Friday, September 4, 2009

बिंदास गुजरती रही...

जोड़कर टुकड़े कई आईने के आज तक
अपने ही अक्स से दरारें मैं भरती रही

सामने मेरे खड़ी है ताबूत सी मेरी ज़िन्दगी
शोर कर रहा है जिस्म पर रूह उतरती रही

दोस्ती है हौसले से और यारी बे-बाकपन से
रोज इनका साथ है पर मन ही मन डरती रही

बह गईं रातें कई और घुल गए कितने ही दिन
पास थे पत्थर के शरर मैं इंतज़ार करती रही

अश्क कुम्हला गए 'अदा' दीद की थी कोटर वहीँ
याद तेरी किरकिरी बन बिंदास गुजरती रही

30 comments:

  1. दोस्ती है हौसले से और यारी बे-बाकपन से
    रोज इनका साथ है पर मन ही मन डरती रही..!!
    सच है ...लाख बेबाकी बिंदासपन और हौसला हो मन के किसी कोने में डर डूब कर बैठा रहता है..
    मन के डर को दूर हटा कर ऐसी ही हौसले और बेबाकी से जिंदगी के सफ़र में आगे बढती रहे.. बहुत शुभकामनायें ..!!

    ReplyDelete
  2. याद तेरी किरकिरी बन बिंदास गुजरती रही...।
    आभार ।

    ReplyDelete
  3. बहुत सही..बेहतरीन रचना!

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत ही सुंदर ग़ज़ल है, बधाई!

    ReplyDelete
  5. बहुत लाजवाब. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. सामने मेरे खड़ी है ताबूत सी मेरी ज़िन्दगी
    शोर कर रहा है जिस्म पर रूह उतरती रही
    ......................बहुत ताकत आ गयी ग़ज़ल के बाद .बिंदास! .................मैं भी बिंदास इंटरव्यू से guzrunga अब .................दी जॉब छुट गयी हैं ...................जा रिया हु रोज़ी-रोटी वास्ते ....................

    ReplyDelete
  7. दोस्ती है हौसले से और यारी बे-बाकपन से
    रोज इनका साथ है पर मन ही मन डरती रही

    हौसले से दौस्ती है और बे-बाकपन से अपनी बात भी रखते हो, रोज इनका साथ भी है, फिर डरना किस बात का और फिर याद किरकिरी बन गई...
    मन के कितने चेहरे

    आपकी हर रचना जितनी बार पढ़ो...उतने ही अर्थ दे जाती है । यह शब्दों का जादू है या उन्हें पिरोने वाली रुह का करिश्मा ????

    धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब !!!

    ReplyDelete
  9. सामने मेरे खड़ी है ताबूत सी मेरी ज़िन्दगी
    शोर कर रहा है जिस्म पर रूह उतरती रही |

    बहुत सुन्दर |

    दी आपकी कल्पनाशीलता को सलाम करता है ये अनुज |

    ReplyDelete
  10. आदित्य,
    तुमने खबर तो अच्छी नहीं सुनाई लेकिन जिस हौसले से सुनाई तारीफ-ए-काबिल है..
    नौकरी ही तो है ..मिलनी है तुम्हें...मेरा आशीर्वाद है तुम्हारे साथ...
    और सबकी शुभकामनाएँ भी......
    दीदी

    ReplyDelete
  11. सामने मेरे खड़ी है ताबूत सी मेरी ज़िन्दगी
    शोर कर रहा है जिस्म पर रूह उतरती रही

    waah gazab,lajaeab

    ReplyDelete
  12. बहुत खुब दीदी क्या कहूँ , आपकी हर रचना सोचने को मजबुर कर देती है कि आपको ऐसे शब्द मिलते कैसे है जिसे पढ कर एक नयी स्फुर्ति आ जाती है। लाजवाब लिखा है आपने..........

    ReplyDelete
  13. दोस्ती है हौसले से और यारी बे-बाकपन से
    रोज इनका साथ है पर मन ही मन डरती रही
    वाह... इस सुंदर ग़ज़ल के लिये बधाई

    ReplyDelete
  14. दोस्ती है हौसले से और यारी बे-बाकपन से
    रोज इनका साथ है पर मन ही मन डरती रही
    क्या बात है! बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  15. सामने मेरे खड़ी है ताबूत सी मेरी ज़िन्दगी
    शोर कर रहा है जिस्म पर रूह उतरती रही

    VAAH ...... JISM AUR ROOH SE BATIYAATI RACHNA ...... LAJAWAAB HAI ...

    ReplyDelete
  16. जोड़कर कर टुकड़े कई आईने के आज तक
    अपने ही अक्स से दरारें मैं भरती रही

    सामने मेरे खड़ी है ताबूत सी मेरी ज़िन्दगी
    शोर कर रहा है जिस्म पर रूह उतरती रही

    kya khoob likha hai...........seedhe dil mein utar gayi ye panktiyan.........tarif ke liye shabd kam pad rahe hain...............bahut badhayi.

