Wednesday, September 9, 2009

मरने के हौसले भी मेरे यार कम गए हैं


क्यूँ अश्क बहते-बहते यूँ आज थम गए हैं
इतने ग़म मिले कि, हम ग़म में रम गए हैं

तुम बोल दो हमें वो जो बोलना तुम्हें है
फूलों से मार डालो हम पत्थर से जम गए हैं

रंगीनियाँ लिए हैं ग़मगीन कितने चेहरे
अफ़सोस के रंगों में वो सारे रंग गए हैं

तकतीं रहेंगी तुमको ये बे-हया सी आँखें
जीवन भी रुक रहा है कुछ लम्हें थम गए हैं

हम थे ऐसे-वैसे तुम सोचोगे कभी तो
जब सोचने लगे तो हम खुद ही नम गए हैं

जीने का हौसला तो पहले भी 'अदा' नहीं था
मरने के हौसले भी मेरे यार कम गए हैं

26 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. तुम बोल दो हमें वो जो बोलना तुम्हें है
    फूलों से मार डालो पत्थर से जम गए हैं


    लाजवाब है

    ReplyDelete
  3. halkaa saa bahar se khatak rahaa hai ji....

    par be-bahri nahi kahoongaa aapko..
    :)

    ReplyDelete
  4. फूलों से मार डालो हम पत्थर से जम गए हैं
    नाज़ुद एहसास को नाज़ुकी से बयाँ किया है -- बहुत खूबसूरती से.
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. क्यूँ अश्क बहते-बहते यूँ आज थम गए हैं
    इतने ग़म मिले कि, हम ग़म में रम गए हैं( इतने मिले हैं गम के ..)

    तुम बोल दो हमें वो जो बोलना तुम्हें है
    फूलों से मार डालो हम पत्थर से जम गए हैं.(फूलों से मारो हम तो पत्थर से जम...)

    रंगीनियाँ लिए हैं ग़मगीन कई चेहरे (..कितने चिह्रे)..
    अफ़सोस के रंगों में वो सारे रंग गए हैं

    तकतीं रहेंगी तुमको ये बे-हया सी आँखें
    जीवन भी रुक रहा है कुछ लम्हें थम गए हैं

    हम थे ऐसे-वैसे तुम सोचोगे कभी तो ,,( हम थे ही ऐसे-वैसे...)
    जब सोचने लगे तो हम खुद ही नम गए हैं

    जीने का हौसला तो पहले भी 'अदा' नहीं था (जीने का हौसला भी पहले कहाँ अदा था..)
    मरने के हौसले भी मेरे यार कम गए हैं

    ReplyDelete
  6. halkaa fulkaa badi jaldi mein theek kiyaa hai ada ji.....

    ReplyDelete
  7. जीने का हौसला तो पहले भी 'अदा' नहीं था
    मरने के हौसले भी मेरे यार कम गए हैं

    वाह लाजवाब, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. तुम बोल दो हमें वो जो बोलना तुम्हें है
    फूलों से मार डालो हम पत्थर से जम गए हैं
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  9. अदा जी,
    लाजवाब लिखा है जी आपने, एक-एक शेर नायाब है.
    बस आज कुछ अलग सी बात लगी है आपकी रचना में
    मुझे कोई अटका, झटका, खटका नहीं लगा, और बे-बहरी तो कोई बोल ही नहीं सकता आपको
    बेहद शानदार ग़ज़ल बनी है आपकी
    आज मैं रांची आपके शहर में हूँ

    ReplyDelete
  10. अदा जी,
    लाजवाब लिखा है जी आपने, एक-एक शेर नायाब है.
    बस आज कुछ अलग सी बात लगी है आपकी रचना में
    मुझे कोई अटका, झटका, खटका नहीं लगा, और बे-बहरी तो कोई बोल ही नहीं सकता आपको
    बेहद शानदार ग़ज़ल बनी है आपकी
    आज मैं रांची आपके शहर में हूँ

    ReplyDelete
  11. तुम बोल दो हमें वो जो बोलना तुम्हें है
    फूलों से मार डालो हम पत्थर से जम गए हैं
    -Kavya Manjusha 'aDaDi'


    jaage hai der se humein kuch der sone do,
    thodi si saans baaki hai subah to hone do.
    -Gulzar.



    Sorry for 2-3 days break . And advance sorry for next 2-3 days break.

    ReplyDelete
  12. क्यूँ अश्क बहते-बहते यूँ आज थम गए हैं
    इतने ग़म मिले कि, हम ग़म में रम गए हैं

    तुम बोल दो हमें वो जो बोलना तुम्हें है
    फूलों से मार डालो हम पत्थर से जम गए हैं

    बेहतरीन ...

