Sunday, September 20, 2009

भरोसा हमारा उतर ही गया


क़र्ज़ और वजूद इकतार हो गए हैं
नींव हिल गयी घर बिखर ही गया

सारी उम्र दोनों अब सो न सकेंगे
बेटी का भाग अब सँवर ही गया

कई दिन से रोटी मिली ही नहीं थी
सपने में देख रोटी डर ही गया

हुआ क्या बहू जो जल कर मरी है
अख़बार का रंग निखर ही गया

काली सी गाड़ी का पहिया चढ़ा था
लाल रंग आपको अखर ही गया

आपका क्या आप चढ़ जाएँ कुर्सी
भरोसा हमारा उतर ही गया

31 comments:

  1. agar sahi samajh raha hun to.. raajneeti par chot ki hai aapne shayad...

    ReplyDelete
  2. agar sahi samajh raha hun to.. raajneeti par chot ki hai aapne shayad...

    bahut hi depth mein likha gaya hai.. bahut khoob.. bahut khoob..

    ReplyDelete
  3. इसे कहते हैं जनवादी गज़ल .आप तो ऐसे ही लिखा कीजिये बकौल जीवन यदु .."पहले गीत लिखूंगा रोटी पर फिर लिखूंगा तेरी चोटी पर " बधाई

    ReplyDelete
  4. सामाजिक और आर्थिक माहौल को को क्या खूब कलमबद्ध किया है कविता में .. राग रंग प्यार मुहब्बत से अलहदा यह रंग भी है ..
    उम्दा ख्याल ..!!

    ReplyDelete
  5. कई दिन से रोटी मिली ही नहीं थी
    सपने में देख रोटी डर ही गया

    हुआ क्या बहू जो जल कर मरी है
    अख़बार का रंग निखर ही गया
    ada ji,
    aaj to aapka alag hi rang dekhne ko mila.
    behtareen rachna.
    samaj ko aaina dikahti hui. jaari rahein..

    ReplyDelete
  6. कई दिन से रोटी मिली ही नहीं थी
    सपने में देख रोटी डर ही गया

    हुआ क्या बहू जो जल कर मरी है
    अख़बार का रंग निखर ही गया
    ada ji,
    aaj to aapka alag hi rang dekhne ko mila.
    behtareen rachna.
    samaj ko aaina dikahti hui. jaari rahein..

    ReplyDelete
  7. बिलकुल अलग सी बात है आज आपकी रचना में जिसने मन को छू लिया.
    बहुत खूबसूरत.
    बधाई आपको !!

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्‍छे भाव .. सुंदर रचना .. बधाई !!

    ReplyDelete
  9. कितना मार्मिक कर दिया आपने !
    हुआ क्या बहू जो जल कर मरी है
    अख़बार का रंग निखर ही गया
    बहुत खूब -- तारीफ से बाहर

    ReplyDelete
  10. क़र्ज़ और वजूद इकतार हो गए हैं
    नींव हिल गयी घर बिखर ही गया

    सारी उम्र दोनों अब सो न सकेंगे
    बेटी का भाग अब सँवर ही गया

    कई दिन से रोटी मिली ही नहीं थी
    सपने में देख रोटी डर ही गया

    हुआ क्या बहू जो जल कर मरी है
    अख़बार का रंग निखर ही गया

    पहिये के नीचे वो आ तो गया है
    लाल रंग आपको अखर ही गया

    आपका क्या आप चढ़ जाएँ कुर्सी
    भरोसा हमारा उतर ही गया
    ada ji,
    aaj to aapne poorigazal hi kamal ki likhi hai.
    samajik paripeksh mein bahut hi sateek aur marmik prastuti hai aapki.
    badhai.

    ReplyDelete
  11. क़र्ज़ और वजूद इकतार हो गए हैं
    नींव हिल गयी घर बिखर ही गया

    सारी उम्र दोनों अब सो न सकेंगे
    बेटी का भाग अब सँवर ही गया

    कई दिन से रोटी मिली ही नहीं थी
    सपने में देख रोटी डर ही गया

    हुआ क्या बहू जो जल कर मरी है
    अख़बार का रंग निखर ही गया

    पहिये के नीचे वो आ तो गया है
    लाल रंग आपको अखर ही गया

    आपका क्या आप चढ़ जाएँ कुर्सी
    भरोसा हमारा उतर ही गया
    ada ji,
    aaj to aapne poorigazal hi kamal ki likhi hai.
    samajik paripeksh mein bahut hi sateek aur marmik prastuti hai aapki.
    badhai.

    ReplyDelete
  12. बहुत लाजवाब और सटीक रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. अदा जी सादर प्रणाम !!!

