Saturday, August 15, 2009

जन्नत सा एक पिंजरा बना लीजिये

रौनकें मेरे दिल की चुरा लीजिये.
देना है कुछ मुझे तो सजा दीजिये

लब हैं सूखे हुए जैसे साहिल कोई
आह की इनमें कश्ती चला लीजिये

खिल उठे हैं तसल्ली के बूटे, कई
शाखे-उम्मीद पर भी उगा लीजिये

हैं सदी की कतारों में लम्हे खड़े
गिन नहीं पायेंगे इनको सजा लीजिये

नीम-बाज आँखें कब से हैं सूनी पड़ीं
मुट्ठी भर ख्वाब इनमें छुपा लीजिये

है कहाँ कोई महफूज़ ज़माने में, तो
एक जन्नत सा पिंजरा बना लीजिये

22 comments:

  1. महफूज़ कहाँ है कोई इस जहान में
    जन्नत सा एक पिंजरा बना लीजिये

    हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन, दिल के खुश रखने को...
    स्वतन्त्रता दिवस की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  2. रेत से सूखे हैं होंठ आज मेरे
    आह की कश्ती है चला लीजिये

    बूटे तसल्ली के अब खिल उठे हैं
    उम्मीद की टहनी पर उगा लीजिये

    नीम-बाज़ आँखें खाली पड़ी हुई हैं
    मुट्ठी में ख्वाब लेकर छुपा दीजिये .......

    इस तरह का ही गर लिखते हो आप.......
    इक अपना शागिर्द हमें भी बना लीजिये.....!!

    ReplyDelete
  3. महफूज़ कहाँ है कोई इस जहान में
    जन्नत सा एक पिंजरा बना लीजिये....

    ...di shubh shubh bolo azadi ke din to kum se kum.

    :)

    ReplyDelete
  4. क्या अभिव्यक्ति है ! इसे कहते हैं कविता !!

    "लम्हें खड़े हुए हैं सदी की कतार में
    गिनेंगे आप कैसे,इनको सजा लीजिये "
    " नीम-बाज़ आँखें खाली पड़ी हुई हैं
    मुट्ठी में ख्वाब लेकर छुपा दीजिये

    महफूज़ कहाँ है कोई इस जहान में
    जन्नत सा एक पिंजरा बना लीजिये"

    जाने कितने अर्थ! छोटी छोटी पंक्तियाँ समेटे हैं।

    ReplyDelete
  5. लम्हें खड़े हुए हैं सदी की कतार में
    गिनेंगे आप कैसे,इनको सजा लीजिये

    amazing....

    ..lady gulzaar.

    ReplyDelete
  6. रेत से सूखे हैं होंठ आज मेरे
    आह की कश्ती है चला लीजिये
    कितना दर्द बिखेरा है आपने इन शब्दो के साथ.
    बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  7. स्‍वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. bahut sundar.

    ReplyDelete
  9. बहुत खूबसूरत गजल..........
    जाने क्या है जो भीतर से मचल के कह रहा है इस गजल में...

    ReplyDelete
  10. है कहाँ कोई महफूज़ ज़माने में, तो
    एक जन्नत सा पिंजरा बना लीजिये

    बेहतरीन जी. स्वतंत्रता दिवस की घणी रामराम.

    ReplyDelete
  11. Jannat aur pinjra. Wow...usually I dont think of them together! But you used them together so beautifully!

    ReplyDelete
  12. ek ek sher shandar hai, bhut khoobsurt, akhiri line behad jabrdast hain.

    ReplyDelete
  13. खिल उठे हैं तसल्ली के बूटे, कई
    शाखे-उम्मीद पर भी उगा लीजिये

    Bahut khoob sher kaha !!

    ReplyDelete
  14. आपके मन में उठने वाले भाव शब्दों में एक खूबसूरत अंदाज़ में सजा लेती हैं आप. आह की कश्ती का खयाल बढिया है.

    ReplyDelete
  15. ख़ूबसूरत अंदाज़े-बयाँ!

    ReplyDelete
  16. नीम-बाज आँखें कब से हैं सूनी पड़ीं
    मुट्ठी भर ख्वाब इनमें छुपा लीजिये

    bhut khoob

    ReplyDelete
  17. "है सदी की कतारों में लम्हे खड़े.." एक बेमिसाल मिस्‍रा है मैम....
    और फिर एक जन्नत-सा पिंजरा की सोच पर सर खुद-ब-खुद शायरा के लिये सम्मान में झुक जाता है!!

    ReplyDelete
  18. नीम-बाज आँखें कब से हैं सूनी पड़ीं
    मुट्ठी भर ख्वाब इनमें छुपा लीजिये
    bahut khoobsurat khayal!!!!

    ReplyDelete
  19. हैं सदी की कतारों में लम्हे खड़े
    गिन नहीं पायेंगे इनको सजा लीजिये

    नीम-बाज आँखें कब से हैं सूनी पड़ीं
    मुट्ठी भर ख्वाब इनमें छुपा लीजिये

    है कहाँ कोई महफूज़ ज़माने में, तो
    एक जन्नत सा पिंजरा बना लीजिये
    be-had khoobsurat khayal. main bahar gaya tha bahut miss kiya hun aapki kavita ko.
    shukriya

    ReplyDelete