Thursday, February 4, 2010

अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं

हमारी जिंदगी में भी कई बे-नाम रिश्ते हैं
उन्हें हम इतनी शिद्दत से न जाने क्यूँ निभाते हैं 

तुम्हारी हर दगाबाज़ी हमें जी भर रुलाती है
सबेरा जब भी होता है तो हम सब भूल जाते हैं 

यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं 
अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं ? 

 
ये दिल इस दर्द के जज़्बात से जब भी लरजता  है
पकड़ कर डाल हम ख़ामोशियों के झूल जाते हैं

बड़ा है कौन यां ग़र तुम, कभी इस बात को सोचो
चमारों के छुए पर  ये बिरहमन क्यूं नहाते हैं..?

कभी सोचा 'अदा' तुमने, गरीबों की ही बीवी को 
सभी देवर से क्यूँ बनकर के भाभी जाँ बुलाते हैं ?




42 comments:

  1. दिल दर्द के जज्बात से लरजता है ...खामोशियाँ अख्तियार होती ही हैं ....
    आभासी दुनिया के झूठे पत्थर सच्ची चोट पहुंचाते हैं .....बहुत
    दगाबाजी किसी की रुलाये मगर उसे भूल नहीं पाने की मजबूरी ....
    चमारों के छूने पर ब्रह्मण नहाते थे ...अब सब समान हैं
    हाँ ...गरीब की लुगाई आज भी सबकी भोजाई जान होती है ...यही अंतिम कडवा सत्य है .....

    एक ही प्रविष्टि कितने मोती समेट लाई .....भाव देखूं ...प्रवाह देखूं ...दिल देखूं ...दिमाग देखूं ...बता मेरे मन क्या देखूं क्या ना देखूं ....तू ही बता कुछ ....:):)

    ReplyDelete
  2. यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
    अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं ?


    -यही हाल होता है सच्चों का और यही जमाना है.

    ReplyDelete
  3. ग़ज़ल बेहद पसंद आई।

    ReplyDelete
  4. कतिपय युगीन सच्चाईयों को समेटे अच्छी रचना

    ReplyDelete
  5. बड़ा है कौन यहाँ ग़र तुम, कभी इस बात को सोचो
    चमारों के छुए पर ये बिरहमन क्यूं नहाते हैं..?

    अच्छी ग़ज़ल, जो दिल के साथ-साथ दिमाग़ में भी जगह बनाती है।

    ReplyDelete
  6. लौकिकता के बड़े भेद हैं
    तरह-तरह के बुनावट का सामना करना ही होता है

    "यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
    अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं"

    बहुत ही मारक अभिव्यक्ति है
    जिसका कोई जवाब नहीं...।
    आभार...!

    ReplyDelete
  7. सच्ची बात कही थी मैंने... लोगों ने सूली पे चढ़ाया...
    जय हिंद...

    ReplyDelete
  8. "कभी सोचा 'अदा' तुमने, गरीबों की ही बीवी को
    सभी देवर से क्यूँ बनकर के भाभी जाँ बुलाते हैं?"

    वाह! "गरीब की लुगाई सभी की भौजाई" लोकोक्ति को क्या काव्यमय सुन्दर रूप दिया है!

    ReplyDelete
  9. यकीनन एक उम्दा रचना...!

    ReplyDelete
  10. यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
    अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं ? ..


    बहुत जान दार शे'र है अदा जी...

    हालांकि पूरी ग़ज़ल को देखते हुए..आभासी शब्द ज़रा खटका था...लेकिन..इस के बिना शायद इस शे'र में वो बात आती ही नहीं ..जो आई है....

    अभी ज़रा जल्दी में हैं...बाकी एक बार फिर आते हैं..फुर्सत से..

    ReplyDelete
  11. ओह हो , आज आपकी रचना कहीं ना कहीं दिल में उतर गयी , बहुत गजब लिखा है आज आपने । बधाई

    ReplyDelete
  12. चलते चलते इस सुन्दर से मक्ते पर कहना चाहेंगे.....कि...हमने तो अमीर आदमी की बीवी को भी गरीबों द्वारा भाभी जी कहते सुना है..
    एक किस्सा याद आ गया..पर फिर कभी...

    ReplyDelete
  13. दुनिया बनाने वाले, काहे को दुनिया बनाई,
    काहे बनाए तूने माटी के पुतले,
    गुपचुप तमाशा देखे सारी खुदाई,
    काहे को दुनिया बनाई...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  14. यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
    अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं ?
    wah! kya baat hai....!!
    http://kavyamanjusha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  15. ग़ज़ल ने बहुत से भावों को समेटा हुआ है....अपनी व्यथा के साथ साथ जातिवाद और रिश्तों पर अच्छा कटाक्ष है....

