Monday, August 26, 2013

ख़ुदा के ठिकाने कितने हैं ...!

हर इन्सां परदे में है, बिन परदे का कौन भला 
रंग-बिरंगे, मोटे-झीने, परदे न जाने कितने हैं

जाना होगा जिनको उनको, कौन कभी रोक पाया है
जाने वालों को दुनिया में, राह न जाने कितने हैं 

चुल्लू-चुल्लू पानी हम भी, फेंक रहे हैं कश्ती से 
देखने वाले सोच रहे, हम लोग सयाने कितने हैं

डूब गए हम दरिया में, संग खड़े रहे संगी-साथी 
ऐसे में हम क्या सोचे के दोस्त पुराने कितने हैं 

ईमान की बातें क्या करना, देश के रिश्वतखोरों से 
नोट की हर गड्डी में देखो, 'गाँधी' तो न जाने कितने हैं

कभी बसे क़ाबा वो 'अदा', और बसे कभी काशी में 
मोह्ताज़ी को कोई छत न सही, पर ख़ुदा के ठिकाने कितने हैं

13 comments:

  1. डूब गए हम दरिया में, और संग खड़े रहे संगी-साथी
    ऐसे में हम क्या सोचे के दोस्त पुराने कितने हैं ....................(:

    ReplyDelete
  2. कितनों में कितना डूबे हैं,
    उनके ही जितना डूबे हैं,
    डूब डूब कर डूब मर रहे,
    सपनों में इतना डूबे हैं।

    ReplyDelete
  3. हर इन्सां परदे में है, बिन परदे का यहाँ कोई नहीं
    रंग-बिरंगे, मोटे-झीने, परदे तो न जाने कितने हैं

    सच और पर्दा पड़ा रहे वही अच्छा है..
    बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  4. बहुत ही कमाल की पंक्तियां अदा जी । एक दम सटीक निशाने पर पहुंचती हुईं ।

    ReplyDelete
  5. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} की पहली चर्चा हिम्मत करने वालों की हार नहीं होती -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-001 में आपका सह्य दिल से स्वागत करता है। कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | सादर .... Lalit Chahar

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद ललित जी, बस सिर्फ खेद की बात ये है कि हम आपकी चौपाल तक नहीं पहुँच पाए, समस्या है आपका ब्लॉग खुल ही नहीं रहा है हमसे।

      Delete
  6. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} किसी भी प्रकार की चर्चा आमंत्रित है दोनों ही सामूहिक ब्लौग है। कोई भी इनका रचनाकार बन सकता है। इन दोनों ब्लौगों का उदेश्य अच्छी रचनाओं का संग्रहण करना है। कविता मंच पर उजाले उनकी यादों के अंतर्गत पुराने कवियों की रचनआएं भी आमंत्रित हैं। आप kuldeepsingpinku@gmail.com पर मेल भेजकर इसके सदस्य बन सकते हैं। प्रत्येक रचनाकार का हृद्य से स्वागत है।

    ReplyDelete
  7. काबा हो या काशी, हर ठिकाना उसका है।
    बहुत अच्छी पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज मंगलवार (27-08-2013) को मंगलवारीय चर्चा ---1350--जहाँ परिवार में परस्पर प्यार है , वह केवल अपना हिंदुस्तान है
    में "मयंक का कोना"
    पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  9. हमेशा की तरह जोरदार

    ReplyDelete
  10. वाह क्या बात कही आपने। मस्त एकदम।

    एक अनुरोध : आपको व्यक्तिगत संदेश देने का कोई माध्यम नहीं मिल रहा है। आपसे वर्धा सेमिनार के बारे में जरूरी चर्चा करनी थी। कुछ सूचनाओं का आदान-प्रदान। मेरा ई-मेल है : sstripathi3371@gmail.com

    ReplyDelete
  11. आपके गीत पढ़ने मिल रहे हैं लेकिन आपकी खनकती आवाज की कमी महसूस हो रही है....

    ReplyDelete