Friday, August 27, 2010

रामायण की चौपाइयाँ....


(यह प्रविष्ठी मैं दोबारा डाल रही हूँ... इस कविता को मैंने उस दिन लिखा था, जिस दिन मेरे बड़े बेटे मयंक शेखर का जन्म हुआ था, याद है मुझे इसे लिखकर जैसे ही मैंने पूरा किया था डाक्टर साहिबा ने मेरे हाथ से मेरी कलम और नोटबुक लगभग छीन ही लिया था, और धमकी दी थी...कोई लिखना पढ़ना नहीं है अभी...बस आराम करो...:):) जैसे उन्होंने कहा और मैं मान गई..:):) हा हा हा .. 
और आज फिर वही दिन आया है, २७ अगस्त, मेरे बड़े बेटे मयंक का जन्मदिन है, उस पल अस्पताल के कमरे में चार पीढियाँ विद्यमान थी, नवजात, मेरी नानी, मेरी माँ और मैं, मेरी नानी के मुखारविंद पर जो ज्योति मैंने देखी थी, उसे शब्द देना मेरे वश की बात न तब थी न अब है, लेकिन मेरा प्रयास ज़रूर है आपका आशीर्वाद चाहिए मयंक के लिए, उसी मयंक के लिए जिसका चित्रांकन आप सब देख चुके हैं...)

खुरदरी हथेलियाँ,
रामायण की चौपाइयाँ,
श्वेत बिखरे कुंतल,
सत्य की आभा लिए हुए
उम्र की डयोड़ियाँ, फलाँगती फलाँगती
क्षीण होती काया
फिर भी,
संघर्ष और अनुभव का स्तंभ बने हुए
तभी !!
नवागत  को,
युवा से लेकर, अधेड़  ने,
बूढ़ी जर्जर पीढ़ी के हाथों में रखा
हाथों के बदलते ही,
पीढ़ियों का अंतराल दिखा 
सुस्त धमनियाँ जाग गयीं,
मानसून के छीटों सी देदीप्यमान हो गयीं
झुर्रियाँ आनन की
बाहर से ही मुझे,
चश्मे के अन्दर का कोहरा नज़र आया था,
शायद, बुझती आँखों में बचपन तैर गया था
नवागत पीढ़ी, निश्चिंत, निडर,
हथेली पर, चौपाइयाँ सोखती रही,
रामायण की !!
और ऊष्मा मातृत्व की लुटाती रहीं,
हम तीनों - नानी, माँ और मैं !

और अब एक गीत...आज का गीत है प्रज्ञा और उसके पापा की आवाज़ में....
प्रज्ञा की तरफ से उसके भईया के लिए...हा हा हा...

23 comments:

  1. सबका जन्‍म अगस्‍त में ही ??
    हमारे यहां एक डॉक्‍टर साहब हैं .. उनके यहां पूरा जून उत्‍सवी माहौल ही रहता है !!
    मयंक शेखर को जन्‍म दिन की बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!
    सुंदर गीत सुनाने के लिए प्रज्ञा और उसके पापा को धन्‍यवाद !!

    ReplyDelete
  2. @ संगीता जी,
    जब अगस्त की बात हो रही है तो बता ही देती हूँ मेरे परिवार में जन्मदिनों की कहानी.....
    मेरे पिता जी -१४ अगस्त
    मेरा भतीजा-१५ अगस्त
    प्रज्ञा-२४ अगस्त
    मैं-२४ अगस्त
    मयंक-२७ अगस्त
    मेरा भाई-२९ अगस्त
    अगस्त हमारे घर में सबसे बीजी महीना है...हा हा हा हा...

    ReplyDelete
  3. जन्मदिन कि शुभकामनाए....मयंक को.. स्वर्णिम व सुखद भविष्य के लिए ..... आशीर्वाद सहित ...
    सारे अगस्तियों को भी बधाई !!! हा हा हा हा

    ReplyDelete
  4. हैप्पी बर्थ डे टू मयंक।
    और आपके समस्त परिवार को बहुत बहुत बधाई।

    मयंक के बनाये कुछ चित्र आपके ब्लॉग पर देखे हैं, बहुत अच्छी तस्वीर बनाता है मयंक।

    ईश्वर से कामना है कि स्वस्थ, सफ़ल, सबल, समर्थ और दीर्घायु हों प्रिय मयंक।

    ReplyDelete
  5. मयंक शेखर के लिये आकाश पिंडों जितने स्नेहाशीष !
    ब्रह्माण्ड भर शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  6. Adai ji,"Bikhare sitare'pe aapkee shukr guzaree pesh kee hai..zaroor dekhen!

    ReplyDelete
  7. मयंक का जन्मदिन- कितनी पार्टी ड्यू होती जा रही आप पर...कैसे हो पायेगा ..हा हा!!

    मयंक को जन्म दिन की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ..अनेक आशीष.

    आपके भाई के लिए एडवान्स में शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  8. Many happy returns of the day to Mayank.

    ReplyDelete
  9. मयन्क को हार्दिक शुभकामनाये . कला के क्षेत्र मे मंयक निश्चित ही अपना नाम रोशन करेगा .

    ReplyDelete
  10. मयंक को जन्म दिन की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें ,आपके दोनों बच्चे आप जैसे ही बुद्धिमान और इंसानी सोच के हों हम तो हमेशा यही दुआ करेंगे ...

    ReplyDelete
  11. रामायण की चौपाइयों की सृजनशक्ति को जन्म-परिवेश की अनुकूलता में रूपायित करना उत्तम रहा | 'संघर्ष और अनुभव का स्तंभ बने हुए'! सराहनीय !

    @ अगस्त के जन्म दिनों पर ,
    --- अरे इतने 'सिंह' ! एक ही घर में ! सबके बीच ईश्वर का आशीष बना रहे !
    @ मेरा भतीजा-१५ अगस्त ,
    --- यहाँ मेरी विशेष शुभकामनाएं पहुंचा दी जांय !

    मयंक शेखर को अनेकानेक शुभाशीष संग मंगलकामनाएं ! क्षिति-जल-पावक-गगन-समीर नेह/सायुज्य बनाए रखें ! इनके हाथों से बने चित्र और जीवन में रंगोत्साह बरसता रहे !

    ReplyDelete
  12. मयंक शेखर को अनेकानेक शुभाशीष संग मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
  13. मयंक को जन्मदिन कि ढेरों शुभकामनाएँ....

    ReplyDelete
  14. पूरा अगस्त महिना छेक रखा है :):)...किसी और को जन्मदिन मनाने ही नहीं देंगे क्या ..?

    मयंक को ढेरों आशीष और उसके भावी जीवन की अनंत शुभकामनायें .!

    ReplyDelete
  15. बालक का जन्मदिन मुबारक हो। गाना सुना! सनन,सनन! बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  16. जन्मदिन पर मेरी ओर से शुभाशीष |
    आशा

    ReplyDelete
  17. janmdin ki dheron badhaiyan. bahoot achchhi lagi ye kavita

    ReplyDelete
  18. bahut dinon baad blog par aa paya hun..Mayank ko janmdin ki bahut badhai..aur shubhasheesh..
    kavita bahut acchi lagi..

    ReplyDelete
  19. bahut dinon baad blog par aa paya hun..Mayank ko janmdin ki bahut badhai..aur shubhasheesh..
    kavita bahut acchi lagi..

    ReplyDelete
  20. बहुत ही प्रभावशाली अभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete
  21. मयंक को जन्मदिन की बधाई। बहुत बढिया चित्र बनाता है।

    ReplyDelete
  22. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी लगाई जा रही है!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete