Saturday, October 31, 2009

बात वो दिल की ज़ुबां पे कभी लाई न गई


बात वो दिल की ज़ुबां पे कभी लाई न गई
चाह कर भी उन्हें ये बात बताई न गई

नीम-बाज़ आँखें भी बरसतीं हैं मेघ लिए
आब तो गिरता रहा पर आग बुझाई न गई

कौन है हम, हैं कहाँ,क्यों हैं ये पूछा तुमने
थी खबर हमको मगर तुमसे बताई न गई

दर्द का दिल पे असर कैसा है मुश्किल गुजरा
बात यूँ बिगड़ी के फिर बात बनाई न गई

जुनूँ-ए-इश्क ने फिर ख़ाक में मिला ही दिया
सलवटें माथे की हमसे तो मिटाई न गई

हम यहाँ आधे बसे, आधे हैं अब और कहीं
ज़िन्दगी बाँट कर भी दूरी मिटाई न गई

राह में उनकी नजर हम है बिछाए बैठे
अब शरर ढूंढें कहाँ, रौशनी पाई न गई

कुछ तो है बात के चेहरे पे कई सोग पड़े
हंसती है कैसे 'अदा' रुख से रुलाई न गई

25 comments:

  1. जुनूँ-ए-इश्क ने फिर ख़ाक में मिला ही दिया
    सलवटें माथे की हमसे तो मिटाई न गई
    जुनूँ-ए-इश्क में खाक में मिलना भी मायने रखता है.
    बहुत सुन्दर गज़ल और उसके भाव

    ReplyDelete
  2. हम यहाँ आधे बसे, आधे हैं अब और कहीं
    ज़िन्दगी बाँट कर भी दूरी मिटाई न गई


    क्या भाव हैं!

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  3. दर्द का दिल पे असर कैसा है मुश्किल गुजरा
    बात यूँ बिगड़ी के फिर बात बनाई न गई

    जुनूँ-ए-इश्क ने फिर ख़ाक में मिला ही दिया
    सलवटें माथे की हमसे तो मिटाई न गई

    हम यहाँ आधे बसे, आधे हैं अब और कहीं
    ज़िन्दगी बाँट कर भी दूरी मिटाई न गई

    सुन्दर कविता आभार आपका

    ReplyDelete
  4. एक अच्छी रचना है. बधाई स्वीकारें .
    - विजय

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर कविता आभार आपका

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया गजल है।बधाई।
    दर्द का दिल पे असर कैसा है मुश्किल गुजरा
    बात यूँ बिगड़ी के फिर बात बनाई न गई

    ReplyDelete
  8. हम यहाँ आधे बसे, आधे हैं अब और कहीं
    ज़िन्दगी बाँट कर भी दूरी मिटाई न गई
    kamaal ka bhaav hai di..

    ReplyDelete
  9. कौन है हम, हैं कहाँ,क्यों हैं ये पूछा तुमने
    थी खबर हमको मगर तुमसे बताई न गई

    खबर थी तो बताया क्यों नहीं अब तक ..!!
    बात हर बिगड़ी बन जाये ...
    अदा हमेशा मुस्कुराये ..!!
    एक बेहद खुबसूरत ग़ज़ल ..!!

    ReplyDelete
  10. बात वो दिल की ज़ुबां पे कभी लाई न गई
    चाह कर भी उन्हें ये बात बताई न गई

    नीम-बाज़ आँखें भी बरसतीं हैं मेघ लिए
    आब तो गिरता रहा पर आग बुझाई न गई

    कौन है हम, हैं कहाँ,क्यों हैं ये पूछा तुमने
    थी खबर हमको मगर तुमसे बताई न गई

    दर्द का दिल पे असर कैसा है मुश्किल गुजरा
    बात यूँ बिगड़ी के फिर बात बनाई न गई

    जुनूँ-ए-इश्क ने फिर ख़ाक में मिला ही दिया
    सलवटें माथे की हमसे तो मिटाई न गई

    हम यहाँ आधे बसे, आधे हैं अब और कहीं
    ज़िन्दगी बाँट कर भी दूरी मिटाई न गई

    राह में उनकी नजर हम है बिछाए बैठे
    अब शरर ढूंढें कहाँ, रौशनी पाई न गई

    कुछ तो है बात के चेहरे पे कई सोग पड़े
    हंसती है कैसे 'अदा' रुख से रुलाई न गई

    maafi chahta hoon Di aisa koi sher hi nahin mila jo achchha laga ho, socha koi bahut achchha dhoondha jaye to jo bhi sabse achchha samajh ke uthata turant dimag kahta, 'kyon guru? doosre wale ke sath gaddari?' isliye poori bahut achchhi gazal ko hi yahan pasand bana liya.. :)

    Jai Hind

    ReplyDelete
  11. गहन भावों के विह्वल अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  12. "बात वो दिल की ज़ुबां पे कभी लाई न गई
    चाह कर भी उन्हें ये बात बताई न गई"

    अति सुन्दर रचना!