    क्या कहूँ आज पढ़ते-पढ़ते यूँ शब्द थम गए हैं
    शब्द कम पड़ गए कि, हम एक एक शे'र में रम गए हैं

    ReplyDelete
  13. तकतीं रहेंगी तुमको ये बे-हया सी आँखें
    जीवन भी रुक रहा है कुछ लम्हें थम गए हैं

    हम थे ऐसे-वैसे तुम सोचोगे कभी तो
    जब सोचने लगे तो हम खुद ही नम गए हैं

    जीने का हौसला तो पहले भी 'अदा' नहीं था
    मरने के हौसले भी मेरे यार कम गए हैं
    ada ji,
    har din ek nayi rachna aur wo bhi be-misaal.
    kamaal hai kamaal.
    bahut badhia lajwaab

    ReplyDelete
  14. तुम बोल दो हमें वो जो बोलना तुम्हें है
    फूलों से मार डालो हम पत्थर से जम गए हैं

    Wah ! Fantastic, Adaji!!

    ReplyDelete
  15. तुम बोल दो हमें वो जो बोलना तुम्हें है
    फूलों से मार डालो हम पत्थर से जम गए हैं
    ये पंक्तियाँ कमाल की है .......शब्द नही है कि बयान करु .....अतिसुन्दर

    ReplyDelete
  16. ada ji,
    aapki is gazal ki rawaani kamal ki hai
    ek ek shbd dil ke kareeb lag raha hai jawaab nahi aapka

    ReplyDelete
  17. आदरणीय मनु जी,
    सादर प्रणाम,
    आपने अपने आप ही ठीक कर दिया इस मुई कविता को जिसे अब हम 'ग़ज़ल' कह सकते हैं. जो भी समय आपने इसे दिया हम ह्रदय से आभारी हैं आपके.
    हम समझ नहीं पा रहे हैं की आपका corrected version कैसे डालें, इसीलिए चुपचाप रहे.
    पुनः आपका धन्यवाद.

    ReplyDelete
  18. जीने का हौसला तो पहले भी 'अदा' नहीं था
    मरने के हौसले भी मेरे यार कम गए हैं


    aapki inhi ada par to hum mar hi gaye hai..

    -Sheena

    ReplyDelete
  19. अदा जी,
    आपकी इस ग़ज़ल में दर्द उभर कर आया है.
    रंगीनियाँ लिए हैं ग़मगीन कितने चेहरे
    अफ़सोस के रंगों में वो सारे रंग गए हैं
    'अफ़सोस के रंग' को आप ऐसा लिखें, ये बहुत ही उम्दा शेर है

    तकतीं रहेंगी तुमको ये बे-हया सी आँखें
    जीवन भी रुक रहा है कुछ लम्हें थम गए हैं
    आपके शब्द सामर्थ्य को सलाम करता हूँ, और भावपक्ष को क्या कहूँ शब्द मूक हो गए
    रोज पढता हूँ बस कमेन्ट नहीं करता हूँ, लेकिन आज बिना कुछ कहे जा नहीं पाया

    राजीव रंजन
    मुंबई

    ReplyDelete
  20. Bahut din ke baad aaya hun ada ji.
    bahut khoobsurat gazal bani hai ye.
    तुम बोल दो हमें वो जो बोलना तुम्हें है
    फूलों से मार डालो हम पत्थर से जम गए हैं

    रंगीनियाँ लिए हैं ग़मगीन कितने चेहरे
    अफ़सोस के रंगों में वो सारे रंग गए हैं

    तकतीं रहेंगी तुमको ये बे-हया सी आँखें
    जीवन भी रुक रहा है कुछ लम्हें थम गए हैं

    ReplyDelete
  21. पत्थर से जमे को फूलों से मारना ...क्या बात है
    जीने का हौसला तो पहले भी 'अदा' नहीं था
    मरने के हौसले भी मेरे यार कम गए हैं
    पर यह ठीक नहीं है...हौसला तो बस जीने का ही रखिये ...
    बहुत शुभकामनायें ..!!

    ReplyDelete
  22. क्यूँ अश्क बहते-बहते यूँ आज थम गए हैं
    इतने ग़म मिले कि, हम ग़म में रम गए हैं

    तुम बोल दो हमें वो जो बोलना तुम्हें है
    फूलों से मार डालो हम पत्थर से जम गए हैं

    KYA BAAT HAI ADA JI..

    ReplyDelete