Wednesday, May 12, 2010

ब्लॉग समाचार ...अदा की पसंद .....पाँच पोस्ट्स....(3)

पिछली दो पोस्ट्स पर आप लोगों ने जो प्यार और प्रोत्साहन दिया है..मैं नत-मस्तक हूँ ...आपके सुझावों पर अमल करने की कोशिश कर रही हूँ...म्यूजिक भी डालूंगी..बस थोड़ा समय चाहिए उसे बनाने के लिए...कोशिश ये है कि कुछ ओरिगिनल बना कर डालूँ...

तो एक बार फिर हाज़िर हूँ पाँच पोस्ट्स लेकर...जिन्हें आपने भी पसंद किया है और मैंने भी...
अगर जो पढ़ नहीं पाए हैं समयाभाव के कारण तो बस आँखें बंद कीजिये और सुन लीजिये...
आशा ही नहीं अपितु विश्वास है, पसंद आएगी आपको मेरी यह प्रस्तुति...
धन्यवाद...

ये प्लयेर बिना म्यूजिक के है...सिर्फ़ मेरी आवाज़.....


नीचे वाले प्लयेर में म्यूजिक डालने की कोशिश की है...अगर ठीक लगे तो सुनिए ....

43 comments:

  1. हमने तो म्यूजिक के ताम झाम के साथ मौज लेकर सुनी, आनन्द आया.

    ReplyDelete
  2. हमेशा की तरह, लाजवाब।

    कभी कभी मयंक की कोई रचना भी डाल दिया कीजिये।
    आभार।

    ReplyDelete
  3. विवादों को नजर अंदाज कर निस्वार्थ हिन्दी की सेवा करते रहें, यही समय की मांग है.

    हिन्दी के प्रचार एवं प्रसार में आपका योगदान अनुकरणीय है, साधुवाद एवं अनेक शुभकामनाएँ.

    -समीर लाल ’समीर’

    ReplyDelete
  4. मजा आ गया अदा जी, सबसे पहले आपको समीर जी के ब्लॉग पर देखा था और आज विश्लेषण में तो आपने आवाज और चुनाव दोनों के माध्यम से समाँ बाँध दिया, थोडा हटकर रही बात !
    आते रहना पड़ेगा :)

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छे लिंक्स ....कोई शक नहीं ...
    अदा बहुत बोलती है ....क्या शक है ...:):)
    ये भी एक कला है , अदा है ....हर किसी के वश में कहाँ है ....
    वैसे .. कोई रिश्वत भी चलेगी क्या आपके ब्लॉग समाचार में शामिल होने के लिए ...हम भारतीयों का कोई काम होता नहीं है लिए दिए बिना
    आदत से मजबूर हैं इसलिए पूछे ले रहे हैं (j/k)

    ReplyDelete
  6. दोनों सुनी ज्यादा अंतर नहीं है ....बहुत अच्छी प्रस्तुति ...............मनमोहक आवाज और दिलकश अंदाज़ के साथ

    ReplyDelete
  7. एक बार फिर बेहतरीन ...प्रस्तुती

    ReplyDelete
  8. वाह!,काफ़ी समय हुआ आप का आगमन "सच में" पर नहीं हुया.

    ReplyDelete
  9. बढ़िया प्रस्तुति अदा जी । बधाई।

    ReplyDelete
  10. कायनात का जादू ... आपकी आवाज़ , ........ जादू इसे कहते हैं , अदा इसे कहते हैं !

    ReplyDelete
  11. बहुत बहुत बहुत
    बहुत ही अच्‍छी
    आवाज और
    चयन उससे भी
    बहुत बहुत बहुत
    ही मनभावन।

    न रिश्‍वत से न नाम से
    पोस्‍ट की चर्चा होगी उसमें
    प्रस्‍तुत किए गए विचार से।

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया तरीका है ... और आपकी आवाज़, लहजा और चयन भी अति सुन्दर है ....

    ReplyDelete
  13. बढ़िया प्रस्तुति!
    ब्लॉग समाचार सुनकर आनन्द आ गया!

    ReplyDelete
  14. जब से मेरठ छोड़ कर नोएडा आया, एक हूक सी रहती थी कि कोयल की कूक अब कहीं सुनाई नहीं देती...

    सुबह-सुबह अदाजी की आवाज़ सुनने के इस नए सिलसिलने ने वो कमी दूर कर दी है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  15. आपकी आवाज़, लहजा और चयन अति सुन्दर है ....

    ReplyDelete
  16. ज्ञानदत्त ने लडावो और राज करो के तहत कल बहुत ही घिनौनी हरकत की है. आप इस घिनौनी और ओछी हरकत का पुरजोर विरोध करें. हमारी पोस्ट "ज्ञानदत्त पांडे की घिनौनी और ओछी हरकत भाग - 2" पर आपके सहयोग की अपेक्षा है.

    कृपया आशीर्वाद प्रदान कर मातृभाषा हिंदी के दुश्मनों को बेनकाब करने में सहयोग करें. एक तीन लाईन के वाक्य मे तीन अंगरेजी के शब्द जबरन घुसडने वाले हिंदी द्रोही है. इस विषय पर बिगुल पर "ज्ञानदत्त और संजयदत्त" का यह आलेख अवश्य पढें.

    -ढपोरशंख

    ReplyDelete
  17. मैं बहुत दिनों से टी,वी. नहीं देख रहा हूँ.

