Monday, December 13, 2010

घर की कहानी ...


पशु, पक्षियों
के मांदों, घोसलों में
भेद कहाँ होता है
अमीरी-गरीबी का
यूँ तो ..
झुग्गी-झोपडी और
अट्टालिकाएं
दूर से अपना
हाल-बेहाल बता जाते हैं
फिर भी ..
घर की कहानी
सृष्टि की कहानी है
जुदा जब होते हैं
घर से लोग
कितने निष्प्राण
हो जाते हैं घर.....



16 comments:

  1. Your blog is great
    If you like, come back and visit mine: http://b2322858.blogspot.com/

    Thank you!!Wang Han Pin(王翰彬)
    From Taichung,Taiwan(台灣)

    ReplyDelete
  2. ‘मांदों, घोसलों में
    भेद कहाँ होता है’

    होता है ना.... घोंसले में हाथ डाल सकते हैं, मांद में नहीं...:)

    ReplyDelete
  3. घर का मतलब\औचित्य ही जीते जागते सदस्यों से है, ईंट-पत्थर की ईमारत मकान\कोठी तो हो सकती है लेकिन घर नहीं।

    ReplyDelete
  4. समानता के लिहाज़ से लिखी गई ये कविता पूरा असरदार सम्प्रेषण देती है

    ReplyDelete
  5. @ कुँवर जी ,
    मैंने भुताहे शब्द हटा दिया है...
    आपका हृदय से धन्यवाद.!

    ReplyDelete
  6. सम्बन्धों से ही घर जीवन्त रहता है।

    ReplyDelete
  7. Domage ! la bariére de la langue nous sépare, un vrai Handicap !!!
    trés belle photo en page d'acceuil. MERCI. AB

    ReplyDelete
  8. लोगों के बिना घर कहाँ हुआ ...सिर्फ मकान ही हो जाता है...और मकान तो बेजान ही होते हैं ...!

    ReplyDelete
  9. पढते ही सीरियस होकर टिपियाना तय किया पर सी.एम.प्रसाद साहब की चुटकी :)


    [ सहमत कि घर जान-ओ-बेजान की यकज़हती का दूसरा नाम है ]

    ReplyDelete
  10. रिश्तों और संवेदस्नाओ से ही घर का आस्तित्व है। अच्छी रचना के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  11. जुदा जब होते हैं घर से लोग
    कितने निष्प्राण हो जाते हैं घर.
    अनुभवसिद्ध तथ्य.

    ReplyDelete
  12. हमसे भूल हो गई, हमका माफ़ी देईदो...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  13. वैसे तो पूरी कविता संवेदनशील है मगर ये पंक्तियाँ बहुत ही प्रभावशाली बन कर उभरी हैं ,
    जुदा जब होते हैं घर से लोग
    कितने निष्प्राण हो जाते हैं घर.
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर रचना .. घर तो रिश्‍तों से ही बनता है !!

    ReplyDelete