Tuesday, August 24, 2010

कितने तो हैं जो मयखानों में रात गुजारा करते हैं...


एक ठो पुरानी कविता .. दू-दू गो बड्डे है न नहीं लिख पाए...हाँ नहीं तो..!

पशे-चिलमन वो बैठे हैं हम यहाँ से नज़ारा करते हैं
गुस्ताख़ हमारी आँखें हैं आँखों से पुकारा करते हैं

कोताही की कोई बात नहीं, इक ठोकर मुश्किल काम नहीं 
मेरी राह के पत्थर तक मेरी ठोकर को पुकारा करते हैं

पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैं
कितने तो हैं जो मयखानों में रात गुजारा करते हैं

हम बन्जारों को भी है कभी सायबाँ की दरकार 
नज़रें बचाए जाने क्यों हमसे वो किनारा करते हैं 


जब डूबते हैं पहलू में 'अदा' गोशा-गोशा सकुचाता है
हम हुस्न-ए-मुजसिम लगते हैं वो नज़र उतारा करते हैं

पशे-चिलमन=परदे के पीछे 
सायबाँ=घर
गोशा-गोशा=पोर-पोर
हुस्न-ए-मुजसिम=सुन्दरता की मूर्ति 

24 comments:

  1. वाह! सुन्दर कलाम!

    ReplyDelete
  2. पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैं
    कितने तो हैं जो मयखानों में रात गुजारा करते हैं

    किसके?आँखों के?

    ReplyDelete
  3. पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैंकितने तो हैं जो मयखानों में रात गुजारा करते हैं

    जब डूबते हैं पहलू में 'अदा' गोशा-गोशा सकुचाता है हम हुस्न-ए-मुजसिम लगते हैं वो नज़र उतारा करते हैं

    kya baat hai jee!! ghazab ka likhatee hain aap, shabd sahit bhav aur bhasha par aapkee itanee behatareen pakad kee jitanee tareef kee jae, kum hai
    regards

    ReplyDelete
  4. ई डिक्शनरी तो महा हेल्पफुल है जहाँ जहां भी अटके संभाल लिया

    पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैं
    कितने तो हैं जो मयखानों में रात गुजारा करते हैं

    ई तो गजब का बात कह दिया
    सभी का सभी ज्ञानेन्द्रियाँ आहार करती है , ई आँख वाला मामला ज्यादा ही पकड़ा जाता है , गलत बात है

    ई फोटू बड़ा ही क्लासिक लग रहा है

    [अभी बिहारी भाषा ठीक से नहीं आती, हां समझ में पूरी आती है ]

    ReplyDelete
  5. सब से पहले तो जन्म दिन की बधाई,
    आप को राखी की बधाई और शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  6. पर्दे दारियों , बदनामियों पर ठिठकती , पनाह की उम्मीद लिए बंजारों और राह की ठोकरों वाली नाउम्मीदियों से गुज़रती हुई कविता आखिरकार प्रियतम की आगोश में जा पहुँचती है ! कविता का उम्मीद पर ठहर जाना अच्छा लगता है !

    ReplyDelete
  7. जब डूबते हैं पहलू में 'अदा' गोशा-गोशा सकुचाता है
    हम हुस्न-ए-मुजसिम लगते हैं वो नज़र उतारा करते हैं

    Badhiya kalam

    ReplyDelete
  8. दू दू गो बड्डे हैं तो दू दू गो केक खिलाने नहीं बनते हैं का?

    आपकी ये गज़ल तो हमारी पसंदीदा गज़लों में से एक है जी, दो क्या दो सौ बड्डे ट्रीट के बदले भी यह सौदा बुरा नहीं लगा। कभी आपकी आवाज में सुनने को भी मिले तो धन्य हो जायेंगे, वैसे हमारा मन कहता है कि ऐसा होगा जरूर।
    सारी गज़ल ही बेहतरीन है, कभी गाकर पोस्ट कर दीजिये - (ये प्रार्थना ही है, कमेंट नहीं)
    सदैव आभारी।

    ReplyDelete
  9. कोताही की कोई बात नहीं, इक ठोकर मुश्किल काम नहीं
    मेरी राह के पत्थर तक मेरी ठोकर को पुकारा करते हैं
    bahut badhiya

    ReplyDelete
  10. बढ़िया रचना है !
    --
    इसे कव्वाली के रूप में गाना बहुत सुखद लगता है!

    ReplyDelete
  11. पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैं
    कितने तो हैं जो मयखानों में रात गुजारा करते हैं
    थोड़ी देर से ही सही...

    जन्मदिन की शुभकामनाएँ....!!
    :: हंसना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है।

    ReplyDelete
  12. रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ.
    ब़ढ़िया रचना है!

    ReplyDelete
  13. कोताही की कोई बात नहीं, इक ठोकर मुश्किल काम नहीं
    मेरी राह के पत्थर तक मेरी ठोकर को पुकारा करते हैं


    पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैं
    कितने तो हैं जो मयखानों में रात गुजारा करते हैं

    DIL KE ANADR SE SIRF "Wah" 'Wah" "Wah" hee nikal rahaa hai !

    ReplyDelete
  14. जब डूबते हैं पहलू में 'अदा' गोशा-गोशा सकुचाता है
    हम हुस्न-ए-मुजसिम लगते हैं वो नज़र उतारा करते हैं

    waah kya baat hai ,padhkar maja aa gaya ,dono badhaiyaan kabool kare .

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब
    आपकी इस गज़ल पर एक शेर याद आ गया ।
    "में नज़र से पी रहा था,
    दिल ने यह बद्दुआ दी,
    तेरा हाथ जिन्दगी भर जाम तक ना पहुँचे" ।
    देर से ही सही,जन्मदिन की हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  16. बदनाम होने का मज़ा तो सिर्फ पीने वाले ही जानते हैं।

    ReplyDelete
  17. खुश नसीब होते है वो
    जो आँखो से प्यास बुझा देते है
    वरना तो जहाँ मै समुन्द बस
    इक प्यासा ढूँढा करता है
    आप ने जो लिखा उसकी तारीफ जितनी की जाय कब है

    ReplyDelete
  18. एक अच्छी गज़ल से रूबरू करवाया ... आभार.

    पीते हैं बस आँखों से और बदनाम हुए हम जाते हैं
    कितने तो हैं जो मयखानों में रात गुजारा करते हैं

    कितने तो है जो मयखानो में रात गुज़ारा करते हैं.... बहुत खूब

    ReplyDelete
  19. किसी ग़ज़ल का एक शेर याद आ रहा है ...
    तेरी गली की हवा भी है शराब जैसी ..
    बिना पिए भी गुजरूँ तो लड़खड़ाऊं मैं ..!

    ReplyDelete
  20. Girijesh ji kahin :

    @ जब डूबते हैं पहलू में 'अदा' गोशा-गोशा सकुचाता है
    हम हुस्न-ए-मुजसिम लगते हैं वो नज़र उतारा करते हैं

    मरहब्बा!
    संयोग शृंगार की क्या खूब अभिव्यक्ति!

    'मूर्ती' को 'मूर्ति' कीजिए।

    ReplyDelete
  21. @ Girijesh ji,
    Vartani sudhaar ke liye punh aabhaari hun..
    saadar..

    ReplyDelete