Wednesday, October 28, 2009

लिखना हमारे होने का अहसास दिलाता है....


ये किसके लिए लिखती हो ?
ये किसके लिए गाती हो ?
तुमने ऐसी टिपण्णी क्यूँ दी ?
उसने ऐसी टिपण्णी क्यूँ दी ?
इतना समय क्यूँ बिताती हो ब्लॉग पर ?
इससे क्या मिलने वाला है ?
ये कौन है ? वो कौन है ?
ऐसे अनगिनत सवालों के बीच उलझती है आज की महिला ब्लाग्गर ....हर दिन ,
एक पोस्ट लिखना यूँ समझिये कि हल्दीघाटी का मैदान हो जाता है ....
आप कहेंगे क्या ज़रुरत है फिर लिखने कि ?? क्यूँ लिखती हैं आप ?
सम्हालिए न अपना घर और अपने बच्चे.....
लेकिन हम क्यूँ न लिखें !!
हम भी पढ़े-लिखे हैं...हम भी सोच सकते हैं....इतनी पाबंदियों के बावजूद सोच सकते हैं....उसे कागज़ पर उतार भी सकते हैं ...हमें भी आत्मसंतुष्टि चहिये...अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता चाहिए....इसलिए हम लिखते हैं ....नींद में भी लिखते हैं.....लिखना हमारे होने का अहसास दिलाता है....
शायद कुछ कमियाँ रहती होंगी हमारे लेखन में लेकिन जब भी आप किसी भी लेख, कविता या संस्मरण को देखें तो एक बार यह ज़रूर सोचें की पुरुषों से कई गुना ज्यादा जद्दो-जहद के बाद वो लिखी गयी है...
हम यह नहीं कह रहे कि आपकी सहानुभूति चाहिए...बिलकुल नहीं सहानुभूति की कोई अपेक्षा नहीं है और सहानुभूति जैसे कमजोर शब्द से दूर ही रहना चाहते हैं हम...... बस हम इतना ही चाहते हैं कि जब भी आप किसी भी महिला ब्लाग पर जाएँ तो एक नज़र अपनी, माँ, बहन , पत्नी, चाची, नानी, बेटी पर डालें उनके जीवन को देखें और फिर सोचें कि इस रचना को लिखने के लिए लेखिका ने कैसे समय निकाला होगा, ऑफिस की झिकझिक, रसोई के ताम-झाम, पति कि फरमाइश, बच्चों कि चिल्ल-पों के बीच से....कितनी मुश्किल से यह कृति मुकम्मल हो पायी होगी......बस इतना ही निवेदन है....
और आपकी एक टिपण्णी किसी 'अमृता' किसी 'शिवानी' की पहली सीढ़ी हो सकती है....या फ़िर आखरी...!!




चलते चलते ये गीत भी सुन ही लीजिये...,,जीत ही लेंगे बाज़ी हम तुम खेल अधूरा छूटे न...

35 comments:

  1. Sochne ko vivash kar diya aapne Di..

    Jai Hind

    ReplyDelete
  2. एकदम सही लिखा है सचमुच महिला लेखिका या महिला ब्लॉगर सब को यही जद्दो-जहद करनी पडती है ।
    और सिर्फ आपकी उम्र में ही नही हमारी तरह बडे उम्र वालों का भी यही हाल है । दो घंटे हो गये हैं कम्यूटर पे अब कुछ और भी करो यह सुनना पडता है ।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर शब्दों में प्रस्तुत किया है आपने इस लिखने की ललक को ।

    ReplyDelete
  4. एक टिपण्णी किसी 'अमृता' किसी 'शिवानी' की पहली सीढ़ी हो सकती है....या फ़िर आखरी...!!'
    वाकई आप ठीक कहती है. और फिर जिन्होने कलम उठाई है उसकी ताकत तो यही से है.

    ReplyDelete
  5. एक टिपण्णी किसी 'अमृता' किसी 'शिवानी' की पहली सीढ़ी हो सकती है....

    वैसे जद्दो जहद यहाँ भी कम नहीं, और हम भी ’प्रेम चन्द’ वाली पहली सीढ़ी के जुगाड़ में मूँह लटकाये खाना बनाने जा रहे हैं अब!!!


    -खैर आपकी कही मानते टिप्पणी कर देते हैं. :)

    शुभकामनाएँ भी.

