Monday, February 1, 2010

बैंगन की डंठल

एक पुरानी कविता....

याद है मुझे,
बचपन में,
तरकारी से
वो बैंगन की डंठल
के लिए लड़ पड़ना,
सिर्फ इसलिए कि,
वह चिकन के जैसे
होने का
अहसास दिलाती थी |
उसे लुत्फ़ से,
नोच नोच कर खाना
और एकदम
विजेता बन जाना,
बचे हुए
रानों पर हिकारत
की नज़र फेकना,
और ख़ुद को
सांत्वना देना कि
हमने सचमुच
चिकन खाया है |
वो लड़ाई
अब तक रुकी नहीं
मानसिकता की तरकारी
से प्रभुत्वता की डंठल 
हर कोई झपट
रहा है,
विजयी बनने का ख्वाब
बैंगन और चिकन का
फर्क मिटा देता है,
पता तब चलता है
जब वही चूसी हुई 
डंठल की रान, 
कुटिलता से मुस्काती है, 
छले जाने का 
अहसास कराती है,
देर हो जाती है
और हम
बैंगन में चिकन
की मरीचिका से निकल
नहीं ही पाते हैं.....



32 comments:

  1. जब वही चूसे हुए
    डँठल की रान,
    कुटिलता से मुस्काते हैं,
    तुम्हें छले जाने का
    अहसास कराते हैं,
    देर हो जाती है
    और हम
    बैंगन और चिकन
    की मरीचिका से निकल
    नहीं ही पाते हैं...

    वाह !! क्‍या बात है !!

    ReplyDelete
  2. मानसिकता की तरकारी
    से प्रभुत्वता की डँठल
    हर कोई झपट
    रहा है,


    -शानदार, क्या बात कही है बैंगन की तरकारी के माध्यम से. वाह!

    ReplyDelete
  3. हिन्दी ब्लागिंग का भी तो यही चरित्र हैं -यहाँ बैगन का डंठल चूसने वालों का ही जमावड़ा है .

    ReplyDelete
  4. मानसिकता की तरकारी
    से प्रभुत्वता की डँठल
    हर कोई झपट
    रहा है,
    बैगन के माध्यम से प्रभुत्वता को रेखांकित करती खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  5. वाह !
    क्या तरकारी है
    संकोच का भाव,
    एक ग़रीबी का गर्व,
    एक गंवारपन का स्वाभिमान
    बैंगन ...
    चिकन पर
    भारी है!!

    ReplyDelete
  6. बैंगन चिकन जैसा ही स्वाद देता है क्या ...कभी चिकन खाया नहीं ...इसलिए पता नहीं ...:)
    हाँ ....बैंगन और चिकन को चबा चबा कर खाते लोगो को देखा बहुत है ....कैसा लगता है ...ये यहाँ नहीं बताउंगी ...वर्ना एक और महाभारत प्रारम्भ हो जायेगी ...:):)
    चूसी हुई डंठल की रान, कुटिलता से मुस्काती है, छले जाने का अहसास कराती है,देर हो जाती है....
    बहुत बहुत भाई ये पंक्तियाँ .....उन चेहरों की कुटिलता भरी मुस्कान की कल्पना ही अद्भुत आनंद दे रही है ...सटीक कटाक्ष करती हैं

    बहुत बढ़िया ...!!

    ReplyDelete
  7. अदा जी, कमाल करती हैं...
    थाली के बैंगन को भी लुढ़कने से रोक देती हैं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  8. याद आ गयी ..काफी पहले पढ़ी थी ये कविता...
    इसी के साथ जुडी और भी कई बाते याद हो आयीं...
    हम तो असल में भुरता बनाते हैं ज्यादा तर बैंगन का..
    और भुर्ते में कोई सीन होता नहीं डंठल का.....वो हम पहले ही काट कर फेंक देते हैं...सो इस लालच से अक्सर दूर ही हैं...

    वैसे हाँ,
    कभी कभी लगता तो है चिकन जैसा डंठल खाना...
    पर अब नहीं...

    अब तो हम चिकन भी खाना शुरू कर दिए हैं ना....?

    ReplyDelete
  9. बहुत ही मार्मिक अभिव्यक्ति ।
    आभार..!

