Sunday, September 6, 2009

ऐसा हो नहीं सकता

मैं ठोकर खाके गिर जाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता
गिर कर उठ नहीं पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

तुम हँसते हो परे होकर, किनारे पर खड़े होकर
मैं रोकर हँस नहीं पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

अभी जीना हुआ मुश्किल, घायल है बड़ा ये दिल
मैं टूटूँ और बिखर जाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

खिजाँ का ये मंज़र है, कभी बादल घना-घन है
मैं छीटों में ही घुल जाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

कश्ती की बात रहने दे , समन्दर भी डुबो दे तू
किनारे तैर न पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

गिरी है गाज हमपर अब, कभी बिजली डराती है
मैं साए से लिपट जाऊँ , ऐसा हो नहीं सकता

सभी सपने कुम्हलाये, तमन्ना रूठे बैठी है
मैं घुटनों पर ही आ जाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

तू मेरा हैं मैं जानू, ये कायनात तेरी है
मैं तेरा हो नहीं पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता



अगर विडियो देखने की इच्छा है तो बस ....ज़रा सा दायी ओर देखिये 'सुर के साथ' बस यही है जी...

18 comments:

  1. आत्मसम्मान और स्वाभिमान की झलक दिखी ---
    गिरी है गाज हमपर अब, कभी बिजली डराती है
    मैं साए से लिपट जाऊँ , ऐसा हो नहीं सकता
    आशावादी तेवर --
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  2. ये तो हम विडियों में देखे थे न!!

    ReplyDelete
  3. देखा और सुना था पहले भी ...बहुत सुथर
    तू मेरा है मैं जानू ...मैं तेरा हो नहीं पाऊं ..ऐसा हो नहीं सकता ..
    अच्छी जबरदस्ती है ...!!

    ReplyDelete
  4. खिजाँ का ये मंज़र है, कभी बादल घना-घन है
    मैं छीटों में ही घुल जाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

    कश्ती की बात रहने दे , समन्दर भी डुबो दे तू
    किनारे तैर न पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

    waah shandaar

    ReplyDelete
  5. di ye poem to us hari saari wali 'bhojpuriya' aurat se kai baar suni hai, lagta hai peeche rakha hua gamla bhi jhoomne laga hai, kya mast aawaz hai uski. agar aap usko jaanti hon to mere se bhi milwaaiyega.
    Thankyou to kahoonga nahi phir bhi....
    :)

    naya sa rang hai koi, nayi si baat hai ya rub,
    ki jaisa ho raha harsu,aisa ho nahi sakta !!

    ReplyDelete
  6. वाणी जी की बात सही है ।

    खूबसूरत कविता का आभार ।

    ReplyDelete
  7. तू मेरा है मैं जानू ...मैं तेरा हो नहीं पाऊं ..ऐसा हो नहीं सकता ..
    अच्छी जबरदस्ती है ...!!

    &


    naya sa rang hai koi, nayi si baat hai ya rub,
    ki jaisa ho raha harsu,aisa ho nahi sakta !!


    filhaal to itnaa hi...

    ReplyDelete
  8. मेरे पास आये और नई अदा न दिखलाऊं ये हो नहीं सकता,

    अदा देख के, बिना कुछ कहे निकल जाऊं, ये हो नहीं सकता....

    आपकी आवाज भी आपकी लेखनी की तरह गज़ब की है..बढिया है...

    ReplyDelete
  9. बहुत खुब, आपके इस कविता मे इक अजब सी अदा है। लाजवाब, मैने तो बहुत पहले ही सुन लिया था आपके ब्लोग पे, आपकी आवाज के तो क्या कहने , उसका तो मै दिवाना हूँ।

    ReplyDelete
  10. सुंदर कविता को मधुर स्वर
    गिरने वाले को उठने के लिए प्रोत्साहन

    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  11. ada ji,
    aapki is ghazal ko blog jagat mein shayad hi koi hai jisne nahi suna hai.
    bahut khoobsurat, kitna bhi suno dil nahi bharta.

    ReplyDelete
  12. खिजाँ का ये मंज़र है, कभी बादल घना-घन है
    मैं छीटों में ही घुल जाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

    bahut achchee gazal likhi hai.

    aap ko pahle bhi suna tha.
    achcha lagaa.
    podcast mein lage geet bhi madhur hain.
    abhaar .

    ReplyDelete
  13. bahut pyari kavita hai.maine kai baar aapke video ko suna hai.Bahut sundar.Kavita ke saath sath ise geet ke roop mein bhi sunane ka mauka mila.
    Bahut Bahut dhanyawad.

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  15. तू मेरा हैं मैं जानू, ये कायनात तेरी है
    मैं तेरा हो नहीं पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

    bahut khoob

    -Sheena

    ReplyDelete
  16. kya awaz hai !!
    na malum kitni baar suna hai isko
    apne yah gazal sirf acchi likhi hi nahi gayi bhi shadar hai
    main to apki awaz ka deewana hun hi
    bahut bada deewana hun

    ReplyDelete
  17. bahut hi ashawaadi kavita hai
    badhai

    ReplyDelete