    ReplyDelete
  6. di.. khamosh kar diya aapne.. speechless..
    aap har baar aisa karti hain. kuch aisa lekar aati hain ki ham sab achambhit rah jaate hain.. samasya to kabhi gambhir najar aati hai.. jarurat hai parivartan ki...

    Jai Hind...

    ReplyDelete
  7. इस आलेख से कौन महिला ब्लोगर सहमत नहीं होगी ...घर घर की कहानी है ये ..सुबह सुबह तेरी ये पोस्ट पतिदेव को पढ़ कर सुनाई ...हंसने लगे की ये मुझे क्यों सुनाया जा रहा है ...
    कमोबोश हर महिला को ऐसी जद्दोजहद का सामना करना ही पड़ता है ...मगर जिंदगी है तो मुश्किलें हैं ...मुश्किलें है तो अदा है ना...शेयर करने के लिए ...!!

    ReplyDelete
  8. खुबसुरत भाव...

    ReplyDelete
  9. बहुत ज्यादा सोचने को मजबूर करती पोस्ट....
    आपकी ज्यादातर बातों से पूरी तरह सहमत हूँ.....

    इतना नहीं तो इससे थोडा कमती बढती पुरुषों के लिएभी समस्याएं हैं...आपने सिर्फ महिला ब्लोगर्स की बात की..ये सही नहीं लगा..
    हाँ, थोडा फर्क होता तो होता ही है..
    जैसे के आप के ब्लॉग पर मोडिरेशन है.... फिर भी हम पढ़ते हैं और कमेन्ट देते हैं....कारण....!!
    सिर्फ इतना है के एक शालीन महिला का ब्लॉग है....
    अगर यही पाबंदी किसी पुरुष के ब्लॉग पर हो हमारे बस का नहीं है के हम रोज कमेन्ट दे और छपने या डिलीट होने का इंतज़ार करें..
    और भी कुछ है जो महिला ब्लोगिंग को पुरुष ब्लोगिंग से थोडा अलग करता है.....


    मगर फुर्सत या लेखन....
    इन दोनों मामलों में ज़रा सा भी फर्क नहीं है..रत्ती भर भी फर्क नहीं है.महिला या पुरुष होने में....
    दोनों में से कोई भी कितना भी व्यस्त या फुर्सत में हो सकता है
    दोनों में से कोई भी कितना भी बेहतर या बकवास लेखक हो सकता है

    कमेन्ट ज्यादा बड़ा हो गया...माफ़ी कहूंगा ...
    यदि डिलीट करना हो तो पहले देख लीजियेगा के कितनी मेहनत से लिखा है..
    और कुछ ज्यादा गलत तो नहीं लिखा..
    :)
    :)
    :)
    :)

    ReplyDelete
  10. "ये किसके लिए लिखती हो ?
    ये किसके लिए गाती हो ?
    तुमने ऐसी टिपण्णी क्यूँ दी ?
    उसने ऐसी टिपण्णी क्यूँ दी ?
    इतना समय क्यूँ बिताती हो ब्लॉग पर ?
    इससे क्या मिलने वाला है ?
    ये कौन है ? वो कौन है ?"


    ऐसे प्रश्न तो कोई विकृत मस्तिष्क वाला ही कर सकता है। पागल के अनर्गल प्रलाप पर क्या ध्यान देना?

    ReplyDelete
  11. अदा आप कमाल कि बात करती हैं , मन कि ही कह देती हैं ..आपसे संपर्क कैसे हों . हम आपको मित्र क्यूँ न बना लें .. बोली बानी एक ही है हमारी .. देर काहे .. हमारी कविता पर टिपण्णी का शुक्रिया .. फिर कैसे मुलाक़ात हों बताईये .. आपका कोई इमेल ?

    ReplyDelete
  12. यदि कोई महिला ब्‍लाग पर अपना समय दे रही है तो समझें कि उसमें अथाह जी‍जीविषा है। सारे संघर्षों के बाद भी वह लिख रही है। जहाँ पुरुष को लिखने के लिए सुविधा चाहिए वहीं महिलाएं दुविधा में लिखती हैं। बहुत ही अच्‍छी पोस्‍ट। बधाई।

    ReplyDelete
  13. ये तो सार्वभौमिक समस्या है, महिलाओं की ही बात क्यों भई!? :-)

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  14. यहाँ भी आपने अपनी सुन्दर लेखनी के बाण छोड़ ही दिए !

