Wednesday, September 1, 2010

क्या नैतिकता की कोई सीमा निर्धारित है..?


आज का माहौल...और मेरा एक सवाल उनके लिए जो अपने प्रोफेशन में दक्ष हैं...प्लीज आपलोग इसे अन्यथा मत लीजियेगा...

जहाँ तक मैं जानती हूँ ...डाक्टर और मरीज के बीच एक अनुबंध होता है ..जिसे protection of privacy , या फिर confidentiality agreement कहते हैं...हो सकता है कि इस तरह की बंदिश सिर्फ़ उनके बीच हो जिनके बीच सचमुच 'डाक्टर-मरीज' का रिश्ता हो...अर्थात जिस डाक्टर ने उस मरीज को अपनी प्रोफेशनल राय दी है और जिसकी निगरानी में वो मरीज है.....लेकिन क्या उस डाक्टर की कोई नैतिक जिम्मेवारी नहीं होती जिसने उस मरीज का इलाज नहीं किया है लेकिन उस मरीज की निजी बातों की पूरी जानकारी हो गई हो....क्या नैतिकता की कोई सीमा निर्धारित है..?

हालांकि Hippocratic Oath के अनुसार, डोक्टोर्स को हर हाल में चिकित्सा की जिसे ज़रुरत है उसकी मदद करनी है, किसी भी कीमत में जान बचानी है...और जहाँ एक बार किसी डाक्टर ने किसी को अपनी राय दे दी..मेरी नज़र में यह अनुबंध स्थापित हो गया ऐसा मैं सोचती हूँ....
बहुत हैरान हुई हूँ ...देख कर कि..किसी की बहुत ही निजी जानकारी किसी पोस्ट पर लिखी गई है...और वो भी एक डाक्टर द्वारा...मानवीय मूल्यों का ऐसा हनन किसी भी हाल में उचित नहीं है...
मेरा प्रश्न ये है....क्या इस तरह एक डाक्टर का सरे आम किसी मरीज की पर्सनल बातें ब्लॉग पर लिखना privacy act के विरुद्ध नहीं है....? क्या वह मरीज इस बात से हताहत नहीं होता है ? और सबसे अहम् सवाल क्या यह कदम क़ानून की लपेट में आ सकता है ? क्योंकि एक आम इन्सान के डिक्लेर करने और एक डाक्टर के डिक्लेर में फर्क तो होना ही चाहिए....

मेरी नज़र में जब किसी को यह पता चलता है कि सामने वाला इन्सान एक डाक्टर है, रवैये में एक फर्क तो हो ही जाता है...वो अपनी समस्याएं और खुल कर डाक्टर को बताता है...अब ये उस डाक्टर पर निर्भर है कि वो उस मरीज को किस तरह और किस हद्द तक खुलने देना चाहता है...और जब बात हो ही गई है तो एक अनलिखा अनुबंध बन ही जाता है...क्योंकि डाक्टरी प्रोफेशन की यह एक ज़रुरत है....
यह एक बहुत ही नोबल पेशा है...और इस पेशे की सबसे बड़ी बात है विश्वास...

मैं यहाँ अपने निजी सम्बन्ध की बात बिल्कुल नहीं कर रही हूँ, मैं बात कर रही हूँ व्यक्तिविशेष के स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी को सार्वजनिक करने की... 

कहते हैं...किसी ने धन खो दिया तो कुछ नहीं खोया, किसी ने मित्र खो दिया तो बहुत कुछ खो दिया लेकिन अगर किसी ने विश्वास खो दिया तो उसका सर्वस्व खो गया...

हाँ नहीं तो..!!

कृपा करके जवाब दीजिये...


44 comments:

  1. विचारणीय लेख के लिए बधाई

    ReplyDelete
  2. कृष्ण जन्माष्टमी के मंगलमय पावन पर्व अवसर पर ढेरों बधाई और शुभकामनाये ...

    ReplyDelete
  3. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई ।

    स्वप्न मंजूषा जी, privacy का मतलब ही होता है निजी , अगर कोई किसी की निजी बातो को सार्वजानिक करता है तो ये वाकई शर्मनाक है ........

