Sunday, October 4, 2009

सनम खड़े मिले


गैरों का वो हुजूम औ सनम खड़े मिले
माणिक कोई अंगूठी में जैसे जड़े मिले

निकल पड़े थे हम तो यूँ ही आज सरे-आम
नुक्कड़ पर ही तो वो मेरे मकसद खड़े मिले

कितना तो मर गए हैं जी हम एक ही दिन में
न जाने फिर भी कैसे हम सीधे खड़े मिले

ये आपने बताया तो हम जान पाए हैं
आँखों में आपके मेरे सपने पड़े मिले

कहते हैं मेरा ज़िक्र किसी और से न कर
रकीबों से कहीं कोई रक़ीब जुड़े मिले

कश्ती भी पुरानी है ,पुराने से हैं ये पाल
डर थामे हुए हाथ है संग हम खड़े मिले

23 comments:

  1. waah..
    pahlaa comment hamaaraa....!!!!!!!!!!

    :)
    ghazal ki baat baad mein ji..
    :)

    ReplyDelete
  2. गैरों का वो हुजूम औ सनम खड़े मिले
    माणिक कोई अंगूठी में जैसे जड़े मिले
    बहुत खूब है आपके यह कहने का अन्दाज़.

    ReplyDelete
  3. ये आपने बताया तो हम जान पाए हैं
    आँखों में आपके मेरे सपने पड़े मिले

    Bahut khoob.

    ReplyDelete
  4. कहते हैं मेरा ज़िक्र किसी और से न कर
    क्या जाने किस रक़ीब से रक़ीब जुड़े मिले
    waah gazab

    ReplyDelete
  5. कितना तो मर गए आज एक ही दिन में
    जाने फिर भी कैसे हम सीधे खड़े मिले

    ये आपने बताया तो हम जान पाए हैं
    आँखों में आपके मेरे सपने पड़े मिले

    सुंदर ... अति सुंदर,
    एक-एक शे'र लाजवाब !!!

    ReplyDelete
  6. जितनी बढ़िया रचना उतनी ही खूबसूरत अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  7. Waah! Kya baat, aur saath tasveer...din-b-din aapkee qayal bantee hee ja rahee hun!

    ReplyDelete
  8. ये आपने बताया तो हम जान पाए हैं
    आँखों में आपके मेरे सपने पड़े मिले

    khoobsurat sher..

    ReplyDelete
  9. ada ji, kya khoob likhti hain aap. main us rachna ki baat kar raha hun, jo aapne mere blog MANODASHA par bheji hai. aksar meri is vishay par bahas ho jati hai ki jab ram ne sita ko ghar se nikal diya tha to wo maryadapurshottam kaise hue? khair, jis baat ka jikr main apni agli post main karne wala tha, wo apne bahut hi marmik tarike se kavita ke madhyam se kah di... shukriya. agar aitraaz na ho to aap mujhe meri id raviirawat@gmail.com par apni email id bhej dijiye.

    Ravi.

    ReplyDelete
  10. निकल पड़े थे हम तो यूँ ही आज सरे-आम
    नुक्कड़ पर ही तो वो मेरे मकसद खड़े मिले....

    behterin sher !!

    @main ji
    wah !! last comment hamara !! ghazal ki baat baad main bhi nahi ji nahi to second last ho jiayega !!

    @aDaDi ek link bhejah hai is comment main kahin chupa hai...
    ...padh lena !! Mera Gaon (Ranikhet) ! Mera desh ( hindustaan !!naam to suna hi hoga?).
    hahahaha....

    ReplyDelete
  11. ये आपने बताया तो हम जान पाए हैं
    आँखों में आपके मेरे सपने पड़े मिले

    कहते हैं मेरा ज़िक्र किसी और से न कर
    रकीबों से कहीं कोई रक़ीब जुड़े मिले ..


    haan! kahin na kahin koi raqeeb to zaroor juda milega.....


    waise ! bheed mein main apna chehra talaash raha tha....


    hahahahahaha

    ReplyDelete
  12. कहते हैं मेरा ज़िक्र किसी और से न कर
    रकीबों से कहीं कोई रक़ीब जुड़े मिले .
    laazwaab ,kya baat kahi hai aapne .umda.

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर रचना और बहुत हीं सुन्दर भाव दीदी । आभार

    ReplyDelete
  14. कितना तो मर गए हैं जी हम एक ही दिन में
    न जाने फिर भी कैसे हम सीधे खड़े मिले

    सही कहा आपने... मेरी भी सुन लें..
    "मर मर कर भी ज़िंदा हूँ,
    तेरे साथ की उम्मीद में,
    हाथ बढ़ा रखा है अब तक,
    तेरे हाथ की उम्मीद में..."


    ये आपने बताया तो हम जान पाए हैं
    आँखों में आपके मेरे सपने पड़े मिले

    कोई कोई तो बता भी नही पाता..
    "बताना भी चाहो तो इतनी आसानी से,
    बात इन होठों तक आ नही पाती..
    उसी का ख़याल हर पल दिल में मेरे,
    वो तस्वीर आँखों से मेरी जा नही पाती..."

    ReplyDelete
  15. ये आपने बताया तो हम जान पाए हैं
    आँखों में आपके मेरे सपने पड़े मिले

    कहते हैं मेरा ज़िक्र किसी और से न कर
    रकीबों से कहीं कोई रक़ीब जुड़े मिले ..

    रफीकों से रकीब अच्छे जो जलकर नाम लेते हैं ..
    गुलों से खार बेहतर हैं जो दामन थाम लेते हैं ..

    क्या कहती हो अदा ..!!

    ReplyDelete
  16. निकल पड़े थे हम तो यूँ ही आज सरे-आम
    नुक्कड़ पर ही तो वो मेरे मकसद खड़े मिले
    वाह वाह वाह अदा जी, एक और नगीना । अब हम इस ख़ूबसूरत ग़ज़ल को क्या कहें ? दरिया-ए-नूर। तस्वीरों से रब्त रखते ये अश’आर होशरुबा हैं।

    ReplyDelete
  17. गैरों का वो हुजूम औ सनम खड़े मिले
    माणिक कोई अंगूठी में जैसे जड़े मिले
    बहुत खूब है आपके यह कहने का अन्दाज़.

    ReplyDelete
  18. निकल पड़े थे हम तो यूँ ही आज सरे-आम
    नुक्कड़ पर ही तो वो मेरे मकसद खड़े मिले
    Waah !!
    behtareen sher !!

    ReplyDelete
  19. sachaa to thaa yahi
    k na jaaooN abhi udhar ,
    lekin jb a gaya to
    nageene jarhe mile..

    waah-wa !!
    achhee rachnaa
    kamaaaaaal !!!

    ReplyDelete
  20. डर थामे हुए हाथ है संग हम खड़े मिले । यह सच है भय भी शक्ति देता है ।

    ReplyDelete
  21. hi .. ada...
    just wow..
    such a nice poem..

    aakhiri ki panktiyan to vakai lajawab hai ..

    kuch ek lines mujhe samjh nahi aayi.. :(

    but poem me jo flow hai.. wo kahi bhi rukne nahi deta... :)

    keep writing.. :)

    ReplyDelete