Sunday, February 21, 2010

मेरा और वाणी का ........बुढ़ापा

वैसे तो हमारा (मेरा और वाणी) का बुढ़ापा आने से रहा, अरे हम जैसों को बुढ़ापा कहाँ आता है, वो भी तो बेचारा घबराता होगा (मतलब हमें ऐसा लगता है...ये हमारी खुशफहमी भी हो सकती है :):)) 
फिर भी अगर भूले भटके...बुढ़ापे को हमारे बिना दिल ना लगा...और आ ही जाए तो ...परवा इल्ले:):)
कुछ सौन्दर्य प्रसाधन हम भी यूसिया लेंगे ...और नहीं तो का....
और तब जो हमारे मन में जज्बा होगा.....आपको बताते हैं हम....ये देखिये....

नोट :: एक बात और ये मत समझिये कि बायीं तरफ हम हैं और दाई तरफ वाणी ....जी नहीं, बिलकुल  भी नहीं.....वैसे अगर सोच भी लिया तो कोई बात नहीं.....लेकिन ना ही सोचें तो बेहतर होगा....हाँ नहीं तो...:):)


दर्पण हिल उठे, घरवालों ने भृकुटी तानी थी
ब्यूटी क्वीन बनने की उसने अपने मन में ठानी थी  
खोयी हुई खूबसूरती की कीमत आज उसने पहचानी थी
दूर बुढ़ापा हो जाए इस सोच की मन में रवानी थी 
चमकी डोल्लर सत्तावन में खंडहर वो जो पुरानी थी
सौन्दर्य प्रसाधनों के मुख से हमने सुनी कहानी थी 
टोटा-टोटा बन जाए कल तक वो  जो नानी थी 

कानपुर का झाँवा मिलाया और मिटटी मंगाई बरेली की
लखनऊ का नीम्बू निचोड़ा और रस मिलाई करेली की 
फेस पैक स्वर्गीय बना है बस चूको मत छबीली जी
पाउडर रूज आईलाइनर मसखरा बस यही आपकी सहेली जी  
शहनाज़ के सारे नुस्खे उसको याद ज़बानी थी
सौन्दर्य प्रसाधनों  के मुख से हमने सुनी कहानी थी 
टोटा-टोटा बन जाए कल तक वो जो नानी थी 
हम अपना ख्याल रखेंगे.....:)

टोटा=खूबसूरत लड़की 

मालूम है आप सुन चुके है इस गीत को...तो क्या हुआ , रेडियो पर दिनभर में एक ही गीत को दस बार सुन लेते हैं आप...और हम सुना दें तो शिकायत ??  ना जी दोबारा सुनिए....प्लीज...
आवाज़ वही....क्या कहते हैं ...'अदा' की... और गीत भी वही ...'नैनों में बदरा छाये''

47 comments:

  1. हा हा हा हा हा हा हा हा ह आहा
    हंसी रुके तो कुछ कमेन्ट लिखूं .....!!

    ReplyDelete
  2. रिवर्स गियर की यह रचना
    वाह क्या कहने मजेदार
    और फिर नैनों में बदरा क्यों छाये!
    खूबसूरत गायकी

    ReplyDelete
  3. वाह !!! खूब कही आपने.
    टोटा-टोटा बन जाए कल तक वो जो नानी थी.

    ReplyDelete
  4. गीत अच्छा लगा. बरेली की मिट्टी के तो भाव चढ़ा दिए आपने.

    ReplyDelete
  5. हा हा हा हा हा-
    लेकिन मै क्यों हंस रहा हुँ?
    काया कल्प बुटी जोरदार बनी है,
    इसका पेटेंट करवा लिजिए।:)

    ReplyDelete
  6. हाल दिलों के अजब है सनम
    इन चेहरों का दीदार अजब ढहा गया

    ReplyDelete
  7. अपना बुढ़ापा देखना अच्छा लग रहा है ...मगर मैं निश्चिन्त हूँ ...अपना बुढ़ापा आना नामुमकिन है ...जिंदगी इतनी मुहलत देगी भी .... थोडा ज्यादा गंभीर हो गया क्या ...??