    ReplyDelete
  10. मैं आज की कविताओं में अलंकार खोजने की कोशिश करता हूँ। आपकी इस कविता के भाव में उत्प्रेक्षा अलंकार है। जब उपमेय (जिसकी तुलना की जा रही हो) को ही उपमान (जिससे तुलना की जा रही हो) मान लिया जाता है तो उत्प्रेक्षा अलंकार होता है। प्रस्तुत कविता में बैंगन की डंठल को चिकन मान लिया गया है इसलिये उत्प्रेक्षा अलंकार हुआ।

    यदि कविता में उत्प्रेक्षा अलंकार से अलंकृत पंक्तियाँ मिल जातीं तो "सोने में सुगन्ध" हो जाता, जैसे किः

    डंठल नहीं यह बैंगन का, मत कहिये इसको बैंगन
    नोच नोच कर खाते इसको, यह तो है साक्षात चिकन

    ReplyDelete
  11. विजयी बनने का ख्वाब
    बैंगन और चिकन का
    फर्क मिटा देता है,
    पता तब चलता है
    जब वही चूसी हुई
    डंठल की रान,
    कुटिलता से मुस्काती है,
    छले जाने का
    अहसास कराती है,

    देर हो जाती है
    और हम
    बैंगन में चिकन
    की मरीचिका से निकल
    नहीं ही पाते हैं.....

    Wah,Bahut khoob !

    ReplyDelete
  12. पहली टिप्पणी में बताना भूल गयी ...हैदराबादी बैंगन बहुत स्वादिष्ट बनाती है मेरी माँ और मैं भी ...:):)...

    बैंगन खाना बिलकुल पसंद नहीं था ...मगर हमारे हॉस्टल में रोज शाम को खाना खाने के समय बत्ती गुल हो जती थी ...बिहार में बिजली का हाल तो आप जानबे करती हैं ...पूरा खाना खा चुकने ke बाद कुक बताता था कि आज तो बैगन का भुरता था खाने में ..

    ReplyDelete
  13. वो लड़ाई
    अब तक रुकी नहीं
    मानसिकता की
    तरकारी से प्रभुत्वता की
    डंठल हर कोई झपट रहा है,
    विजयी बनने का ख्वाब
    बैंगन और चिकन का
    फर्क मिटा देता है

    आज कि मानसिकता को बैगन के डंठल से जोडना .. एक गज़ब की सोच है और बड़ी सटीक भी....मानसिकता पर सोचने को मजबूर करती अच्छी रचना...

    ReplyDelete
  14. अदा साहिबा, आदाब
    वो लड़ाई..अब तक रुकी नहीं..मानसिकता की तरकारी
    से प्रभुत्वता की डंठल..हर कोई झपट..रहा है,
    विजयी बनने का ख्वाब.....
    ....!!!!!
    और कभी रुक जायेगी,
    ऐसी उम्मीद की किरन नज़र भी नहीं आती

    ReplyDelete
  15. वाह बैगन के डंठल के माद्ध्यम से बहुत सही विश्लेषण किया है आपने आज कि मानसिकता का.

    ReplyDelete
  16. हम तो vagetarian by choice हैं ये सारे फर्क नहीं जानते पर...बैंगन और चिकेन के माध्यम से कही गूढ़ बातें बड़ी अच्छी लगीं.

    ReplyDelete
  17. बैगंन और चिकन से आपने कितनी गहरी बात कह दी

    ReplyDelete
  18. बचपन में बैंगन खाते नहीं थे, घ्‍ार में ही वर्जित था तो यह भाव कभी आया नहीं। फिर पूर्ण शाकाहारी भी थे तो मांसाहार की कल्‍पना करना भी खाने के समान ही था। लेकिन आपकी कविता के बिम्‍ब अपनी बात को पुख्‍ता तौर पर कहते हैं।

    ReplyDelete
  19. हम तो बैंगन को बैंगन समझ कर ही खाते हैं जी।
    वैसे आखरी पंक्तियों ने बहुत प्रभावित किया।

    ReplyDelete
  20. Ada di,
    aapne is kavita se jo baat kah di hai, wahi to ho raha blog jagat mein bhi, sab lad rahe hain.
    sundar prastuti !!

    ReplyDelete
  21. adbhut samanjasy dhoondhne ki koshish
    acchi lagi kavita,
    badhai !!

    ReplyDelete
  22. मानसिकता की तरकारी से प्रभुत्वता की डंठल हर कोई झपट रहा है,विजयी बनने का ख्वाबबैंगन और चिकन का फर्क मिटा देता है,पता तब चलता हैजब वही चूसी हुई
    डंठल की रान,
    कुटिलता से मुस्काती है,
    छले जाने का
    अहसास कराती है,

    बैंगन की डंठल की प्रभुत्वता की डंठल से अच्छी उपमा की है ... सुंदर ।

    ReplyDelete
  23. कुछ खास नहीं है कहने को
    अदा के पास
    पर बेखास भी नहीं है कुछ
    उनका कीबोर्ड बेखास को
    बना देता है खास
    बैंगन बहुत समय रहा उदास
    आज है उसके भीतर भरा उल्‍लास।