    कृपया एक बार पढ़कर टिपण्णी अवश्य दे
    (आकाश से उत्पन्न किया जा सकता है गेहू ?!!)
    http://oshotheone.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. अपन तो उत्तर देंगे अपने फेवरेट विषय "मानवता " के अनुसार.... आराम से .. थोडा सा अंत में

    ReplyDelete
  5. अदा जी वैसे तो मैंने ऐसे पचड़ों में पढ़ना करीब डेड साल पहले छोड़ दिया, मगर आपकी बात को समझ रहा हूँ , बस यही कहूंगा की बदले जमाने के हिसांब से डाक्टर और मरीज दोनों ही शातिर नजर आते है !

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ...
    जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये
    जय श्रीकृष्ण

    ReplyDelete
  7. अदा जी ! ये डॉक्टरस के मूल्यों का ही नहीं ..मानवीय मूल्यों का भी हनन है .
    और ये ओअथ ...डॉ और मरीज़ पर ही नहीं हर इंसान पर लागू होनी चाहिए मेरे ख्याल से .
    विचारणीय पोस्ट

    ReplyDelete
  8. बात तो आप सही कह रही हैं ।

    जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये

    ReplyDelete
  9. ये विषय मित्रता का एंगल लिए हुए है इसलिए इसे भी पढ़ा जाये (मेरे अंतिम विचार अभी बाकी है )
    http://my2010ideas.blogspot.com/2010/08/blog-post_22.html?showComment=1282797754098#c6616624972730555629
    मैंने इन विचारों के लिए बड़ा विरोध झेला है अब देखिये मैं कहाँ गलत था
    दीदी ,
    कमेन्ट विषय से जुड़ा न लगे तो हटा दीजियेगा

    ReplyDelete
  10. किसी की बहुत ही निजी जानकारी किसी पोस्ट पर लिखी गई है...और वो भी एक डाक्टर द्वारा.

    ऐसा भी होता है क्‍या हिन्‍दी ब्‍लॉगजगत में ?? मैं तो अभी नया हू भाई ब्‍लॉगजगत में:)

    सदैव की तरह बहुत अच्‍छा लिखा है आपने अदा जी, पर कानूनी बातें अधूरी है.

    ReplyDelete
  11. संजीव जी...
    आप यहाँ पढ़ सकते हैं वो बातें...
    http://zealzen.blogspot.com/2010/08/blog-post_3917.html

    ReplyDelete
  12. शिखा,
    मुझे इस बात से कोई मतलब नहीं कि किसके बीच में विचारों का मतभेद हो रहा है...यह अपना व्यक्तिगत निर्णय होता है ...
    लेकिन एक चिकित्सक अगर किसी मरीज कि निजी जानकारी कि सुरख्षा नहीं कर सकता है तो यह एक चिंता का विषय है...कल को अगर मुझे ही उस चिकित्सक के पास जाना पड़ा तो मैं कैसे उस पर यकीन करुँगी...
    मेरे कहने का सिर्फ़ इतना ही तात्पर्य है...और निसंदेह यह उस व्यक्ति के मानवीय मूल्यों का हनन है...

    ReplyDelete
  13. गौरव.... मुझे थोड़ी देर के लिए कहीं जाना है...
    लौट कर पढ़ती हूँ...
    ख़ुश रहो..

    ReplyDelete
  14. कोई मरीज नहीं है, सब डॉक्‍टर ही डाक्‍टर हैं कौन से मरीज का गुरदा काटकर बेंचा जाए विमर्श हो रहा है शायद :)

    ReplyDelete
  15. कान्हा, वह भी सूरदास का,
    उत्तर देगा हर विवाद का।

    ReplyDelete
  16. जी नहीं नैतिकता की कोई सीमा नहीं है...जितना अधिक चाहे नैतिक हुआ जा सकता है :)

