Thursday, December 16, 2010

मेरे घर की उखड़ी साँस....


उजड़ा छप्पर टूटी बाँस
मेरे घर की उखड़ी साँस

यादें सूख पपड़ी भयीं
कहीं फँसी है दर्द की फाँस

लोग कहाँ हैं, बस्ती सूनी
घर में उग आई है काँस

अंत समय क्या चाहे 'अदा'
दू गज कपड़ा आठ गो बाँस



21 comments:

  1. आदरणीया 'अदा' जी


    शानदार जानदार रचना के लिए आभार !

    … लेकिन गीत की प्यास लिए ही लौट रहा हूं …

    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  2. काँस का तो मुझे मतलब ही नहीं पता,अदा जी.
    और ये क्या, आपने कोई गाना ही नहीं डाला,अब क्या करें.

    ReplyDelete
  3. नपे तुले शब्दों में जिन्दगी की जद्दोजहद का हासिल बताती पोस्ट, फ़िर से शानदार अभिव्यक्ति।
    वैसे कुछ समय पहले आपकी ही एक पोस्ट में ’सिर्फ़ दो आलम’ की ख्वाहिश की गई थी।
    दोनों को एक साथ पढ़ें तो - जीते जी दो आलम से कम में काम नहीं चलता और जीवन के बाद दो गज कपड़ा भी ज्यादा है।
    यही सच है।

    ReplyDelete
  4. हालत सचमुच है नाज़ुक,
    या कविताई से देते झाँस ?

    दू गज कपड़ा आठ गो बाँस ;) लिखते रहिये ...

    ReplyDelete
  5. यदि आप अच्छे चिट्ठों की नवीनतम प्रविष्टियों की सूचना पाना चाहते हैं तो हिंदीब्लॉगजगत पर क्लिक करें. वहां हिंदी के लगभग 200 अच्छे ब्लौग देखने को मिलेंगे. यह अपनी तरह का एकमात्र ऐग्रीगेटर है.

    आपका अच्छा ब्लौग भी वहां शामिल है.

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  7. आपकी पोस्ट की चर्चा कल (18-12-2010 ) शनिवार के चर्चा मंच पर भी है ...अपनी प्रतिक्रिया और सुझाव दे कर मार्गदर्शन करें ...आभार .

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति. हर जीवन की यही सच्चाई है.

    ReplyDelete
  9. ‘अंत समय क्या चाहे 'अदा'

    यह तो दिल दुखाने की बात हुई ना :(

    ReplyDelete
  10. दू गज कपड़ा आठ गो बांस :)

    ReplyDelete
  11. क्या बात है!!
    हलके-फुल्के शब्दों में बड़ी गहरी उदासी पिरो दी है आपने..
    अच्छी लगी कविता...
    ब्लॉगिंग: ये रोग बड़ा है जालिम

    ReplyDelete
  12. @ कुँवर जी,
    काँस..एक प्रकार का घास होती है..

    ReplyDelete
  13. दू गज कपड़ा आठ गो बांस...... पुरे जीवन का अंतिम सच है ये तो.

    ReplyDelete
  14. अंतिम सत्य अभिव्यक्त हो गया सहजता से!
    सादर!

    ReplyDelete
  15. "दूई गज़ कपड़ा अठ गज बाँस"

    आँचलिक खुश्बू से सराबोर बेहतरीन पेशकश 'अदा' जी| बधाई|

    ReplyDelete
  16. जीवन का उदास सा सच ! बहुत खूब ।

    ReplyDelete