Friday, September 18, 2009

अब मिल के भी कहाँ हमें वो मिलते हैं


अब मिल के भी कहाँ हमें वो मिलते हैं
इक चेहरे में पशेमाँ कई लोग मिलते हैं

महफ़िल में रौनक है उनके ही दम से
खुश हैं लोग सभी और हम जलते हैं

रात भर का है मेहमाँ ये चाँद भी सुनो
अब घर से हम बहुत कम निकलते हैं

वो मर गया 'अदा' और दफन हो गया
अब किससे ये कहें के हम रोज़ मरते हैं



रिश्तों की एलास्टिक

तुम हर बार मुझे
ऐसे ही सताते हो
पहले करीब लाते हो
फिर दूर हटाते हो
जानती हूँ तुम्हें
अच्छा लगता है
मुझे रुलाना
और बाद में
मनाना
अपनी मर्ज़ी के
इल्ज़ाम लगाना
उनके वजूद को
ज़बरन पुख्ता बनाना
ये अच्छा नहीं है
कहे देती हूँ
इस तरह बार-बार
खींचोगे तो
रिश्तों की एलास्टिक
ख़राब हो जायेगी
फिर वो ज़रबंद के भी
काम नहीं आएगी

28 comments:

  1. रात भर का है मेहमाँ ये चाँद भी सुनो
    अब घर से हम बहुत कम निकलते हैं

    एक तरफ इतनी नाजुक ख्याली दूसरी तरफ रिश्तों की इलास्टिक का फलसफा ....

    ReplyDelete
  2. क्या बात है अदा जी..आये तो हम बस आपकी ग़ज़ल पढने थे मगर कुछ कहे बगैर नहीं रह सके बहुत उम्दा..रिश्तों की इलास्टिक..वाह..क्या बात है..!!
    महफ़िल में रौनक हैं उनके ही दम से
    खुश हैं लोग सभी और हम जलते हैं
    पर ये क्या बात है ..
    सब को खुश देखकर आप भी खुश हो लीजिये ना
    बहुत बढ़िया अदा..कल की अधूरी नज़्म की कमी पूरी हो गयी..
    ऐसे भी बढ़िया लिखती रहो ..बहुत शुभकामनायें..!!

    ReplyDelete
  3. क्या बात है अदा जी..आये तो हम बस आपकी ग़ज़ल पढने थे मगर कुछ कहे बगैर नहीं रह सके बहुत उम्दा..रिश्तों की इलास्टिक..वाह..क्या बात है..!!
    महफ़िल में रौनक हैं उनके ही दम से
    खुश हैं लोग सभी और हम जलते हैं
    पर ये क्या बात है ..
    सब को खुश देखकर आप भी खुश हो लीजिये ना
    बहुत बढ़िया अदा..कल की अधूरी नज़्म की कमी पूरी हो गयी..
    ऐसे भी बढ़िया लिखती रहो ..बहुत शुभकामनायें..!!

    ReplyDelete
  4. महफ़िल में रौनक हैं उनके ही दम से
    खुश हैं लोग सभी और हम जलते हैं

    waah bahut khub.

    ReplyDelete
  5. किस मौसम में हैं आज कल ? ग़ज़लों और नज़्मों में एक नई खुशबू ने जगह बना रखी है.

    ReplyDelete
  6. waah ek saath do-do kavita bahoot khoob

    ReplyDelete
  7. अब मिल के भी कहाँ हमें वो मिलते हैं
    इक चेहरे के पशेमाँ कई लोग मिलते हैं


    "वही जहाँ कोई आता जाता नहीं"
    अच्छी रचना आभार.

    ReplyDelete
  8. दोनों ही रचनायें बहुत अच्छी हैं

    ReplyDelete
  9. रिश्तों की एलास्टिक...
    kya baat hai.. aapne to permanent deformation kara diya...

    ReplyDelete
  10. रात भर का है मेहमाँ ये चाँद भी सुनो
    अब घर से हम बहुत कम निकलते हैं

    वो मर गया 'अदा' और दफन हो गया
    अब किससे ये कहें के रोज़ हम मरते हैं
    kya baat hai.
    Rishton ki elastic sahi mein kabi kabhi zarband ke bhi kabil nahi reh jaati hai.
    bahut khoob kaha hai.

    ReplyDelete
  11. rishton ki ilastic..........gazab ka likha hai.rishton ko itna bhi nhi khinchna chahiye...........ek achcha sandesh deti rachna........badhayi

    pls read my new blog also......
    http://ekprayas-vandana.blogspot.com
    htto://vandana-zindagi.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. महफ़िल में रौनक हैं उनके ही दम से
    खुश हैं लोग सभी और हम जलते हैं

    बहुत खूब, शायर का दर्द नहीं आपने तो शयारिनी का दर्दे-दिल बहुत सहजता से उजागर कर दिया.

    हार्दिक बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर

    ReplyDelete
  13. अब मिल के भी कहाँ हमें वो मिलते हैं
    इक चेहरे के पशेमाँ कई लोग मिलते हैं

    महफ़िल में रौनक हैं उनके ही दम से
    खुश हैं लोग सभी और हम जलते हैं

    ada ji,
    aapke pahle sher ko padh kar ek poorana gana yaad aa raha hai 'ek chhere pe kayi chehre laga lete hain log'
    aur aapki baat bilkul sahi hai ham mil kar bhi kahan mil paate hain kisi se !!
    aur doosra sher khoosurat bana hai !!

    elasticity rishton mein baaki rehni chahiye, doori itni bhi na badhe ki wapis aana hi na ho paaye.

    apki dono rachnayein shaandar hain hamesha ki tarah.