    ReplyDelete
  17. .
    अदा जी,

    बिना दोनों पक्षों का सच जाने आपको ऐसा नहीं करना चाहिए था। आपने अमरेन्द्र से तो दोस्ती निभाई , लेकिन मेरा पक्ष जानना जरूरी नहीं समझा आपने।

    मैंने हमेशा अमरेन्द्र से सहानुभूति राखी, वो मुझसे प्यार करने लगा , इसलिए उससे दुरी बनाये राखी, वो इस दुरी को बर्दाश्त नहीं कर पा रहा है, बहुत सी पोस्ट्स पर जाकर मेरे खिलाफ लिखता है। मैं उसकी मानसिक अवस्था का ख़याल कर चुप रहती थी।

    जब हद हो गयी तो एक पोस्ट लगाई, जिस पर कमेंट्स बंद रखे , ताकि उसकी बेईज्ज़ती न होने पाए।

    अदा जी जब मैंने पोस्ट अरविन्द मिश्र जी के बारे में लगाई थी तब तो आपको बहुत ख़ुशी हुई थी, लेकिन क्या अरविन्द के सिवा कोई दूसरा पुरुष भी अरविन्द जैसा नहीं हो सकता ?

    एक बार मुझसे बात तो कर ली होती , मुझ पर लांछन लगाने से पहले ।

    कृपया इस पोस्ट पर आकर अमरेन्द्र का सच जानिये।

    .

    ReplyDelete
  18. समाज में सच और झूठ को अलग करने तथा झूठे को सजा देने जैसी व्यवस्था लगभग ख़त्म हो चुकी है ,भ्रष्टाचार के गंदे पैसे ने लोगों के दिमाग को गन्दा कर दिया है ,ज्यादातर लोगों की नैतिकता अब कुछ रुपयों में खरीदी जाने वाली चीज बन गयी है ,जीने के लिए लोग रोज सैकरों बार मरने को तैयार रहते हैं और मरते हैं ,झूठी जिन्दगी सच्ची जिन्दगी को बरी बेदर्दी से कुचल रही है ,ऐसे हालात में किसी व्यक्ति में इंसानियत का जिन्दा रहना चमत्कार से कम नहीं ..इसलिए जरूरत है की आज अपने साये की भी जाँच परख कर ही विश्वास करें ...वैसे मानवता के नाते मदद हर किसी की यथासंभव जरूर करें ...

    ReplyDelete
  19. मुस्टण्डों को दूध-मखाने,
    बालक भूखों मरते,
    जोशी, मुल्ला, पीर, नजूमी,
    दौलत से घर भरते,
    भोग रहे सुख आजादी का, बेईमान मक्कार।
    उस कानन में स्वतन्त्रता का नारा है बेकार।।
    --
    "कर्मण्ये वाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन्!"
    --
    योगीराज श्री कृष्ण जी के जन्म दिवस की बहुत-बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  20. नैतिकता ही क्यों ? सीमायें तो हर मुद्दे से वाबस्ता हैं !

    ReplyDelete

  21. यदि आप वापस आ चुकी हो, तो मैं अपनी टिप्पणी डालूँ ?
    ख़्वामख़ाह ही बेचारा आपकी प्रतीक्षा में लटका रहेगा ।
    क्या ई-मेल से की गयी टिप्पणियाँ स्वीकार की जाती हैं ?
    सादर आपका - दिवास्वप्नभँगुर

    ReplyDelete

  22. क्षमा करें, नामुराद, बेसरम अधूरी टिप्पणी अनायास ही मेरे हाथों से फिसल गयी ।

    ReplyDelete
  23. अदा जी नमस्कार,

    एक डाक्टर द्वारा लिखे गए जिस ब्लॉग पर आपने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है मैंने उसे नहीं पढ़ा है इसलिए उस सन्दर्भ से बीलकुल अनभिज्ञ हूँ जिसमे वह लिखा गया है और इसलिए उस पर टिपण्णी करना मेरे लिए सही नहीं होगा. हालांकि, एक डाक्टर हूँ और इसलिए आपसे यूँही एक जानकारी बांटना चाह रहा हूँ, जिसका इस मामले को सही या गलत ठहराने से कोई लेना देने नहीं है.

