Tuesday, February 16, 2010

ज़रुरत है हिंदी पुरस्कारों के लिए


ज़रुरत है हिंदी पुरस्कारों के लिए
कवियों, लेखकों और साहित्यकारों की
एक कवयित्री चाहिए
जिसका रंग गोरा, कद ५ फीट ३ इंच
बायें गाल पर तिल हो
जिसने ख़ूब खूबसूरती पाई हो
और अपनी हर कविता में
मर्दों की की धुनाई हो
ऐसा हो तो अच्छा है 
और उसके हर लेख में
नारी शक्ति की ही चर्चा हो
एक युवा कवि चाहिए
जो लगभग ५५ का हो
जो भी उसने लिखा हो  
कोई समझ न पाया हो
पहले उसने कुछ भी लिखा हो
पर अब क्षेत्रीयता विरोध अपनाया हो
और यह पक्का कर लेना
वो यू.पी., बिहार का जाया हो  
दलित वर्ग का भी कवि देखो
यह पैदायशी दलित होना चाहिए  
मोटा-ताज़ा ना हो
दलित ही दिखना चाहिए
एक और कैटेगोरी आई है
जो धर्म निरपेक्षता कहलाएगी 
और इसमें सिर्फ़ और सिर्फ़ 
मुसलमान कवि ही आएगा 
जो अलीगढ़ के आस-पास 
ही पाया जाएगा 
कैसे  भी पकड़ कर ले आओ 
उसको मेरे पास
बस हिन्दू-विरोधी न हो
यही बात होवे ख़ास
बाल कवियों की भी श्रेणी है
ये उस जगह पाओगे  
जहाँ बच्चे ग़ायब होते ज्यादा 
ढूँढने का बस कर लो इरादा
मझोले कद का हो और शक्ल से
शरीफ लगता हो
अन्दर से चाहे घाघ हो
पर ऊपर से ख़ूब जंचता हो
इतने से ही हमारा सारा 
काम चल जाएगा
वर्ना हिंदी-विकास का कोटा
साफ़-साफ़ रुल जाएगा  
अरे जल्दी कुछ करो भाई
वर्ना समझो कि शामत आई
मार्च महीना आया है
और ट्रेजरी ने याद दिलाया है
अगर ये राशि नहीं खर्ची तो 
वो सारे पैसे ले जायेगी
और हिंदी साहित्य पुरस्कार की
नैयाँ ऐवें ही डूब जायेगी 
हिंदी विकास का धंधा 
फिर मंदा हो जाएगा
और मेरे-तुम्हारे घर का चूल्हा
भी ठंडा हो जाएगा ...

42 comments:

  1. दी, लगता है कवित्री का चरित्र चित्रण तो हमे ही देख किया है :D
    सटीक व्यंग ...!!
    http://kavyamanjusha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. अदा जी,
    पोस्टर मैं छपवा देता हूं, जिंदा या मुर्दा पकड़वाने वाले को पाबलाजी की ओर से पचास हज़ार का इनाम...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  3. एक युवा कवि चाहिए
    जो लगभग ५५ का हो
    जो भी उसने लिखा हो
    कोई समझ न पाया हो

    -आगे वो दुबला पतला में लफड़ा फंस रहा है, जरा नियम थोड़ा ढीले करिये न!! :)

    ReplyDelete
  4. moti....system abhi theek nahi hai...
    tab tak aise hi jhel le ...

    shandaar jaandar sateek vyangya ....ek purasakar mera reserve rakhna ...nahi to dosti ka kya fayda ,...
    ha ha ha ha ha ha ha ha ...

    ReplyDelete
  5. sateek kataksh !
    Bahut acchee prastuti .
    vyang bhee muskurahat le aaya hoto par......

    ReplyDelete
  6. यह तो घोर अन्याय है मेरे साथ -कोई पुरस्कार विज्ञान के क्षेत्रमें महान
    योगदान के लिए नहीं रखा -मुझे ही तो मिलता

    ReplyDelete
  7. बहुत सटीक ! सधा हुआ !
    हम सबको छांट दिया न आपने !

