Thursday, June 10, 2010

फिर भी बनाऊँगी मैं, एक नशेमन हवाओं में........



मेरे इश्क का जुनूँ,
रक्स करता है फिजाओं में,
तेरे फ़रेब मसलते हैं मुझे
मेरे ही ग़म की छाँव में,
हर साँस से उलझती है
हर लम्हा ज़िन्दगी की, 
लिपटती जाती है देखो
उम्र की ज़ंजीर पाँव में,
ये पागलपन मेरा,
बरामद करवाएगा मुझे,
कब तक छुपूँगी कहो 
सदियों की गुफाओं में,
आंधियाँ मुझसे अब भी 
दुश्मनी निभातीं हैं,
फिर भी बनाऊँगी मैं
एक नशेमन हवाओं में...!

रक्स=नृत्य
नशेमन=घोंसला



30 comments:

  1. शानदार अभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete
  2. सुंदर प्रस्तुति..आभार

    ReplyDelete
  3. मेरे भोले मासूम मन को इतनी गहरी बात समझ नहीं आ रही
    रक्स और नशेमन क्या होता है ??
    उर्दू के शब्दों का ज्ञान कम मात्रा में है

    ReplyDelete
  4. नशेमन आँधियों में भी आबाद रहे ...
    हौसला कायम रहे ...!!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  6. शब्दों का अर्थ बताने हेतु धन्यवाद
    मैं भी यही कहूँगा....."हौसला कायम रहे"
    कविता का अर्थ जान कर बहुत अच्छा महसूस हो रहा है

    ReplyDelete
  7. हवाओं में घोसला बनाने की बात तो वही करता है जो धारा के विपरीत बहने की कला जानता है। मुझे रचना की आखिरी लाइन बेहद अच्छी लगी क्योंकि यही लाइन शायद बहुत से लोगों का सच है... शायद मेरा भी।

    ReplyDelete
  8. गज़ब की दीवानगी है, गज़ब की आवारगी,
    आपका ज़ज़्बा नहीं लगता, फ़कत एकबारगी ।

    ReplyDelete
  9. वाह वाह

    प्रस्तुति...प्रस्तुतिकरण के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. विशुद्ध रूप से प्रेरणादायक...

    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  11. आंधियाँ मुझसे अब भी
    दुश्मनी निभातीं हैं,
    फिर भी बनाऊँगी मैं
    एक नशेमन हवाओं में...!

    बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  12. आंधियाँ मुझसे अब भी
    दुश्मनी निभातीं हैं,
    फिर भी बनाऊँगी मैं
    एक नशेमन हवाओं में...

    बहुत खुद्दारी है इस रचना में जो बहुत अच्छी लगी .... इश्क़ जब जुनू बन जाता है तो सिर चड़ कर बोलता है ....

    ReplyDelete
  13. फिर भी बनाऊँगी मैं
    एक नशेमन हवाओं में...
    Thats the spirit.बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  15. बहुत ही ओजपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  16. आप तो वो हैं जो आंधियों में भी नशेमन को सुरक्षित रखना जानती हैं और दुनिया को दिखाती हैं कि देखो मुझे देखो। बहुत अच्‍छी रचना।

    ReplyDelete
  17. badhiya abhivyaki.

    aapki post kal 11/6/10 ki charcha munch ke liye chun li gayi he.

    abhaar

    ReplyDelete
  18. sundar abhivyakti.......badhiyaa

    ReplyDelete
  19. sundar abhivyakti.......badhiyaa

    ReplyDelete
  20. हर साँस से उलझती है
    हर लम्हा ज़िन्दगी की,
    लिपटती जाती है देखो
    उम्र की ज़ंजीर पाँव में,
    वाह अति उत्तम बधाई

    ReplyDelete