    आप डाक्टर और मरीज के बिच जिस अनुबंध की बात कर रही हैं, उसे हम भारत में "Professional Secrecy" के नाम से जानते हैं जिसके तहत अपने डाक्टरी के दौरान मालूम चले मरीजों की निजी बातों की निजता बनाये रखने के लिए डाक्टर का आभार होता है. अंग्रेजी में, "The doctor is obliged to keep secret all that he comes to know concerning the patient in the course of his professional work." मगर इसके कुछ अपवाद भी हमारे कानून में दिए गए हैं, जिन्हें हम "Privileged Communication" के नाम से जानते हैं. इसके बारे में कहाँ गया है, "It is a statement made bonafide upon any subject matter by a doctor to the concerned authority, due to his duty to protect the interests of the community or of the state." उदाहरण के तौर पर अगर मुझे किसी के बारे में पता चले कि उसे AIDS हो गया है तो ये मेरा फ़र्ज़ बनता है कि मैं सरकार की AIDS रोधी संस्था को और उस मरीज के परिवार को इस बात की जानकारी दे दूं ताकि उसका इलाज हो सके और ये बीमारी आगे न फ़ैल सके.

    जैसा मैंने पहले भी कहाँ है कि मेरी बात को उस ब्लॉग को सही या गलत ठहराने के रूप में न लिया जाए.

    ReplyDelete
  24. एक डाक्टर द्वारा लिखे गए जिस ब्लॉग पर आपने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है मैंने उसे नहीं पढ़ा है इसलिए उस सन्दर्भ से बीलकुल अनभिज्ञ हूँ जिसमे वह लिखा गया है और इसलिए उस पर टिपण्णी करना मेरे लिए सही नहीं होगा. हालांकि, एक डाक्टर हूँ और इसलिए आपसे यूँही एक जानकारी बांटना चाह रहा हूँ, जिसका इस मामले को सही या गलत ठहराने से कोई लेना देने नहीं है.
    आप डाक्टर और मरीज के बिच जिस अनुबंध की बात कर रही हैं, उसे हम भारत में "Professional Secrecy" के नाम से जानते हैं जिसके तहत, "The doctor is obliged to keep secret all that he comes to know concerning the patient in the course of his professional work." मगर इसके कुछ अपवाद भी हमारे कानून में दिए गए हैं, जिन्हें हम "Privileged Communication" के नाम से जानते हैं. इसके बारे में कहाँ गया है, "It is a statement made bonafide upon any subject matter by a doctor to the concerned authority, due to his duty to protect the interests of the community or of the state." उदाहरण के तौर पर अगर मुझे किसी के बारे में पता चले कि उसे AIDS हो गया है तो ये मेरा फ़र्ज़ बनता है कि मैं सरकार की AIDS रोधी संस्था को और उस मरीज के परिवार को इस बात की जानकारी दे दूं ताकि उसका इलाज हो सके और ये बीमारी आगे न फ़ैल सके.
    जैसा मैंने पहले भी कहाँ है कि मेरी बात को उस ब्लॉग को सही या गलत ठहराने के रूप में न लिया जाए.

