Sunday, March 14, 2010

'अदा'........जब से तेरे नैना मेरे नैनों से लागे रे


जब से तेरे नैना मेरे
फिल्म :  सांवरिया 
गायक : शान 
गीतकार :  समीर
संगीतकार : मोंटी शर्मा
यहाँ आवाज़ है  'अदा' की ...



[लागे रे  लागे रे लागे रे नैननवालागे रे लागे रे] - 2

जब से तेरे नैना मेरे नैनों से लागे रे 
जब से तेरे नैना मेरे नैनों से लागे रे  
तब से दीवाना हुआ आ...हा...
सब से बेगाना हुआ
रब भी दीवाना लगे रे ओये ओये
रब भी दीवाना लगे रे हो होहोहो
जब से तेरे नैना मेरे नैनों से लागे रे
तब से दीवाना हुआ आ...हा...
तब से दीवाना हुआ आ...हा...
सब से बेगाना हुआ
रब भी दीवाना लगे रे ओये ओये
रब भी दीवाना लगे रे हो होहोहो
जब से तेरे नैना मेरे नैनों से लागे रे

धिन ताक धिन ताक धिन ताक धिन

दीवाना ये तो दीवाना लगे रे

हो... जब से मिला तेरा इशारा
तब से जगीं हैं बेचैनियाँ
जब से हुई सरगोशियाँ
तब से बढ़ी है मदहोशियाँ

जब से जुड़े यारा
तेरे मेरे मन के धागे
तब से दीवाना हुआ आ...हा...
सब से बेगाना हुआ
रब भी दीवाना लगे रे ओये ओये
रब भी दीवाना लगे रे हो होहोहो

हो जब से हुई है तुझसे शरारत
तब से गया चैनों करार हो हो
जब से तेरा आँचल ढला
तब से कोई जादू चला

जब से तुझे पाया
ये जिया धक धक भागे रे
तब से दीवाना हुआ आ...हा...
तब से दीवाना हुआ आ...हा...
सब से बेगाना हुआ
रब भी दीवाना लगे रे ओये ओये
रब भी दीवाना लगे रे हो होहोहो
जब से तेरे नैना मेरे नैनों से लागे रे


23 comments:

  1. जब से तेरे नैना मेरे नैनो से लागे रे ....
    वाह ...आज तो सुबह - सुबह इतनी मस्ती भरा गीत ...
    ओये ...मूड खुश कर दित्ता ..कब से बुझा- बुझा सा था ...
    नाच ...धिनक धिन ...कही और से झूमता- नाचता- गाता गीत सुर और ताल सहित यहाँ तक पहुँच गए ...
    बहुत सुन्दर ...बहुत बढ़िया ...मस्त ....

    ReplyDelete
  2. आज बस गायकी !
    गज़ल और चित्रकारी कहाँ गयी ?
    प्रविष्टि का आभार ।

    ReplyDelete
  3. अदा जी,
    दो दिन से देखा कि आपके ब्लाग पर
    गाना बज नही रहा है। शायद कुछ समस्या है।
    इसलिए हम नही सुन पा रहे हैं।

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर गीत है!
    आपके मधुर स्वर ने मन मोह लिया है!

    ReplyDelete
  5. apki awaaz me ye geet sunNa acchha laga.jhoom liye ham bhi.

    ReplyDelete
  6. Wah...Vanee ji jaisahi haal hai apna bhi...maza aa gaya!

    ReplyDelete
  7. गाना सुनते समय एक चीज की कमी खाल रही थी....
    छम से थोड़ी बारिस आ जाती...
    लड्डू बोलता है ....इंजीनियर के दिल से.
    http://laddoospeaks.blogspot.com/2010/03/blog-post_3507.html

    ReplyDelete
  8. जब से तेरे नैना मेरे नैनों से लगे रे,
    जब से तेरे नैना मेरे नैनों से लगे रे,
    तब से दीवाना हुआ आ...हा...

    हमें दीवाना जो होना था सो तो हुए, आई फ्लू ज़रूर साथ में गिफ्ट मिल गया...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  9. दिल भी दीवाना लागे रेssss...ब्रौड बैंड लग गया है हमारे हेड-क्वार्टर में..याहु तो हम सुन रहे हैं आपकी दिलकश आवाज...बस गिला ये है कि थिरकने को सामने रणवीर नहीं है।

    ReplyDelete
  10. आज तो जी आप गा कर छा गये। बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  11. सच में मधुर संगीत बहुत आनंद देता है। नई फ़िल्मों में भी कुछ गाने बहुत कर्णप्रिय हैं।
    छा गये जी तुसी छा गये।

    ReplyDelete
  12. क्या खूब गाया है आपने
    बेहतरीन मधुर स्वर

    ReplyDelete
  13. अहं सुस्तं
    नेटं वधिरं
    लेकिन समझं
    ना
    ना..:)

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर दीदी । ब्लाग नये कलेवर में बहुत अच्छा लग रहा है ।
    आभार

    ReplyDelete
  15. वाह!! आज तो ब्लॉग के तेवर ही बदले हुए हैं..

    ReplyDelete
  16. दीदी, हम तो जब भी कहीं अदा लिखा देखते हैं तो "क्या अदा क्या जलवे" वाला गाना याद आता है.. :D

    ReplyDelete