Saturday, October 3, 2009

शैतान का आविष्कार



इनदिनों दूध की बात कर रही हूँ मैं तो सोचा क्यूँ न कुछ जानकारी सिंथेटिक दूध पर भी दे दूँ...
रासायनिक दूध, जिसे आम तौर पर सिंथेटिक दूध कहा जाता है , शैतान का आविष्कार है जिसे कुछ दूध माफिया दिमाग की उपज कहा सकता जा है , रिपोर्ट है कि इस तरह के नकली और घातक दूध का उत्पादन बड़ी मात्रा में किया जाता है राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, कर्नाटक के बाजारों में बड़ी मात्र में यह उबलब्ध है और उडीसा पंजाब और हरियाणा में भी अब देखने को मिल रहा है.
इसे बनाने में जो रसायन प्रयोग में कहा लाया जाता है वो है , यूरिया कास्टिक सोडा, रिफाइंड तेल (सस्ता खाना पकाने के तेल) और आमतौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला डिटर्जेंट पावडर, जिसे एक निश्चित मात्रा में मिला कर , इन सबको प्राकृतिक दूध के साथ मिला कर बेचा जाता है

सिंथेटिक दूध बनाने में तेल और डिटर्जेंट मिला कर सफ़ेद रंग और झागदार दूध के लक्षण दिखाए जाते हैं ,
परिष्कृत तेल दुग्ध वसा के लिए एक विकल्प के रूप में प्रयोग किया जाता है.
कास्टिक सोडा रसायन का प्रयोग प्राकृतिक दूध की अम्लता को कम करने के लिए किया जाता है जिससे कि परिवहन के दौरान प्राकृतिक दूध अम्ल से फट न जाए
यूरिया / चीनी का प्रयोग ठोस वसा (SNF) के लिए किया जाता है जो प्राकृतिक दूध में मौजूद होता हैं,

सिंथेटिक दूध की तैयारी की कीमत प्रति लीटर की दर 3 रुपये से भी कम है और इसे लेकर 10 रुपये और 15 रुपए प्रति लीटर के बीच मूल्य पर उपभोक्ताओं को बेच दिया जाता है प्राकृतिक दूध के साथ मिला कर..
रासायनिक या सिंथेटिक दूध का भौतिक स्वरुप, प्राकृतिक दूध के जैसा दिखता है, लेकिन यह पूरी तरह से है
स्वाद में भिन्न है इसका कोई भी पोषक मूल्य नहीं है, यह स्वास्थ्य के लिए खतरा और बहुत बहुत हानिकारक है
रासायनिक या सिंथेटिक दूध के उपयोग से कैंसर होने की संभावना बहुत ज्यादा है और कैसर पर प्रभाव देखा गया है
यूरिया और कास्टिक सोडा दिल, जिगर और गुर्दे के लिए बहुत हानिकारक हैं.
यूरिया से गुर्दे ख़राब होने कि सम्भावना बहुत अधिक है , कास्टिक सोडा, में जो सोडियम होता है, उच्च रक्तचाप और दिल की बीमारियों से पीड़ित लोगों के लिए एक धीमा जहर के रूप में कार्य करता है. लेकिन सबसे ज्यादा खतरनाक होता है या गर्भवती महिलाओं के लिए....

आइये देखते हैं अगर आपको सिंथेटिक दूध मिल जाए तो आप कैसे पहचानेंगे.....


(बड़ा करने के लिए टेबल पर क्लीक करें )

13 comments:

  1. hamare lucknow mein bahut bikta hai..... ek baar saare gwaale mil ke hadtaal kar diye they..... ki ispar se rok hatao.......... bataiye ab? hamare yahan Mayawati sakar mein Mayawati khud banwati hai..... synthetic doodh..... PARAG DAIRY mein....

    ReplyDelete
  2. इन शैतानो ने तो दवा की जगह ज़हर रख दिया है. ये मरे हुए आत्मा के लोग है.
    जानकारी अच्छी दी है आपने

    ReplyDelete
  3. Ek aur 'ada' is adakee..behad sahee likha hai...ek aur baat hamesha dhyan me rakhni chahiye, khaaskar Hindustaan me..doodh kee thailiyan, pooree tarah kaatke fenknee chahiye...ek thailee kamse kam 4 tukade...achhe gharon kee mahiayen in thailiyon ko bechatee hain! Khareedne wala kal inhen hee galat doodh dega, ye kabhee socha hai?

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बढ़िया जानकारी दी अपने ।

    ReplyDelete
  5. ek achchi jaankari dene ke liye dhanyawaad.......

    ReplyDelete
  6. इस जानकारी के लिए धन्यवाद !!!

    और शरद् पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    शरद् -पूर्णिमा और दूध का भी बहुत महत्व है ।

    ReplyDelete
  7. हमारी पाचनशक्ति देखो पाचनशक्ति.
    हम फिर भी ज़िन्दा है. और तो और, हम डरते भी नहीं हैं...

    ReplyDelete
  8. "शैतान का आविष्कार"
    सही कहा आपने!

    ReplyDelete
  9. सिंथेटिक दूध की विस्तृत जानकारी देने के लिए बहुत आभार ....
    कहाँ तक बचेंगे खाने पीने के नकली सामान से हर चीज में मिलावट हैं ...हाजमा इतना जबरदस्त हो गया है की शुद्ध खाने पर पेट गडबडा जाता है हम भारतीयों का...अब तो बस भावनाएं भी सिंथेटिक होने से नहीं बची हैं ..की कोई सच्चा भावुक इंसान हो तो उस पर यकीन करना भी कठिन हो गया है ..
    आपकी ग़ज़लों की तरह ही बहुत
    अच्छी प्रविष्टि ...!!

    ReplyDelete
  10. जिस जगह यह दुध तेयार होता है, वो जगह किस की है,कोन यह दुध तेयार करता है, किस किस को बेचा जाता है, इन सब को पकडना कठिन काम नही, ओर इन सब को पकड कर कठोर से कठोर सजा दि जाये फ़िर हो सके त फ़ांसी दे दी जाये.... फ़िर देखे कोन केसे मिलावट करता है, लेकिन इन्हे कोन पकडेगा? क्योकि यही तो वोट भी हम से ही लेते है, ओर जहर भी हमे ही पीलाते है.

    ReplyDelete
  11. jankaari ke liye shukriyaa..
    baaki ka to pata nahi, UP aur Bihar ki trains mein aisi doodh ki bani chay atyant sulabh hai..

    ReplyDelete
  12. डिब्बा बंद और पैकेट वाली चीजों की लत लगा दी गई है हमें ...

    मेरे साथ काम करने वाली लड़की को गाय या भैंस का शुद्ध दूध अच्छा नहीं लगता था ... उसे पैकेट वाला ही पसंद था ...

    अब तो हमें सिंथेटिक दूध की आदत हो गई है ... क्या पता शुद्ध दूध पिए तो कहीं हम बीमार ना हो जाएँ ?

    ReplyDelete
  13. इन शैतानो को दोज़ख मे भी जगह न ही मिलेगी इसलिये कि इन्होने दुनिया को दोज़ख बना दिय है ।

    ReplyDelete