Tuesday, September 22, 2009

प्राणों के दीपक जलने लगे हैं


हकीक़त के ईंटों के नीचे दबे हैं वो
सपने जो पानी से गलने लगे हैं

सजीं हैं क़रीने से कीलें वफा की
टंगा है मन काम चलने लगे हैं

फर्जों के साहुल से कोना बना जो
अरमां वहीं पर पिघलने लगे हैं

जुड़तीं हैं जब-जब पथरीली यादें
अश्कों के मोती फिसलने लगे हैं

ख्वाबों का गारा क्या खुशबू उड़ाए
मन-मन्दिर में वो ढलने लगे हैं

तोरण है गुम्बज है घंटी बेलपाती
प्राणों के दीपक अब जलने लगे हैं


साहुल - ये एक छोटा सा यंत्र होता है जिसे राज-मिस्त्री प्रयोग में लाते हैं , सीधी लाइन देखने के लिए.

सारी तसवीरें गूगल का सौजन्य से ....

31 comments:

  1. हकीक़त के ईंटों के नीचे दबे हैं वो
    सपने जो पानी से गलने लगे हैं
    Waah, Ati Sundar Bhav..naye tarike ki sundar kavita padhane ko mili..dhanywaad..

    ReplyDelete
  2. ववफ़ा की कीलें ...फर्जों का साहुल ...ख्वाबों का गारा ...एक पूरी मजबूत इमारत का अक्स नजर आ रहा है ...!

    ReplyDelete
  3. अद्भुत शब्द प्रयोग और ग़ज़ब के भाव...वाह...बहुत बहुत बधाई...
    नीरज

    ReplyDelete
  4. कीक़त के ईंटों के नीचे दबे हैं वो
    सपने जो पानी से गलने लगे हैं
    ये रूह का महल है शायद बहुत खूब्

    ReplyDelete
  5. सजीं हैं क़रीने से कीलें वफा की
    कई काम इक साथ चलने लगे हैं

    अदा जी नमस्कार !
    बेहतर लेखनी !!

    ReplyDelete
  6. फर्जों के साहुल से कोना बना जो ,अरमाँ वहीँ पर पिघलने लगे हैं ' .. भावपूर्ण एवं व्यावहारिक अभिव्यक्ति ..सुन्दर एवं गंभीर रचना ..

    ReplyDelete
  7. "जब कुछ रिश्तों की दीवारें ढह गयीं ,
    उस मलबे के नीचे क्या ,क्या ,दबा गयीं "

    और क्या कहूँ? आपकी टक्कर का तो कभी ना कह पाउंगी...

    ReplyDelete
  8. ख्वाबों का गारा क्या खुशबू उड़ाए
    मन-मन्दिर में वो ढलने लगे हैं
    बहुत सुंदर कविता धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. waah bahut hi khub .........utkrisht rachana.........

    ReplyDelete
  10. प्राणों के दीपक अब जलने लगे हैं

    बहुत खूब हाल बयाँ किया है आपने

    ReplyDelete
  11. aDaDi ye aankhein kiski hain?

    Google uncle ki?

    ReplyDelete
  12. फर्जों के साहुल से कोना बना जो
    अरमां वहीं पर पिघलने लगे हैं |

    गजब की कशीदाकारी है ।
    आभार ।

    ReplyDelete
  13. अदा जी
    बहुत खूबसूरत ख्याल,
    हम तो ऐसा सोच ही नहीं पाते.

    ReplyDelete
  14. अदा जी
    बहुत खूबसूरत ख्याल,
    हम तो ऐसा सोच ही नहीं पाते.

    ReplyDelete
  15. e photuwa to bahut hi bhaya !!

    ka kamal ka ladki jhai bhai !!

    ek dumaaiye patthar !!

    ReplyDelete
  16. हकीक़त के ईंटों के नीचे दबे हैं वो
    सपने जो पानी से गलने लगे हैं

    सजीं हैं क़रीने से कीलें वफा की
    टंगा है मन काम चलने लगे हैं
    waah !!
    lajwaab baat kahi hai.

    फर्जों के साहुल से कोना बना जो
    अरमां वहीं पर पिघलने लगे हैं
    ham sabhi yahi kar rahe hain.

    जुड़तीं हैं जब-जब पथरीली यादें
    अश्कों के मोती फिसलने लगे हैं
    bahut marmik !!

    ख्वाबों का गारा क्या खुशबू उड़ाए
    मन-मन्दिर में वो ढलने लगे हैं

    तोरण है गुम्बज है घंटी बेलपाती
    प्राणों के दीपक अब जलने लगे हैं
    be-hadd-khoobsurat.
    aaj bahut dino baad 'sahul' shabd sun kar man asmanjas aur khushi se bhar gaya.

    ReplyDelete
  17. हकीक़त के ईंटों के नीचे दबे हैं वो
    सपने जो पानी से गलने लगे हैं

    सजीं हैं क़रीने से कीलें वफा की
    टंगा है मन काम चलने लगे हैं
    waah !!
    lajwaab baat kahi hai.

    फर्जों के साहुल से कोना बना जो
    अरमां वहीं पर पिघलने लगे हैं
    ham sabhi yahi kar rahe hain.