    वैसे ...ईश्वर की कृपा से अभी तक किसी भी मिट्टी की या ब्यूटी पार्लरकी जरुरत नहीं पड़ी है ...नीम्बू शहद से काम चल जाता है ...हाँ .... शीशे कई टूट चुके हैं ...:):)

    और इसमें एक लाइन और जोड़ ...
    रांची के पागलखाने से भागी थी ...
    उसकी यही कहानी थी ...हा हा हा हा हा

    ReplyDelete
  8. मस्कारा को मसखरा बना देने वाली मसखरी पसन्द आई।
    यह जान कर आश्चर्य हुआ कि आप जैसियाँ(शब्द खिंच कर बहुवचन हो गया है) सौन्दर्य प्रसाधनों का प्रयोग नहीं करतीं। :)

    ReplyDelete
  9. ओह तो आज पता चला, मुझे अपनी पत्नीश्री की खूबसूरती का राज़,

    वो भी बरेली की ही हैं न...

    फोटो...
    इमारत बता रही है कि कभी खंडहर बुलंद थे...

    पाबला जी, ए अदा जी ते विचारी शहनाज हुसैन दे खूबसूरती चमकाण दे रोज़गार पिछे ही पै गए लगदे ने...ऐणा कोलो हुणे ही ब्यूटी प्रोडक्ट्स दी एजेंसी लै लेंदे वां, बाद विच पछताना न पऊ....

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  10. हा हा!! दाँयी तरफ आप लग रही हैं....बाँयीं तरफ वाली भी वाणी नहीं..कोई और ही हैं..वैसे तो मैं उन्हें भी जानता हूँ. :)

    ReplyDelete
  11. हा हा हा ! एंजी तो देखकर डर जाएगी, ये रिवर्स का फोटो।

    ReplyDelete
  12. आजकल आपके ब्लाग पर गीत सुनने बारबार आना पडता है.:) बहुत बहुत ही लाजवाब.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. Didi,
    aap abhi itani shararati mijaaj ki hai....bachapan me kya dhoom machati hongi!! :)
    Bhadiya post

    ReplyDelete
  14. मजेदार! ये वीररस वाली कविता भी अपनी आवाज में पोस्ट करतीं तो अच्छा रहता!

    ReplyDelete
  15. पोस्ट पढ़ने के बाद सुबह सुबह मधुर गीत सुन कर तबीयत हरी हो गई।

    ReplyDelete
  16. और तो जो है सो है पर आपका बुढ़ापे वाला फोटो देख कर मजा आ गया!

    सच में आप साहसी हैं कि अपने बुढ़ापे के विषय में सोच सकती हैं वरना लोग तो अपने बूढ़े होने की कल्पना तक नहीं कर सकते।

    ReplyDelete
  17. Ha,ha,....saath kuchh 'asali' tips de detin to ham jaison ka bahut fayda hota....:)

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्छी कविता और उतना ही सुन्दर गायन ।

    ReplyDelete
  19. हा हा हा बहुत अच्छा....

    ReplyDelete
  20. सिर्फ़ टोटा (!)...हज़ारों नाम और भी हैं :)

    ReplyDelete
  21. सौन्दर्य प्रसाधनों के मुख से हमने सुनी कहानी थी
    टोटा-टोटा बन जाए कल तक वो जो नानी थी
    ना बाबा न हम तो नानी ही भले टोटा टोटा होने से। हा हा हा बहुत बडिया शुभकामनायें

    ReplyDelete
  22. hahahahaha...........bahut khoob.
    hai allah ! is khoobsoorti par kaun na mar jaaye............hahahaha

    ReplyDelete
  23. गाना जबरदस्त गाया है आपने !

    ReplyDelete
  24. "एक बात और ये मत समझिये कि बायीं तरफ हम हैं और दाई तरफ वाणी"

    लेकिन आप ये तो क्लियर कर देतीं कि आपकी बाईं तरफ से कि हमारी बाईं तरफ :)

    ReplyDelete
  25. बहुत मजेदार रचना .....

    ReplyDelete
  26. bhai tota tota lage na lage ye naani
    par dono kathakni billiya jaroor lag rahi hai...ha.ha.ha. (bura na mano holi hai) arey to holi ke rang birange rang (while polish) lagavaye baithi aur aur kaaaaaaaaaa :)

