Sunday, October 11, 2009

एक और अहल्या ....


निस्तब्ध रात्रि की नीरवता सी पड़ी हूँ
कब आओगे ?
अरुणिमा की उज्ज्वलता सी पडी हूँ
कब आओगे ?
सघन वन की स्तब्धता सी पड़ी हूँ
कब आओगे ?
चन्द्र किरण की स्निग्धता सी पड़ी हूँ
कब आओगे ?
स्वप्न की स्वप्निलता सी पड़ी हूँ
कब आओगे ?
क्षितिज की अधीरता सी पड़ी हूँ
कब आओगे ?
सागर की गंभीरता सी पड़ी हूँ
कब आओगे ?
प्रार्थना की पवित्रता सी पड़ी हूँ
कब आओगे ?

हे राम ! तुमने एक अहल्या तो बचा लिया
एक और धरा की विवशता सी पड़ी हूँ
कब आओगे ?

26 comments:

  1. एक और धरा की विवशता सी पड़ी हूँ
    कब आओगे ?
    अहिल्या तुम किसका इंतजार कर रही हो!!
    विवशता की जंजीर तोड उठ खडी हो जाओ !!

    ReplyDelete
  2. अनेक उपमानों से अहिल्या की जड़ता को व्यक्त करती और उद्धारक का इंतजा़र करती नारी मन को खूबसूरती से प्रस्तुत करने के लिए आभार ।

    जड़ भी चेतन होने की गहन इच्छा रखता है और इसके लिए किसी उद्धारक का उसे हमेशा इंतजार रहता है ।

    इस कथा का एक आशय यह भी है ।

    ReplyDelete
  3. वाह अदा जी आपकी जितनी तरीफ़ की जाय कम है
    सुन्दर

    ReplyDelete
  4. कमाल, बेमिसाल अभिव्यक्ति!
    अदा जी, आज कल ’सच में’ पर नज़्रर-ए-करम नहीं हो रहा आपका.खैर बधाई सुन्दर काव्य यात्रा के लिये.लिखते पढते रहें!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर लिखी आज की कविता, कहते है ना भगति मै शक्ति है, आहिल्या की प्रतिक्षा पुरी हुयी.
    धन्यवाद इस सुंदर कविता के लिये

    ReplyDelete
  6. अहिल्या के इंतज़ार को कितनी ही उपमाओं और उपमानों से सजाया है आपने ।

    जड़ भी चेतन होना चाहता है और किसी उद्धारक का इंतजार उसे भी रहता है ।

    एक आशय यह भी है इस कथा का ।

    ReplyDelete
  7. प्रार्थना की पवित्रता सी पड़ी हूँ
    कब आओगे ?..kisi kisi raat meera ho jati hun..krishan ke birah geet gati hun..kabhi radha ban murli ki taan sunti hun kabhi ban ahalaya tera sparsh chahti hun puney jeene ke liye...

    ReplyDelete
  8. सभी उपमाओं का ज़वाब नहीं.
    लाज़वाब प्रार्थना. बधाई

    ReplyDelete
  9. एक और धरा की विवशता सी पड़ी हूँ
    कब आओगे ?
    bhadosa rakhiye.. koi na koi raam jaroor aayenge..

    ReplyDelete
  10. behad gambeer bhav.........bahut badhiya.

    ReplyDelete
  11. आजकल रामयण चल रही है !...सुंदर है..नि:संदेह

    ReplyDelete
  12. aapki jitni bhi taareef ki jaye kam hai............

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर लिखी आज की कविता,
    sunder kaveta "BASANTIJI"

    FROM-KAKLIA

    ReplyDelete
  14. हे राम ! तुमने एक अहिल्या तो बचा लिया
    एक और धरा की विवशता सी पड़ी हूँ
    कब आओगे ?
    सच है, कितनी ही अहिल्याएं पडी हैं किसी राम के इन्तज़ार में..बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  15. मैम, लेखनी तो कयामत बरपा रही है...और इतनी सुंदर रचना के संग बकायदा मैच करती ये तस्वीरें कहाँ से ले आती हैं आप?

    "स्वप्न की स्वप्निलता" ने मन मोह लिया है...

    ReplyDelete
  16. अदा जी
    भाव बहुत ही सुन्दर बन पड़े अहं.
    - विजय

    ReplyDelete
  17. न जाने वे कब आएगें ? बहुत सुन्दर रचना दीदी ।

    ReplyDelete
  18. anginat ahilyaon ki kanthon ko awaz deti si lagti hai ye kavita Di.
    Aapka anuj

    ReplyDelete
  19. गजब की पुकार है ।
    कायल हो गया मैं ,
    आभार ।

    ReplyDelete
  20. हे राम ....कब आओगे ...आज तो ये अहिल्या उपमा अलंकारों से सजी धजी राह तक रही है ...अब आ भी जाओ राम एक और अहिल्या का उद्धार करने ...
    हिंदी के अच्छे शब्दों को यथास्थान करीने से सजा रखने के कारण प्रविष्टि अनमोल बन गयी है ...बहुत बधाई ..!!

    ReplyDelete
  21. अरुणिमा की उज्ज्वलता सी पडी हूँ
    कब आओगे ?
    सघन वन की स्तब्धता सी पड़ी हूँ
    कब आओगे ?
    चन्द्र किरण की स्निग्धता सी पड़ी हूँ
    कब आओगे ?

    areeeeee.....

    aDaDi....

    ..is patthar se hue samaj , is patthar si hu samvadena....aur is 'ahilya' roopi khushiyon ka uddhar karne asha karta hoon koi Raam jaldi hib avtarit hoonge...


    behterin kavita !!

    ReplyDelete
  22. सभी लोगों के तारीफ कर लेने के बाद अब मैं और क्या तारीफ करूँ?

    ReplyDelete
  23. बेनामी जी !! और नो कमेंट्स ???
    साथ होते हैं क्या ???

    ReplyDelete
  24. बहुत अच्छे रूपक इस्तेमाल किये है आपने । कविता मे यह बहुत मायने रखता है ।

    ReplyDelete
  25. मार्मिक और सीधा संवाद करती जोरदार रचना !
    राम कब लौटेगें ? स्वर्ग धरा पर आया भी है कभी ?
    आकाश में कुसुम खिला भी है कभी ?
    फिर भी मन तू इंतज़ार कर शायद !

    ReplyDelete