    ReplyDelete
  16. कभी सोचा 'अदा' तुमने, गरीबों की ही बीवी को
    सभी देवर से क्यूँ बनकर के भाभी जाँ बुलाते हैं ?

    बहुत खूब अदा जी

    ReplyDelete
  17. क्या कहें, सिवा ये के वाह शानदार अभिव्यक्ति!
    वाकई शानदार!

    ReplyDelete
  18. बड़ा है कौन यहाँ ग़र तुम, कभी इस बात को सोचो
    चमारों के छुए पर ये बिरहमन क्यूं नहाते हैं..
    बहुत खूबसूरत गज़ल. बधाई.

    ReplyDelete
  19. कभी सोचा 'अदा' तुमने, गरीबों की ही बीवी को
    सभी देवर से क्यूँ बनकर के भाभी जाँ बुलाते हैं शायद इसी लिए यह लोकोक्ति बनी है "निर्धन की पत्नि सबकी भाभी" अथवा "a light purse is a heavy curse".

    ReplyDelete
  20. कुछ तो कशिश है तेरे लेखन में
    वरना हम क्यों चले आते हैं।

    ReplyDelete
  21. कभी सोचा 'अदा' तुमने, गरीबों की ही बीवी को
    सभी देवर से क्यूँ बनकर के भाभी जाँ बुलाते हैं ?

    ufffffffffff Ada ji ! aaz to gazab kar dia...kya likh dala hai...
    wah wah wah...dil se nikalkar seedhe dil tak jati hain panktiyan.

    ReplyDelete
  22. जवाब नहीं !!!.......बहुत सुन्दर रचना ..

    ReplyDelete
  23. "हमारी जिंदगी में भी कई बे-नाम रिश्ते हैं
    उन्हें हमइतनी शिद्दत से न जाने क्यूँ निभाते हैं"

    पहले तो
    मतले ने ही सोचने पर
    मजबूर कर दिया है ......
    रिश्तों की शिद्दत ही
    दिल को खींचे चली जाती है...शायद
    और
    "सबेरा जब भी होता है तो हमसब भूल जाते हैं"
    जी हाँ .....
    इंसान की फ़ित्रत कुछ इसी तरह की ही है
    शिद्दत यहाँ भी काम कर जाती है
    "ये दिल इस दर्द के जज़्बात से
    जब भी लरजता है
    पकड़ कर डाल हम ख़ामोशियों ki,
    झूल जाते हैं..."
    ये शेर अपनी शिद्दत का एहसास करवा कर
    जज़्बात में बहा ले गया मुझे.....
    कुछ कहते नहीं बनता है .........
    और "सभी देवर ....."
    no comments

    रचना अच्छी है
    प्रभावशाली है
    खुद पुकारती है
    पढ़े जाने के लिए .

    b a d h a a e e .

    ReplyDelete
  24. यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
    अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं ?
    Kya kahun harek pankti aapne aapme mukammal hai...sochnepe majboor karti hai!

    ReplyDelete
  25. खूबसूरत ग़ज़ल
    समाज से परिचय करवाती, उसे ताने देती और निर्बल के पक्ष में खड़ी ग़ज़ल.

    ReplyDelete
  26. bahut khoobsurat gazel he jo bata rahi he lekhak ki kalam me kamaal to hai hi aur shabdo ki shamsheer ki dhaar bhi tez hai..bahut khoob. badhayi.

    ReplyDelete
  27. गिरिजिश जी उवाच ....

    सुबह व्यस्त था, देख नहीं पाया।
    पहली दो पंक्तियों को व्याकरण की दृष्टि से देखें तो इस रचना को ग़ज़ल नहीं कह सकते लेकिन 'कविता' इतनी उत्कृष्ट है कि पूछिए मत।
    मैं तो बस सहज प्रवाह देख कर आप से ईर्ष्या करने लगा हूँ।
    किसी पारलौकिक विभूति का आप के उपर आशीर्वाद है। ऐसा लग रहा है।
    ऐसे ही नेट पर हिन्दी को समृद्ध करते रहिए।

    आभार,
    गिरिजेश

    ReplyDelete
  28. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  29. मैं इसी ज़माने की बात कर रही हूँ...हृदय पुष्प जी...
    और आज की ही बात है...
    आप बाक़ायदा इसे देख सकते हैं...गाँव में...शहर में .....हिन्दुस्तान बदल रहा है ...बदला नहीं है...
    मैं तो २००८ में ही देख कर आई हूँ...अब २०१० में बात बदल गई हो तो बात अलग है...