    ReplyDelete
  8. Di.. shuru me to bahut hansee aayi. ant tak aate aate rona aa gaya.. ki hum to kisi categary me hi nahin aate bhai.. ek puraskaar hamare naam bhi lag jata to... :)
    Jai Hind... Jai Bundelkhand...

    ReplyDelete
  9. बहन मंजूषा - पूरी कविता पढ़ी - कई बार पढ़ी - इस आशा से कि परस्कार के किसी भी श्रेणी के लिए मेरा भी नाम उम्मीदवार के रूप में आ जाय - पर अफसोस ऐसा नहीं हो पाया। मैं तो कहीं भी फिट नहीं हो रहा हूँ। हा - हा - हा -

    शुभकामना।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  10. गनीमत है इस पोस्ट पर नज़र पड़ गई, समय रहते :-)

    आज तो खुशदीप जी ने पंगा ले लिया। वैसे उन्होंने कह दिया है तो मानना ही पड़ेगा।
    लेकिन वह मैं तभी दे पाऊँगा जब वो 11 महीने पहले लिए गए, मेरे बावन हजार लौटा देंगे :-)

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  11. जरुरी बात तो लिखना ही भूल गयी...महिला कवियत्री ऐसे हो जिसमे स्रियों वाली कमजोरी ना हो ...वरना इतने दिन तक मीठी मीठी बातें करने का क्या फायदा ...:)

    ReplyDelete
  12. चयन के लिये गजब की शर्तें हैं...?
    क्या खूब व्यंग किया है..!
    आभार..!

    ReplyDelete
  13. मार्च महीना आया है
    और ट्रेजरी ने याद दिलाया है
    अगर ये राशि नहीं खर्ची तो
    वो सारे पैसे ले जायेगी
    और हिंदी साहित्य पुरस्कार की
    नैयाँ ऐवें ही डूब जायेगी
    हिंदी विकास का धंधा
    फिर मंदा हो जाएगा
    और मेरे-तुम्हारे घर का चूल्हा
    भी ठंडा हो जाएगा ...nice

    ReplyDelete
  14. कविता पढ़कर पहले लगा के ब्लोगर्स की खिंचाई की जा रही है ...
    पर लगा के नहीं यार...
    ये बस कविता ही है........
    पढ़ कर कहीं कहीं पर हँसी आई और कहीं कहीं पर हंसी गायब हो गयी...


    हिंदी विकास का धंधा
    फिर मंदा हो जाएगा .................

    ये लाईन पढ़कर वो युग्म पर अपनी और मेज़र साब की बात याद हो आई...जब हम दोनों ने ही इस शब्द का विरोध किया था के की "हिंदी की जान बचाना" क्या होता है....

    ReplyDelete
  15. @पाबला जी,
    मैंने ये कोई कहा था पचास हज़ार रुपये...मैं छितर आगे लगाना भूल गया था...दो हज़ार बढ़ा कर वापस करूं क्या...

    @अदा जी,
    अब ये मत पूछना छितर का मतलब क्या होता है...क्या कहा...पूछना है...फिर पाबला जी ही बताएंगे...हां इस बार वो फोन के टाइम का ख्याल भी रखेंगे...

    @सुमन जी,
    क्या बात है आज आपने अदा जी की पोस्ट को nice के अमृतदान से वंचित कर दिया...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  16. चूल्हा ठंडा हो जी दुश्मनों का, हमारा तो कलेजा ठंडा हो गया। इतनी सारी श्रेणियां देख कर और वांछित योग्यतायें देखकर हमें पक्का यकीन हो गया कि एक न एक ईनाम हमारा पक्का है, निष्पक्षता दिखाने के लिये एक सही चयन का फ़ार्मूला है ही।

    ReplyDelete
  17. हा हा हा
    खुशदीप जी, लिखा तो मैंने भी नहीं!
    वैसे, अब किसी को बता न देना कि क्यों लिए थे (छित्तर)!!

    ReplyDelete
  18. अनुभव को कोई पुरस्‍कार नहीं? सारी इबारत पढ़ डाली और धत तेरे की अपने लिए कुछ भी नहीं। चलो पुरस्‍कार समारोह में मुख्‍यअतिथि ही रख लेना। बढिया रचना के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  19. मुन्ना भाई से कहते हैं लगता है अपना चिल्हा ठंडा ही रहेगा अरे जाते जाते एक आध इनाम बुढों के नाम भी रख देते। अच्छा व्यंग है शुभकामनायें

    ReplyDelete
  20. सभी नामितों, चयनितों और विजेताओं को अग्रिम बधाई! समारोह में एक दर्शक भी चाहिए न उसके लिए हम तैयार हूँ!

