Monday, March 18, 2013

मुझे मेरी बीवी से बचाओ....:)




पुरुष कभी भी चिंता नहीं करते जब तक कि उनकी शादी नहीं हो जाती है क्यूँ ?
विवाह पूर्व पुरुष - सुपरमैन होता है 
शादी के बाद - जेंटलमैन
५ वर्षों के बाद- वाचमैन 
और १० वर्षों के बाद अपने ही जाल में फंसा हुआ - स्पाइडरमैन   

जिंदगी में हमेशा हँसते रहो, मुस्कुराते रहो, गुनगुनाते रहो....ताकि तुम्हें देख कर लोग समझे कि तुम......कुँवारे हो


पत्नी : अगर मैं खो गयी तो तुम क्या करोगे ??
पति : मैं टी.वी. अखबारों में विज्ञापन दूंगा कि तुम जहाँ भी हो 
'खुश रहो'   

पत्नी : शादी की रात जब तुमने मेरा घूँघट उठाया तो मैं तुम्हें कैसी लगी ?
पति : मैं तो मर ही जाता अगर मुझे हनुमान चालीसा याद नहीं होता तो


प्रेम विवाह, नियोजित विवाह से बेहतर कैसे है ?
अनजाने दुश्मन से जाना पहचाना दुश्मन हमेशा बेहतर होता है...

मरते समय पति ने अपने पत्नी को सब कुछ सच बताना चाहा । उस ने कहा " मै तुम्हे जीवन भर धोखा देता रहा। सच तो यह है कि दर्जनो औरतों से मेरे नाजायज संबंध थे।"
पत्नी बोली, "मै भी सच बताना चाहूँगी । तुम बीमारी से नही मर रहे मैने तुम्हे धीरे-धीरे असर करने वाला जहर दिया है।"

पत्नी : मैं तुम्हारी याद में २० दिनों में ही आधी हो गयी हूँ...तुम मुझे लेने कब आ रहे हो ?
पति : और २० दिन रुक जाओ..

एक लड़के ने विज्ञापन दिया .."पत्नी चाहिए "
१००० जवाब आ गये..
'मेरी ले जा'
'मेरी ले जा'

पति होटल के मैनेजर से 'जल्दी चलो मेरी पत्नी खिड़की से कूद कर जान देना चाहती है '
मैनेजर : सर इसमें मैं क्या कर सकता हूँ ?
पति : खिड़की खुल नहीं रही है

हर व्यक्ति स्वाधीनता सेनानी है ..
शादी के बाद..

झूठ बोलना:
एक बच्चे के लिए पाप है, 
एक प्रेमी के लिए कला 
एक कुँवारे के लिए उपलब्धि 
और एक शादी-शुदा के लिए जीवन बचाने का उपक्रम  

वो कहते हैं कि हमारी बीवी स्वर्ग की अप्सरा है 
हमने कहा ...'खुशनसीब हो.... हमारी तो अभी जिंदा है '

34 comments:

  1. झूठ बोलना:
    एक बच्चे के लिए पाप है,
    एक प्रेमी के लिए कला
    एक कुँवारे के लिए उपलब्धि
    और एक शादी-शुदा के लिए जीवन बचाने का उपक्रम

    :) :)

    ReplyDelete
  2. स्लॉग ओवर की ये नई अदा भी खूब रही...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
    Replies
    1. चालीस ओवरस के बाद गेंद स्लॉग ओवरस देने लगती है।
      :)

      Delete
  3. छटे हुए हैं :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्या कहा छंटे हुए हैं ?
      ओ, अच्छा छटे हुए हैं :)

      Delete
  4. Replies
    1. अरे प्रवीण जी,
      वीरू ने कौन गलती की है जो उसे आप आवाज़ नहीं देते ...हमेशा जय हो ओ ओ, जय हो ओ
      कभी वीरू हो ओ ओ ओ ओ , भी कहिये :)

      Delete
  5. वाह गजब कह दिया
    बधाई

    ReplyDelete
  6. खुशनसीब हो, हमारी तो जिंदा है क्या बात है।

    ReplyDelete
  7. ले लीजिये एक हमारी तरफ से भी
    क्या बात है , आजकल चेहरा बहुत चमकता है तुम्हारा .
    तुम्हारे प्यार की रौशनी से ही तो .
    बकवास बंद कर , डायमंड फ़ेशिअल के तीन हजार रूपये मेरे डेबिट कार्ड से खर्चे हैं तूने !

