Wednesday, September 30, 2009

मेरे सपने


हिम्मत के
दरवाज़े पर
टंगी
उम्मीद की
पोटली
इंतज़ार की साँकल से
बार-बार टकराती है !
यकीन को
थपथपाती है !
खवाब..
ख्यालों की
कुण्डी खोल कर
अन्दर आ गए हैं
आंखों की सूखी नदी
जाग गयी
अब तय है कि
तूफ़ान बा-दस्तूर
आएगा
मेरे सपने
या डूबेंगे
या फिर किनारे
लग जायेंगे
देखते हैं क्या
होता है
नज़र न लग जाए
इसलिए खामोशी का
एक ढीठौना
तो लगा दिया है मैंने....

24 comments:

  1. हिम्मत के
    दरवाज़े पर
    टंगी
    उम्मीद की
    पोटली
    इंतज़ार की छागल से
    बार-बार टकराती है !

    himmat hai to sab kuch hai....

    नज़र न लग जाए
    इसलिए खामोशी का
    एक ढीठौना
    तो लगा दिया है मैंने...

    bahut sahi kaha aapne......

    khamoshi dhithauna to laga hi diya hai.....

    ReplyDelete
  2. अदा जी नमस्कार !
    हिम्मत के
    दरवाज़े पर
    टंगी
    उम्मीद की
    पोटली
    इंतज़ार की छागल से
    बार-बार टकराती है !
    आपके पास शब्दों की भण्डार है . सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  3. waaqai mein aapke paas shabdon ka bhandar hai............

    ReplyDelete
  4. नज़र न लग जाए
    इसलिए खामोशी का
    एक ढीठौना
    तो लगा दिया है मैंने....


    बहुत लाजवाब। क्या लिखा है आपा आपने। आपको ईद और दशहरा की ढेर सारी बधाइयां। देर से बधाई इसलिए दे रहा हूं, क्योंकि मैं काम से बाहर गया था। नेट या ब्लॉगिंग से एकदम दूर। और सुनायें कैसी हैं आपा आप।

    ReplyDelete
  5. अब तय है कि
    तूफ़ान बा-दस्तूर
    आएगा
    मेरे सपने
    या डूबेंगे
    या फिर किनारे
    लग जायेंगे
    देखते हैं क्या
    होता है...aisa laga ye kavita maine likhi ya fir mere emotions aapne padh liye...ya wo khud aayenge ya bhejnge paigam mujhe aisee hi kuchh kashmkash c hai kavita me...

    ReplyDelete
  6. बहुत हीं खूबसूरत रचना । आभार

    ReplyDelete
  7. वाह लाजवाब रचना. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. हिम्मत के
    दरवाज़े पर
    टंगी
    उम्मीद की
    पोटली
    इंतज़ार की छागल से
    बार-बार टकराती है !
    अदा जी मुझे लगता है कि ये कविता मैने पहले पढी है बहुत सुन्दर रचना है बधाइ जरा जल्दी मे हूँ हा हा हा

    ReplyDelete
  9. शानदार बिम्बो ने
    एहसास को छुआ है
    बेहतरीन और भावनात्मक बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  10. नज़र न लग जाए
    इसलिए खामोशी का
    एक ढीठौना
    तो लगा दिया है मैंने....
    waah bahut khub

    ReplyDelete
  11. ढीठौना बोले तो !!
    नज़र बट्टू ...

    ReplyDelete
  12. तूफान गर बा-दस्तूर आते हैं
    तो आएंगे ही
    सपने डूबेंगे या किनारे लगेंगे
    ये तो वक्त ही बताएगा
    पर जबरन लाई गई खामोशी का
    तकाज़ा बनता है क्या
    ये तो खुद अदा ही अर्ज करें !!!

    उम्दा नज़्म !!! बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
  13. नज़र न लग जाए
    इसलिए............

    अति सुन्दर शब्द रचना.
    भावों का अतिरेक.

    हार्दिक बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  15. खवाब..
    ख्यालों की
    कुण्डी खोल कर
    अन्दर आ गए हैं
    आंखों की सूखी नदी
    जाग गयी .....

    ऐसी रचनाएं सोचने पे मजबूर कर देती है की मनुष्य की संवेदनाएं शायद सागार से भी गहरी हैं ....

    ReplyDelete
  16. अदा जी !

    आप बहुत दिनों से गूंजअनुगूंज पर नहीं आ रही, ऐसी मुझसे क्या भूल हो गई है?

    उम्मीद करता हूँ; आपके आशीर्वचन और आशीष दोनों बने रहेंगे ।

    अहोभाव सहित

    मनोज भारती

    ReplyDelete
  17. Madhuri Says:

    नज़र न लग जाए
    इसलिए खामोशी का
    एक ढीठौना
    तो लगा दिया है मैंने....
    ada ji,
    agar tujhe nazar lagegi to ham kis marz ki dawa hain ji. jab tak ham jaise dost hai tere ko kya sochna hai.
    bahut accha likha hai..

    ReplyDelete
  18. आंखों की सूखी नदी
    जाग गयी
    अब तय है कि
    तूफ़ान बा-दस्तूर
    आएगा
    मेरे सपने
    या डूबेंगे
    या फिर किनारे
    लग जायेंगे
    नज़र ना लगे सपनों को ...
    बहुत सुन्दर ग़ज़ल ...

    ReplyDelete
  19. हिम्मत के
    दरवाज़े पर
    टंगी
    उम्मीद की
    पोटली
    इंतज़ार की छागल से
    बार-बार टकराती है !
    himmat aur ummeed ho ta kuch bhi kiya jaa sakta hai

    अब तय है कि
    तूफ़ान बा-दस्तूर
    आएगा
    मेरे सपने
    या डूबेंगे
    या फिर किनारे
    लग जायेंगे
    toofan ki kise parwaah hai aur sapne to poore hokar hi rahnege bas man mein thaan lene ki zaroorat hai.
    sunadr kavita.

    ReplyDelete
  20. हिम्मत के
    दरवाज़े पर
    टंगी
    उम्मीद की
    पोटली
    इंतज़ार की छागल से
    बार-बार टकराती है !
    himmat aur ummeed ho ta kuch bhi kiya jaa sakta hai

    अब तय है कि
    तूफ़ान बा-दस्तूर
    आएगा
    मेरे सपने
    या डूबेंगे
    या फिर किनारे
    लग जायेंगे
    toofan ki kise parwaah hai aur sapne to poore hokar hi rahnege bas man mein thaan lene ki zaroorat hai.
    sunadr kavita.

    ReplyDelete
  21. bahut sundar prastuti.

    ReplyDelete
  22. bahut hee sunder rachana hai.pahalee var aana hua bada acha laga.badhaisweekare sabhee achee rachanao ke srujen kee .

    ReplyDelete
  23. है जुबां को काटने का शौक़, मेरी काटिये
    बख्श भी दीजै रकीबों को, के कुछ मैं भी सुनूं..

    ReplyDelete