    आपने यह प्रयोग कर मन हर्षित कर दिया.

    अभी सुन रह हूँ.

    ReplyDelete
  18. @ खुशदीप सहगल

    शत प्रतिशत
    100 या
    200 नहीं
    सीधे
    हजार प्रतिशत सहमत।

    ReplyDelete
  19. वाह्………॥बहुत ही सुन्दर अन्दाज़-ए-बयाँ।

    ReplyDelete
  20. आज तो अंदाज़ और भी खूबसूरत रहा ब्लॉग रेडिओ का.. म्यूजिक और बिन म्यूजिक दोनों सुने.. म्यूजिक वाला थोड़ा और बेहतर लगा दी..

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर.. बहुत अच्छी प्रस्तुति....

    एक सुझाव.. - चयनित पोस्ट का लिकं अगर पोस्ट में लगा दे तो सुविधा होगी..

    ReplyDelete
  22. उफ़....क्या अदा है,क्या अंदाज़ है और क्या आवाज़ है...
    हम तो एकदमे कन्फ्यूजिया गए कि ई रेडियो मिर्ची का कार्यक्रम है कि कुछ और....
    बाप रे बाप...आपकी प्रतिभा...उफ़...

    ReplyDelete
  23. सुन्दर रहा समाचार !
    रंजन जी का सुझाव काबिले-गौर है |
    समाचार के साथ आपकी आवाज में इकबाल साहब
    का तराना भी अच्छा लगा |
    आभार !

    ReplyDelete
  24. waaaaaaaaaah maza aa gaya....clap kar lu jara fir aati hu tohar waste tippani karne...

    bhai sach me maanNa padega aapki is mazedaar commentry ko jo bina atke aap bole ja rahi thi..sach aisa lag raha tha jaise koi radio prog.sun rahe hai.

    ha.n bas agli baar jara muh me misri daal lena...awaaz thodi aur clear ho jayegi...ha.ha.ha.nice experience and a successful blog charcha.
    congrats.again.

    ReplyDelete
  25. अदा जी,

    बहुत बढ़िया प्रस्तुतिकरण और उतनी ही दिलकश ठसक भरी आवाज।

    समाचार या कोई रिपोर्ताज के कहने का फ्लो भी बड़ा मायने रखता है....और आपने उस फ्लो को अंत तक बनाए रखा...अपने हिसाब से संपादित और आवाज में उतार चढ़ाव को बनाए रखते हुए।

    बहुत सुंदर...

    ReplyDelete
  26. अब तो बिना ब्लोग समाचार सुने चैन नही पडेगा .

    ReplyDelete
  27. bahut hi umda...aapki awaaz hi kaafi hai...music ki zarurat nahi...

    ReplyDelete
  28. Aanan a gaya Ada ji ... aapkimadhur khanakti aawaaz mein jaadoo hai ...

    ReplyDelete
  29. मैं तो शाम को नींद लेकर उठा और जागा तो कंप्‍यूटर की तरफ भागा कि प्रसारण चालू हो गया होगा परन्‍तु अभी तो रात ही है। अब सुबह का इंतजार है ...

    ReplyDelete
  30. andaje bayan khub kaha...bahut hi aachi aawaj

    ReplyDelete
  31. pura suna, dil khush ho gaya.

    एक अपील ;)

    हिंदी सेवा(राजनीति) करते रहें????????

    ;)

    ReplyDelete
  32. अद्भुत अदा है ये....
    क़ातिलाना...
    मैं मीडिया में काम कर रहा हूं...
    आकाशवाणी में भी काम कर चुका हूं....
    ऐसी आवाज़...
    बहुत ही अच्छा...
    आप अगर साउंड फोर्ज उपयोग कर रही हैं...तो उसके प्रयोग से आप इस बुलेटिन के पहले और बाद में भी एक सिग्नेचर ट्यून लगा सकती हैं....
    बुलेटिन के लिए सिग्नेचर ट्यून मैं स्वयं भी ढूंढ रहा हूं....आपको शीघ्र ही मेल करूंगा....
    बाकी यही कहूंगा कि...

    मारे खुशी के लबों से आह निकलती रही...
    मगर न लफ़्ज़ निकला एक हर अदा कमाल थी...

    ReplyDelete
  33. खूबसरत खनकती आवाज़ में ब्लॉग समाचार सुनने का आनन्द ही कुछ अलग है... अदा की आवाज़ की आदत न हो जाए और पढना भूल जाएँ.... :)

    ReplyDelete
  34. अदा जी आपका शुक्र गुजार हू जो आपने इस नाचीज़ को इतनी इज्जत दी.
    वैसे तो मै आपका लहजा आपकी कमेन्ट करने के तरीके से ही समझ गया था.
    रही सही कसार आपकी आवाज ने पूरी कर दी.
    भगवान हमेशा आपकी वाणी में ऐसे ही मिठास बरकरार रखे.
    मुझे कई दिन तो पता ही नही चल पाया फिर आज आपकी कमेन्ट पढ़ने से कुछ पहले मेरे एक दोस्त हरदीप राणा (कुंवर जी )ने बताया की अदा जी ने तेरा कही पे उल्लेख किया हैं
    तब मुझे आपकी वाणी अमृत सुनने का मौका मिला.
    एक बार फिर आभार के साथ
    संजीव राणा
    हिन्दुस्तानी

    ReplyDelete