    वैसे बुरा न माने तो एक बात कहू, जो पेंटिंग लेख के साथ लगाईं है उसमे प्रतिभा पाटिल नजर आ रही है आप :)

    ReplyDelete
  15. आपकी बात भी बड़ी सटीक थी और गीत भी....!

    ReplyDelete
  16. बहुत हीं सशक्त लेखन दीदी !!!!

    ReplyDelete
  17. लिखना खुद को साबित करना है -अपने वजूद को प्रमाणित करते रहना है ! अभिव्यक्ति के कई आयाम हैं ,उसमे लिखना भी है ! सब लिख नहीं सकते और कुछ लिखे बिना रह नहीं सकते .हमारी प्रजाति ऐसे ही बाद वालों की है -हम लिखते हैं तो हम मानव समुदाय से जुड़ते हैं -मनुष्य साथ रहने जीने खाने और अनुभूतियों को बाटने वाली स्पीशीज है -आज वह धरा को जीत कर सौर मंडल को माप लेने को उद्यत है -यह बिना साझे प्रयास के संभव नहीं हुआ -लिखना हमारे साझे अस्तित्व के लिए सीमेंट बन जाता है -इस लिखने के कारणों पर एक पूरा काव्य लिखा जा सकता है अदा जी !

    ReplyDelete
  18. लिखने की ललक को आपने बहुत अच्छे से लिखा है
    जद्दोजहद तो बहुत है !!

    ReplyDelete
  19. क्या कमाल बात कही है आपने. सौ प्रतिशत सच. हर महिला ब्लॉगर की बात.

    ReplyDelete
  20. क्या कमाल बात कही है आपने. सौ प्रतिशत सच. हर महिला ब्लॉगर की बात

    ReplyDelete
  21. कलम तो डूबती साँसों को लय देती है......कोई कैसे न जिए

    ReplyDelete
  22. क्या बता है अदा जी ! हर महिला लेखक के दिल की बात कह दी आपने बहुत शुक्रिया.

    ReplyDelete
  23. अब मै क्या कहू ?आपने तो मेरे अंतर मन कि बात ही कह दी और सब सखिया भी इससे सहमत है क्यों नहो? आपबीती जो है |
    पता नही अदाजी आपको सबके मन कि बात इतनी जल्दी कैसे पता चल जाती है? वो भी इतने दूर रहकर |
    बहुत अच्छी पोस्ट
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  24. Bahut bahut bahut hi sahi......pata nahi kitne ke dil kee aapne apne shabdon me yahan kah di...aabhaar.

    ReplyDelete
  25. सार्थक लक्ष्‍य की ओर बढते कदम को हमारा सलाम.

    ReplyDelete
  26. क्या सचमुच हर महिला ब्लौगर{या लेखिका} ऐसे प्रश्नों का सामना करती हैं...???

    मैं नहीं मानता।

    यहाँ मैं भी मनु जी से सहमत हूँ। अब यदि कुछ महिलाओं से समक्ष ऐसे प्रश्न उठते हैं तो यकीन मानिये कुछ पुरूषों के लिये भी इसी किस्म के प्रश्न उठते हैं।

    पुरूषों से कई गुणा जद्दो-जहद...? सोचा कि बहस को आगे बढ़ाऊं, फिर चुप रह जाता हूँ। मार थोड़ी ना खानी है मुझे... :-)

    अब हमारी भी जद्दोजहद देखिये, भारत कितने दिनों बाद तो इतना अच्छा खेल रहा है। अभी-अभी रिकी पौंटिंग आउट हुआ है और हम वो छोड़ कर आपकी इस अप्रतिम पोस्ट पर टिप्पिया रहे हैं- कोई और अमृता, कोई और शिवानी, कोई और महादेवी और कोई और "स्वप्न मंजुषा" को देखने की चाह लिये।

    ReplyDelete
  27. ज्‍यादातर महिलाओं को इन सवालों से जूझना होता है लेकिन यह समस्‍या पुरुषों की भी है। लेकिन इनसे पार जाकर लिखते रहना ही तो सचमुच अपने होने का अहसास है न।

    ReplyDelete
  28. ये किसके लिए लिखती हो ?
    ये किसके लिए गाती हो ?
    तुमने ऐसी टिपण्णी क्यूँ दी ?
    उसने ऐसी टिपण्णी क्यूँ दी ?
    इतना समय क्यूँ बिताती हो ब्लॉग पर ?
    इससे क्या मिलने वाला है ?
    ये कौन है ? वो कौन है ?

    yeh kaun kahta hai aisa? abki baar koi aisa kahe to mujhe bataiyega....

