Friday, November 5, 2010

मंगल दीप जले....!


मेरे सभी मित्रों एवं पाठकों को दीपोत्सव की बहुत बहुत शुभकामनाएं...!

हम सभी भाग्यवान हैं...जो अंतरजाल जैसी सुविधा मिली है....दूर होते हुए भी आपस में निकटता बढ़ी है....कम से कम मन से तो बहुत पास हैं, हम सभी....इस निजता को और निखारते हुए, कुछ बहुत ही अच्छा कर जायेंगे तो आने वाली पीढ़ी कृतज्ञ रहेगी हमारी.....तो आज इस प्रकाश पर्व में इस शुभ काम की शुरुआत करते हैं....आइये न...!!
इसी भावना को सामने रखते हुए मेरी यह कविता समर्पित है....आपको..आपको...और आपको भी...
स्वीकार कीजिये ...!!!!

जन जन के धूमिल प्राणों में
मंगल दीप जले

तन का मंगल, मन का मंगल
विकल प्राण जीवन का मंगल
आकुल जन-तन के अंतर में
जीवन ज्योत जले
मंगल दीप जले

विष का पंक ह्रदय से धो ले
मानव पहले मानव हो ले
दर्प की छाया मानवता को
और ना व्यर्थ छले
मंगल दीप जले

आज अहम् तू तज दे प्राणी
झूठा मान तेरा अभिमानी
आत्मा तेरी अमर हो जाए
काया धूल मिले
मंगल दीप जले


29 comments:

  1. आपको और आपके परिवार को दीपावली की शुभकामनाये!

    ReplyDelete
  2. आपको व आपके परिवार को दीपावली की मंगल कामनायें।

    ReplyDelete
  3. दीप पर्व की हार्दिक शु्भकामनाएं

    ReplyDelete
  4. अच्छी पंक्तियाँ...
    आपको और आपके परिवार को दिवाली की शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  5. सुन्दर तस्वीरें देखकर दिल खुश हो गया ।
    आपको और आपके परिवार को दीवाली की हार्दिक शुभकानाएं , अदा जी ।

    ReplyDelete
  6. दिवाली की शुभकामनायें ......

    ReplyDelete
  7. दीपावली के इस शुभ बेला में माता महालक्ष्मी आप पर कृपा करें और आपके सुख-समृद्धि-धन-धान्य-मान-सम्मान में वृद्धि प्रदान करें!

    ReplyDelete
  8. आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को दीपावली पर्व की ढेरों मंगलकामनाएँ!

    ReplyDelete
  9. सर्व मंगलम शुभम ....

    आपको व आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ ...

    ReplyDelete
  10. अशेष शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  11. शुभम करोति कल्याणम, आरोग्यम धन सम्पदा , शत्रुबुद्धि विनाशाय दीपम ज्योति नम्सतुते

    आशीष

    ReplyDelete
  12. दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  14. आदरणीय अदा आंटी जी..
    चरण स्पर्श...
    दीपावली के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभ कामनायें...
    दीपों की तरह आपका जीवन भी जगमगाता रहे और सबको रौशनी देता रहे...
    धन्यवाद
    .

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर रचना है!
    --
    प्रेम से करना "गजानन-लक्ष्मी" आराधना।
    आज होनी चाहिए "माँ शारदे" की साधना।।

    अपने मन में इक दिया नन्हा जलाना ज्ञान का।
    उर से सारा तम हटाना, आज सब अज्ञान का।।

    आप खुशियों से धरा को जगमगाएँ!
    दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

    ReplyDelete
  16. चिरागों से चिरागों में रोशनी भर दो,
    हरेक के जीवन में हंसी-ख़ुशी भर दो।
    अबके दीवाली पर हो रौशन जहां सारा
    प्रेम-सद्भाव से सबकी ज़िन्दगी भर दो॥
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!
    सादर,
    मनोज कुमार

    ReplyDelete
  17. आपकी दीवाली मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  18. दीपावली की असीम-अनन्त शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  19. इस ज्योति पर्व का उजास
    जगमगाता रहे आप में जीवन भर
    दीपमालिका की अनगिन पांती
    आलोकित करे पथ आपका पल पल
    मंगलमय कल्याणकारी हो आगामी वर्ष
    सुख समृद्धि शांति उल्लास की
    आशीष वृष्टि करे आप पर, आपके प्रियजनों पर

    आपको सपरिवार दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  20. दिपावली के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभकामनायें जी।

    ReplyDelete
  21. दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
    जीवन में लाए खुशियां अपार।
    लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
    शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

    ReplyDelete
  22. जगमग दीप जले बाहर -भीतर ...अंधकार दूर हो जग का -मन का ...
    आपको और आपके पूरे परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें ..!

    ReplyDelete
  23. दीदी ,

    ये पढ़ कर बहुत अच्छा लगा

    "हम सभी भाग्यवान हैं...जो अंतरजाल जैसी सुविधा मिली है....दूर होते हुए भी आपस में निकटता बढ़ी है....कम से कम मन से तो बहुत पास हैं, हम सभी....इस निजता को और निखारते हुए, कुछ बहुत ही अच्छा कर जायेंगे तो आने वाली पीढ़ी कृतज्ञ रहेगी हमारी.....तो आज इस प्रकाश पर्व में इस शुभ काम की शुरुआत करते हैं"

    इस कविता के विषय में

    अदभुद, सुन्दर और सत्य

    और हाँ और दीपावली की शुभकामनाएं तो पहले ही दे चुका हूँ
    आज .....

    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  24. दीदी ,

    ये पढ़ कर बहुत अच्छा लगा

    "हम सभी भाग्यवान हैं...जो अंतरजाल जैसी सुविधा मिली है....दूर होते हुए भी आपस में निकटता बढ़ी है....कम से कम मन से तो बहुत पास हैं, हम सभी....इस निजता को और निखारते हुए, कुछ बहुत ही अच्छा कर जायेंगे तो आने वाली पीढ़ी कृतज्ञ रहेगी हमारी.....तो आज इस प्रकाश पर्व में इस शुभ काम की शुरुआत करते हैं"

    इस कविता के विषय में

    अदभुद, सुन्दर और सत्य

    और हाँ और दीपावली की शुभकामनाएं तो पहले ही दे चुका हूँ
    आज .....

    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  25. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...दीपावली की हार्दिक शुभ कामनायें

    ReplyDelete
  27. दीपावली का यह मंगल पर्व वर्ष भर प्रकाश बिखेरता रहे आप के जीवन में:)

    ReplyDelete