Tuesday, August 25, 2009

उड़ान....

उसने फिर
अपने वजूद को
झाडा, पोंछा,
उठाया
दीवार पर टंगे
टुकडों में बंटें
आईने में
खुद को
कई टुकडों में पाया
अपने उधनाये हुए
बालों पर कंघी चलायी
तो ज़मीन कुछ
उबड़-खाबड़ लगी
जिसपर उसने एक
लम्बी सी माँग खींच दी
जो आनंत तक जा
पहुंची
जहाँ घुप्प अँधेरा था
और
शून्य खडा था
उसने
लाल डिबिया को देखा
तो अँधेरे, चन्दनिया गए
होठ मुस्का गए
उँगलियों ने शरारत की
लाली की दरदरी रेत
माँग में भर गयी
आँखों ने शिकायत
का काज़ल
झट से छुपा लिया
होठों ने रात का कोलाहल
दबा दिया
अंजुरी भर आस पीकर
निकल आई वो घर से
अब शाम तक
पीठ पर दफ्तर की
फाइल होगी
या
सर पर आठ-दस ईटें
या कोई भी बोझा
ड्योढी के बाहर
आते ही
मन उड़ गया
पर मन
उड़ पायेगा ?
शाम तक तो उडेगा
फिर सहम जाएगा
जुट जाएगा
इंतजार में
एक और
कोलाहल के
जो आएगा
उसी अनंत
अँधेरे से...

23 comments:

  1. एक और
    कोलाहल के
    जो आएगा
    उसी अनंत
    अँधेरे से...

    Very true.

    ReplyDelete
  2. इंतजार में
    एक और
    कोलाहल के
    जो आएगा
    उसी अनंत
    अँधेरे से...

    --बहुत जबरदस्त!!

    ReplyDelete
  3. "अंजुरी भर आस पीकर" - वाह क्या सुन्दर प्रयोग है बहन मंजूषा।

    लेकिन भारत आने के लिए अभी उड़ान सम्भव है या नहीं?

    ReplyDelete
  4. कोलाहल में दबा एक और इन्तजार..बहुत बढ़िया..!!

    ReplyDelete
  5. एक और इंतजार... बहुत सुंदर कविता है. इसे कई कई बार पढ़ने को जी चाह रहा है.

    ReplyDelete
  6. बहुत ही जबरदस्त !

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. कौन ना निहाल होगा ....इस उडान पर......

    ReplyDelete
  8. आज मुझे आप का ब्लॉग देखने का सुअवसर मिला।
    सचमुच में बहुत ही प्रभावशाली लेखन है... वाह…!!! वाकई आपने बहुत अच्छा लिखा है। बहुत सुन्दरता पूर्ण ढंग से भावनाओं का सजीव चित्रण... आशा है आपकी कलम इसी तरह चलती रहेगी और हमें अच्छी -अच्छी रचनाएं पढ़ने को मिलेंगे, बधाई स्वीकारें।

    आप के द्वारा दी गई प्रतिक्रियाएं मेरा मार्गदर्शन एवं प्रोत्साहन करती हैं। आप मेरे ब्लॉग पर आये और एक उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया दिया…. शुक्रिया.
    आशा है आप इसी तरह सदैव स्नेह बनाएं रखेगें….

    ReplyDelete
  9. उसने फिर
    अपने वजूद को
    झाडा, पोंछा,
    उठाया
    दीवार पर टंगे
    टुकडों में बंटें
    आईने में
    खुद को
    कई टुकडों में पाया
    सुंदर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  10. aap ki rachna ka ek ek shawad kamal kar raha hai
    gazab ka likhti hai aap

    ReplyDelete
  11. kavita ke bhaav behtarin hain...

    ....दीवार पर टंगे
    टुकडों में बंटें
    आईने में
    खुद को
    कई टुकडों में पाया
    अपने उधनाये हुए
    बालों पर कंघी चलायी
    तो ज़मीन कुछ
    उबड़-खाबड़ लगी
    जिसपर उसने एक
    लम्बी सी माँग खींच दी
    जो आनंत तक जा
    पहुंची
    जहाँ घुप्प अँधेरा था
    और .....

    aur

    ...अंजुरी भर आस पीकर
    निकल आई वो घर से...

    aur

    ....कोलाहल के
    जो आएगा
    उसी अनंत
    अँधेरे से...

    khaas taur par acche lage.

    Di kabhi apne ek chote sukho ke 'Darpan' ke samantar rakhna....

    ...anant pratibimb banange.

    kabhi vigyan ki pustak main padha tha maine !!

    ReplyDelete
  12. शाम तक तो उडेगा
    फिर सहम जाएगा
    जुट जाएगा
    इंतजार में
    एक और
    कोलाहल के
    जो आएगा
    उसी अनंत
    अँधेरे से...

    ...जो अनंत तक जा
    पहुँची
    जहां घुप्प अंधेरा था
    और
    शून्य खड़ा था

    मन की उड़ान
    घुप्प अंधेरे की ओर
    ही क्यों
    खुले आकाश और
    अनंत आनंद की ओर
    क्यों नहीं

    शायद वहां खुद को
    खो देने का भय
    और मन के विलीन हो
    जाने का खतरा है या
    फिर वह
    अल्प विराम में है
    जहां से आगे
    एक ओर जहां हैं
    `अदा' के लिए ।

    ReplyDelete
  13. http://www.tutorvista.com/content/physics/physics-ii/light-reflection/plane-mirror.php

    ReplyDelete
  14. एक और
    कोलाहल के
    जो आएगा
    उसी अनंत
    अँधेरे से.............

    उम्दा रचना।

    ReplyDelete
  15. उसने फिर
    अपने वजूद को
    झाडा, पोंछा,
    उठाया
    दीवार पर टंगे
    टुकडों में बंटें
    आईने में
    खुद को
    कई टुकडों में पाया
    अति सुन्दर भाव किय बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  16. चांद का मुंह टेढ़ा है, याद आई

    ReplyDelete
  17. 'अदा' की ये एक और अदा है ..मै स्तब्ध हो जाती हूँ ..

    ReplyDelete
  18. bahut hi umda rachna ada ji.
    badhai..

    ReplyDelete
  19. आँखों ने शिकायत
    का काज़ल
    झट से छुपा लिया
    होठों ने रात का कोलाहल
    दबा दिया
    अंजुरी भर आस पीकर
    निकल आई वो घर से
    bahut hi khoobsurat panktiyan hain ye.
    aapki ye ada bhi jhakjhor gayi mujh ko.
    mujhe der ho gayi , lekin der se hi sahi janmdin mubarak.
    meri bhi umar lag jaaye aapko.

    ReplyDelete
  20. gazab ka likhti hai aap ada ji
    kamal karti hain aap

    ReplyDelete
  21. एक और
    कोलाहल के
    जो आएगा
    उसी अनंत
    अँधेरे से...
    achchi lagi rachna

    ReplyDelete