    आपकी काव्य-विधा को जबसे पढ़ना शुरु किया है, दिल में एक उमंग सी जगी है । हर रोज आप जो एक बेहतर रचना बिना नागा हमें परोसे जा रहीं हैं, वह काबिले-तारीफ़ है ।

    आज की यह ग़ज़ल तो ग़ज़ब की है । समाज और राजनीति पर गहरे व्यंग्य से आपने जो चोट की है, उम्मीद है उससे मृत और संवेदनहीन हो गए समाज में जान आएगी और संवेदना बढ़ेगी ।

    बहुत-बहुत बधाई ।।।

    आजकल गूंजअनुगूंज पर आप अपने हस्ताक्षर नहीं दे रहीं हैं । आशा है मेरा उत्साह भंग नहीं होने देंगी । धन्यवाद सहित

    ReplyDelete
  14. शरद भाई ने उचित ही कहा है ये ग़ज़ल तो सच में जनवादी ज़मीं पर खिली हुई है

    ReplyDelete
  15. अदा जी एक और लाजवाब प्रस्तुती बधाई

    ReplyDelete
  16. दीदी प्रणाम! सादर चरण स्पर्श! ................भरोसा मेरा आप पर सदा के लिए ....................आज हनुमान (जी) बन गया .................भक्त का नमन हैं आपको ...........................संकट दूर करों ........................नवरात्रि में आपकी रूह देवी-दुर्गा हो गयी हैं ..................संभल कर रहिये ज़रा ................त्रशुल मेरी ज़ानिब ही रखना ..................महीसा सुर का पता बताउगा ................सीक्रेट हैं ...............

    ReplyDelete
  17. हुआ क्या बहू जो जल कर मरी है
    अख़बार का रंग निखर ही गया ..bahut kadwi magar sachi baat kahi aapne...

    ReplyDelete
  18. नमस्कार
    दीदी

    अच्छी रचना है, परन्तु समझ नहीं पाया कि, ये है किसके लिए।

    ReplyDelete
  19. घटनाएं होती ही हैं बेनागा.

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर समाज और राजनीती पर करारी चोट इस गज़ल के लिये बधाई

    ReplyDelete
  21. हुआ क्या बहू जो जल कर मरी है
    अख़बार का रंग निखर ही गया ।

    सच ही कहा । एक तीर से दो दो निशाने ।
    सही है । कहीं से कोई कमी नहीं ।
    आभार ।

    ReplyDelete
  22. aaj ki rajniti par badhiya kataksh hai...........aaj ke halat ko bahut hi khoobsoorti se bhara hai............badhayi aage bhi aise hi likhti rahein.
    कई दिन से रोटी मिली ही नहीं थी
    सपने में देख रोटी डर ही गया

    हुआ क्या बहू जो जल कर मरी है
    अख़बार का रंग निखर ही गया

    har shabd apne aap bol raha hai.aur yahi lekhan ki safalta hai.

    plz visit my new blgo also:
    http://ekprayas-vandana.blogspot.com

    ReplyDelete
  23. कई दिन से रोटी मिली ही नहीं थी
    सपने में देख रोटी डर ही गया
    बहुत खुब बहुत अच्छी कविता लिखी आप ने

    ReplyDelete
  24. जनवादी कविता........हकिकत को आइना दिखाती रचना ......जिसे नही भी दिखे वह इस रचना से गुजर कर देख सकता है .......नतमस्तक है हम......

    ReplyDelete
  25. क़र्ज़ और वजूद इकतार हो गए हैं
    नींव हिल गयी घर बिखर ही गया

    बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  26. Again a WOW aDaDi.....
    कई दिन से रोटी मिली ही नहीं थी
    सपने में देख रोटी डर ही गया

    &

    आपका क्या आप चढ़ जाएँ कुर्सी
    भरोसा हमारा उतर ही गया

    are 2 sher which i like most !!

    rest are also fine !!


    काली सी गाड़ी का पहिया चढ़ा था
    लाल रंग आपको अखर ही गया
    Salman khan prakaran ki yaad dila gaya ....

    ReplyDelete
  27. काली सी गाड़ी का पहिया चढ़ा था
    लाल रंग आपको अखर ही गया

    बहुत खूब.
    कितनी शालीनता बख्शी है................

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    ReplyDelete
  28. वाह बहुत ही सटीक दे मारा है आपने.....
    बधाई.....

    ReplyDelete
  29. सारी उम्र दोनों अब सो न सकेंगे
    बेटी का भाग अब सँवर ही गया

    कई दिन से रोटी मिली ही नहीं थी
    सपने में देख रोटी डर ही गया
    bahut marmik aur sateek aaj ke sandarbh mein.

    ReplyDelete
  30. सारी उम्र दोनों अब सो न सकेंगे
    बेटी का भाग अब सँवर ही गया

    कई दिन से रोटी मिली ही नहीं थी
    सपने में देख रोटी डर ही गया
    bahut marmik aur sateek aaj ke sandarbh mein.

    ReplyDelete
  31. आपका क्या आप चढ़ जाएँ कुर्सी
    भरोसा हमारा उतर ही गया

    १००% सही ...

    ReplyDelete