    ReplyDelete
  29. अदा जी
    मेरा मानना तो ये है कि जब लिखने को ..सब चुक जाता है ..और लिखने की अनिवार्यता सी लगती है..तब कुछ बेहतर विकल्पों के रहते हुए भी कई...इसी को चुनते हैं..मगर सच तो यही कहा आपने कि

    लिखना हमारे होने का अहसास दिलाता है...औरों को भी ....और खुद हमें भी...

    इसी एहसास के लिये तो जीते मरते हैं..

    ReplyDelete
  30. ... कोई टोके तो कहिए कि:

    जाने कितने वजूदों को मैं साँस दे रही हूँ/
    जाने कितने पुरुषों को चुप हौले संस्कार दे रही हूँ/मै इस की बोर्ड से सकार दे रही हूँ।...

    ReplyDelete
  31. बिलकुल अदा जी आपने हमारे दिल की बात कह दी। कितनी मेहनत करनी पडती है धन्य्वाद कोई तो है हमारा ख्याल रखने वला धन्यवाद्

    ReplyDelete
  32. कुछ तो ये पोस्ट ज्यादा ही विचारणीय है...
    कुछ सुबह जल्दी में आधा ही कमेन्ट दिया था...

    जहां तक कमेन्ट की बात है....
    हमारा मानना है के पोस्ट से कम महत्त्व नहीं रखता है कमेन्ट,,,
    ५००० कहानियां/कवितायें/संस्मरण पढ़ के भी जिस को नहीं जाना जा सकता
    उसे उसके ५० कमेंट्स पढ़कर जाना जा सकता है....
    जितना हम यहाँ लिख चुके हैं..और शायद और भी लिखें...उस से भी कम मेहनत से हम अपने ब्लॉग पर पोस्ट डाल सकते थे....
    कुछ दिन से डाली भी नहीं है....
    पर हमसे कही जाकर ये नहीं होता के मेरे ब्लॉग पे इसे पढें.... कमेन्ट में अक्सर हम इस तरह का विज्ञापन पसंद नहीं करते....

    कमेन्ट को कमेन्ट की तरह समझते हैं..
    भले ही वो रचना पे हो या उस से हटकर हो....
    दोनों ही हालत में कमेन्ट का महत्त्व बराबर है...

    वो बात और के अब महत्त्व संख्या का रह गया है...

    मुझे उस दिन बड़ा अजीब सा लगा था..जब हिंद-युग्म पे एक गजल पर ९० से अधिक कमेन्ट आने पर
    बधाइयों के फोन आ रहे थे ... हमारी उलझन क्या थी और लोग कमेंट्स को गिन कर बस हमें बधाई दे रहे थे..
    जबकि सब लोग जानते थे,,,

    ReplyDelete
  33. आपकी बात से सहमत हूं.

    ये बात तो महिला और पुरुष ब्लोगर्स दोनों के लिये लागू होती है, कि अपने अपने काम से छूट कर ये सब करना पडताभै. मगर आज़ादी की बात में महिलाओं को ज़्यादा तकलीफ़ होती है, और परेशानी का सामना करना पडता है.

    गाना अछा गाया. गाते रहियेगा....

    ReplyDelete
  34. bahut sunder tareeke se aapane sacchaai se sabhee ko ujagar kar diya . Isake liye bahut bahut badhai.

    ReplyDelete
  35. aDaDi,
    Shivaniyo, Mahadevi vermaoon aur amritaoon ke dil ka dard to ho gaya...
    .aur wakai kaafi prabhavshali bhi tha.

    But !!
    Bhavishya ke Gulzaaron
    aur Premchandro ki mazbooriyon ka kya?
    :)
    HaHa....

    Maine ek she'r padha tha kabhi....]
    is sher main tum ko kavita ya kriti maanein jo badi mushkil se milti hai....
    Gulzar ko bhi aur Amrita ko bhi...


    Ye duniya bhar ke jhagde, Ghar ke kisse,Kaam ki baatein,
    Bala har ek tal jaaiye agar TUM milne aa jao.

    ReplyDelete