Tuesday, October 13, 2009

हिंदुत्व...तेरी कहानी...


बहुत पुरानी बात है
पृथ्वी के पूर्वी कोने में
एक अति तेजस्वी बालक ने
जन्म लिया
ओजपूर्ण था मुखमंडल उसका
सभ्यता की पहली धोती
उसने ही थी पहनी
ज्ञान-विज्ञान से बना
तन उसका
कीर्ति पताका लहराई
ऊंचे गगन में
यशगान की धुन फ़ैल गयी
संपूर्ण भुवन में

धीरे धीरे वो श्रेष्ठ बालक
अति सुन्दर युवक बन गया
उसकी ज्ञान भरी बातें
लोग गाने लगे
इस कोने से उस कोने तक
पहुँचाने लगे और
धीरे-धीरे अपनी बातें भी
मिलाने लगे

हजारों वर्ष
हो गयी उम्र उसकी
बोल नहीं सकता वह
खो दी उसने अपनी वाणी
आज भी लोग
उसके नाम के गीत गा रहे हैं
अब उसकी नहीं
सिर्फ
अपनी सुना रहे हैं
नाम लेले कर उसका
थोथा ज्ञान फैला रहे हैं
जो बात कभी नहीं कही
उसके नाम उद्धरित करते जा रहे हैं
वह मूक चुप-चाप सब कुछ
देख रहा है
सोचता है-
क्या मैंने कहा था ?
और ये क्या कह रहा है ?

इस आस से कि शायद
उसकी वाणी लौट आये
फिर वो इन मूर्खों
को समझाए
जीए जा रहा है
लांछन उन व्याख्याओं का
जो उसने कभी नहीं दिया
अपने सर लिए जा रहा है

सच्चाई के पत्थरों से
जो सीधी सरल सी राह
उसने बनायीं थी
जिसमें संस्कारों के फूल और
सहिष्णुता कि छाया, छाई थी
उस मार्ग से कई वक्र रास्ते
लोगों ने लिए हैं निकाल
अंधविश्वास,छुआ-छूत
आदि राहों का
बिछा दिया अकाट्य जाल
जिसकी परिधि
ऐसी फैली कि
फैलती ही गयी
सत्य मार्ग धूल-धूसरित होकर
इस चक्रव्यूह में लुप्त हुआ
संस्कारों के फूल मुरझाये
वेद-पुराण सब गुप्त हुआ

सच ही तो है
एक झूठ सौ बार कहो तो
सबने सच मानी है है
हिन्दुत्व !
तेरी भी यही कहानी है

31 comments:

  1. सत्य मार्ग धूल-धूसरित होकर
    इस चक्रव्यूह में लुप्त हुआ
    संस्कारों के फूल मुरझाये
    वेद-पुराण सब गुप्त हुआ
    ब्लोगजगत के लिये भी समसामयिक रचना. अत्यंत गूढ मर्म के साथ. आपकी सूक्ष्म दृष्टि को नमन

    ReplyDelete
  2. अद्भुत रचना..खूबसूरत शब्दों और भाव से परिपूर्ण एक बेहतरीन कविता प्रस्तुत किया है आपने..
    बधाई!!!

    ReplyDelete
  3. sunder likhaa hai ada ji..

    ReplyDelete
  4. कहाँ कहँ से जोड़ निकालती हैं आप,,,साधुवाद!!

    ReplyDelete
  5. हिंदुत्व के मुद्दे पर इतना बेबाक लेखन ...आपके साहस की दाद देनी होगी ...समयानुसार एक बहुत ही प्रेरक प्रविष्टी ....दिनों दिन हम तो आपके मुरीद होते जा रहे हैं ...!!

    ReplyDelete
  6. हिंदुत्व का प्रभावपूर्ण परिचय !

    ReplyDelete
  7. आज एक बैठक में आपकी कई रचनाएँ पढ़ डाली (कोई उपकार नहीं किया -वे मेरा /या मैं उनका परिशीलन डिजर्व करती हैं/करता हूँ !) मिथकीय चरित्रों को लेकर आपका काव्य प्रणयन आपकी मौलिकता है -और घिसे पिटे /रूढ़ प्रस्तुतियों से अलग हट कर है !
    इस मौलिकता और ताजगी को बनाये रखिये ! आपने इस तेवर को छोडा तो आपकी मौलिकता गयी -आपका होना गया !

    ReplyDelete
  8. बेजोड़ रचना है !!
    सच बयाँ करती हुई

    ReplyDelete
  9. अति सुन्दर अभिव्यक्ति!!!

    हिन्दुत्व पर अन्यों की अपेक्षा हिन्दुओं ने ही अधिक वार किया है। स्वार्थवश ब्राह्मणों ने वर्ण व्यवस्था को जाति प्रथा में बदल दिया गया। हमारी शिक्षा नीति ने हमें अपने ही संस्कृति और संस्कारों से दूर कर दिया। अब आज की धर्मनिर्पेक्षिता(?) हिन्दुत्व के ताबूत में आखरी कील ठोंक देगी।

    हमको तो अपनों ने मारा गैरों में कहाँ दम था
    मेरी कश्ती जहाँ डूबी पानी कम था

    ReplyDelete
  10. बहुत ही उम्दा रचना लगी। आपकी इस रचना ने सच्चाई को उकेर कर रखा दिया। बेहद खूबसूरत

    ReplyDelete
  11. bahut hi adbhut aur achchi rachna........... khoobsoorat shabdon ke saath........