    ReplyDelete
  25. एक डाक्टर द्वारा लिखे गए जिस ब्लॉग पर आपने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है मैंने उसे नहीं पढ़ा है इसलिए उस सन्दर्भ से बीलकुल अनभिज्ञ हूँ जिसमे वह लिखा गया है और इसलिए उस पर टिपण्णी करना मेरे लिए सही नहीं होगा. हालांकि, एक डाक्टर हूँ और इसलिए आपसे यूँही एक जानकारी बांटना चाह रहा हूँ, जिसका इस मामले को सही या गलत ठहराने से कोई लेना देने नहीं है.
    आप डाक्टर और मरीज के बिच जिस अनुबंध की बात कर रही हैं, उसे हम भारत में "Professional Secrecy" के नाम से जानते हैं जिसके तहत, "The doctor is obliged to keep secret all that he comes to know concerning the patient in the course of his professional work." मगर इसके कुछ अपवाद भी हमारे कानून में दिए गए हैं, जिन्हें हम "Privileged Communication" के नाम से जानते हैं. इसके बारे में कहाँ गया है, "It is a statement made bonafide upon any subject matter by a doctor to the concerned authority, due to his duty to protect the interests of the community or of the state." उदाहरण के तौर पर अगर मुझे किसी के बारे में पता चले कि उसे AIDS हो गया है तो ये मेरा फ़र्ज़ बनता है कि मैं सरकार की AIDS रोधी संस्था को और उस मरीज के परिवार को इस बात की जानकारी दे दूं ताकि उसका इलाज हो सके और ये बीमारी आगे न फ़ैल सके.
    जैसा मैंने पहले भी कहाँ है कि मेरी बात को उस ब्लॉग को सही या गलत ठहराने के रूप में न लिया जाए.

    ReplyDelete
  26. @ दिव्या जी...
    सबसे पहले..मैंने आप पर कोई लांछन नहीं लगाया है...जो भी आपने अपनी पोस्ट पर लिखा है...मैंने उसे ही पढ़ कर, समझ कर बात कही है.....यह मात्र आपको आपके profession में जो नैतिकता निहित है उसकी बात याद दिलाने के लिए लिखी है...आपको पूरा अधिकार है..इस बात को सार्वजानिक करने का कि किसने आपने प्रेम निवेदन किया और आपको क्या बात पसंद नहीं आई....मुझे इस बात में कोई इंटेरेस्ट नहीं ....लेकिन आपको इस बात का को सार्वजनिक करने का कोई अधिकार नहीं है..कि फलाना व्यक्ति मानसिक रोगी है और वो इतने सालों तक मानसिक चिकित्सालय में भरती हुआ था...अगर आप सचमुच एक चिकित्सक हैं तो आपको इस बात का पूरा अहसास होना चाहिए...और अगर आप विदेश में प्रक्टिस करती हैं और फिर भी आपने ऐसा कदम उठाया है फिर तो संदेह कि सूई आपके डाक्टर होने पर भी टिक सकती है....

    आप जिन दूसरे व्यक्ति कि बात कर रही हैं...अगर आप उनके स्वास्थ्य सम्बन्धी किसी भी जानकारी को सार्वजनिक करती तो मेरा बिल्कुल यही कदम होता जो अभी हुआ है....
    मैं 'अमरेन्द्र' व्यक्ति के लिए नहीं लिख रही हूँ...मैं 'अमरेन्द्र' मरीज के लिए लिख रही हूँ....
    आशा है आप समझ गई होंगी...

    ReplyDelete
  27. कान्हा आओ ब्लॉगर्स को कुछ सिखाओ..... अपने रुप दिखाओ... पर अपने गुन यहीं छोड़ जाओ...

    जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  28. पेशा कोई भी हो, नैतिकता और इन्सानियत का तकाजा उन सब से उपर है और वो भी आपसी विश्वास को कायम रखने की मांग करता है.

    ReplyDelete
  29. अदा जी,

    बिना किसी की असली बात जाने सीधे उसे मरीज कहना भी ठीक नहीं है।

    आपने यहा स्पष्ट लिखा है कि अमरेन्द्र के लिए मरीज शब्द का इस्तेमाल कर रही हूँ। जो कि उचित नहीं लग रहा।

    भले ही आपने किसी की पोस्ट पढ़ कर ही क्यों न अपने जहन में यह बात बैठाई हो लेकिन एक बार उस विवादित पोस्ट के लेखक की हालिया प्रविष्टियों और टिप्पणियों पर भी ध्यान देना चाहिए कि हाल फिलहाल किस स्तर की और किस मानसिकता से उसकी टिप्पणियां या पोस्ट आदि लिखे जा रहे हैं।

    पिछले दो चार दिनों के हुए तमाम विवादों को जहन में रखकर यदि सोचें तो पता चल सकता है टाप फ्लोर किधरको खाली है :)