    जुड़तीं हैं जब-जब पथरीली यादें
    अश्कों के मोती फिसलने लगे हैं
    bahut marmik !!

    ख्वाबों का गारा क्या खुशबू उड़ाए
    मन-मन्दिर में वो ढलने लगे हैं

    तोरण है गुम्बज है घंटी बेलपाती
    प्राणों के दीपक अब जलने लगे हैं
    be-hadd-khoobsurat.
    aaj bahut dino baad 'sahul' shabd sun kar man asmanjas aur khushi se bhar gaya.

    ReplyDelete
  18. जुड़तीं हैं जब-जब पथरीली यादें
    अश्कों के मोती फिसलने लगे हैं

    ख्वाबों का गारा क्या खुशबू उड़ाए
    मन-मन्दिर में वो ढलने लगे हैं

    तोरण है गुम्बज है घंटी बेलपाती
    प्राणों के दीपक अब जलने लगे हैं

    बहुत ह्रदय-स्पर्शी होती हैं रचनाएँ अदा की
    कोई बता दे मेरे स्पर्शित ह्रदय को
    किसने रचा अदा को
    जो हर रोज एक खूबसूरत अहसास
    इस दिल में छोड़ जाती हैं ।।।

    धन्यवाद

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...साहुल भी जान गये कि क्या होता है. :)


    बेहतरीन!!

    ReplyDelete
  20. सजीं हैं क़रीने से कीलें वफा की .....................................................प्राणों के दीपक अब जलने लगे हैं.........और बताइये ....................सपने ,हकीक़त की इंटों के नीचे पानी से गलने लगे हैं ,...................,सच ज़रूरत हैं ,और दर्पण बिलकुल ठीक साहुल लेने गया हैं लौटा नहीं दी अब तलक ....................

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...साहुल भी जान गये कि क्या होता है....

    :(


    बेहतरीन!!

    ReplyDelete
  22. सजीं हैं क़रीने से कीलें वफा की
    टंगा है मन काम चलने लगे हैं

    ये मुझे सबसे अच्छी लगी है
    तेरे को साहुल याद है क्या बात है
    मुझे अब याद आया जब मैंने पढ़ा
    बहुत.....अच्छा लिखती है

    ReplyDelete
  23. जुड़तीं हैं जब-जब पथरीली यादें
    अश्कों के मोती फिसलने लगे हैं
    bahut khoob .main ek mahine bahar rahi aur sabki rachnaye miss karti rahi ,par man blog se hi juda raha .

    ReplyDelete
  24. बहुत लाजवान रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  25. adaa ji.. ye thik se samajh mein nahi aaya.. kripya ye samjhane ka kasht karengi..

    ReplyDelete
  26. आपके शब्द चयन और भावाभिव्यक्ति ने मंत्रमुग्ध कर दिया....

    बहुत बहुत बहुत ही सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  27. प्रिय अम्बुज,
    खुश रहो,

    हकीक़त के ईंटों के नीचे दबे हैं वो
    सपने जो पानी से गलने लगे हैं

    इसका मतलब है..वो सपने जो हमने देखे थे वो हकीकत रुपी इंत के नीचे दब गए हैं और अब तो पानी से गलने भी लगे हैं...अर्थात इंसान यथार्थ में इस तरह उलझ जाता है कि सपनों के लिए कुछ भी नहीं कर पता हैं...

    सजीं हैं क़रीने से कीलें वफा की
    टंगा है मन काम चलने लगे हैं
    कसमें-वफायें सभी अपनी जगह धरी रह जातीं हैं, मन उनमें उलझा रहता है फिर भी अपना काम हम करते रहते हैं..

    फर्जों के साहुल से कोना बना जो
    अरमां वहीं पर पिघलने लगे हैं
    अरमानों के सामने फ़र्ज़ ज्यादा बड़े हो जाते हैं....

    जुड़तीं हैं जब-जब पथरीली यादें
    अश्कों के मोती फिसलने लगे हैं
    जब भी यादें आतीं हैं आंसू बहते हैं....

    ख्वाबों का गारा क्या खुशबू उड़ाए
    मन-मन्दिर में वो ढलने लगे हैं
    ख्वाब में ही सही मन में किसी की तस्वीर बनने लगी है....

    तोरण है गुम्बज है घंटी बेलपाती
    प्राणों के दीपक अब जलने लगे हैं
    ह्रदय में मंदिर का तोरण है गुम्बज है घंटी और बेल की पट्टी है
    और मेरे प्राण दीपक की तरह जलने लगे हैं...

    ReplyDelete
  28. हमेशा की तरह सुन्दर रचना .

    अपने देश मैं साहुल का प्रयोग तो होता है पर इधर तो साहुल भी नहीं चलता |

    यहाँ वो गारा भी अलग है ...

    ReplyDelete
  29. जुड़तीं हैं जब-जब पथरीली यादें
    अश्कों के मोती फिसलने लगे हैं
    भावनाओ का और शब्दो का सशक्त सम्मिश्रण
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  30. Bahut bahut shukriya.. itni acchi tarah se matlab samjhane ke liye..
    bahut hi sunder arth hai.. jeevan ka sach hai ye to..
    aasha karte hain aisi aur bhi rachnayein milti rahengi..

    ReplyDelete