढ़ता से गाया है. आपके बहु आयामी व्यक्तित्व में ये भी एक Feather in cap है. आपके सेंस ओफ़ ह्युमर का जवाब नहीं, बस देखना हैं किसे समझ में आता है.

    नहीं आये किसी को तो नीम हकीम के साथ पेड के नीचे दस उठ्ठक बैठक लगा कर नीम के दातून कर गारगल करने से आजायेगा. नहीं यकीन तो वो खुदै कर के देख लें, काहे दुबला होवे है.

    ReplyDelete
  25. नीम हकीम...यानी

    आधा अधूरा ज्ञान रखने वाले से..जान को ख़तरा हो सकता है...


    जैसे ...ग़ज़ल के बारे में...

    जाने दीजिये..
    है एक दो..जो बुरा मान जायेंगे

    ReplyDelete
  26. और हां, ये गाना ठीक से स्ट्रीम नहीं हो रहा है, इसलिये पूरा नहीं सुन पाया दो घंटे से.(८०%)

    ReplyDelete
  27. राम नवमी पर
    हम देश की खुशहाली के लिए दुआ करते हैं
    और ये आपकी मीठी, मधुर आवाज़ में गाया गीत वाह आनंद आ गया अदा जी
    स्नेह,
    - लावण्या

    ReplyDelete
  28. अब आप कह रही है तो यही ठीक होगा. लफड़ा करने का कौनो फायदा नहीं है..आप ही सही.

    आजतक भी काम चल ही जा रहा था.

    चित्रकारी पुनः अच्छी लगी.

    गाना अभी सुना नहीं. :)

    ReplyDelete
  29. मेरे खयाल से नीम पढ़ाई से हकीम बने हुए का ज्ञान आपकी जान के लिए खतरा बन सकता है ....कर रहे हैं आपको सावधान ...हमसे बच कर रहना ...:)):
    नीम बेहोशी , नीम मदहोशी , नीम ख़ामोशी , नम दूरियां , नम तन्हाई ...

    ये गीत कई बार सुन चुकी हूँ ...कभी कभी इसको गुनगना पाती हूँ ....मतलब गाती तो बहुत सारे हूँ ... मगर सुर बस इसपर ही साथ देता है...:):)

    ReplyDelete
  30. अवधिया जी ने नीम का सही मतलब समझाया, वरना मैं भी इस मुहावरे में नीम को नीम का पेड़ ही समझता था...

    डॉ दराल ने भी सही बताया कि रात को पे़ड़ के नीचे नहीं सोना चाहिए...पेड़ दिन में कार्बन डाई आक्साइड का इस्तेमाल फोटोसिंथेसिस के ज़रिए अपना खाना बनाने में करता है, इसके लिए उसे प्रकाश की आवश्यकता होती है..रात को प्रकाश न होने की वजह से पेड़ खाना नहीं बना पाता और सारी की सारी कार्बन डाई आक्साईड बाहर निकालता रहता है जो कि हमारे लिए खतरनाक होती है...

    अदा जी, बरसो पहले पढी बॉटनी याद दिलाने के लिए शुक्रिया..

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  31. एक आदमी ने नीम के बारे में जाना कि यह बड़ी काम की चीज है और नीम को लेकर दवाई करने लगा बस वो नीम-हकीम बन गया। इसलिए कहते हैं कि ऐसा हकीम जान को खतरा है जो केवल एक पक्ष ही जानता हो। मयंक की चित्रकारी तो आज कह रही है कि या तो रूपयों का बण्‍डल ले लो या फिर नही मानोंगे तो जूते दूंगा। हा हा हा हा।

    ReplyDelete
  32. awadhiya sahab ka kathan shi laagu hota hai...

    ReplyDelete

  33. मैंनें पोस्ट पढ़ी तो नहीं,
    अवश्य कुछ अच्छा ही लिखा होगा ।
    टिप्पणी केवल सतत लेखन का प्रोत्साहन प्रतीक मात्र है, सो..
    " वाह, क्या बात है ? / अदा जी, आपका ज़वाब नहीं !" में से कोई एक चुन लें ।
    चाहें तो दोनों ही टिप्पणियाँ ही मॉडरे्शन की भेंट चढ़ा दें, इनको रख भी लें तो कोई बात नहीं,
    यह कम से कम परस्पर सँबन्धों को प्रगाढ़ करने के उपयोग में तो लायी ही जा सकती हैं :)

    ReplyDelete
  34. वैसे अर्थ का भी बुरा नहीं, सोने वाले के पास मरीज जाएगा तो मर ही जाएगा। और दूसरा डॉ.श्रीमति अजीत गुप्ता जी भी सही कह रही है।

    ReplyDelete
  35. हा हा हा हा !!! आपका जवाब नहीं. अच्छा हुआ आपने हमारी आँखें खोल दीं और सही अर्थ बता दिया. नहीं तो हम अज्ञान के अँधेरे में डूबे रहते.
    गाना बहुत अच्छा लगा और मयंक की चित्रकारी भी.

    ReplyDelete
  36. अप कह रही हैं तो ठीक ही होगा, वैसे कुछ कुछ तो हमे गौदियाल जी का कथन भी सही लग रहा है :-)

    ReplyDelete