    जहां तक अमरेन्द्र की बात है तो उनकी पोस्टें और तमाम बहस मुबाहिसे आदि पढ़ने से तो लगता है कि फिलहाल उनका टॉप फ्लोर भरा हुआ है कोई मानसिक बीमारी नहीं हैं उन्हें, इसलिए बिना वजह उन्हें मरीज न कहा जाय।

    ReplyDelete
  30. जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  31. स्वप्न मंजूषा जी,
    आप ने जो कहा वह सही है और आपके शब्दों का समर्थन करना भी नैतिकता वाली बात है अत मै आपसे सहमत होते हुए समीर भाई की बातो को भी मानी करता हु ! और ये दो शब्द देश के ब्लोगरो के नाम देना चाहता हु ! ग्रहण करे !

    विद्यार्थी या शिक्षक हो,डाक्टर और व्यापारी
    नर हो नारी बने नीतिमय जीवनचर्या सारी
    कथनी-करनी की समानता में गतिशील चरण हो
    संयममय जीवन हो ॥

    प्रभु बनकर ही हम प्रभु की पूजा कर सकते हैं
    प्रामाणिक बनकर ही संकट सागर तर सकते हैं
    शौर्य-वीर्य-बलपती अहिंसा ही जीवन दर्शन हो
    संयममय जीवन हो ॥

    सुधरे व्यक्ति, समाज व्यक्ति से, राष्ट्र स्वयं सुधरेगा
    महावीर-सिंह नाथ सारे जग में पसरेंगा

    मानवीय आचार संहिता में अर्पित तन-मन हो
    संयममय जीवन हो !!

    ReplyDelete
  32. हर रामा
    हरे कृष्णा,
    कृष्णा...कृष्णा,
    हरे हरे !

    कृष्ण जन्माष्टमी के मंगलमय पावन पर्व अवसर पर ढेरों बधाई और शुभकामनाये ..

    ReplyDelete
  33. सतीश जी,
    'मरीज' शब्द इतना भी बुरा नहीं है..जितना आप सोच रहे हैं...हम सभी कभी न कभी 'मरीज' रहे ही हैं...और आगे भी होते ही रहेंगे...अमरेन्द्र को आशीर्वाद हैं , चिरायु हो दीर्घायु हो...
    इस सन्दर्भ में जब मुझे 'मरीज' शब्द का इस्तेमाल करना पड़ा है वह सिर्फ़ एक डाक्टरी प्रोफेशनल में संलग्न व्यक्ति को अपनी बात समझाने के लिए ही करना पड़ा है....आपने इस एक शब्द को ही तूल दिया है...परन्तु मैं अपनी बात पर कायम हूँ...और इस शब्द के उपयोग को भी सही मान रही हूँ...
    इससे किसी को भी कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए...मेरा ऐसा मानना है...

    ReplyDelete
  34. अमरेन्द्र,
    अगर तुम्हें 'मरीज' शब्द से दुःख पहुँचा है तो मुझे कोई हैरानी भी नहीं है...लेकिन तुम्हें यह भी सोचना चाहिए कि कुछ मंद बुद्धि लोगों को समझाने के लिए ही मुझे इस शब्द का प्रयोग तुम्हारे नाम के साथ मजबूरन करना पड़ा है...तुम इस बात को दिल से लगा कर मत बैठो...
    हाँ एक बात तो मुझे समझ में आ ही गई है...कि समझदारी की सीमा होती है ...लेकिन मूर्खता की कोई सीमा नहीं होती...तुम भी अपनी मूर्खता पर काबू रखो और इत्मीनान से अपने लक्ष्य की ओर चलो, ऐसी बातें जीवन में होती ही रहतीं हैं...इनके लिए अपना जीवन नष्ट करना महामूर्खता है...और कम से कम इस पूरे प्रकरण में एक तुम ही हो जो मूर्ख नहीं हो....
    शुभाशीष ...

