Saturday, September 19, 2009

मेरी पलकों पे उनका इख्तियार होता


दिल न होता न गम न वस्ले-यार होता
न सितम होते न ही उनका प्यार होता

वो दबे पाँव घूमते हैं अब ख्यालों में
बस कोई जतन उनका दीदार होता

नींद की मुझे वो क़रारी कोई दे जाते
मेरी पलकों पे उनका इख्तियार होता

जान जाती मेरी औ रूह फना हो जाती
जुस्तजू उनकी, उनका इंतज़ार होता

कोई कुछ भी कहे नहीं है यकीं तुझको 'अदा'
तेरे जहनों को उनका एतबार होता


सारी तसवीरें गूगल का सौजन्य से ....

26 comments:

  1. जान जाती मेरी औ रूह फना हो जाती
    जुस्तजू उनकी, उनका इंतज़ार होता
    Wah adajee bahut badhiya.

    ReplyDelete
  2. वो दबे पाँव घूमते हैं अब ख्यालों में
    बस कोई जतन उनका दीदार होता
    ~~~~~~
    दिल के होने पर ही तो दिलदार होता है, दिल तो खूबसूरत नेमत है.
    बहुत खूब लिखा है

    ReplyDelete
  3. दिल न होता न गम न वस्ले-यार होता
    न सितम होते न ही उनका प्यार होता...

    aapki pahli line ne hi kaafi kuch kah diya... mere room mein chal raha pankha competition feel kar raha hai.. :P

    ReplyDelete
  4. दिल न होता न गम न वस्ले-यार होता
    न सितम होते न ही उनका प्यार होता...

    aapki pahli line ne hi kaafi kuch kah diya... pankha ban gaya main to...

    ReplyDelete
  5. नींद की मुझे वो क़रारी कोई दे जाते
    मेरी पलकों पे उनका इख्तियार होता
    क्या बात है ...
    कोई कुछ भी कहे नहीं है यकीं तुझको 'अदा'
    तेरे जहनों में उनका एतबार होता..
    हमारा भी यकीं नहीं..ऐतबार नहीं..
    सख्त ऐतराज है ..!!

    ReplyDelete
  6. "वो दबे पाँव घूमते हैं अब ख्यालों में
    बस कोई जतन उनका दीदार होता "

    सुन्दर पंक्तियों के साथ पूरी गजल बेहतर है । आभार ।

    ReplyDelete
  7. इस उम्दा रचना के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  8. नींद की मुझे वो क़रारी कोई दे जाते
    मेरी पलकों पे उनका इख्तियार होता ।
    बहुत खूब । आभार ।
    नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  9. सुन्दरम्। आनन्दम्।

    ReplyDelete
  10. हैं भगवान् एक ग़ज़ल लिखने वास्ते ................हमारी दीदी कहती हैं दिल ना होता वगेरह-वगेरह ..............nahi-nahi ve kahti hain ....वो दबे पाँव घूमते हैं अब ख्यालों में
    बस कोई जतन उनका दीदार होता ,गीत-ग़ज़ल तो एक बहाना हैं ..............इधर बिलकुल बीच में फस दी असली बात ..............नींद की मुझे वो क़रारी कोई दे जाते
    मेरी पलकों पे उनका इख्तियार होता..........और बताता हूँ लिखा ऐसे हैं की दिल ना होता तो .................पर ये सारी बातें दिल के अन्दर की हैं ............जान जाती मेरी औ रूह फना हो जाती
    जुस्तजू उनकी, उनका इंतज़ार होता और यकीं ............................अब मैं क्या बोलू रहने दो ? ......................अगर आपको इनके अन्दर की बात समझना हैं तो बनिए सिकंदर मेरे जैसा ...................

    ReplyDelete
  11. नींद की मुझे वो क़रारी कोई दे जाते
    मेरी पलकों पे उनका इख्तियार होता ...........

    bahut khub, lajvab.

    ReplyDelete
  12. लाजवाब । बहुत सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  13. Hi aDaDi

    Sabhi chitra google uncle se sabhaar?

    nahi?

    to phir kiska photu hai batao na?

    ye wali line best :
    "वो दबे पाँव घूमते हैं अब ख्यालों में
    बस कोई जतन उनका दीदार होता
    "

    e photuwa ke saath is line ka bada sahi mail behta hai....

    u shahrukh khan ne kaha tha....

    "Aap nahi samjoge Di Kuch Kuch Hota Hai..."

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब अदा जी !

    ReplyDelete
  15. "वो दबे पाँव घूमते हैं अब ख्यालों में
    बस कोई जतन उनका दीदार होता "

    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल

    हार्दिक बधाई

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. नींद की मुझे वो क़रारी कोई दे जाते
    मेरी पलकों पे उनका इख्तियार होता
    बहुत सुन्दर...बहुत ही सुन्दर.

    ReplyDelete
  17. वो दबे पाँव घूमते हैं अब ख्यालों में
    बस कोई जतन उनका दीदार होता
    behtareen sher.

    ReplyDelete
  18. गिरीश पंकजSeptember 19, 2009 at 9:34 PM

    आपकी ग़ज़ले अदा अच्छी लगी.
    जब भी पढ़ी मुझको सदा अच्छी लगी.
    यूं ही लिखती जाए है शुभकामना
    प्यार में डूबी हवा अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  19. वो दबे पाँव घूमते हैं अब ख्यालों में
    बस कोई जतन उनका दीदार होता

    bhut khoob

    ReplyDelete
  20. वो दबे पाँव घूमते हैं अब ख्यालों में
    बस कोई जतन उनका दीदार होता

    नींद की मुझे वो क़रारी कोई दे जाते
    मेरी पलकों पे उनका इख्तियार होता
    Bahut khoobsurat ashaar..

    ReplyDelete
  21. वो दबे पाँव घूमते हैं अब ख्यालों में
    बस कोई जतन उनका दीदार होता

    नींद की मुझे वो क़रारी कोई दे जाते
    मेरी पलकों पे उनका इख्तियार होता

    aapki ghazalen man ko choo jaati hain.

    ReplyDelete
  22. वो दबे पाँव घूमते हैं अब ख्यालों में
    बस कोई जतन उनका दीदार होता

    नींद की मुझे वो क़रारी कोई दे जाते
    मेरी पलकों पे उनका इख्तियार होता
    kal aa nahi paaya tha. navratri ki taiyari karni thi.

    sabhi acche hai lekin mujhe ye do bahut pasand aaye hain.
    ada ji, aap to bas likhti rahein ham der-saber aate hi rahenge.

    ReplyDelete
  23. वो दबे पाँव घूमते हैं अब ख्यालों में
    बस कोई जतन उनका दीदार होता

    नींद की मुझे वो क़रारी कोई दे जाते
    मेरी पलकों पे उनका इख्तियार होता
    kal aa nahi paaya tha. navratri ki taiyari karni thi.

    sabhi acche hai lekin mujhe ye do bahut pasand aaye hain.
    ada ji, aap to bas likhti rahein ham der-saber aate hi rahenge.

    ReplyDelete