    ReplyDelete
  8. kya baat hai 'apan bhi spiderman gharane' me aa gaye hain........


    holinam.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बुढ़ौती में 'बैटमैन' भी तो बनना है ऊ तो हम लिखबे नहीं किये :)

      Delete
  9. महिला होकर इन बातों का इतना अनुभव!! गजब.

    ReplyDelete
    Replies
    1. दुसमन की छावनी पर नज़र रखते हैं :):)

      Delete
  10. बुरा नहीं मानते होली है ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. शोभना जी,
      मुझे मालूम है आप बुरा मान ही नहीं सकतीं :)

      Delete
  11. मुझे तो ये सारे चुटकुले वाहियात लगते हैं. और ऐसे ही सारे चुटकुलों के माध्यम से यह बताया जाना भी कि पति या प्रेमी होना कितना दीन-हीन होना है, और पत्नियाँ-प्रेमिकाएं जीवन का जंजाल है जिनसे पिंड छुड़ाना मुश्किल है. जबकि हकीकत में ऐसा नहीं है. 90% चुटकुलों में आपको मर्द ही पीड़ित और शोषित दिखेंगे.

    शायद आप कहें कि मुझे कुछ हँसना सीखना चाहिए पर... मजा नहीं आया. ये निर्मल हास्य तो नहीं है.

    Hope I'm not acting like a loser.

    ReplyDelete
    Replies
    1. निशांत,
      लूसर होने की बात तुम सोचना भी नहीं!
      तुम्हारा सोचना अपनी जगह पर बिलकुल सही है। हर चीज़ हर किसी को पसंद नहीं आ सकती, और यही विविधता तो हमें हमारा अपना व्यक्तित्व देती है। हम अलग हैं, अगर यह बात सभी स्वीकार कर लें तो कहीं कोई समस्या नहीं आएगी, समस्या तभी आती है जब यह साबित करने में जुटा जाए कि 'मैं सही हूँ'....

      हास्य, विज्ञान नहीं है, यह कला है, और कला बहुत सब्जेक्टिव विषय है। हास्य को परिभाषित करना भी आसान नहीं है, शायद हास्य कुछ पलों में और कुछ शब्दों में बंधा होता है। हास्य हमेशा विरोधाभासी और विपरीत होता है,जिसे सभी अप्रिशियेट नहीं कर सकते and it is ok.

      तुमने अपनी बात कही, अच्छा लगा ...

      Delete
  12. एक से बढ़ कर एक ...।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी टिप्पणी पढ़कर एक गाना याद आ गया, लेकिन जाने दीजिये बिन बात के बात क्यों बढ़ाना ..:)
      आपको पसंद आया, आपका आभार !

      Delete
  13. मजेदार चुटकुले...अच्छा हुआ शेयर किया....हँसना भी कितना जरूरी है, ज़िन्दगी में ..मजा आ गया :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिलकुल सही ...तुम ही कहती हो हँसना जीवन दायिनी ख़ुराक है ...:):)
      कितना हँसते हैं हम लोग ..है कि नहीं !

      Delete
  14. मजेदार चुटकुले, चेहरे पर मुस्कराहट छोड़ते हुए .धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. होली का टाइटल मेरी तरफ से
    टेसू सा रंग हो तुम
    मोगरे की खुशबु हो तुम
    फागुन के महीने में ,
    तीखी बयार हो तुम ।
    होली है , होली है होली है ;;;;;;;;;

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका दिया हुआ टाईटल यूँ लगा, जैसे गंगा जल !
      मैंने तो सीधा माथे से लगा लिया :)

      Delete