    ReplyDelete
  12. हिन्दुत्व के पतन की बहुत ही सटीक व्याख्या

    ReplyDelete
  13. satyavachan yahi ho raha hai aaj...satik rachana

    ReplyDelete
  14. अदा जी यह रचना आपके द्बारा जो पेश किया गया है अपने आप में एक और अनूठी है धन्यवाद आपको !

    ReplyDelete
  15. सत्य मार्ग धूल-धूसरित होकर
    इस चक्रव्यूह में लुप्त हुआ
    संस्कारों के फूल मुरझाये
    वेद-पुराण सब गुप्त हुआ
    बहुत सही लिखा आप ने, सब कुछ भुल चुके है हमे पता नही हमारी असली जड भी केसी थी, हमारे भगवान ने असल मे हमे जो कहा वो कोन सुन रहा है.... वाह अदा जी धन्यवाद इस सुंदर कविता के लिये

    ReplyDelete
  16. इस कविता की अंतिम दो पंक्तियाँ यदि निकाल दी जायें तो यह कविता अनेक अर्थ देने लगेगी । इसका फलक बहुआयामी है ।

    ReplyDelete
  17. सच ही कहा आपने और दुश्यन्त कुमार ने भी,

    ’हमारे पांव के नीचे कोई ज़मीन नही,
    मज़ा ये के फ़िर भी हमें यकीन नहीं.’

    ReplyDelete
  18. इस आस से कि शायद
    उसकी वाणी लौट आये
    फिर वो इन मूर्खों
    को समझाए
    जीए जा रहा है
    लांछन उन व्याख्याओं का
    जो उसने कभी नहीं दिया
    अपने सर लिए जा रहा है

    बहुत सुंदर !!!शरद कोकास की बात से सहमत हूँ, अंतिम पंक्तियों तक जिज्ञासा कायम रहती है कि आखिर यह सब किस के बारे में कहा जा रहा है । साधुवाद !!!

    ReplyDelete
  19. adaa di.. hamesha ki tarah aapki kavita lajawab... par is baar usse jyada bhi kuch hai.. ye kavita pahunchni chahiye un logon tak jo khud ko hindutva ka thekedaar mante hain aur itni tak samajh nahi hai ki hindutva aur Sanatan dharm hai kis chidiya ka naam..
    bahut khoob.. ye kavita print media mein bhi jarur aayegi.. mera yakeen hai..

    ReplyDelete
  20. ai hindutwa to ham bhool hi chuke hain ..pata nahi kya dhoye ja rahe hain bas..

    ReplyDelete
  21. उसका मूक हो जाना ही अच्छा था वरना उसे सुनने वाले अभी कोई नहीं थे !!आपका वीडियो देखा ऐसा हो नहीं सकता बहुत अछि कविता और गला भी आपका कमाल है !!

    ReplyDelete
  22. शब्दों और भाव से परिपूर्ण बेहतरीन कविता ....

    ReplyDelete
  23. Ek aur bahut hi shasakt rachna.
    aapki lekhni ko pranaam.

    ReplyDelete
  24. Khoob soorat jama pahne alfaaz...jo ek sachhayee jatate hain..koyi bhee 'ism' anat kaal tak tik nahee sakta...it has to be a way of life..thats what 'hindutv' is...thats all..

    ReplyDelete
  25. sunder likhaa hai ji..

    yadi parimal ji ki aur maadhuri ji ki bhi raay is kavitaa pe hoti..
    to hame bahut achchhaa lagtaa...

    ReplyDelete
  26. Manu ji,
    Saadar Pranaam,
    mere dono mitron ko main aapka sandesh de dungi..
    aapka dhanaywaad.

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर रचना । आभार

    ढेर सारी शुभकामनायें.

    SANJAY KUMAR
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  28. bahut hi adbhut aur achchi rachna........... khoobsoorat shabdon ke saath........

    ReplyDelete
  29. हिन्दुत्व के पतन की बहुत ही सही व्याख्या की है अदा जी. बेहतरीन. शायद आपकी कविता से सोने वाले जागें...

    ReplyDelete
  30. सत्य को सुन्दर शब्दों मैं पिरोया है |

    दीदी अवधिया जी की तरह ही मैं ये मानता हूँ की हिन्दु का नुकसान अन्यों की अपेक्षा हिन्दुओं ने ही अधिक किया है।... और ये क्रम अभी तक जारी है ....

    ReplyDelete
  31. सुन्दर कविता ,यह सब इस लिए होरहा है की हम अंग्रेजों का लिखा पढ़ते,मानते हैं व उनके पदचिन्हों पर चलते हैं , अपने शास्त्रों को नहीं पढ़ते , मानते ; खाते पीते सोते अंग्रेजी में हैं |

    ReplyDelete