    ReplyDelete
  30. यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
    अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं

    "कभी सोचा 'अदा' तुमने, गरीबों की ही बीवी को
    सभी देवर से क्यूँ बनकर के भाभी जाँ बुलाते हैं?"
    अरे अदा जी आप तो गज़ब ढा रही हैं क्या अमीरों की बीबी को कह कर जेल जाना है? । हमेशा कमजोर पर ही जोर चलता है बहुत खूब बधाई

    ReplyDelete
  31. मैं छुआछुत का विरोध करता हूँ चाहे वो जातिगत हो या किसी वर्ग विशेष के प्रति तथा ग़ज़ल में प्रयुक्त जातिसूचक शब्दों की कड़े शब्दों में निंदा करता हूँ.

    ReplyDelete
  32. बड़ा है कौन यां ग़र तुम, कभी इस बात को सोचो
    चमारों के छुए पर ये बिरहमन क्यूं नहाते हैं..?

    मेरा यह शेर जातिवाद और छुआछूत के विरोध में ही लिखा गया है...
    गौर से पढ़िए इसे...!!

    ReplyDelete
  33. bahut hi sensitive topic chuna hai Ada aur use bahut hi achhi tarah bataya bhi hai.

    bahut hi achha likha hai

    -Sheena

    ReplyDelete
  34. के बाति के तान बनल बा के बाति के बाना
    ?
    के बाति के जाति बनल बा के बाति के दाना
    ?
    अदा बाति के तान बनल बा जुदा बाति के बाना

    बिना बाति के जाति बनल बा दिलफुलवा पगलाना।

    देखs खाली दाना..
    .. हा जोगीरा सरssरsर

    ReplyDelete
  35. Hello ji,

    Aapne itna achha likha hai, ghehraayi aur sachhai se...

    Mann ko chooh gayi. Great job done :)

    Just one thing... "सबेरा जब भी होता है तो हम सब भूल जाते हैं" -- is it savera or sabera? I think it should be 'savera'..

    Just thought to confirm, I could be wrong :)

    Regards,
    Dimple

    ReplyDelete
  36. अदा साहिबा, आदाब
    तुम्हारी हर दगाबाज़ी हमें जी भर रुलाती है
    सबेरा जब भी होता है तो हम सब भूल जाते हैं
    रिश्तों को हर हाल में
    निभाने का पैगाम दिया है आपने
    यहाँ ये कैसी दुनिया है जिसे आभासी कहते हैं
    अगर पत्थर वो झूठे हैं, क्यूँ सच्चे चोट खाते हैं?
    बडा सवाल?
    शानदार ग़ज़ल

    ReplyDelete
  37. kisi shayar n4 sach hi kaha hai
    " yE TO PATHRON KA SHAHAR HAI.
    YAHAN KIS KO APNA BANAAIE"
    AAPKI KAVITA DIL KO BAHOT BHAAEE.

    ReplyDelete
  38. @Dimps,
    Thanks a lot for your lovely comment,

    about the word, सबेरा
    सबेरा = dawn
    सबेरा = daybreak
    सबेरा = prime
    it is सबेरा...

    ReplyDelete
  39. अदा जी, आपने फ़िर दिखा दिया कि आप एक संवेदनशील ह्रदय रखती है। गजल और/या कविता की तो खैर ज्यादा समझ मुझे है नहीं, पर ऐसा लगता है कि आपका मन कुछ उद्वेलित है। यह अंदाजा इस बात से लगा रहा हूं कि ’a picture in the room is the picture of mind of the occupant', पता नही मैं सही हूं या नहीं।

    ReplyDelete
  40. हमारी जिंदगी में भी कई बे-नाम रिश्ते हैं
    उन्हें हम इतनी शिद्दत से न जाने क्यूँ निभाते हैं

    ये दिल इस दर्द के जज़्बात से जब भी लरजता है पकड़ कर डाल हम ख़ामोशियों के झूल जाते हैं
    ye do sher dil k bahut bhaye, lekin poori ghazal bahut hi khoobsurat hai 'ada' ji !!

    ReplyDelete
  41. kavita dil men andar tak chali gayee, Aaj ke sach ki peerha kavi hriday hi samajh sakta hai.

    ReplyDelete