Thursday, September 24, 2009


ग़मों का जायज़ा लेना हो तो देख
मेरा दामन अश्कों से तर है के नहीं

ज़ख्मों को मेरे यूँ गिन तो रहे हो
तेरी नज़र में तेरी शरर है के नहीं

अपना दीन-ओ-ईमान हम लुटा बैठें हैं
देखें तुझ पर भी कोई असर है के नहीं

जंगल की आग ने सबकुछ जला डाला
उसे भी मेरे घर की खबर है के नहीं

अंधेरों से बावस्ता हो गयी ज़िन्दगी
'अदा' इन अंधेरों की सहर है के नहीं

शरर-रौशनी

29 comments:

  1. शमा जी बहुत खूब लिखा है ....

    ReplyDelete
  2. अदा जी,
    क्या कहूं? गजब ठीक है!, नहीं शनदार!, नहीं कमाल!
    चलिये जो आप को अच्छा लगे.

    ReplyDelete
  3. महेंद्र जी,
    मैं शमा नहीं 'अदा' हूँ....
    सादर
    'अदा'

    ReplyDelete
  4. अपना दीन-ओ-ईमान हम लुटा बैठें हैं
    देखें तुझ पर भी कोई असर है के नहीं

    ReplyDelete
  5. अंधेरों से बावस्ता हो गयी ज़िन्दगी
    'अदा' इन अंधेरों की सहर है के नहीं
    मै भी आपको शमा ही कहूँगा. अन्धेरो का सहर तो तभी होगा.
    हर अन्धेरे का एक सहर जरूर होता है. अन्धेरा आता ही इसीलिये है कि सहर के वज़ूद की चमक बढ जाये.
    बहुत खूब -- बेहतरीन

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर रचना आभार ।

    ReplyDelete
  7. अदा जी !!!

    सादर प्रणाम !

    हर शे'र लाज़वाब है !
    इतनी सारी अनुभूतियाँ कहाँ से ले आती हैं आप

    अंधेरों से बावस्ता हो गयी ज़िन्दगी
    'अदा' इन अंधेरों की सहर है के नहीं

    वाकई ग़ज़ब की शायरी है ।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही उम्दा व दिल से लिखी गयी लाजवाब रचना। बहुत-बहुत बधाई

    ReplyDelete
  9. ग़मों का जायज़ा लेना हो तो देख
    मेरा दामन अश्कों से तर है के नहीं
    kya baat hai.. daaman bheega diya aapne to..
    अंधेरों से बावस्ता हो गयी ज़िन्दगी
    'अदा' इन अंधेरों की सहर है के नहीं
    han han jaroor hai.. no doubt..

    very nice and touching, as always...

    ReplyDelete
  10. जंगल की आग ने सबकुछ जला डाला
    उसे भी मेरे घर की खबर है के नहीं


    "badloon ke beech bhi na jaane kya sajish hu...
    mera ghar ta mitti ka , wahi barish hui..."

    Aur haan aDaDi, ye link aiwein hi hain (Any Mouse 007 wala)....
    Mujhe ye gaana bahut pasad tha
    kai dino baad share kar raha hoon...
    isliye aapke saath share kar raha hoon...
    pasanad aaiye to batana.

    ReplyDelete
  11. sHaMaDi.....

    ?????

    Naaaaaaaaaaa.................

    Never !!

    aDaDi .
    :)

    "tim tim chamke taaron ki tarah teri pyari ankhiyan!!"
    Bus aapke liye itna hi Baaki gaana Prachi Ke liye.

    hmmmmmmmm......

    Nain katari ankhiyaan.......

    ReplyDelete
  12. "बड़ी देर से तुझपे आँखें टिकी है,
    कभी अपनी गर्दन घुमा कर तो देखो"

    Now i Realize ....
    That's the way you Hypnotize....

    ReplyDelete
  13. अदा जी,
    कमाल करती हैं आप
    ये सारे शेर कैसे लिख लिया आपने !!