    ReplyDelete
  35. सतीश पंचम जी को शायद ये पता नहीं कि आयुर्वेद के अनुसार कोई भी मनुष्य पूर्ण रूप से स्वस्थ नहीं.. यानि हर कोई मरीज़ ही है..

    ReplyDelete
  36. दीदी ,
    ये पेशे की मर्यादा का उल्लंघन है लेकिन एक बात और
    दोस्ती दुनिया में सबसे ज्यादा अविश्वसनीय बेनामी रिश्ता है [जैसे ऊपर दिया लिंक कह रहा है,प्रेम की नहीं दोस्ती की बात कही है]
    बेसिकली इस दोस्ती(बेनामी)रिश्ते के कन्फ्यूजन कारण ही हर मर्यादा का उल्लंघन होता है
    (ये एक ग्लोबल वाक्य है सब पर फिट होता है )

    ऊपर दिया मेरे द्वारा दिया कमेन्ट वाला लिंक निरस्त मानें पूरा लेख और कमेन्ट ही पढ़ डालें
    http://my2010ideas.blogspot.com/2010/08/blog-post_22.html
    ना .. ... ... ना , मैं किसी की तरफ नहीं हूँ
    मानवता अमर रहे, मानवता और देशभक्ति से ऊपर नहीं होते रिश्ते

    ReplyDelete
  37. अदा जी, दीपक जी,


    शायद अभी भी आपने मेरा आशय नहीं समझा है।

    मुझे पता है कि हम सभी किसी न किसी समय मरीज रहे हैं। कोई अमरत्व लेकर नहीं आता, महीने में साल में कई बार सब लोग मरीज होन का सौभाग्य प्राप्त करते हैं लेकिन यहां जिस संदर्भ में मरीज शब्द लिखा गया है उससे मुझे आपत्ति है।

    Anyway, आप अपने शब्द पर कायम रहें।

    जाकी रही भावना जैसी।

    इस पर मुझे और कुछ नहीं कहना है।

    ReplyDelete
  38. श्री कृष्ण जन्माष्ठमी की सभी साथियों को बहुत-बहुत बधाई, ढेरों शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  39. नैतिकता और विश्वास ये दोनों ही बातें किसी भी रिश्ते में बहुत महत्वपूर्ण है ...
    बात व्यवसायिक समबन्धों की हो या मानसिक ...
    विश्वास में लेकर कही गयी किसी के भी विचार को सार्वजानिक करना अनुचित है ...तब तक जबतक कि उसे छिपाने से मानवता को हानि नहीं पहुँचती हो ...
    यह पोस्ट कैसे फिसल गयी ...आजकल अनियमित हूँ शायद इसलिए ...!

    ReplyDelete
  40. ठीक यही विचार मेरे मन में भी उठे थे कि एक कथित डॉक्टर द्वारा किसी की भी चिकित्सीय जानकारी को जग-जाहिर किया जाना क्या उस डॉक्टर के लिए नैतिक रूप से जायज है?

    आम बोल-चाल व सामाजिक दायरों में डॉक्टर को भगवान माना जाता है। हालांकि व्यवसायिकता के दौर में किसी की नैतिकता पर बात करना बेमानी है फिर भी 'डॉक्टर' शब्द की गरिमा आज भी अपने स्थान पर अटल है। अब अगर कोई खुद ही उस गरिमा/ नैतिकता को स्थानापन्न करना चाहे तो सिवाय उस पर तरस खाने के क्या किया जाए।

    इस 'डॉक्टर' शब्द के संदर्भ में यह बिल्कुल ठीक है कि किसी ने विश्वास खो दिया तो उसका सर्वस्व खो गया...

    मैं नहीं समझता कि किसी निष्पक्ष मानवीय संवेदनाओं वाले किसी डॉक्टर द्वारा इस तरह की हरकतों का समर्थन किया गया है या किया जायेगा।

    अब यदि मेरे अन्यत्र विचारों का उल्लेख करते हुए प्रतिकार हो तो यही बात होगी कि 'मीठा मीठा हा-कड़वा कड़वा थू!'

    बी एस पाबला

    ReplyDelete