    ReplyDelete
  21. वाह वाह :)सही लिखा है अदा जी आपने ..

    ReplyDelete
  22. ढूँढ़कर अभी लाये बस ।

    ReplyDelete
  23. अदा साहिबा, आदाब
    गहरा, सटीक, चुटीला व्यंग्य...

    ReplyDelete
  24. बढ़िया व्यंग....
    सबको अपने नाम की पड़ी है....
    और सरकार पैसे वापस लेने के लिए खड़ी है .
    गर नाम नहीं भी आते तो कागजों पर ही दिखा दीजिए ..
    और पुरस्कार राशि अपने भाई - भतीजे को ही बंटवा दीजिए....:):)

    ReplyDelete
  25. सटीक उम्दा लाजवाब व्यंग्य....वाह !!!!
    मजा आ गया पढ़कर...आपने बढ़िया पोल पट्टी खोली सबकी...

    ReplyDelete
  26. बढ़िया हास्य व्यंग रचना।
    अदा जी , आप बीच बीच में इस तरह की पोस्ट भी डालते रहिया , माहौल तरो ताज़ा बना रहता है।

    ReplyDelete
  27. @ समीर जी आप बाल कवि श्रेणी में फिट हो सकते हैं...
    वो कहते हैं कि आप कितने क्यूट हैं ..:):)

    ReplyDelete
  28. @ वाणी वो कवयित्री वाली में तू आ सकती है ..बस तिल बनवा ले फटाफट..:)

    ReplyDelete
  29. @ अरविन्द जी ये हिंदी साहित्य पुरस्कार है ...
    आप हिंदी साहित्य लिखते हैं लेकिन विज्ञानं पर नहीं 'बायोलोजी' पर आधारित लिखते हैं ....:):)
    अभी उस कैटेगोरी के बारे में सोचा नहीं है...
    अगर कभी यह कैटेगोरी बन गया तो दूसरे प्रत्याशी की सम्भावना बहुत कम है ...आपकी विजय निश्चित है ...::):)

    ReplyDelete
  30. बहुत ही बढ़िया...व्यंग्य से लबालब कविता

    ReplyDelete
  31. adbhut rachna padhkar aanad aa gaya .zabardast vyang padhte huye hansi bikhar gayi ,

    ReplyDelete
  32. ई का फ़ेदा हुआ जी अपना मुलुक का लोक होने का कौनो एक ठो कैटेगरी ओईसन नहीं रख सकते थे जिसमें हम और आकाशवाणी ...अरे वाणी जी ...दुनु जन को भी कौनो नोमिनेशन आउर प्राईज़ मिल जाता , खाली फ़ोकट में एतना पढवाते हैं न ...जाईये ...हां नहीं तो ....आपही का डायलाग चेप देते हैं
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  33. हा हा हा क्या चुटीला कटाक्ष है ...बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  34. बहुत ही बढ़िया व्यंगात्मक कविता है....एकदम सटीक

    ReplyDelete
  35. लाजवाब व्यंग्य रचना...एकदम सटीक निशाना साधा आपने।
    वैसे भारतीय संविधान में तो ब्राह्मणों,ज्योतिषियों के लिए कोई स्थान नहीं हैं.. किन्तु यदि साहित्यक पुरूस्कार हेतु इनके लिए कोई आरक्षित कोटा हो तो कृ्प्या अवश्य सूचित करें :)

    ReplyDelete
  36. @ अदाजी
    तिल तो वैसे भी बना हुआ है ...कद का क्या करेंगे ...5.1पर अटका है ...

    ReplyDelete
  37. @ अदाजी
    तिल तो वैसे भी बना हुआ है ...कद का क्या करेंगे ...5.1पर अटका है ...

    ReplyDelete
  38. kuch aur bhi shreni jod lijiye sabko shikayat ho rahi hai
    :)

    ReplyDelete