    ReplyDelete
  14. अब मिल के भी कहाँ हमें वो मिलते हैं
    इक चेहरे के पशेमाँ कई लोग मिलते हैं

    महफ़िल में रौनक हैं उनके ही दम से
    खुश हैं लोग सभी और हम जलते हैं

    ada ji,
    aapke pahle sher ko padh kar ek poorana gana yaad aa raha hai 'ek chhere pe kayi chehre laga lete hain log'
    aur aapki baat bilkul sahi hai ham mil kar bhi kahan mil paate hain kisi se !!
    aur doosra sher khoosurat bana hai !!

    elasticity rishton mein baaki rehni chahiye, doori itni bhi na badhe ki wapis aana hi na ho paaye.

    apki dono rachnayein shaandar hain hamesha ki tarah.

    ReplyDelete
  15. बहुत लाजवाब रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  16. रिश्तों की एलास्टिक ....बहुत खूब ..बहुत बढ़िया लगी यह

    ReplyDelete
  17. तुम हर बार मुझे
    ऐसे ही सताते हो
    पहले करीब लाते हो
    फिर दूर हटाते हो
    जानती हूँ तुम्हें
    अच्छा लगता है
    मुझे रुलाना
    और बाद में
    मनाना....mujhe laga ye maine likha hai...achhi baat hai wo mnate to hai...rutth to jaye hum bhi par unhe mnana bhi to aaye..wo pal bhi to aaye wo zmana bhi to aaye....

    ReplyDelete
  18. matle mein kaafiye nahi mil rahe hain ji....

    bahar mein bhi khatakaa hai...

    itnaa ke satkaa nahi jaa rahaa...

    :)

    ReplyDelete
  19. रिश्तों की एलास्टिसी ने मन लुभाया है।

    और एक विनती है कि एक बार में एक ही रचना लगायें...मन इधर एलास्टिक हो कर विभक्त होने लगता है दो खूबसूरतियों में, मैम

    और ऊपर वाली रचना पे मनु जी ने कह ही दिया है, शेष अपनी मेल में निबट रहा हूं इससे।

    ReplyDelete
  20. इस तरह बार-बार
    खींचोगे तो
    रिश्तों की एलास्टिक
    ख़राब हो जायेगी
    बहुत खूब ! वज़ूद जबरन मजबूत करने के चक्कर मे और खोखला होता जाता है.

    ReplyDelete
  21. Economics ka chapter yaad ho aaiya....

    "Elasticity of demand...."

    aDaDi aapki pehli ghazal se zayada ye accha laga

    रिश्तों की एलास्टिक
    ख़राब हो जायेगी
    फिर वो ज़रबंद के भी
    काम नहीं आएगी


    Naada Hai na......

    महफ़िल में रौनक है उनके ही दम से
    खुश हैं लोग सभी और हम जलते हैं ....
    ...WOW !!

    aur ye waala sher bahut gehre tak utar gaya....

    वो मर गया 'अदा' और दफन हो गया
    अब किससे ये कहें के हम रोज़ मरते हैं

    ReplyDelete
  22. अरे बचवा का बात है ?
    आज कल तुम्हों फ़रारी का ज़िन्दगी जी रहे हो का ?
    लवकते नहीं हो ....

    ReplyDelete
  23. अब मिल के भी कहाँ हमें वो मिलते हैं
    इक चेहरे में पशेमाँ कई लोग मिलते हैं

    महफ़िल में रौनक है उनके ही दम से
    खुश हैं लोग सभी और हम जलते हैं

    BAHUT KHOOBSURAT ASHAAR..

    इस तरह बार-बार
    खींचोगे तो
    रिश्तों की एलास्टिक
    ख़राब हो जायेगी
    फिर वो ज़रबंद के भी
    काम नहीं आएगी
    KYA BAAT HAI..
    KITNI SAHI BAAT LIKHI HAI AAPNE ADA JI...

    ReplyDelete
  24. अच्छी प्रस्तुति....बहुत बहुत बधाई...
    मैनें अपने सभी ब्लागों जैसे ‘मेरी ग़ज़ल’,‘मेरे गीत’ और ‘रोमांटिक रचनाएं’ को एक ही ब्लाग "मेरी ग़ज़लें,मेरे गीत/प्रसन्नवदन चतुर्वेदी "में पिरो दिया है।
    आप का स्वागत है...

    ReplyDelete
  25. रिश्तों की एलास्टिक
    ख़राब हो जायेगी
    फिर वो ज़रबंद के भी
    काम नहीं आएगी.........बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  26. di rishto ka elastik is kavita pr meri tippni elastik ki tarah ho gayee ......................abhi vaapas aata hun ghante bhar mein .............

    ReplyDelete
  27. महफ़िल में रौनक है उनके ही दम से
    खुश हैं लोग सभी और हम जलते हैं
    accha hai..
    इस तरह बार-बार
    खींचोगे तो
    रिश्तों की एलास्टिक
    ख़राब हो जायेगी
    फिर वो ज़रबंद के भी
    काम नहीं आएगी
    ye bahut hi accha hai.
    jarband ke bhi kaam nahi a
    ayegi. bilkul theek kharab hui elastik kisi kaam ki kahan hoti hai. tu bhi na kya kya sochte hai ?
    lekin badhiya hai.

    ReplyDelete