    ReplyDelete
  24. bangan ke zariye aapne hum sabki maansikta batayi hai

    khud ko satisfy karne ke liye hum kuch bhi karte hai

    -Sheena

    ReplyDelete
  25. बहुत बढिया कविता है।

    मैं तो बैंगन के डंठल की कौन कहे, रोटी के जले हुए छिलके से भी आनंद पाता हूँ ( थोडा सोन्ह/ सोंधा लगता है वह हिस्सा) लेकिन जब तक रोटी गरम हो तभी तक, ठंडी रोटी होने पर रोटी के छिलके वह स्वाद नहीं देते :)

    * रोटी के छिलके appropriate word है या नहीं, कह नहीं सकता। वैसे ठेठ भोजपुरी में 'छिलके' को 'बोकला' कहते हैं :)

    ReplyDelete
  26. वाह रे बैगन , जह हो वैगन जी की । आप इस चिट्ठे को यहाँ भी पढ सकती हैं ।

    ReplyDelete
  27. लिंक ये रहा

    http://tetalaa.blogspot.com/2010/02/blog-post_7133.html

    ReplyDelete
  28. अदा जी,
    आप की पोस्ट का हीरो बनकर बेगुण बैंगन सही में तरकारियों का राजा बनकर इठला रहा होगा। शाकाहारी होने के कारण चिकन के साथ तुलना सही है या गलत, यह निर्णय करने में अक्षम हूं पर मोटी सी बात जानता हूं कि भूख डंठल से नहीं बुझती है और भूख ही सच है बाकि सब मिथ्या है। बाई द वे, बैगन का भरथा, आलू-बैगन की तरकारी और/या तले हुए बैगन मेरी मनपसंद चीजे हैं और अन्य प्रिय चीजों की तरह ये भी हमारे लिये नायाब हैं या फिर नायाब हैं इसीलिये प्रिय हैं, हमेशा की तरह मैं पुन: कन्फ्युज हो रहा हूं
    महोदया, आप मेरे ब्लाग पर आईं, हमें धन्य किया, अब हमारा विनम्र विरोध दर्ज करते हुये अपनी टिप्पणी पर पुनर्विचार करें। दिन आपका नहीं, इस अकिन्चन का बना, बल्कि महीना या साल बना(अगर इंगलिश में ऐसा कोई मुहावरा है तो)। मन ही मन ’मि. नटवरलाल’ का गाना गुनगुना रहा हूं - ’खुदा की कसम मजा आ गया, मुझे मारकर बेशरम खा गया’। सही मायने में आपका बहुत-बहुत आभारी हूं कि आपने अपने व्यस्त समय में से कुछ समय एक नये और अनजाने ब्लागर पर व्यर्थ किया। स्नेह की भूख और ज्यादा लगने लगी है।

    ReplyDelete
  29. इसमे तो दो राय ही नहीं की अपने आप में आपका अंदाज़ निराला है !!
    मगर बेंगान और चिकन के माध्यम से आपने प्रभुत्वता की लड़ाई का जो पहलू पेश किया है...वो बड़ा गहरा भाव है इस रचना का!!

    गेट वेल सून :)

    ReplyDelete
  30. baigan ki to kismat khul gayi ,jise keval rachna me hi nahi piroya gaya balki blog par saaj shringaar ke saath sajaya bhi gaya .saath me usse sahanubhuti bhi jatayi gayi ,waah re baigan teri kismat khul gayi tere marm ko padhne wala bhi koi hai aur jagat ko ahsaas dilane wala bhi ab tujhe khaya jaaye ya baksh diya jaaye ,saari umra saja katne ke liye .hum duvidha me pad gaye ,tere kadam rasoi se nikal blog jagat me jo pad gaye ,chhod diya jaaye ya maar diya jaaye ,bol tere saath ab kya salook kiya jaaye ,maza aa gaya ada ji aapke baigan se milkar .waise to bina gun ka raha magar aaj iski kismat phir gayi aapki dua se .jo aan-baan-shaan se sar uthaye khada hai ,aage aayi kai baar aur aapki tabiyat ke baare me padha aur aapka jawab nahi mila aur 26th jan par bhi aapki anupasthiti dekh khabar lene aa gayi magar is naye sadsaya se mil aanandit ho utha ,

    ReplyDelete
  31. बहुत-सी विशेषतायें आपसे सीख रहा हूँ । पहले तो सबकुछ कविता की विषयवस्तु बनाकर प्रस्तुत करना, यही बड़ी बात है । बैंगन खूबसूरती से विचार-संवाहक हो कर आ गया है, कविता की वस्तु बनकर अर्थ-भाव युक्त भी हो गया है ।

    अब बैंगन खाते वक्त कविता नाचेगी आपकी !

    ReplyDelete