    ग़मों का जायज़ा लेना हो तो देख
    मेरा दामन अश्कों से तर है के नहीं
    ये शेर तो बस नश्तर की तरह लगा हैं

    ज़ख्मों को मेरे यूँ गिन तो रहे हो
    तेरी नज़र में तेरी शरर है के नहीं
    वाह, वाह इतने सारे ज़ख्म ??

    अपना दीन-ओ-ईमान हम लुटा बैठें हैं
    देखें तुझ पर भी कोई असर है के नहीं
    ये तो बस कमाल ही है !!

    आपकी लेखनी को तो बस सुबह शाम नमन करने को दिल करता है

    ReplyDelete
  14. अदा जी,
    कमाल करती हैं आप
    ये सारे शेर कैसे लिख लिया आपने !!

    ग़मों का जायज़ा लेना हो तो देख
    मेरा दामन अश्कों से तर है के नहीं
    ये शेर तो बस नश्तर की तरह लगा हैं

    ज़ख्मों को मेरे यूँ गिन तो रहे हो
    तेरी नज़र में तेरी शरर है के नहीं
    वाह, वाह इतने सारे ज़ख्म ??

    अपना दीन-ओ-ईमान हम लुटा बैठें हैं
    देखें तुझ पर भी कोई असर है के नहीं
    ये तो बस कमाल ही है !!

    आपकी लेखनी को तो बस सुबह शाम नमन करने को दिल करता है

    ReplyDelete
  15. ज़ख्मों को मेरे यूँ गिन तो रहे हो
    तेरी नज़र में तेरी शरर है के नहीं

    अपना दीन-ओ-ईमान हम लुटा बैठें हैं
    देखें तुझ पर भी कोई असर है के नहीं

    जंगल की आग ने सबकुछ जला डाला
    उसे भी मेरे घर की खबर है के नहीं
    bahut hi khoobsurat
    har ahsaas dil ke kareeb lagti hain.

    ReplyDelete
  16. वाह! तबियत खुश हो गयी

    ReplyDelete
  17. ग़मों का जायज़ा लेना हो तो देख
    मेरा दामन अश्कों से तर है के नहीं
    Saare sher bahut hi acche hain. mujhe ye bahut pasand aaya.
    dhanyawaad.

    ReplyDelete
  18. अपना दीन-ओ-ईमान हम लुटा बैठें हैं
    देखें तुझ पर भी कोई असर है के नहीं ।

    बहुत ही मारक है ।
    आभार !

    ReplyDelete
  19. अपना दीन-ओ-ईमान हम लुटा बैठें हैं
    देखें तुझ पर भी कोई असर है के नहीं
    bahut sundar .....ye vaala khaas taur se

    ReplyDelete
  20. ग़मों का जायज़ा लेना हो तो देख..मेरा दामन अश्कों से तर है के नहीं..
    अंधेरों की सहर जल्दी हो ...दामन कभी आंसुओं से तर ना हो ..
    बहुत शुभकामनायें ..!!

    ReplyDelete
  21. जंगल की आग ने सबकुछ जला डाला
    उसे भी मेरे घर की खबर है के नहीं


    बहुत खूब!

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  22. ग़मों का जायज़ा लेना हो तो देख
    मेरा दामन अश्कों से तर है के नहीं

    ज़ख्मों को मेरे यूँ गिन तो रहे हो
    तेरी नज़र में तेरी शरर है के नहीं
    हर शेर की अदा लाजवाब है बहुत खूब बधाई

    ReplyDelete
  23. अदा जी नमस्कार , कहा से खोजती है आप इतनी सब रचनाये . अत्यंत सुन्दर

    ReplyDelete
  24. ज़ख्मों को मेरे यूँ गिन तो रहे हो
    तेरी नज़र में तेरी शरर है के नहीं

    बहुत खूब ..बहुत अच्छी लगी यह गजल अदा जी शुक्रिया

    ReplyDelete
  25. लाज़वाब..पढ़कर बहुत अच्छा लगा..बधाई!!

    ReplyDelete
  26. बहुत ही खूब लिखा आपने...

    ReplyDelete
  27. है जुबां को काटने का शौक़, मेरी काटिये
    बख्श भी दीजै रकीबों को, के कुछ मैं भी सुनूं..

    ReplyDelete