    ReplyDelete
  27. अदा जी ,
    एक जगह आपने टीपते हुए लिखा था ---
    '' ...................................
    काव्य-रंग भरी पिचकारी
    पर बुढ भये हैं हम बेचारी |
    ......................................... ''
    .
    इस पर वाणी जी की टीप थी ---
    ''@ पर बुढ भये हैं हम बेचारी....
    काहे जी जला रही हैं ...थोडा भरम बने रहने दीजिये ...
    क्या मिलेगा ऐसे दिल तोड़ कर ....बिगाड़ा फागुन सारा ...
    जोगीरा ....धुत्त ''
    ..........................................
    -------------- जब यह सब देखा था तभी आचारज को इल्हाम
    हो गया था कि वृद्ध - चिंतन - परकता पर एक
    गमागम पोस्ट गिरेगी जरूर .... सो हो भी गया वही ...
    ... ई बात तो मान लीजिये कि आचारजवा मजे का 'जोतखी' भी है ....
    .
    अच्छा लिखा है ... हंसी-खुशी के साथ वार्धक्य - बोध रखना आपकी इस
    प्रविष्टि की कुशलता है .... सराहना ...
    .
    नयनों में बदरा ..... कई बार सुन गया ... आभार !

    ReplyDelete
  28. टोटा......:) बहुत दिनो बाद सुना यह शव्द, गीत बहुत सुंदर लगा, ओर हम दाये बाये वाली के चक्कर मै नही पडेगे...... सानू की

    ReplyDelete
  29. फेस पैक स्वर्गीय बना है बस चूको मत छबीली जी
    पाउडर रूज आईलाइनर मसखरा बस यही आपकी सहेली जी
    ..........Hamko bhi bahut khub lagi ji...

    ReplyDelete
  30. आप तो जी दिन तय कर लो, हमारे अखबारों की तरह - मनोरंजन-संस्करण, धर्म-संस्क्रति संस्करण, खेल-संस्करण, बालीवुड-संस्करण, विविध-संस्करण आदि आदि। उसी हिसाब से हम रोज तैयार रहेंगे-पोस्ट पढने के लिये। हर रोज नया कलेवर और सभी एक से एक जानदार। हां ये पैरोडी भी आपकी आवाज में आ जाती तो आनंद दोगुना हो जाता।

    ReplyDelete
  31. गीत गायन गजब का है,बहुत अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  32. पहले और बाद में . मनोरजक प्रसंग ..आनंद आ गया . वाह भाई

    ReplyDelete
  33. मैं इसीलिए कहता हूँ कि ....I LOVE YOU.....

    ReplyDelete
  34. वाह! क्या खूसूरत पैरोडी बनाई है आपने! आनंद आ गया . नैनों में बदरा छाये तो पहली बार सुना. मस्त पोस्ट.

    ReplyDelete
  35. गिरिजेश बाबू...
    इसमें आश्चर्य की का बात है कि सौन्दर्य प्रसाधन का इस्तेमाल नहीं करते हैं हैं...कई कारण हैं...
    १. हमरे बाबू जी बहुत बार बोल चुके हैं ...अन्योक्ति रूप में ...'हमको ठोर रंगल एकदम पसंद नहीं है' ...अब कहिये कि का किया जाएगा...हाँ कोई तीज त्यौहार में कर लेते हैं..सबको देखके..
    २. जब भी मेकप करो...बचवन जब छोटा था तो कहता था ...'तुम कोई माधुरी दीक्षित को का..जो इतना मेकप कर रही हो....??
    ३. और अब जब बड़ा हो गया है तो कहता है ....'मत किया करो चाइनीज डोल दिखती हो...आप ऐसे ही ठीक दिखती हैं ' अब कहिये का करें.....हाँ नहीं तो...

    ReplyDelete
  36. चलिए आपने आखिर वाणी जी की कोई तस्‍वीर तो लगाई। उनको पढना ऐसे लगता है जैसे पडौस में रहने वाले को पढ रहे हों और उसे जानते तक नहीं। खुद पे हंसने का ये हौंसला सराहनीय है। सौ सौ सलाम।

    ReplyDelete
  37. हंसी रोके नही रुक रही है।बुढापा इधर भी आने से डर रहा है शायद्।

    ReplyDelete
  38. @ प्रेमचंदजी ,
    आप तो यहाँ के अखबार में देख चुके हैं तस्वीर...फिर भी आपको अपरिरिचित लग रहे है ...?? ...:):)

    ReplyDelete
  39. अ अ अ अ अदा जी दुनिया का कोई सौन्दर्य प्रसाधन आपको खूबसूरत नही बनाता, वो सिर्फ़ आपकी त्वचा को चमका सकता है.

    रसायन शास्त्र का सिद्धान्त है कि -
    आप उतने ही खूबसूरत होते हो जितने की आपके विचार.
    सलाह : अपने विचार सुन्दर रखकर हम जिन्दगी भर खूबसूरत और जवान रह सकते है

    ReplyDelete