    इस रचना ने तलत महमूद के गाये गीत की याद दिला दीः

    हमसे आया न गया तुमसे बुलाया न गया ...

    ReplyDelete
  13. नीम-बाज़ आँखें भी बरसतीं हैं मेघ लिए
    आब तो गिरता रहा पर आग बुझाई न गई

    नीमबाज आँखों का यह मौसम बड़ा दिलकश लगा..
    और फिर यह शेर ग़ज़ल का सबसे दिलफ़रेब मोती लगा
    हम यहाँ आधे बसे, आधे हैं अब और कहीं
    ज़िन्दगी बाँट कर भी दूरी मिटाई न गई
    क्या कहूँ..एक पूरी पीढ़ी का सच छुपा कर रख दिया एक शेर मे..
    और हाँ अवधिया जी किई तरह पढ़ते पढ़ते सबसे पहले तलत साहब का वह दिलदोज़ नगमा याद आया..और याद आयी उनकी मखमली आवाज..वही सुनने जा रहा हूँ पहले!!!

    ReplyDelete
  14. आपकी पोस्ट या आपके द्वारा कहीं भी की गई टिप्पणीयों को टिप्पणी चर्चा ब्लाग पर हमारे द्वारा उल्लेखित किया गया है या भविष्य मे किया जा सकता है।


    हमारे ब्लाग टिप्पणी चर्चा का उद्देष्य टिप्पणीयों के महत्व को उजागर करना है। और आपको शामिल करना हमारे लिये गौरव का विषय है।


    अगर आपकी पोस्ट या आपकी टिप्पणीयों को टिप्पणी चर्चा मे शामिल किया जाना आपको किसी भी वजह से पसंद नही है तो कृपया टिप्पणी के जरिये सूचित करें जिससे भविष्य मे आपकी पोस्ट और आपके द्वारा की गई टिप्पणियो को आपकी भावनानुसार शामिल नही किया जायेगा।


    शुभेच्छू
    चच्चा टिप्पू सिंह

    ReplyDelete
  15. ada ji,
    bahut bahut shukriya...mujhe correct karne k liye, mujhe bahut achha laga ki aapne meri galti ko notice kiya aur bataaya....
    once again thanks very much...
    i have corrected the same...
    great.

    ReplyDelete
  16. सुन्दर गजल....

    ReplyDelete
  17. जुनूँ-ए-इश्क ने फिर ख़ाक में मिला ही दिया
    सलवटें माथे की हमसे तो मिटाई न गई
    Behtareen Sher...

    ReplyDelete
  18. जुनूँ-ए-इश्क ने फिर ख़ाक में मिला ही दिया
    सलवटें माथे की हमसे तो मिटाई न गई
    Behtareen Sher...

    ReplyDelete
  19. बात वो दिल की ज़ुबां पे कभी लाई न गई
    चाह कर भी उन्हें ये बात बताई न गई

    नीम-बाज़ आँखें भी बरसतीं हैं मेघ लिए
    आब तो गिरता रहा पर आग बुझाई न गई

    कौन है हम, हैं कहाँ,क्यों हैं ये पूछा तुमने
    थी खबर हमको मगर तुमसे बताई न गई

    दर्द का दिल पे असर कैसा है मुश्किल गुजरा
    बात यूँ बिगड़ी के फिर बात बनाई न गई

    जुनूँ-ए-इश्क ने फिर ख़ाक में मिला ही दिया
    सलवटें माथे की हमसे तो मिटाई न गई

    हम यहाँ आधे बसे, आधे हैं अब और कहीं
    ज़िन्दगी बाँट कर भी दूरी मिटाई न गई
    [Photo]
    राह में उनकी नजर हम है बिछाए बैठे
    अब शरर ढूंढें कहाँ, रौशनी पाई न गई

    कुछ तो है बात के चेहरे पे कई सोग पड़े
    हंसती है कैसे 'अदा' रुख से रुलाई न गई
    gazab ki gazal hai ada ji
    ek ek sher bar main neesar ho raha hun
    badhai..

    ReplyDelete
  20. राह में उनकी नजर हम है बिछाए बैठे
    अब शरर ढूंढें कहाँ, रौशनी पाई न गई
    हम यहाँ आधे बसे, आधे हैं अब और कहीं
    ज़िन्दगी बाँट कर भी दूरी मिटाई न गई
    bahut khoob ,kya kahoon ?
    samajh nahi paa rahi rachna se aage badh nahi paai .

    ReplyDelete
  21. हम यहाँ आधे बसे, आधे हैं अब और कहीं
    ज़िन्दगी बाँट कर भी दूरी मिटाई न गई

    waah ji,,,,behtareen gajal...

    ReplyDelete