Saturday, May 16, 2015

मगर ये भी तेरी शराफ़त का सिला है....

कोई ख़्वाहिश नहीं न कोई ग़िला है
चल पड़े अकेले ही न संगी मिला है

रात गुज़र गई और सुब्ह शबनमी है
दिन निकल आया आसमां खुला है

अबके हम खुल कर ख़ुद से मिल आये 
सामने ख़ुशियों का बड़ा क़ाफ़िला है

अब कैसी शिक़ायत क्यूँ करें दरियाफ़्त 
हमें सब मंजूर जो मुक़द्दर का फ़ैसला है

कुछ तो है मेरा फ़ित्नागिरी से राबता  
मगर ये भी तेरी शराफ़त का सिला है

फ़ित्नागिरी=झगड़ा
राबता = सम्बन्ध

मुझे माधुरी दीक्षित बहुत पसंद है :)
  

18 comments:

  1. क्या-क्यों करें शिकायत
    और किससे करें---?
    सभी कुछ तो मेरा ही किया है???
    सुंदर नज्म.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहतीं हैं सबकुछ तो मेरा ही किया-धरा है :)
      बाकी तो देखी जायेगी :)

      Delete
  2. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बेहतरीन रचना.......दिली दाद ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हर्ष महाजन साहेब,
      दिल से शुक्रिया।

      Delete
  4. Replies
    1. काजल साहेब,
      होशियार !
      एक अकेले आप ही नहीं है बीमार,
      एक से एक बढ़ कर बैठे है.... जुम्मन मियाँ की बाजार में।

      Delete
  5. माधुरी तो जो है सो है ही, मुझे आपका अंदाज बहुत पसंद है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. का सिद्धार्थ जी,
      काहे मज़ाक करते हैं, सुबह से कोई मिला/मिली नहीं का :)
      आपका बहुत-बहुत धन्यवाद !

      Delete
  6. बहुत ही बेहतरीन रचना.....
    net banking for boi

    ReplyDelete
  7. Spice Money Login Says thank You.
    9curry Says thank You So Much.
    amcallinone Says thank You very much for best content. i really like your website.

    ReplyDelete