    ReplyDelete
  17. जोड़कर कर टुकड़े कई आईने के आज तक
    अपने ही अक्स से दरारें मैं भरती रही

    kamal ka sher likha hai apne bahut hi umda

    अश्क कुम्हला गए 'अदा' दीद की थी कोटर वहीँ
    याद तेरी किरकिरी बन बिंदास गुजरती रही
    aur ye bhi yaad teri kirkiri ban bindas gujarti rahi iska jawab nahi.
    apki rachna jitni baar bhi padho bas padhte hi raho. bahut hi jyada accha likhti hain aap. har bar nayi baat milti hai.

    ReplyDelete
  18. जोड़कर कर टुकड़े कई आईने के आज तक
    अपने ही अक्स से दरारें मैं भरती रही

    सामने मेरे खड़ी है ताबूत सी मेरी ज़िन्दगी
    शोर कर रहा है जिस्म पर रूह उतरती रही

    अदा जी,
    आपका बस जवाब नहीं. मैं जब भी एक दो दिन बाद आता हूँ आपकी पोस्ट में कई नई रचना पढने को मिल जाती है.
    आज के सभी शेर लाजवाब हैं बहुत ही खूबसूरत हैं
    हैरानी होती है आपकी कल्पनाशीलता पर. हर दिन ऐसा लिखना आसान काम नहीं है
    आपके टैलेंट को सलाम करता हूँ. बहुत कम होंगे जो ऐसा कर सकते हैं.

    ReplyDelete
  19. जोड़कर कर टुकड़े कई आईने के आज तक
    अपने ही अक्स से दरारें मैं भरती रही

    zabardast hai.

    सामने मेरे खड़ी है ताबूत सी मेरी ज़िन्दगी
    शोर कर रहा है जिस्म पर रूह उतरती रही

    kya baat hai !!!!

    दोस्ती है हौसले से और यारी बे-बाकपन से
    रोज इनका साथ है पर मन ही मन डरती रही

    aaj tera banda foota hai
    ha ha he he ho ho

    बह गईं रातें कई और घुल गए कितने ही दिन
    पास थे पत्थर के शरर मैं इंतज़ार करती रही
    Clear kar ???
    call karungi
    अश्क कुम्हला गए 'अदा' दीद की थी कोटर वहीँ
    याद तेरी किरकिरी बन बिंदास गुजरती रही
    ye to bindaas lagi. bahut badhiya.
    bahut accha likha hai yaar

    ReplyDelete
  20. यह कम्बखत मौसम भी क्या सितम ढाता है ....दिल के गीतों को राग नया दे जाता है ..
    याद आ जाती बीती बातो की वो घडियां सुहानी ,कलम पर भी सरुर सा छा जाता है :)

    शुक्रिया जी इतना खूबसूरत कॉमेंट देने के लिए

    ReplyDelete
  21. किस शे'र की तारीफ़ और कहूं...और क्या कहूं...बस इक ही शब्द...वाह! जारी रहें.

    ---

    आप हैं उल्टा तीर के लेखक / लेखिका? [उल्टा तीर] please visit: http://ultateer.blogspot.com

    ReplyDelete
  22. बहुत सुंदर
    और शब्द सूझ नहीं रहे

    ReplyDelete
  23. बहुत सही..बेहतरीन रचना!
    badhaai,,,!!
    :)

    ReplyDelete
  24. आगे बाप गे....इए आप किया कर रिये हो....??इत्ता सारा लेखन......इत्ता-इत्ता गाना......वो भी तकरीबन बढ़िया...अच्छा.....खूबसूरत.....मतलब....बढ़िया....बढ़िया....और बहुत ही बढ़िया....इसीलिए तो मुंह से निकल रिया है......आगे बाप गे....इए आप किया कर रिये हो....??

    ReplyDelete
  25. सामने मेरे खड़ी है ताबूत सी मेरी ज़िन्दगी
    शोर कर रहा है जिस्म पर रूह उतरती रही

    zindagi taboot se baaahar bhi to sakti hai....?

    बह गईं रातें कई और घुल गए कितने ही दिन
    पास थे पत्थर के शरर मैं इंतज़ार करती रही

    bahut hi khoobsoorat lines.....

    aur intezar bhi to khatm hosakta hai....

    ReplyDelete
  26. जोड़कर टुकड़े कई आईने के आज तक
    अपने ही अक्स से दरारें मैं भरती रही

    Bahut hi umda rachna.
    Badhai !!

    ReplyDelete
  27. दोस्ती है हौसले से और यारी बे-बाकपन से
    रोज इनका साथ है पर मन ही मन डरती रही
    bahut khoobsurat sher

    ReplyDelete